Connect with us

अंतरराष्ट्रीय

व्यापार युद्ध पर शी चिनफिंग ने डॉनल्ड ट्रंप को घेरा, एशियाई देशों से की ग्लोबलाइजेशन को बचाने की अपील

Published

on

पेइचिंग। चीन और अमेरिका के बीच ट्रेड वॉर छिड़ गया है। पिछले सप्ताह ही अमेरिका ने चीनी उत्पादों पर सीमा शुल्क बढ़ा दिया था। अब चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने परोक्ष रूप से अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप पर हमला बोला है। चिनफिंग ने कहा अगर कोई भी सभ्यता आज के समय में खुद को सर्वश्रेष्ठ मानती है तो ये मूर्खतापूर्ण है। मौजूदा समय में किसी भी देश के लिए दुनिया से कट कर रहना संभव नहीं है।

बता दें, यह बातें चीनी राष्ट्रपति ने ‘डायलॉग ऑफ एशियन सिविलाइजेशन’ विषय पर आयोजित सम्मेलन के शुरुआती सत्र में कही हैं। कार्यक्रम में भारतीय दूतावास प्रभारी एक्विनो विमल, , आर्मेनिया के प्रधानमंत्री निकोल पाशनियान और यूनान के राष्ट्रपति प्रोकोपीस पावलोपोलस, श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रिपाला सिरिसेना मौजूद थे। शी चिनफिंग ने एशियाई देशों से ग्लोबलाइजेशन को बचाने की अपील की और कहा कि आज यह किसी भी देश के लिए संभव नही है कि वह अपने दरवाजे अन्य देशों के लिए बंद कर दे। यदि कोई देश ऐसा करता है तो वह अपनी जीवंतता खो बैठेगा। एक सभ्यता दूसरी सभ्यता से श्रेष्ठ है यह सोचना मूर्खतापूर्ण होगा।

गौरतलब है, कि अमेरिका ने चीनी उत्पादों पर पिछले ही सप्ताह सीमा शुल्क बढ़ा दिया था। चीन से आने वाले करीब 200 अरब डॉलर के उत्पादों पर आयात शुल्क को 10 फीसदी से बढ़ाकर 25 फीसदी कर दिया था। जिसके बाद चीन ने भी अमेरिका पर इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ाने का फैसला लिया है।http://www.satyodaya.com

अंतरराष्ट्रीय

ईरान-अमेरिका तनावः पेंटागन ने पहली बार कतर में तैनात किए अपने लड़ाकू विमान

Published

on

वॉशिंगटन। अमेरिका और ईरान के बीच बढ़ता तनाव खाड़ी में युद्ध के हालात बना रहा है। अमेरिका जहां नरमी दिखाने के मूड में नहीं दिख रहा है तो वहीं ईरान भी झुकने को तैयार नहीं है। अब पेंटागन ने अपने हितों को सुरक्षित रखने और किसी भी स्थिति से निपटने के लिए कतर में पहली बार एफ-22 रैप्टर स्टील्थ लड़ाकू विमान तैनात किए हैं। कतर में लड़ाकू विमानों की तैनाती को अमेरिका और ईरान के बीच बढ़ते तनाव के नजरिए से देखा जा रहा है। अमेरिकी वायु सेना के मिलिटरी कमांड ने कहा है कि अमेरिकी सेना और उसके हितों की रक्षा के लिए यह तैनाती की गई है। हालांकि बयान में इस बात की जानकारी नहीं दी गई है कि कितने विमानों की तैनाती की गई है। बता दें कि ईरान के साथ ताजा घटनाक्रम के बाद से ही अमेरिका मध्य पूर्व में अपनी सेनाओं को बढ़ा रहा है। अमेरिका के लड़ाकू विमान कतर की राजधानी दोहा के बाहर अल उदीद एयर बेस पहुंचे हैं। एक रक्षा अधिकारी ने शुक्रवार को कहा कि लड़ाकू विमान मध्य पूर्व में नई सेनाओं की पहले से घोषित तैनाती का हिस्सा हैं, जिसका उद्देश्य पूरे क्षेत्र, विशेषकर इराक और सीरिया में अपनी सेना की रक्षा के लिए अमेरिका की क्षमता को बढ़ावा देना है, जहां अमेरिकी सेना ईरान समर्थित आतंकियों के साथ लड़ाई में खड़ी है।

यह भी पढ़ें-चीफ डिजाइन ऑफिसर के इस्तीफा देते ही ऐपल को 9 अरब डाॅलर का नुकसान

अमेरिकी अधिकारियों ने कहा कि विश्वस्त खुफिया जानकारी मिली है कि ईरानी सेना और उसके समर्थक, इस क्षेत्र में अमेरिकियों पर हमला करने की योजना बना सकते हैं। अल उदीद एयर बेस के पास अमेरिकी विमान को उड़ान भरते हुए भी देखा गया है। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

ट्विटर लगाएगा भड़काऊ ट्वीटस पर लगाम, इन अकाउंट्स पर रहेगी खास नजर

Published

on

नई दिल्ली। सोशल मीडिया के जरिये तमाम तरह के भड़काऊ मेसेजस शेयर किये जाते हैं। हर रोज ही यह खबरें आती हैं कि किसी व्यक्ति या समुदाय के खिलाफ फेसबुक या ट्विटर पर किसी ने आपत्तिजनक टिप्पणी कर दी है। लेकिन अब ट्विटर ने ऐसे भड़काऊ बयानों के खिलाफ सख्त रूख अख्तियार कर लिया है।

ट्विटर ने एक अभियान चलाया है जिसमें ऐसे हर अकाउंट पर नजर रखी जाएगी जो भड़काऊ ट्वीट करते हैं। इसमें में लोकप्रिय नेता, वेरिफाइड अकाउंट और एक लाख से अधिक फॉलोअर्स वाले अकाउंट पर विशेष ध्यान रहेगा।

ट्विटर के ब्लॉग में कहा गया है कि, अगर को कोई पॉलिसी के खिलाफ जाकर ट्वीट करता है तो उसे नोटिफिकेशन के जरिये मेसेज भेजा जाएगा जिसमें स्पष्टीकरण होगा। इन अकाउंट पर निगरानी रखने के लिए एक टीम भी गठित की गई है। इस टीम में लोकल ऑफीसर्स भी शामिल हैं।

बताते चलें कि, जीरो टॉलरेंस नीति के तहत पिछले माह ही ट्विटर पर 166,513 अकाउंट सस्पेंड किये गये थे। यह अकाउंट आतंकी गतिविधियों के लिए इस्तेमाल हो रहे थे। ट्वटिर की कार्रवाई के बाद आतंकी संगठनों के ट्विटर यूज में खासा कमी देखी गई है। ट्विटर के अधिकारी विजया गड़े के मुताबिक, पिछले रिपोर्टिंग पीरियड की तुलना में आतंक से जुड़े ट्वीट्स में अब तक 19 फीसदी तक की कमी देखी गई है। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

चीफ डिजाइन ऑफिसर के इस्तीफा देते ही ऐपल को 9 अरब डाॅलर का नुकसान

Published

on

नई दिल्ली। ऐपल के चीफ डिजाइन ऑफिसर जोनाथन ईव ने आखिरकार कंपनी को अलविदा कह दिया है। जोनाथन इस दिग्गज बहुराष्टीय कंपनी के लिए कितने महत्वपूर्ण थे इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि उनके अलग होते ही कंपनी को अरबों डालर का झटका लगा है। iPhone और iPod को डिजाइन करने वाले जोनाथन के इस्तीफे की खबर लगते ही कंपनी के शेयरों में भारी गिरावट आई और एक दिन में मार्केट वैल्यू 9 अरब डॉलर कम हो गई। मार्केट वैल्यू में गिरावट की नजर से देखें तो कंपनी के लिए यह झटका स्टीव जॉब्स के इस्तीफे से कुछ ही कम है। ऐपल फाउंडर और सीईओ स्टीव जॉब्स ने स्वास्थ्य कारणों की वजह से जब 2011 में इस्तीफे की घोषणा की थी तब कंपनी की मार्केट वैल्यू 10 अरब डॉलर घट गई थी।#Jonathan Ive

जोनाथन के पीछे ऐपल

फाइनैंशल टाइम्स को दिए इंटरव्यू के जरिए इस्तीफे की घोषणा करने वाले जोनाथन अब अपनी डिजाइन कंपनी खोलेंगे, जिसका नाम होगा LoveFrom । ऐपल का उनका क्लाइंट बनना पहले से तय है। कंपनी वीयरेबल टेक्नॉलजी और हेल्थकेयर से जुड़े मामलों में उनकी सेवा लेगी। हालांकि, जोनाथन दूसरी कंपनियों के लिए भी काम करेंगे। उन्होंने 1992 में कंपनी को जॉइन किया था और 1998 में पडंब से लेकर सभी प्रॉजेक्ट के लिए काम किया। # iPhone

स्टीव जॉब्स के कितने खास थे जोनाथन

जोनाथन के लिए एक बार स्टीव जॉब्स ने कहा था, ऐपल में यदि मेरा कोई आत्मिक दोस्त था तो वह है जॉनी। जॉनी और मैंने अधिकतर प्रॉडक्ट्स पर साथ काम किया। वह हर प्रॉडक्ट के लिए बड़ी से लेकर बेहद बारीक चीजों पर काम करता है। इसलिए वह सीधा मेरे लिए काम करता है। ऐपल में मेरे बाद उसके पास सबसे अधिक ऑपरेशनल पावर है। ऐपल में कोई नहीं है जो उसे कह सके कि क्या करना है क्या नहीं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

June 30, 2019, 9:56 am
Thunderstorms
Thunderstorms
26°C
real feel: 28°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 78%
wind speed: 3 m/s E
wind gusts: 3 m/s
UV-Index: 2
sunrise: 4:46 am
sunset: 6:34 pm
 

Recent Posts

Trending