Connect with us

अंतरराष्ट्रीय

जापान में मूसलाधार बारिश, 10 लाख से ज्यादा लोग हो सकते हैं बेघर

Published

on

तोक्यो। जापान में 10 लाख से ज्यादा लोगों को प्रशासन ने अपना घर छोड़कर किसी सुरक्षित जगह जाने का निर्देश दिया है। दरअसल, दक्षिणी जापान में मूसलाधार बारिश के चलते कई इलाके डूब गये हैं। स्थिति संभालने के लिये 14 हजार सैनिकों को अलर्ट कर दिया गया है।

जापान में कुछ दिनों से लगातार बारिश हो रही है। ऐसे में बाढ़ या भूस्खलन से कोई बड़ी दुर्घटना न हो जाए इसलिये अधिकारियों ने दक्षिण-पश्चिमी शहर कागोशिमा में 10 लाख से ज्यादा लोगों को अपने घरों से पलायन करने को कहा है।

कागोशिमा, क्यूशू के दक्षिणी द्वीप की खाड़ी में स्थित है। इसके कुछ हिस्सों में पिछले हफ्ते से प्रति वर्ग मीटर 900 मिलीमीटर बारिश हुई है। वहीं, कागोशिमा में मंगलवार सुबह 7 बजे से 8 बजे के बीच 40 मिलीमीटर/वर्ग मीटर बारिश हुई। इतना ही नहीं, मौसम विज्ञान एजेंसी ने गुरुवार सुबह तक दक्षिणी क्यूशू में लगभग 350 मिमी/ वर्ग मीटर बारिश होने की संभावना जताई है, जबकि कुछ इलाकों में प्रति घंटे 80 मिमी तक बारिश हो सकती है।

प्रशासन वहां लगातार हालात पर नजर बनाये हुए है लेकिन निर्देशों के बावजूद भी अगर लोग अपना घर छोड़कर नहीं गये तो उन्हें इसके लिये बाध्य नहीं किया जा सकता है। ऐसे में अधिकारियों को काफी मशक्कत करनी पड़ सकती है। मौसम पूवार्नुमान इकाई के प्रमुख ने बताया कि पिछले वर्ष के मुकाबले  इस बार बारिश की अवधि कम होगी। साथ ही यह भी कहा कि भारी बारिश से निकासी में बाधा आ सकती है।http://www.satyodaya.com

अंतरराष्ट्रीय

डोनाल्ड ट्रंप के भारत दौरे पर पाकिस्तान को कश्मीर पर मध्यस्थता की उम्मीद

Published

on

नई दिल्ली। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप दो दिवसीय दौरे पर भारत आ रहे हैं। वह 24 फरवरी को अहमदाबाद पहुंचेंगे। जिसके बाद वह शाम को यूपी के आगरा शहर आ रहे हैं। वह यहां ताज महल का दीदार करेंगे। ट्रंप के भारत आने से पहले ही पाकिस्तान ने कश्मीर राग फिर से अलापना शुरू कर दिया है।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को उम्मीद है कि ट्रंप कश्मीर पर मध्यस्थता की पेशकश जरूर करेंगे। क्योंकि 9 फरवरी को रियाद में बैठक में सऊदी अरब के दबाव के बाद कश्मीर के मुद्दे को बहस से हटा दिया गया था। इस फैसले से पाकिस्तान खफा है। वहीं पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने राष्ट्रपति ट्रंप से हुई तीन मुलाकातों में कश्मीर का मुद्दा उठाया था, जिसके बाद ट्रंप ने दोनों देशों के बीच मध्यस्थता करने की बात कुबूल की थी। हालांकि भारत ने इस मध्यस्थता बात को सिरे से खारिज कर दिया था। अब जबकि खुद ट्रंप भारत आ रहे हैं तो मुमकिन है कि इस संबंध में अपना पक्ष साफ कर देगा। आपको यहां पर ये भी बता दें कि अमेरिका ने कश्मीर के मुद्दे पर भारत का कई बार साथ दिया है। ऐसे में पाकिस्तान की निगाहें भी ट्रंप के दौरे पर जरूर लगी होंगी।

यह भी पढ़ें:- पीएम मोदी से मिले उद्धव ठाकरे, कहा- सीएए व एनआरसी से डरने की जरूरत नहीं

विदेश कार्यालय की प्रवक्ता आइशा फारूकी ने मीडिया से बात करने हुए कहा कि मध्यस्थता के लिए राष्ट्रपति ट्रंप द्वारा की गई पेशकश कुछ ठोस व्यावहारिक कदमों के जरिए आगे बढ़ाई जाएगी। फारूकी ने ट्रंप की भारत यात्रा और कश्मीर के हालात के बारे में पूछे गए सवालों के जवाब में यह टिप्पणी की। उन्होंने कहा कि चार अमेरिकी सीनेटरों ने विदेश मंत्री माइक पॉम्पिओ को पत्र लिख कर उनका ध्यान कश्मीर की स्थिति की ओर आकर्षित किया। लेकिन पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आता है। वह अमेरिका के सामने कई बार मध्यस्थता की गुहार लगा चुका है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

जर्मनी: हनाऊ शहर के हुक्का बार में हुई ताबड़तोड़ फायरिंग, 8 की मौत कई घायल…

Published

on

फाइल फोटो

नई दिल्ली। जर्मनी के हनाऊ शहर में ताबड़तोड़ फायरिंग हुई, जिसमें 8 लोगों की मौत हो गई। वहीं घटना में कई लोग गंभीररूप से घायल भी हुए हैं। इस दर्दनाक घटना की जानकारी अधिकारियों ने दी है।

जानकारी के मुताबिक यह हमला जर्मनी के हुक्का बार में हुआ है।पुलिस ने बताया कि इस हमले में पांच अन्य लोग घायल हो गए हैं। हालांकि हमलावरों की तलाश की जा रही है। वहीं अधिकारियों ने ये भी बताया कि पहला हमला रात को लगभग 10 बजे हुआ। इस हमले के बाद एक गहरे रंग के गाड़ी को घटनास्थल से जाते हुए देखा गया और एक अन्य स्थान पर भी गोलीबारी हुई। हालांकि पुलिस ने घटनास्थलों की घेराबंदी कर दी है।

पुलिस के मुताबिक संक्षिप्त बयान में पीड़ितों के बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई है। बयान में ये भी कहा गया है कि हमले के मकसद का अभी पता नहीं चल पाया है। हनाऊ के मेयर क्लाउस कामिंस्की ने कहा, ”यह भयानक शाम है जिसे हम हमेशा दुखी होकर याद करेंगे।

ये भी पढ़ें:एफएटीएफ ने पाकिस्तान को नहीं दी राहत, ग्रे लिस्ट में बरकरार

क्षेत्रीय सार्वजनिक प्रसारणकर्ता हेसिसचर रंडफंक ने सूत्रों का हवाला देते हुए कहा कि पहला हमला शहर के केंद्र में एक हुक्का बार में हुआ था। उन्होंने कहा कि गवाहों ने आठ या नौ शॉट्स सुनने और जमीन पर कम से कम एक व्यक्ति को देखने की सूचना दी। ब्रॉडकास्टर ने कहा कि शूटर जाहिर तौर पर शहर के दूसरे हिस्से में गए थे, जहां एक और हुक्का लाउंज के अंदर गोलीबारी हुई थी। हनाऊ दक्षिण-पश्चिमी जर्मनी में है, जो फ्रैंकफर्ट से लगभग 20 किलोमीटर (12 मील) पूर्व में है। यहां करीब 100,000 निवासी हैं और यह हेस्से राज्य में स्थित है। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

एफएटीएफ ने पाकिस्तान को नहीं दी राहत, ग्रे लिस्ट में बरकरार

Published

on

लखनऊ। दुनिया की आंखों में धूल झोंक कर आतंकवाद को अपना राष्ट्रीय नीति बनाने वाले पाकिस्तान को तगड़ा झटका लगने वाला है। पेरिस में चल रही फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) की बैठक में पाकिस्तान को कोई राहत नहीं मिली है। एफएटीएफ ने पाकिस्तान को ग्रे सूची में बरकरार रखा है। अब उस पर काली सूची में जाने का खतरा मंडरा रहा है। 16 फरवरी से 21 फरवरी तक चलने वाली इस पूर्ण बैठक में पाकिस्तान की किस्मत पर फैसला होगा। जहां एफएटीएफ की ग्रे सूची से बाहर निकलने के लिए पाकिस्तान को 39 में से 12 मतों की जरूरत है तो वहीं काली सूची में जाने से बचने के लिए 3 देशों के समर्थन की जरूरत होगी। अभी तक पाकिस्तान के समर्थन में तुर्की और मलेशिया ने ही समर्थन दिया है। अब पाकिस्तान को बचाने का सारा दारोमदार चीन पर है। चीन के समर्थन पर ही पाकिस्तान ब्लैक लिस्ट होने से बच सकता है।

बैठक में एफएटीएफ ने पाकिस्तान से धन शोधन और आतंकवाद को आर्थिक मदद देने वाले दोषियों को कठघरे में लाने के लिए सख्त कदम उठाने की मांग की गयी है। खबरों के मुताबिक अंतरराष्टीय संस्था ने काली सूची में जाने से बचने के लिए पाकिस्तान को 27 सूत्रीय एक्शन प्लान सौंपा था। लेकिन पाकिस्तान ने उस पर पूरी तरह से अमल नहीं किया। पाकिस्तान लगातार अपनी काली करतूतों पर पर्दा डालने के लिए दुनिया को भरमा रहा है। दिखावे के लिए पाकिस्तान आतंकी संगठनों के आकाओं पर कार्रवाई करता है, जबकि हकीमत में पाकिस्तान आतंकियों की सुरक्षित पनाहगाह बन चुका है।

यह भी पढ़ें-खुलासा: मुंबई हमले को #HinduTerror साबित करना चाहता था लश्कर-ए-तैयबा

बता दें कि एफएटीएफ एक अंतर राष्ट्रीय संस्था है। जो दुनिया भर में आतंकियों को वित्त पोषण और मदद पर नजर रखती है। संस्था ने आतंकी फंडिंग रोकने के लिए सख्त कानून बनाए हैं। एफएटीएफ की ओर से पाकिस्तान को कई बार चेतावनी दी जा चुकी है। जून 2018 में संस्था ने पाकिस्तान को ग्रे सूची में डाल दिया था। साथ ही काली सूची में जाने से बचने के लिए आतंकियों के खिलाफ कड़े कदम उठाने को कहा था। लेकिन पाकिस्तान ने हाफिज सईद, मसूद अजहर और अल जवाहिरी जैसे आतंकियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की है। पाकिस्तान के एफएटीएफ की ब्लैक लिस्ट में जाने का मतलब है कि उस पर कई तरह के आर्थिक प्रतिबंध लग जाएंगे। साथ ही संयुक्त राष्ट व अमेरिका आदि देशों से मिलने वाली आर्थिक मदद भी प्रभावित होगी। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

February 22, 2020, 5:16 am
Fog
Fog
15°C
real feel: 15°C
current pressure: 1020 mb
humidity: 93%
wind speed: 1 m/s NNE
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 6:08 am
sunset: 5:33 pm
 

Recent Posts

Trending