Connect with us

अंतरराष्ट्रीय

हांगकांग प्रदर्शन: 23 साल का लड़का बना चीन की आफत, ट्विटर-फेसबुक ने भी चलाया चाबुक

Published

on

नई दिल्ली। पिछले काफी दिनों से हांगकांग में चीन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहा है। यह विरोध प्रदर्शन एक प्रत्यर्पण विधेयक के खिलाफ शुरू हुआ था। हालांकि हांगकांग की सरकार ने विधेयक तो वापस ले लिया लेकिन युवाओं का आंदोलन खत्म नहीं हुआ। प्रदर्शनकारियों की मांग है कि हांगकांग में लोकतांत्रिक व्यवस्था और अधिक मजबूत हो। रविवार को यहां एक लाख से भी अधिक लोग अपनी मांगो को लेकर सड़कों पर उतरे थे। लगातार बढ़ रहे विरोध प्रदर्शन को देख अब चीन अफवाहों का सहारा लेकर इस अहिंसक प्रदर्शन को बदनाम करने की कोशिश में लगा है।

चीन सोशल मीडिया के जरिए भ्रामक प्रचार कर रहा है। फेसबुक और ट्विटर ने भी इसकी पुष्टि करते हुए मंगलवार को बयान जारी किया है। साथ ही ऐसे अफवाहों को फैलाने वाले अकाउंट्स भी बंद कर दिए हैं।

क्या है प्रत्यर्पण विधेयक?

हांगकांग में लगातार युवा बढ़ी संख्या में चीन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। रविवार को पेइचिंग की गंभीर चेतावनियों को दरकिनार करते हुए एक लाख से अधिक की संख्या में लोगों ने यहां लोकतंत्र समर्थक विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लिया। ये विरोध प्रत्यर्पण विधेयक के खिलाफ शुरू हुआ था, जिसके मुताबिक अगर कोई हांगकांग का व्यक्ति चीन में कोई अपराध करता है या प्रदर्शन करता है तो उसके खिलाफ हांगकांग में नहीं बल्कि चीन में मुकदमा चलाया जाएगा। बस फिर क्या जैसे ही ये विधेयक आया लोगों का गुस्सा फूट पड़ा और उनके गुस्से को नेतृत्व मिला एक 23 साल के लड़के जोशुआ वांग का। इस जबरदस्त विरोध प्रदर्शन को देखते हुए हांगकांग प्रशासन ने विधेयक तो वापस ले लिया लेकिन इसके बावजूद युवाओं ने प्रदर्शन जारी रखा। प्रदर्शनकारियों की मांग है कि हांगकांग में लोकतांत्रिक व्यवस्था और अधिक मजबूत हो।

ये भी पढ़ें: Chandrayaan2: ISRO की ‘दुल्हन’ चांद की सतह से महज चार कदम दूर…

फेसबुक और ट्विटर का चला चाबुक

चीन बढ़ते विरोध प्रदर्शन को देखते हुए भ्रामक प्रचार के जरिए अब इस आंदोलन को बदनाम करने की कोशिश कर रहा है। सोशल मीडिया के जरिए वो इस प्रदर्शन की तस्वीर हिंसक और युद्ध जैसी पेश करने का प्रयास कर रहा है। इस बात की पुष्टि मंगलवार को फेसबुक और ट्विटर ने भी कर दी है। फेसबुक और ट्विटर ने कहा कि ऐसे भ्रामक और गलत जानकारी देनेवाले सोशल मीडिया अकाउंट्स को बंद कर दिया गया है। फेसबुक ने कहा, ‘3 फेसबुक ग्रुप, 7 फेसबुक पेज और 5 अकाउंट्स को हॉन्ग कॉन्ग प्रदर्शन के खिलाफ भ्रामक जानकारी देने के कारण बंद कर दिया गया।’  वहीं, ट्विटर ने भी जानकारी दी है कि 936 अकाउंट्स को बंद कर दिया गया है इसके साथ ही राज्य प्रायोजित अकाउंट्स को भी बंद किया जाएगा।

विधेयक के पीछे चीन की चालाकी?

अब सवाल ये है कि आखिर क्यों चीन इस तरह का विधेयक लाना चाह रहा था हांगकांग के लिए? दरअसल, हांगकांग चीन का एक हिस्सा जरूर है लेकिन वो उसका विशेष प्रशासनिक क्षेत्र है। इसका मतलब ये है कि चीन के पास हांगकांग में सीमित अधिकार हैं जैसे रक्षा और विदेशी मामले चीन के नियंत्रण में हैं अन्य मामलों में हांगकांग को ‘उच्च स्तर की स्वायत्तता’ प्राप्त है। लेकिन प्रत्यर्पण विधेयक के बाद हांगकांग की युवा आबादी को लगा कि चीन की कम्युनिस्ट पार्टी इस विधेयक के जरिए हांगकांग पर अपना दबदबा कायम करना चाहती है। जिसकी वजह से वहां युवा सड़कों पर उतर आए हैं। इस आंदोलन की सबसे दिलचस्प बात ये है कि प्रदर्शन करने वाले भी युवा हैं और उनको नेतृत्व देने वाला भी एक 23 साल का युवा लड़का है। इस लड़के का नाम जोशुआ वांग है।

क्यों खास है ये लड़का?

ये पहली बार नहीं है जब जोशुआ वांग चर्चा में रहे हों। इसके पहले 2014 में वे तब दुनिया की नजरों में आए थे जब उन्होंने ‘अम्ब्रेला मूवमेंट’ चलाया था। उस वक्त उनकी उम्र महज 19 साल थी। इसी आंदोलन के कारण प्रतिष्ठित अंतरराष्ट्रीय पत्रिका टाइम ने जोशुआ का नाम साल 2014 के सबसे प्रभावी किशोरों में शामिल किया था।

इतना ही नहीं,  साल 2015 में फॉर्च्युन मैगजीन ने उन्हें ‘दुनिया के महानतम नेताओं’ की लिस्ट में जगह दी थी। वहीं, साल 2018 में वांग को नोबेल शांति पुरस्कार के लिए भी नामित किया गया। जोशुआ फिलहाल हांगकांग की राजनीतिक पार्टी डेमोसिस्टो के महासचिव हैं। उन्होंने महज 19 साल की उम्र में ये पार्टी बनाई थी।http://www.satyodaya.com

अंतरराष्ट्रीय

पाकिस्तान में पेट्रोल से भी महंगा हुआ दूध, जानिए कीमत

Published

on

प्रतिकात्मक चित्र

नई दिल्ली। पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था लड़खड़ाने से हाहाकार मच गया है। जहां कर्ज के बोझ में दबे भुखमरी की दहलीज पर खड़े पाकिस्तान के लिए महंगाई, बेरोजगारी, पानी एंव अन्य चीजों की बहुत दिक्कत हो गई है। जबकि अब पड़ोसी मुल्क के लोग दूध के लिए भी तरस गए हैं। पाकिस्तान में महुर्रम के दिन दूध का दाम पेट्रोल से भी ज्यादा महंगा हो गया था। वहीं कराची और सिंध में दूध 140 रुपये प्रति एक लीटर तक बिका।

जानकारी के मुताबिक  महुर्रम के दिन कराची में एक लीटर दूध का दाम 120 से 140 रुपये तक बिका था। वहीं सिंध के कुछ इलाकों में भी दूध 140 रुपये में बिका। पाक में दूध के दाम बढ़ने से लोग कितने परेशानी में हैं, वहां पेट्रोल और डीजल भी दूध से सस्ता है। महुर्रम के दिन पाकिस्तान में एक लीटर पेट्रोल 113 रुपये का था। एक लीटर डीजल के लिए लोग 91 रुपये चुका रहे थे।

यह भी पढ़ें: तारकोल गबन के आरोप में पीडब्ल्यूडी के जेई हुए गिरफ्तार

बता दें कि पाक में ना सिर्फ दूध, बल्कि आलू और टमाटर जैसी अन्य कई सब्जियों के दामों ने आसमान छू लिया है। सच तो यह है कि पाक सरकार अवाम को आर्थिक सुरक्षा प्रदान नहीं कर पा रही है। इस बेकारी के कारण युवा दहशतगर्दी का दामन थाम रहे हैं। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

चंद्रयान-2 को लेकर गड़बड़ाया आसिफ गफूर का गणित, लोगों ने लगा दी क्लास

Published

on

नई दिल्ली। भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो का महत्वाकांक्षी मिशन चंद्रयान-2 भले ही 100 फीसदी सफल न रहा हो लेकिन पूरी दुनिया इसरो के प्रयास और कामयाबी की प्रशंसा कर रहा है। वहीं दूसरी ओर पाकिस्तान जिसमे इतनी भी क्षमता नहीं कि वह चांद पर जाने के बारे में सोच भी सके, वह इसरो की आंशिक असफलता पर तंज कस रहा है, यह अलग बात है कि पाकिस्तान खुद पूरी दुनिया में हंसी का पात्र बन चुका है। वह जितनी बार भारत को घेरने की कोशिश करता है, उसका दांव उल्टा ही पड़ता है।
ताजा मामला पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता आसिफ गफूर है। भारत को निशाने पर लेने के चक्कर में गफूर साहब खुद निशाने पर आ गए। चंद्रयान-2 के बहाने कश्मीर राग अलापने का प्रयास कर रहे आसिफ गफूर ने ट्वीटर पर
लिखा, भारत सरकार ने चंद्रयान-2 से संपर्क टूटने के बाद करीब 900 अरब रुपये का नुकसान कर दिया है. जम्मू-कश्मीर में संपर्क टूटने से कितना नुकसान हुआ? बहुत ज्यादा, सिर्फ पैसों का ही नहीं!! इंशा अल्लाह!

भारत को घेरने की उधेड़बुन में गफूर साहब का गणित गड़बड़ा गया। उन्होंने चंद्रयान की कीमत 100 गुना ज्यादा बता डाली। आसिफ गफूर का यह ट्वीट चंद्रयान-2 की स्पीड से भी तेज वायरल हुआ और लोगों ने पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता की क्लास लगा दी।
दरअसल भारत के मिशन चंद्रयान-2 का कुल बजट 973 करोड. है जबकि गफूर ने इसे 900 अरब बता दिया, यानी 100 गुना ज्यादा। लोगों ने गफूर की खिंचाई करते हुए ट्वीटर पर लिखा, 900 करोड़ रुपये के बारे में इन्हें इतनी भी जानकारी नहीं है, कहां से आते हैं ऐसे नमूने? इतना ही नहीं कुछ लोगों ने तो नीचे आसिफ गफूर को गणित सिखाने ही शुरू कर दी और मिलियन-बिलियन में अंतर समझाया। इससे पहले पाकिस्तान मंत्री फव्वाद चौधरी ने भी चंद्रयान-2 को लेकर ट्वीटर पर तंज कसा था जिसके बाद उन्हें जमकर टोल किया गया था। यहां तक कि पाकिस्तानी यूजर्स ने भी उनकी आलोचना की थी। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

स्पेन के राफेल नडाल ने जीता 19वां ग्रैंडस्लैम, फेडरर से महज एक कदम पीछे

Published

on

न्यूयॉर्क। स्पेन के स्टार टेनिस खिलाड़ी राफेल नडाल ने अपने करियर का 19वां ग्रैंडस्‍लैम जीत लिया है। सोमवार को उन्होंने अपने करियर का चौथा यूएस ओपन जीत यह उपलब्धि हासिल की है। नडाल ने आर्थर एश स्‍टेडियम में खेल गए पुरूष सिंगल्स क फाइनल में रूस के डेनिल मेदवेदेव को कड़े मुकाबले में दी है। नडाल ने साढ़े चार घंटे के मुकाबले में रूसी खिलाड़ी को 7-5, 6-3, 5-7, 4-6, 6-4 से मात दी। बता दें, सर्वाधिक ग्रैंड स्लैम जीतने का रिकॉर्ड रोजर फेडरर के नाम है, उन्होंने अब तक 20 ग्रैंडस्‍लैम जीते हैं।

हालांकि, फ्रेंच ओपन की बात करें तो नडाल ने सबसे ज्यादा 12 खिताब जीते हैं। वहीं, विंबलडन में दो जबकि ऑस्‍ट्रेलियन ओपन में एक खिताब जीता। यूएस ओपन में रूसी खिलाड़ी ने नडाल को कड़ी टक्कर दी। पहले दो सेट नडाल ने जीते लेकिन तीसरे और चौथे सेट में मेदवेदेव उन पर भारी पड़े। इस तरह मुकाबला पांचवे सेट में निर्णायक स्तर पर पहुंच गया। पांचवे और आखिरी सेट में नडाल ने रूसी खिलाड़ी को मात देकर इस साल का दूसरा ग्रैंड स्लैम अपने नाम कर लिया।

मेदवेदेव ने मैच के बाद बताया कि, ‘जब मैं नेट पर उन्‍हें जीत की बधाई देने पहुंचा तो नडाल ने कहा कि आपका सप्‍ताह शानदार बीता। आप बहुत अच्‍छे खिलाड़ी हैं।’ वहीं नडाल ने मैच के बाद कहा कि मेदवेदेव पर जीत सबसे इमोशनल जीत में से एक हैं।

ये भी पढ़ें: पबजी खेलने से पिता ने रोका तो बेटे ने उतारा मौत के घाट

हर वर्ष चार ग्रैंडस्लैम होते हैं

टेनिस के हर साल चार ग्रैंड स्लैम होते हैं। सबसे पहले ऑस्ट्रेलियन ओपन होता है फिर फ्रेंच, विंबलडन और सबसे आखिर में यूएस ओपन होता है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

September 12, 2019, 12:47 pm
Mostly cloudy
Mostly cloudy
33°C
real feel: 39°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 70%
wind speed: 3 m/s E
wind gusts: 3 m/s
UV-Index: 3
sunrise: 5:20 am
sunset: 5:45 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 10 other subscribers

Trending