Connect with us

अंतरराष्ट्रीय

तुर्की: एफ 35 विमान पर नीति में बदलाव करे अमेरिका

Published

on

फाइल फोटो

नई दिल्ली। तुर्की ने रूस की हवाई सुरक्षा प्रणाली एस 400 को सक्रिय करने के संकेत दे दिए हैं। उसके बाद तुर्की ने कहा है कि अमेरिका एफ 35 लड़ाकू विमान को सौपने के अपने रुख के बारे में जल्द बदलाव नहीं करेगा। तो वह एस 400 प्रणाली को सक्रिय करने से पीछे नहीं हटेगा।
तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैय्यब एर्दोगान ने हालांकि इस मामले पर उम्मीद जताई है कि अमेरिका के साथ यह मसला बातचीत के जरिए हल कर लिया जाएगा।

एर्दोगान ने मंगलवार को जस्टिस व डेवलपमेंट पार्टी के संसदीय समूह से कहा, “ द्विपक्षीय बातचीत में एस 400 को लेकर जारी विवाद को खत्म करने का प्रयास किया जायेगा। हम अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से एस 400 सुरक्षा प्रणाली को लेकर जारी विवाद को अधिकारीयों के जरिये खत्म करने की पूरी कोशिश करेंगे।”

उन्होंने कहा,“ एस 400 सुरक्षा प्रणाली को छोड़ देना या सक्रिय नहीं करने का कोई सवाल ही नहीं है। इस मामले का निवारण सच्चाई के माध्यम से किया जाना चाहिए।”
गौरतलब है कि तुर्की रुसी निर्मित एस 400 सुरक्षा प्रणाली को सक्रिय करने पर विचार कर रहा है। सैन्य-तकनीकी सहयोग के लिए रूस की संघीय सेवा के प्रमुख दिमित्री शुगाव ने इसे लेकर कहा है कि एस-400 सुरक्षा के प्रणाली के संचालन प्रकिया को लेकर हम वर्ष के अंत तक तुर्की विशेषज्ञों को पूरी तरह से प्रशिक्षित कर दिया जाएगा। यह प्रणाली अगले वर्ष वसंत ऋतु से पहले युद्ध के लिए पूरी तरह तैयार हो जाएगी।

यह भी पढ़ें: एससीओ प्रमुख: अफगानिस्तान में आतंकी खतरे से पड़ोसी देशों पर हमले की आशंका

अमेरिका तुर्की की एस-400 सुरक्षा प्रणाली खरीदने के खिलाफ था। अमेरिका का कहना था कि नाटो सुरक्षा मापदंडो के आधार पर यह हथियार प्रणाली ‘अयोग्य’ है। इससे पांच जनेरेशन वाले एफ-35 लड़ाकू विमान के संचालन पर भी असर पड़ सकता है। तुर्की ने रुसी एस-400 सुरक्षा प्रणाली खरीदने पर अमेरिका खासा नाराज हो गया था। जिसके बाद उसने इस वर्ष जुलाई में एफ-35 कार्यक्रम में तुर्की की सहभागिता को स्थगित करते हुए कहा था कि वह मार्च 2020 तक इस परियोजना से तुर्की को पूरी तरह बाहर कर देगा। वहीं रूस ने तुर्की को अपने लड़ाकू विमान एसयू-35 और एसयू 37 बेचने की इच्छा जताई है।http://www.satyodaya.com

अंतरराष्ट्रीय

US-ईरान तनाव: मोदी और ट्रम्प ने की ज्वलंत विषयों पर चर्चा

Published

on

नई दिल्ली: अमेरिका और ईरान के बीच चल रहे तनाव के बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ फोन पर बातचीत कर परस्पर महत्व के ज्वलंत विषयों पर चर्चा की है। मोदी ने ट्रंप, उनके परिवार अमेरिका के लोगों को नए वर्ष में अच्छे स्वास्थ, समृद्धि और सफलता के लिए शुभकामनाएं दीं।

यह भी पढ़ें: सीएम योगी की कैबिनेट बैठक में नियत यात्रा भत्ता बढ़ाने को मिली मंजूरी…

प्रधानमंत्री ने कहा कि भरोसे, परस्पर सम्मान, और आपसी समझ के आधार पर दोनों देशों के संबंध काफी मजबूत हुए हैं। उन्होंने पिछले वर्षों में सामरिक संबंधों में आयी मजबूती का विशेष रूप से उल्लेख किया। मोदी ने परस्पर महत्व के सभी क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने के लिय ट्रम्प साथ मिलकर काम करने की भी इच्छा जतायी।


राष्ट्रपति ट्रंप ने भी भारत के लोगों नए वर्ष में प्रगति तथा समृद्धि के लिये शुभकामनाएं दीं। उन्होंने दोनों देशों के बीच संबंधों पर संतोष व्यक्त करते हुए कहा कि वह इन्हें औऱ मजबूत बनाने के लिए काम करने को तैयार हैं। अमेरिकी हमले में ईरान के प्रमुख कमांडर सुलेमानी के मारे जाने जे बाद उत्पन्न तनावपूर्ण स्थिति में दो बड़े देशो के नेताओं की इस बातचीत को काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है।http://www.satyodaya.com
Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

कासिम सुलेमानी के जनाजे की नमाज पढ़ते हुए रो पड़े आयतुल्ला अली खामनेई

Published

on

तेहरान। अमेरिकी हमले में मारे गए ईरान के ताकतवर सैन्य कमांडर कासिम सुलेमानी को सोगवार को अंतिम विदाई दी गयी। ईरान के सर्वोच्च नेता आयतुल्ला अली खामनेई ने जनरल कासिम सुलेमानी के जनाजे की नमाज पढ़ी। वहां एकत्र लाखों लोग अपने जनरल के लिए मातम कर रहे थे। खुद खामनेई भी रो पड़े। अमेरिकी हमले में ईरान के शीर्ष सैन्य जनरल के मारे जाने के बाद दोनों देशों के बीच तनाव बहुत ज्यादा बढ़ गया है। ईरानी रिवोल्यूशनरी गार्ड के जनरल कासिम सुलेमानी को निशाना बनाकर किए गए इस हमले के संबंध में उनके उत्तराधिकारी पहले ही ‘बदला लेने’ की बात कह चुके हैं। इसके अलावा ईरान ने 2015 परमाणु समझौते के बाकी हदों को भी तोड़ दिया है। वहीं इराक में वहां की संसद ने सभी अमेरिकी सैनिकों को देश से बाहर निकालने की अपील की है।

ये घटनाक्रम ईरान को परमाणु बम विकसित करने के और करीब ले आया है। ईरान अब अमेरिका के खिलाफ छद्म या आतंकवादी हमले कर सकता है या फिर इराक में इस्लामिक स्टेट समूह को वापसी करने का मौका दे सकता है। इन सभी घटनाक्रमों ने पश्चिम एशिया को और खतरनाक और अस्थिर बना दिया है। इस तनावपूर्ण माहौल में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इराक को धमकी दी है कि अगर वह अमेरिकी सैनिकों को देश से निकालता है तो उससे अरबों डॉलर का मुआवजा मांगा जाएगा और उसके खिलाफ अभूतपूर्व प्रतिबंध लगाए जाएंगे। दूसरी ओर तेहरान में जमा लाखों की संख्या में लोगों को संबोधित करते हुए सुलेमानी की बेटी जैनब ने पश्चिम एशिया में अमेरिकी सैनिकों पर सीधे हमले की धमकी दी। ईरान की सरकारी टीवी के अनुसार, लाखों की संख्या में लोग शोक में जमा हुए थे। हालांकि संख्या की पुष्टि नहीं हो सकी है लेकिन जहां तक आंखें देख सकती थीं, वहां तक सिर्फ लोग ही लोग नजर आ रहे थे।जैनब ने कहा, ‘‘पश्चिम एशिया में मौजूद अमेरिकी सैनिकों के परिवार… अब अपने बच्चों के मरने के इंतजार में दिन काटेंगे।

ईरान के सर्वोच्च नेता खामनेई ने खुद सुलेमानी और हमले में मारे गए अन्य लोगों के जनाजे की नमाज पढ़ी और इस दौरान रोये भी। दोनों के बीच करीबी संबंध थे। नमाज के दौरान पूरी भीड़ विलाप कर रही थी। सुलेमानी के उत्तराधिकारी इस्माईल गनी, राष्ट्रपति हसन रुहानी और अन्य शीर्ष नेता खामनेई के पास खड़े थे। शीर्ष सैन्य कमांडर की अंतिम यात्रा में देश के सभी राजनीतिक हलकों के नेता शामिल हुए। सुलेमानी की जगह लेने के बाद ईरान के सरकारी टीवी चैनल को दिए गए साक्षात्कार में सोमवार को गनी ने बदला लेने की धमकी दी है। उन्होंने कहा, अल्लाह ने बदला लेने का वादा किया है, अल्लाह ही बदला लेता है। कार्रवाई जरुर होगी। गनी लंबे समय से सुलेमानी के डिप्टी थे। अब वह ईरान की सेना के प्रमुख हैं।

यह भी पढ़ें-अमेरिका-ईरान के बीच तनाव से सहमा शेयर बाजार, सोना 42 हजार के पार

गौरतलब है कि ईरान की सेना सीधे खामनेई के मातहत आती है। गनी ने कहा, हम वादा करते हैं कि अल्लाह की मदद से शहीद सुलेमानी की राह पर चलते रहेंगे और उनकी शहादत के बदले क्षेत्र से अमेरिका का नामोनिशान मिटा देंगे। ईरानी सेना के हवाई कार्यक्रम के प्रमुख जनरल आमिर अली हाजीजादे ने संकेत दिया कि ईरान की जवाबी कार्रवाई एक हमले पर नहीं रुकेगी। उन्होंने सरकारी टीवी पर कहा, ‘‘कुछ मिसाइलें दागने से, एक बेस बर्बाद करके और यहां तक कि (अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड) ट्रंप को मार कर भी शहीद सुलेमानी के खून का बदला पूरा नहीं होगा। उन्होंने कहा, उनके (सुलेमानी) खून का बदला सिर्फ तभी पूरा होगा जब क्षेत्र से अमेरिका का नाम मिट जाए और क्षेत्र के वंचित लोगों पर से उसका कुप्रभाव खत्म हो जाए।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अंतरराष्ट्रीय

इराक में दो अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर मिसाइल से हुआ हमला…

Published

on

बगदाद: इराक में अमेरिकी दूतावास पर रॉकेट से बड़ा हमला हुआ है। इराक की राजधानी बगदाद में अमेरिकी दूतावास के भीतर रॉकेट धमाके से अफरा-तफरी मच गई। अमेरिकी दूतावास पर हमले के बाद अमेरिका के हेलीकॉप्टरों ने उड़ान भरी है। अमेरिका ने ईरानी जनरल सुलेमानी को एयर स्ट्राइक में मार गिराया था, जिसके बाद ही शिया समुदाय के लोगों में एक शोक की लहर दौड़ पड़ी थी। वहीं ईरान ने अपने जनरल सुलेमानी की मौत का बदला लेने का ऐलान किया था। बगदाद में अमेरिकी एयर स्ट्राइक के बाद से खाड़ी क्षेत्र में तनाव गहराया हुआ है। जिसके बाद ही इराक में अमेरिकी दूतावास पर रॉकेट से बड़ा हमला किया गया है।

जानकारी के अनुसार, इराक की राजधानी बगदाद में अमेरिकी दूतावास के भीतर रॉकेट दागे गए, जिसके बाद से अफरा-तफरी मच गई। स्थानीय सुरक्षा सूत्रों ने बताया कि इराकी राजधानी बगदाद के ग्रीन जोन में अमेरिकी दूतावास के भीतर एक रॉकेट फटा है। बताया जा रहा है कि बगदाद के ग्रीन जोन में अमेरिकी दूतावास के भीतर कत्यूषा रॉकेट से हमला किया गया है।

हालांकि, अभी तक यह साफ नहीं हो पाया है कि इस हमले में कितने लोग हताहत हुए हैं। इसका आंकड़ा फिलहाल सामने नहीं आया है। इस हमले के बाद बगदाद में आसमान पर अमेरिकी विमान उड़ते दिखाई दिए हैं।

ये भी पढ़ें: कासिम सुलेमानी की आत्मा की शांति के लिए मौलाना यासूब अब्बास ने पढ़ी मजलिस

सूत्रों के मुताबिक, सेंट्रल इराक स्थित बालूद एयरबेस पर दो रॉकेट दागे गए हैं। यह अमेरिकी सुरक्षा बलों का सैन्य ठिकाना है। अमेरिकी दूतावास पर यह हमला उस समय सामने आया है, जब इराक की राजधानी बगदाद में अमेरिका ने ईरान के टॉप कमांडर जनरल कासिम सुलेमानी को एयर स्ट्राइक में मार गिराया है। अमेरिका के इस हमले में कुल 8 लोगों की मौत हुई थी।

अमेरिका की इस एयर स्ट्राइक के बाद ईरान ने अपने कमांडर सुलेमानी की मौत का बदला लेने का ऐलान किया था। अमेरिकी एयर स्ट्राइक के बाद से ही अमेरिका और ईरान के बीच तनाव गहराया हुआ है। वहीं, अभी तक इस बात की आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है कि आखिर अमेरिकी दूतावास पर यह ताजा हमला किसने किया है? http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

January 7, 2020, 2:16 pm
Mostly cloudy
Mostly cloudy
21°C
real feel: 21°C
current pressure: 1020 mb
humidity: 56%
wind speed: 1 m/s N
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 1
sunrise: 6:26 am
sunset: 4:59 pm
 

Recent Posts

Trending