Connect with us

अंतरराष्ट्रीय

PM मोदी के बाद ट्रंप ने पाक पीएम इमरान खान से की बात, कहा- बनाए रखें शांति….

Published

on

जम्मू-कश्मीर

फाइल फोटो

नई दिल्ली। भारत ने जम्मू-कश्मीर पर जो बड़ा फैसला लिया है उसके बाद से पाकिस्तान काफी नाराज चल रहा है। ऐसे में पाकिस्तान दुनियाभर के देशों से इस मामले में दखल देने के लिए मिन्नतें कर रहा है। जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने के बाद पीएम मोदी और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की सोमवार देर रात को बातचीत हुई। पीएम मोदी ने दोनों देशों के संबंधों और क्षेत्रीय मसलों को लेकर ट्रंप से चर्चा की। PM मोदी ने डोनाल्ड ट्रंप से साफ कर दिया कि पाकिस्तान को आतंकवाद का रास्ता छोड़ना ही होगा। इस खास बातचीत के बीच की खास बात ये रही कि पीएम मोदी के फोन के बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भी ट्रंप से बात की है।

ट्रंप से मोदी ने क्या कहा?

सोमवार रात को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डोनाल्ड ट्रंप से लगभग 30 मिनट तक बातचीत की थी। दोनों नेताओं के बीच भारत-अमेरिका के द्विपक्षीय संबंध पर बातें हुईं। पीएम मोदी ने इस दौरान क्षेत्रीय शांति का भी मसला उठाया। प्रधानमंत्री ने पाक का नाम लिए बिना कहा कि ‘कुछ नेताओं द्वारा’ भारत के खिलाफ आपत्तिजन बयानबाजी क्षेत्रीय शांति के लिए लाभकारी नहीं है।

वहीं उन्होंने इस खास बातचीत के दौरान ये भी कहा कि आतंक और हिंसा से मुक्त वातावरण के निर्माण पर जोर दिया जाए और कहा कि ऐसे वातावरण में सीमा पार आतंकवाद की कोई जगह नहीं होनी चाहिए।

ये भी पढ़ें:पाक क्रिकेटर हसन अली भारतीय लड़की को बनाएंगे हमसफर, सामने आईं तस्वीरें….

वहीं पीएम मोदी की ट्रंप से बाद खत्म होने के बाद इमरान खान ने भी उनसे बात की। इमरान खान और डोनाल्ड ट्रंप की बातचीत के दौरान क्षेत्रीय मुद्दों पर बात हुई, ट्रंप ने इमरान से कहा कि वह भारत के साथ संबंधों में शांति बनाएं रखें।

इसके साथ ही अमेरिकी राष्ट्रपति ने पाकिस्तानी पीएम से किसी भी तरह के एक्शन, आक्रामक रुख से दूरी बनाने की बात कही है। डोनाल्ड ट्रंप ने इमरान खान को नसीहत भी दे डाली और उनसे शांति बनाए रखने को कहा, वहीं उन्होंने कहा कि आक्रामक बयान देने से बचें।

डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट कर दी जानकारी

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी ट्वीट कर दोनों नेताओं से बात करने की जानकारी दी। डोनाल्ड ट्रंप ने लिखा कि मैंने अपने दो अच्छे दोस्त भारत के प्रधानमंत्री मोदी और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से बात की। इस बातचीत में ट्रेड, सामरिक साझेदारी और जम्मू-कश्मीर के हालात पर भी बात की। उन्होंने लिखा कि हालात मुश्किल हैं, लेकिन बातचीत अच्छी हुई।

आपको बता दें कि डोनाल्ड ट्रंप इससे पहले जम्मू-कश्मीर के मसले में मध्यस्थता का ऑफर दे चुके हैं, लेकिन भारत ने किसी भी तरह के दखलंदाजी से इंकार कर दिया था। हालांकि, बाद में अमेरिका ने इसे भारत-पाकिस्तान का द्विपक्षीय मुद्दा बताया था।

जानकारी के मुताबिक पाकिस्तान लगातार कश्मीर के मसले पर परेशान है और कई देशों से मदद मांग रहा है। लेकिन हर जगह से उसके हाथ सिर्फ निराशा लग रही है, यही कारण रहा कि वह बार-बार अमेरिका या फिर चीन की शरण में पहुंच रहा है। इस भारत के बड़े फैसले के बाद पाक बौखलाया हुआ है। उसने पाक में भारतीय फिल्मों और विज्ञापनों पर रोक लगा दी है।http://www.satyodaya.com

अंतरराष्ट्रीय

अमेरिका-ईरान तनाव: इमरान ने कहा, किसी और के युद्ध में शामिल नहीं होगा पाक

Published

on

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा है कि वह किसी और का युद्ध लड़ने को तैयार नहीं है। माना जा रहा है कि ईरान के साथ बढ़े तनाव के बाद अमेरिका को एक बार फिर अमेरिका का साथ चाहिए। क्योंकि पश्चिम एशिया में अपनी गतिबिधियों और रणनीतियों को अंजाम देने के लिए अमेरिका को पाकिस्तान की सरजमीं की आवश्यकता होगी। बदली परिस्थितियों में अमेरिका के लिए पाकिस्तान की अहमियत इसी बात से समझी जा सकती है कि ईरानी कमांडर की हत्या के तुरंत बाद अमेरिकी रक्षा माइक पोंपिओ ने पाकिस्तानी सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा से फोन पर वार्ता की।

लेकिन अमेरिका-ईरान के बीच चरम पर पहुंचे तनाव के बीच शुक्रवार को पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा, पाकिस्तान किसी और के युद्ध में शामिल नहीं होगा, क्योंकि वह पहले ऐसी गलती कर चुका है। लेकिन वह अन्य देशों के बीच उत्पन्न मतभेदों को दूर करने का प्रयास करेगा। श्री खान ने इस्लामाबाद में एक कार्यक्रम के दौरान अमेरिका और ईरान के बीच एक बार फिर मध्यस्ता करने की पेशकश करते हुए कहा, मैं आज अपनी विदेशी नीति का उल्लेख करना चाहूंगा कि अन्य देशों के युद्ध में शामिल होने की अपनी पहले की गलतियों को नहीं दोहराएंगे। पाकिस्तान किसी और के युद्ध में शामिल नहीं होगा। पाकिस्तान अन्य देशों के बीच शांति स्थापित करने का प्रयास करने वाला देश बनेगा।

यह भी पढ़ें-निर्दोषों पर कार्रवाई बर्दाश्त नहीं, पुलिसिया बर्बरता की हो जांच: प्रियंका गांधी

प्रधानमंत्री ने कहा कि ईरान-सऊदी अरब और अमेरिका- ईरान के बीच जारी मतभेदों को दूर करने के लिए पाकिस्तान हर संभव कोशिश करेगा। उन्होंने कहा, हम ईरान और सऊदी के बीच मैत्रीपूर्ण संबंधों को दोबारा मधुर करने का प्रयास करेंगे। मैंने अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से भी ईरान और अमेरिका के बीच मतभेदों को दूर करने के लिए मध्यस्ता करने की पेशकश की है। श्री खान ने पश्चिम एशिया में बढ़ते तनाव के मद्देनजर कहा कि युद्ध से कोई भी विजयी नहीं होता है और युद्ध में जीतने वाला ही असल हारने वाला होता है। पाकिस्तान ने अतीत में आतंकवाद के खिलाफ युद्ध में हिस्सा लेकर भारी कीमत चुकायी थी लेकिन अब वह किसी अन्य देश के साथ युद्ध में शामिल होने की बजाय अन्य देशों के बीच मतभेदों को दूर करने का प्रयास करेगा।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

ट्रूडो ने अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप से की बात…

Published

on

ओटावा: कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से बात की। कनाडा के प्रधानमंत्री कार्यालय ने इसकी जानकारी दी। दोनों नेताओं ने बातचीत के दौरान बुधवार को दुर्घटनाग्रस्त हुए यूक्रेन के विमान की जांच की जरुरत पर चर्चा की। गौरतलब है कि इस दुर्घटना में 176 लोग मारे गए थे जिनमें 63 लोग कनाडा के निवासी थे।
यह भी पढ़ें: बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी ने कहा- दूसरी सरकारों की तुलना में अधिक सुधार…

ट्रूडो और ट्रंप ने इराक की स्थिति और ईरान के संबंध में अगले कदमों पर विचारों का आदान-प्रदान किया और क्षेत्र में सेवारत सशस्त्र बलों और राजनयिक कर्मियों की सुरक्षा के लिए चिंताओं को साझा किया। प्रधानमंत्री कार्यालय के मुताबिक उन्होंने डी-एस्केलेशन की आवश्यकता पर चर्चा की और इराक में स्थिरता के लिए समर्थन जारी रखने और इस्लामिक स्टेट के खिलाफ जारी लड़ाई के महत्व पर जोर दिया। दोनों नेताओं ने इस क्षेत्र में सुरक्षा और स्थिरता को बढ़ावा देने के लिए अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के अन्य सदस्यों के साथ संपर्क में रहने और काम जारी रखने पर सहमति व्यक्त की।http://www.satyodaya.com
Continue Reading

Featured

आस्ट्रेलियाई जवानों का इराक में अभियान रहेगा जारी

Published

on

कैनबरा: आस्ट्रेलिया ने इराक में अमेरिकी एवं गठबंधन सेना पर हुए ईरान के मिसाइल हमलों के बावजूद कहा है कि बगदाद में मौजूद इसके जवान अपने अभियानों को लेकर प्रतिबद्ध हैं। प्रधानमंत्री स्कॉट मॉर्रिसन ने गुरुवार को यह एलान करते हुए कहा कि इराक में मौजूद ऑस्ट्रेलियाई जवानों का अभियान जारी रहेगा।

यह भी पढ़ें: प्रियंका ने BJP पर बोला हमला,कहा-अर्थव्यवस्था के सुधार पर सरकार का ध्यान नहीं


पिछले शुक्रवार को इराकी राजधानी बगदाद में अमेरिकी ड्रोन हमले में ईरानी सेना के शीर्ष कमांडर मेजर जनरल कासिम सुलेमानी की मौत के प्रतिशोध में मंगलवार की रात ईरान की सेना ने इराक स्थित अमेरिका एवं गठबंधन सेना जिसमें ऑस्ट्रेलिया भी शामिल है के दो सैन्य ठिकानों पर कई बैलिस्टिक मिसाइलों से हमला किया। इन हमलों में कोई अमेरिकी या इराकी नागरिक हताहत नहीं हुआ। इन हमलों के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान पर और अधिक आर्थिक प्रतिबन्ध लगाने की घोषणा की।


मोर्रिसन ने कहा,“हमारा लक्ष्य एक एकजुट एवं स्थिर इराक रहा है और हमारे प्रयासों का फोकस आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट से जुड़े दायेश और इसके समर्थक नेटवर्क के खिलाफ मुकाबला पर है … हम इस महत्वपूर्ण कार्य को करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।” प्रधानमंत्री ने अमेरिका एवं ईरान से तनाव को कम करने एवं संयम बरतने की भी अपील की। गौरतलब है कि इराक में तैनात गठबंधन सेना में आस्टेलिया के 300 जवान शामिल हैं जबकि अमेरिका के 5200 जवान वहां तैनात हैं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

January 11, 2020, 11:51 am
Fog
Fog
11°C
real feel: 15°C
current pressure: 1020 mb
humidity: 92%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 2
sunrise: 6:27 am
sunset: 5:02 pm
 

Recent Posts

Trending