Connect with us

अंतरराष्ट्रीय

बालाकोट स्ट्राइक के 140 दिन बाद पाक ने भारत के लिए खोला एयरस्पेस….

Published

on

एयरस्पेस

फाइल फोटो

नई दिल्ली। बालाकोट एयर स्ट्राइक के 140 दिन बाद पाकिस्तान ने अपने एयरस्पेस को खोल दिया है। आज पाकिस्तान सिविल एविएशन अथॉरिटी ने तत्काल प्रभाव से भारत के सभी नागरिक यातायात के लिए अपने हवाई क्षेत्र को खोलने का आदेश दिया। जिसके अब भारतीय विमानों की पाकिस्तान के एयर स्पेस में आवाजाही शुरू हो जाएगी।

बता दें पुलवामा हमले के 14 दिन बाद 26 फरवरी को बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद  के आतंकी शिविर पर भारतीय वायु सेना द्वारा हवाई हमले किए जाने के बाद पाकिस्तान ने भारत के साथ पूर्वी सीमा पर अपना हवाई क्षेत्र पूरी तरह से बंद कर दिया था। ऐसे में पाक ने कहा था कि भारत जब तक अपने लड़ाकू विमानों को वायुसेना के एयरबेस से नहीं हटा लेता, तब-तक वह कमर्शियल उड़ानों के लिए अपना एयर-स्पेस नहीं खोलेगा।

जानकारी के मुताबिक 14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में जैश-ए-मुहम्मद के आतंकियों द्वारा किए गए हमले के जवाब में भारत ने आतंकी ठिकानों पर हमला किया था। इस आत्मघाती हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे।

ये भी पढ़े:बांग्लादेश के पूर्व राष्ट्रपति हुसैन मुहम्मद इरशाद का निधन

मार्च में पाकिस्तान ने आंशिक रूप से अपना हवाई क्षेत्र खोला था, लेकिन भारतीय विमानों को अपने हवाई क्षेत्र में उड़ान भरने की अनुमति नहीं दी थी। पाकिस्तान के बैन के बाद सभी यात्री उड़ानों को भारत के वैकल्पिक मार्गों की ओर मोड़ दिया गया था। जिसकी वजह से एयरलाइनों पर ईंधन की लागत बढ़ गई थी। एयर स्पेस बंद होने का सबसे ज्यादा असर यूरोप से दक्षिण पूर्व एशिया की उड़ानों पर पड़ा था।

बता दें कि पिछले महीने पाकिस्तान ने किर्गिस्तान की राजधानी बिश्केक की ऑफिशियल यात्रा के लिए पीएम मोदी को अपने हवाई क्षेत्र का उपयोग करने की अनुमति दी थी। जबकि पीएम मोदी ने पाक के एयर स्पेस का उपयोग न कर दूसरे रास्ते से जाने का फैसला लिया था।http://www.satyodaya.com

अंतरराष्ट्रीय

यूक्रेन विमान हादसे को लेकर खामनेई के खिलाफ प्रदर्शन, इस्तीफा देने की मांग

Published

on

नई दिल्ली। यूक्रेन के विमान को ईरानी सेना में 8 जनवरी को मार गिराया था। जिसमें 176 यात्री मौजूद थे। जिसके बाद ईरान नेे इस हादसे की जिम्मेदारी ली थी। हादसे की जिम्मेदारी लेने के बाद खामनेई के खिलाफ ईरान की सड़कों पर हजारों लोग उतर आए हैं। प्रदर्शनकारी ईरान के सुप्रीम लीडर आयतुल्लाह अली खामनेई के इस्तीफे की मांग कर रहे हैं।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने शनिवार को ट्वीट कर इन प्रदर्शनकारियों का समर्थन किया है। इस विरोध प्रदर्शन के बारे में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अंग्रेजी और फारसी दोनों में ट्वीट किया है। अपने ट्वीट में ट्रंप ने लिखा है, ईरान की बहादुर जनता, मैं राष्ट्रपति बनने के बाद से ही आप लोगों के साथ खड़ा हूं। मेरी सरकार आप लोगों के साथ रहेगी। हम लोग आपके प्रदर्शन पर नजर बनाए हुए हैं। आपका साहस प्रेरक है।

यह भी पढ़ें:- ईरान ने कहा, हमने ही गलती से मार गिराया था 176 यात्रियों से भरा यूक्रेनी विमान

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने भी ईरान के विरोध प्रदर्शन के वीडियो को ट्वीट किया है। उन्होंने लिखा है, ईरान के लोगों की आवाज स्पष्ट है। वे ईरानी सरकार के झूठ, भ्रष्टाचार, अयोग्यता और आयतुल्लाह अली खामनेई के नेतृत्व वाली सेना के आंतक से तंग आ चुकी है। हम लोग ईरान की जनता के साथ खड़े हैं, जो बेहतर भविष्य के हकदार हैं।

इस यात्री विमान में ईरान सहित कनाडा के अनेक यात्री सवार थे। ईरान के हजारों प्रदर्शनकारियों ने शुक्रवार को तेहरान में आयतुल्लाह अली खामनेई से त्याग पत्र दिए जाने की भी मांग की। यह छात्र शरीफ और आमिर कबीर यूनिवर्सिटी के बाहर प्रदर्शन कर रहे थे। जिन पर पुलिस को आंसू गैस के गोले छोड़ने को मजबूर होना पड़ा। छात्र इस विमान को मार गिराए जाने के विरोध में दोषी लोगों को सजा दिए जाने और आयातुल्ला अली खामनेई से पद से त्याग पत्र दिए जाने की मांग कर रहे थे।

यह भी पढ़ें:- ओमानः सुल्तान काबूस के चचेरे भाई हेथम बिन तारिक बने नए शासक

बता दें कि यूक्रेन का बोइंग विमान 737-800 की उड़ान संख्या पीएस 752 तेहरान से कीव की ओर जा रही थी। उड़ान भरने के कुछ मिनट बाद ही यह विमान जमीन पर आ गिरा था। इस विमान में ईरान के 82, कनाडा के 63, यूक्रेन के 11, स्वीडन के 10, अफगानिस्तान के 4, जर्मनी और ब्रिटेन के 3-3 नागरिक सवार थे। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

ओमानः सुल्तान काबूस के चचेरे भाई हेथम बिन तारिक बने नए शासक

Published

on

नई दिल्ली। ओमान के सुल्तान काबूस बिन सईद का शुक्रवार को निधन हो गया था। 79 वर्ष के सुल्तान ने विवाह नहीं किया था और उनकी कोई संतान नही थी। इसलिए गद्दी का कोई उत्तराधिकारी नही था। जिसके बाद उनके चचेरे भाई संस्कृति मंत्री हेथम बिन तारिक अल सईद को देश के नए शाह के रूप में शपथ दिलाई गई। सरकार ने शनिवार को ट्वीट किया, हेथम बिन तारिक ने देश के नए सुल्तान के रुप में शपथ ली…।

बता दें कि ओमान संविधान के अनुसार, शाही परिवार के पास नया शासक चुनने के लिए तीन दिन का वक्त होता है। अगर परिवार चुनाव नहीं कर पाता है। तो परिवार के नाम लिखे पत्र में चुने गए व्यक्ति को नया सुल्तान बना दिया जाता है। सुल्तान काबूस अरब देश में सबसे ज्यादा लम्बे समय तक शासन करने वाले शासक बन गए। सुल्तान काबूस ने 1970 में ब्रिटेन की मदद से अपने पिता को गद्दी से हटा दिया था और खुद सुल्तान की गद्दी पर बैठ गए थे।

यह भी पढ़ें:- झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने पीएम मोदी से की मुलाकात

सुत्रों के मुताबिक यह गद्दी असद बिन तारिक के पास जाने की उम्मीद की थी जो सुल्लान के एक अन्य चचेरे भाई थे और साल 2017 में अंतरराष्ट्रीय संबंधों और सहयोग मामलों के लिए उन्हें उपप्रधानमंत्री नियुक्त किया गया था। लेकिन परिवार के आपसी फैसले के बाद हेथम बिन तारिक को नया शासक चुन लिया गया।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

ईरान ने कहा, हमने ही गलती से मार गिराया था 176 यात्रियों से भरा यूक्रेनी विमान

Published

on

तेहरान। अमेरिका-ईरान में तनाव के बीच तेहरान में हुए विमान क्रैश के पीछे ईरान का हाथ था। शनिवार को ईरान ने अपनी गलती स्वीकार कर ली है। पिछले दिनों अमेरिकी सैन्य अड्डों पर ईरान द्वारा मिसाइल हमले के कुछ घण्टे बाद तेहरान में यूक्रेन का बोइंग 737 विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। इस हादसे में विमान में सवार सभी 176 यात्री मारे गए थे। ईरान ने कहा है कि मानवीय चूक के चलते उसकी सेना ने इस विमान को मार गिराया था। ईरान की सेना ने अपनी गलती स्वीकार करते हुए कहा, विमान उनके सैन्य क्षेत्र की ओर बढ़ रहा था। जिसके चलते उसने यूक्रेन के यात्री विमान को निशाना बनाया था।

शुरूआत में इसे मात्र हादसा माना जा रहा था। लेकिन दुर्घटना के एक दिन बाद ही कनाडा, अमेरिका और ब्रिटेन ने विमान को निशाना बनाए जाने की आशंका जाहिर की थी। हालांकि हादसे के दो दिन बाद तक ईरान विमान पर मिसाइल से टकराने की बात की बात से इनकार करता रहा। शनिवार को सेना की स्वीकारोक्ति के बाद ईरानी राष्ट्रपति ने कहा, सशस्त्र बलों की जांच में निष्कर्ष निकला है कि मानवीय गलती के चलते यूक्रेनी विमान को निशाना बनाया गया। जिसमें 176 लोगों की जान चली गयी।

यह भी पढ़ें-लखनऊ: स्कूल से घर लौट रही युवती के चेहरे पर पड़ोसियों ने फेंका तेजाब

इस त्रासदी और अक्षम्य गलती की जांच जारी रहेगी और जिम्मेदार लोगों के खिलाफ मुकदमा चलाया जाएगा। ईरान ने पीड़ित परिवारों के लिए शोक भी प्रकट किया है। बता दें कि यूक्रेन के इस विमान तेहरान से कीव के लिए उड़ान भरी थी। लेकिन उड़ान भरने के कुछ ही देर बात विमान क्रैश हो गया था।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

January 13, 2020, 1:31 am
Clear
Clear
10°C
real feel: 10°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 97%
wind speed: 1 m/s N
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 6:27 am
sunset: 5:03 pm
 

Recent Posts

Trending