Connect with us

अंतरराष्ट्रीय

Google ने ढूंढ निकाला 22 साल पहले लापता हुए शख्स का शव

Published

on

नई दिल्ली। इस दुनिया में सात अरब से भी ज्यादा लोग रहते हैं। उनमें से बहुत से अपने परिवार के साथ चैन से रहते हैं लेकिन कुछ ऐसे भी होते हैं जो अपनों से बिछड़ जाते हैं। रह जाती है तो बस एक उम्मीद। उम्मीद इस बात की फिर मिलेंगे, कभी न कभी वो अपना वापस लौट आएगा। परिवार राह तकता रह जाता है, दरवाजे पर हुई हर आहट में लोग उसी को खोजते हैं। लेकिन वो फिर कभी नहीं लौटता और एक दिन खबर आती है कि कहीं उसकी लाश पड़ी मिली है।

कुछ ऐसा ही अमेरिका के फ्लोरिडा में भी हुआ है। यहां विलियम नाम का 40 वर्षीय एक शख्स 22 साल पहले लापता हो गया था। 7 नवंबर 1997 को वो रात के वक्त क्लब गया और फिर वापस नहीं आया। इसके बाद परिवार ने मिसिंग पर्सन रिपोर्ट दर्ज कराई लेकिन विलियम का कोई पता नहीं लगा। दो दशक बाद भी पुलिस को विलियम का कोई सुराग नहीं मिला। मगर तकनीक ने लापता विलियम के शव को ढूंढ निकाला।

गूगल अर्थ (Google Earth) इमेज में लापता विलियम की कार को लोकेट कर लिया। दरअसल, पुलिस को एक कॉल आया। यह कॉल एक कार प्रॉपर्टी का सर्वे करने वाले व्यक्ति ने की थी। उसने बताया कि उसे एक लावारिस दिखी है। पुलिस उस जगह पर पहुंची तो देखा कि कार में विलियम के अवशेष बचे हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यह कार यहां 2007 से गूगल अर्थ इमेज में नजर आ रही है। लेकिन किसी ने उसे नोटिस नहीं किया।

ये भी पढ़ें: रामपुर में बोले अखिलेश, भाजपा देश को डर और नफरत के रास्ते पर ले जा रही है

बतौर पुलिस विलियम ने ड्राइविंग के वक्त अपनी कार का कंट्रोल खो दिया और तालाब में पहुंच गया जहां डूबने से उसकी मौत हो गई। यह पहला मौका नहीं है जब गूगल अर्थ की मदद से किसी को ढूंढ़ा गया है। इससे पहले भी पुलिस ने गूगल अर्थ के जरिए भारत में एक शख्स को ढूढ़ निकाला था।http://www.satyodaya.com

अंतरराष्ट्रीय

तो क्या थम जाएगी चीनी अर्थव्यवस्था की रफ्तार! #World bank ने दी चेतावनी

Published

on

लखनऊ। तो क्या चीन दुनिया की आर्थिक महाशक्ति बनने से चूक गया! आने वाले कुछ समय तक चीन कारोबार थम जाएगा! विश्व बैंक ने कुछ ऐसा ही इशारा किया है। कुछ समय पहले तक कुलांचे भर रही चीन की अर्थव्यवस्था पर कोरोना ने ग्रहण लगा दिया है। अपनी एक रिपोर्ट में विश्व बैंक ने कहा है कि कोविड-19 का केन्द्र रहे चीन इसका भयानक असर दिखेगा। इस महामारी के कारण एशिया में गरीबी का दायरा बढ़. जाएगा। पर्यटन, ट्रेड और विभिन्न वस्तुओं की खरीद-बिक्री पर आधारित अर्थव्यवस्थाएं खतरे में आ गई हैं।

वर्तमान परिदृश्य पर आधारित विश्व बैंक की इस रिपोर्ट में कहा गया है कि पूरे एशिया में करोड़ों लोगों की आजीविका प्रभावित हो चुकी है। गरीबों का जीवनस्तर और नीचे चला जाएगा। यहां तक कि क्षेत्र के अमीर देशों को भी कई समस्याओं का सामना करना होगा। महामारी से प्रभावित चीन की आर्थिक वृद्धि दर 2.3 प्रतिशत तक गिर सकती है। यानी कि एक तरह से चीनी ईकोनाॅमी में ठहराव आ जाएगा।

यह भी पढ़ें-कोविड-19ः तब्लीगी जमात के कारनामे से बिगड़ सकते हैं हालात, देश भर में हड़कंप

रिपोर्ट में कहा गया है कि यदि महामारी और भी घातक हुई तो चीन की इस वर्ष आर्थिक वृद्धि दर 0.1 प्रतिशत पर पहुंच सकती है। चीन की ही तरह आस-पास के देशों में अर्थव्यवस्था खराब रहेगी। इनमें भारत भी शामिल है। वर्ल्ड बैंक ने कहा है कि कोरोना की महामारी से वैश्विक अर्थव्यवस्था को जो नुकसान हो रहा है और होगा, उसकी भरपाई में लंबा वक्त लगेगा।

अमेरिका 30 अपै्रल तक लाॅकडाउन

बता दें कि दुनिया भर में इस महामारी से अब तक 27 हजार से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है। जबकि करीब संक्रमित लोगों की संख्या 8 आठ के करीब पहुंच गयी है। चीन के बाद इटली और स्पेन में महामारी से हाहाकार मचा हुआ है। महामारी का असर मानव जीवन पर ही नहीं पड़ा है, बल्कि लगभग पूरी दुनिया ठहर सी गयी है। सब कुछ ठप हो गया है। इंतजार है तो बस इस बात का कि दुनिया कैसे इस महामारी से पीछा छुड़ाए। वैश्विक बाजार धराशाई हो चुके हैं। अमेरिका जैसा देश महामारी के सामने बेबस है। राष्टपति टंप ने अमेरिका को 30 अपै्रल तक लाॅकडाउन कर दिया है। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

स्पेन की राजकुमारी का निधन, कोरोना महामारी से दुनिया में पहली शाही मौत

Published

on

नई दिल्ली। दुनिया भर में फैल चुकी कोरोना की महामारी ने इन दिनों इटली और स्पेन में मौत का तांडव मचा दिया है। हर रोज यहां सैकड़ों लोग काल के गाल में समा रहे हैं। स्पेन के शाही महल भी अब इस महामारी से अछूते नहीं रहे। कोरोना से संक्रमित राजकुमारी मारिया टेरेसा (86) का निधन हो गया है। दुनिया भर में यह किसी शाही परिवार की कोरोना से पहली मौत है। राजकुमारी की मौत की जानकारी उनके भाई प्रिंस सिक्सटो एनरिके डी बॉरबोन ने अपनी एक फेसबुक पोस्ट में दी। प्रिंस बॉरबोन ने लिखा, राजकुमारी की मौत 26 मार्च को हुई।

यह भी पढ़ें-अमेरिका में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 2000 के पार पहुंची

नोवेल कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद उनका इलाज चल रहा था। देश-दुनिया के कई लोग इस बीमारी की चपेट में आए हैं लेकिन मौत के मामले में स्पेन से यह बड़ी खबर सामने आई है। राजकुमारी के भाई ने एक फेसबुक पोस्ट में लिखा कि कोरोना पॉजिटिव पाई गईं 86 साल की प्रिंसेस की मौत पेरिस में हो गई। शुक्रवार को मैड्रिड में उनका अंतिम संस्कार किया गया।

रेड प्रिंसेस के नाम से भी मशहूर थीं राजकुमारी टेरेसा

प्रिंसेस का जन्म 1933 में पेरिस में हुआ था। उनकी पढ़ाई लिखाई फ्रांस में हुई थी। एक रिपोर्ट के मुताबिक, वे पेरिस के सॉरबोने और मैड्रिड की कमप्लूटेंस यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर थीं। विदेशी मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, प्रिंसेस मारिया टेरेसा को रेड प्रिंसेस के नाम से भी जाना जाता था क्योंकि उनके विचार काफी बेलाग थे। सामाजिक कार्यों में भी बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेती थीं। द सन के मुताबिक, प्रिंसेस के परिवार में और भी कई सदस्य हैं।

इटली और स्पेन में मचा हाहाकार

बता दें, यूरोपीय देशों में इटली के बाद स्पेन ही कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित है। यूरोपीय देशों में इटली के बाद स्पेन ही कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित है। स्पेन में कोरोना वायरस से बड़ी तबाही मची है। इटली के बाद यहां सबसे ज्यादा मौत की खबर है। अब तक 5690 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है। पिछले 24 घण्टे में स्पेन मे 832 लोगों की मौत हो गयी। जबकि 72 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित हैं। स्पेन और इटली ने चीन को भी पीछे छोड़ दिया है, जहां कोरोना वायरस सबसे पहले पनपा था। स्पेन की पार्लियामेंट ने यहां इमरजेंसी लगा दिया है जिसके अभी और बढ़ाए जाने की संभावना है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

अमेरिका में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 2000 के पार पहुंची

Published

on

वाशिंगटन: अमेरिका में कोरोना वायरस के कारण मरने वालों की संख्या 2000 के पार पहुंच गयी है, जबकि संक्रमितों की संख्या 121,000 से अधिक हो गई है। जॉन हपकिंग विश्वविद्यालय द्वारा कोविड -19 को लेकर जारी किये गये ताजा आखड़ों के अनुसार अब तक यहां 2026 लोगों की इस वैश्विक महामारी के कारण मौत हो चुकी है।

यह भी पढ़ें: लॉकडाउन:आनंद विहार बस स्टैंड पर कई राज्य जाने वालों का लगा तांता, देखिए तस्‍वीरें


सिर्फ न्यूयॉर्क सिटी में ही इस संक्रमण के कारण 517 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं न्यूयॉर्क राज्य के अन्य हिस्सों में 100 से अधिक लोगों की मौत हुई है। इसके अलावा लुइसियान में 96, मिशिगन के वायने सिटी में 46, कॉलिफोर्निया के ऑकलैंड में 31, न्यूयॉर्क के सुफोल्क क्षेत्र में 30, इलिनोइस के कुक क्षेत्र में 28, न्यूयॉर्क के नासाउ गांव में 27, कॉलिफोर्निया के लॉस एंजिल्स में 26, वाशिंगटन के स्नोहोमिश सिटी में 23, कोलिफोर्निया के सांता क्लारा में 20, मिशिगन सिटी के मकोम्ब क्षेत्र में 17 तथा अन्य क्षेत्रों से नौ लोगों की मरने की सूचना हैं। अमेरिका में अब तक 960 लोग इस महामारी से ठीक हुए हैं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

April 1, 2020, 11:19 pm
Mostly clear
Mostly clear
28°C
real feel: 28°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 39%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:27 am
sunset: 5:54 pm
 

Recent Posts

Trending