Connect with us

अंतरराष्ट्रीय

हांगकांग प्रदर्शन: 23 साल का लड़का बना चीन की आफत, ट्विटर-फेसबुक ने भी चलाया चाबुक

Published

on

नई दिल्ली। पिछले काफी दिनों से हांगकांग में चीन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहा है। यह विरोध प्रदर्शन एक प्रत्यर्पण विधेयक के खिलाफ शुरू हुआ था। हालांकि हांगकांग की सरकार ने विधेयक तो वापस ले लिया लेकिन युवाओं का आंदोलन खत्म नहीं हुआ। प्रदर्शनकारियों की मांग है कि हांगकांग में लोकतांत्रिक व्यवस्था और अधिक मजबूत हो। रविवार को यहां एक लाख से भी अधिक लोग अपनी मांगो को लेकर सड़कों पर उतरे थे। लगातार बढ़ रहे विरोध प्रदर्शन को देख अब चीन अफवाहों का सहारा लेकर इस अहिंसक प्रदर्शन को बदनाम करने की कोशिश में लगा है।

चीन सोशल मीडिया के जरिए भ्रामक प्रचार कर रहा है। फेसबुक और ट्विटर ने भी इसकी पुष्टि करते हुए मंगलवार को बयान जारी किया है। साथ ही ऐसे अफवाहों को फैलाने वाले अकाउंट्स भी बंद कर दिए हैं।

क्या है प्रत्यर्पण विधेयक?

हांगकांग में लगातार युवा बढ़ी संख्या में चीन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। रविवार को पेइचिंग की गंभीर चेतावनियों को दरकिनार करते हुए एक लाख से अधिक की संख्या में लोगों ने यहां लोकतंत्र समर्थक विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लिया। ये विरोध प्रत्यर्पण विधेयक के खिलाफ शुरू हुआ था, जिसके मुताबिक अगर कोई हांगकांग का व्यक्ति चीन में कोई अपराध करता है या प्रदर्शन करता है तो उसके खिलाफ हांगकांग में नहीं बल्कि चीन में मुकदमा चलाया जाएगा। बस फिर क्या जैसे ही ये विधेयक आया लोगों का गुस्सा फूट पड़ा और उनके गुस्से को नेतृत्व मिला एक 23 साल के लड़के जोशुआ वांग का। इस जबरदस्त विरोध प्रदर्शन को देखते हुए हांगकांग प्रशासन ने विधेयक तो वापस ले लिया लेकिन इसके बावजूद युवाओं ने प्रदर्शन जारी रखा। प्रदर्शनकारियों की मांग है कि हांगकांग में लोकतांत्रिक व्यवस्था और अधिक मजबूत हो।

ये भी पढ़ें: Chandrayaan2: ISRO की ‘दुल्हन’ चांद की सतह से महज चार कदम दूर…

फेसबुक और ट्विटर का चला चाबुक

चीन बढ़ते विरोध प्रदर्शन को देखते हुए भ्रामक प्रचार के जरिए अब इस आंदोलन को बदनाम करने की कोशिश कर रहा है। सोशल मीडिया के जरिए वो इस प्रदर्शन की तस्वीर हिंसक और युद्ध जैसी पेश करने का प्रयास कर रहा है। इस बात की पुष्टि मंगलवार को फेसबुक और ट्विटर ने भी कर दी है। फेसबुक और ट्विटर ने कहा कि ऐसे भ्रामक और गलत जानकारी देनेवाले सोशल मीडिया अकाउंट्स को बंद कर दिया गया है। फेसबुक ने कहा, ‘3 फेसबुक ग्रुप, 7 फेसबुक पेज और 5 अकाउंट्स को हॉन्ग कॉन्ग प्रदर्शन के खिलाफ भ्रामक जानकारी देने के कारण बंद कर दिया गया।’  वहीं, ट्विटर ने भी जानकारी दी है कि 936 अकाउंट्स को बंद कर दिया गया है इसके साथ ही राज्य प्रायोजित अकाउंट्स को भी बंद किया जाएगा।

विधेयक के पीछे चीन की चालाकी?

अब सवाल ये है कि आखिर क्यों चीन इस तरह का विधेयक लाना चाह रहा था हांगकांग के लिए? दरअसल, हांगकांग चीन का एक हिस्सा जरूर है लेकिन वो उसका विशेष प्रशासनिक क्षेत्र है। इसका मतलब ये है कि चीन के पास हांगकांग में सीमित अधिकार हैं जैसे रक्षा और विदेशी मामले चीन के नियंत्रण में हैं अन्य मामलों में हांगकांग को ‘उच्च स्तर की स्वायत्तता’ प्राप्त है। लेकिन प्रत्यर्पण विधेयक के बाद हांगकांग की युवा आबादी को लगा कि चीन की कम्युनिस्ट पार्टी इस विधेयक के जरिए हांगकांग पर अपना दबदबा कायम करना चाहती है। जिसकी वजह से वहां युवा सड़कों पर उतर आए हैं। इस आंदोलन की सबसे दिलचस्प बात ये है कि प्रदर्शन करने वाले भी युवा हैं और उनको नेतृत्व देने वाला भी एक 23 साल का युवा लड़का है। इस लड़के का नाम जोशुआ वांग है।

क्यों खास है ये लड़का?

ये पहली बार नहीं है जब जोशुआ वांग चर्चा में रहे हों। इसके पहले 2014 में वे तब दुनिया की नजरों में आए थे जब उन्होंने ‘अम्ब्रेला मूवमेंट’ चलाया था। उस वक्त उनकी उम्र महज 19 साल थी। इसी आंदोलन के कारण प्रतिष्ठित अंतरराष्ट्रीय पत्रिका टाइम ने जोशुआ का नाम साल 2014 के सबसे प्रभावी किशोरों में शामिल किया था।

इतना ही नहीं,  साल 2015 में फॉर्च्युन मैगजीन ने उन्हें ‘दुनिया के महानतम नेताओं’ की लिस्ट में जगह दी थी। वहीं, साल 2018 में वांग को नोबेल शांति पुरस्कार के लिए भी नामित किया गया। जोशुआ फिलहाल हांगकांग की राजनीतिक पार्टी डेमोसिस्टो के महासचिव हैं। उन्होंने महज 19 साल की उम्र में ये पार्टी बनाई थी।http://www.satyodaya.com

अंतरराष्ट्रीय

ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में लगी आग, वैज्ञानिकों ने भारतीय माॅनसून को ठहराया जिम्मेदार

Published

on

नई दिल्ली। ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में भयानक आग लगी हुई है। जिसमें अब तक करीब तीन लोगों की मौत होने की खबर है और 150 से अधिक घर आग की चपेट में आ गए है। हजारों लोग अपना घर छोड़कर दूसरी जगह पर जाने लगे है। ऑस्ट्रेलिया के सबसे अधिक आबादी वाले राज्य न्यू साउथ वेल्स को आग आपातकाल घोषित कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें:- भारत का नया नक्शा जारी होने के बाद नेपाल में विरोध प्रदर्शन

वहीं एक हैरत में डाल देने वाली खबर आई है। जिसमें कहा गया है कि भारतीय मानसून का देरी से वापस जाने से वहां वर्षा अधिक नही हो सकी है। जिससे मौसम शुष्क हो गया है। इसी की वजह से इतनी भयानक आग लग गई है। एक वैज्ञानिक ने ईंधन, मौसम और भौगोलिक स्थितियों का शोध कर कहा है कि इस आग का लगना, भारत में मानसून के देर से खत्म होना है। जहां यह आपको सोचने के लिए मजबूर कर देगा कि लगभग 10 हजार किलोमीटर दूर जो मौसम है। वह असल में वहां यह असर कैसे डाल सकता है। लेकिन वहां के वैज्ञानिकों ने कहा है कि वैश्विक तंत्र आपस में जुड़े है। हम इन्हें अलग नही देख सकते है। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

ऋतिक रोशन की दीवानगी युवती को पड़ी भारी, नाराज पति ने चाकू घोपकर ले ली जान….

Published

on

मारना

फाइल फोटो

नई दिल्ली। आजकल लोगों के लिए किसी को जान से मारना बहुत आसान हो गया है। कब कौन किसके जान का दुश्मन बन बैठे किसी को नहीं पता है। इसी तरह अमेरिका में 33 साल के एक आदमी ने अपनी पत्नी की जान का दुश्मन बन गया। जी हां आदमी ने अपनी पत्नी की चाकू घोपकर हत्या कर दी। फिर खुद भी एक पेड़ पर फंदा लगाकर जान दे दी। जान देने और लेने की सिर्फ इतनी सी वजह थी कि पत्नी ऋतिक रोशन की फैन थी। पति को यह बर्दाश्त नहीं हुआ और उसने पत्नी की हत्या कर दी। द न्यूयॉर्क पोस्ट की मीडिया रिपोर्ट में यह दावा किया गया है। दोनों की शादी चार महीने पहले ही जुलाई, 2019 में हुई थी।

हत्या के बाद पत्नी की बहन को भेजा मैसेज

आरोपी दिनेश्वर बुद्धिदत न्यूयॉर्क स्थ‍ित क्वींस होम का रहने वाला था। दिनेश्वर ने अपनी पत्नी डोने डोज्वॉय की चाकू मारकर हत्या कर दी। हत्या के बाद दिनेश्वर ने पत्नी की बहन को मैसेज कर हत्या के बारे में बताया। फिर यह भी जानकारी दी कि घर की चाभी घर के गमले के नीचे रखी है। इसके बाद आरोपी दिनेश्वर हावर्ड बीच के एक मैदान में गया और वहां पर पेड़ से फंदा लगाकर खुद की भी जान ले ली।

ये भी पढ़ें:महाराष्ट्र: शिवसेना नेता मनोहर जोशी ने कांग्रेस को लेकर दिया बड़ा बयान, कही ये बात

पत्नी को नहीं देखने देता था ऋतिक की फिल्में

आरोपी पति की पत्नी डोने के एक 52 साल के दोस्त माला रामधानी ने बताया है कि डोने एक्टर ऋतिक रोशन पर जान छिड़कती थी। उसे ऋतिक पर क्रश था। इससे दिनेश्वर बहुत जलता था। जिस किसी फिल्म में ऋतिक ने काम किया है तो डोने उसे देखना चाहती थी। पर जब भी वह ऋतिक की फिल्म देखती थी, दिनेश्वर टीवी बंद करने के लिए कहने लगता था। डोने बारटेंडर थी। वह जेमिनी अल्ट्रा लाउंज में काम करती थी। वह पहले भी पत्नी पर हिंसक हमले कर चुका था।  21 अगस्त को भी दिनेश्वर को पत्नी पर हमला करने के लिए अरेस्ट किया गया था।

वहीं डोने के दूसरे दोस्तों का कहना है कि उसका पति उससे बहुत प्यार करता था। जिसकी वजह से वह उसकों लाकर जुनूनी था।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

भारत का नया नक्शा जारी होने के बाद नेपाल में विरोध प्रदर्शन

Published

on

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर और लद्दाख दो केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद भारत ने एक नया नक्शा जारी किया है। जिसको लेकर नेपाल ने विरोध प्रदर्शन हो रहा है। नेपाल ने आपत्ति जताते हुए कहा है कि उत्तराखंड के कालापानी और लिपुलेख उसके धारचूला जिले के हिस्से है। मानचित्र को लेकर नेपाल के एक प्रतिबंधित माओवादी संगठन ने प्रदर्शन किया है। जिसमें 20 कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया है। इस संबंध में एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि नेत्र बिक्रमचंद बिप्लव की अगुवाई वाले एक माओवादी धड़े नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी से जुड़े विद्यार्थियों को मैतीघर इलाके से गिरफ्तार किया गया।

नेपाल ने कहा है कि संबंधित क्षेत्र को लेकर भारत से बात जारी है। वही कई वरिष्ठ राजनीतिक नेताओं ने प्रधानमंत्री के.पी. शर्मा से आग्रह किया है कि वह भारत पर इस मुद्दे पर बात करें। क्योंकि यह मुद्दा अभी अनसुलझा है।

यह भी पढ़ें:- नेपाल सरकार की बड़ी कार्रवाई, पिछली सरकार के सभी राज्यपाल बर्खास्त

बता दें कि पिछले हफ्ते भारत सरकार ने नए बनाए गए केंद्र शासित प्रदेशों के नक्शे जारी किए थे। नए नक्शे में पाकिस्तान के कब्जे वाला कश्मीर, जम्मू-कश्मीर के नए बने केंद्र शासित प्रदेश का हिस्सा है। जबकि गिलगित-बाल्टिस्तान केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख में है।

वहीं विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि दोनों देशों के बीच सीमा विवाद को सुलझाने के लिए विदेश सचिवों को जिम्मेदारी सौंपी गई है। ऐसे में बातचीत के जरिये नेपाल से मतभेद को सुलझा लिया जाएगा। http://www.Satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

November 12, 2019, 6:00 pm
Clear
Clear
26°C
real feel: 27°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 53%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:53 am
sunset: 4:48 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 10 other subscribers

Trending