Connect with us

अर्थात- यथार्थ

चैत्र नवरात्रि 2020: सातवें दिन होती है मां कालरात्रि देवी की पूजा

Published

on

दुर्गा की सातवीं शक्ति कालरात्रि के नाम से जानी जाती है। मां कालरात्रि का स्वरूप देखने में अत्यंत भयानक है, लेकिन ये सदैव शुभ फल ही देने वाली हैं। इसी कारण इनका एक नाम शुभंकरी भी है। दुर्गा पूजा के सातवें दिन माँ कालरात्रि की पूजा और आराधना की जाती है। उनके साक्षात्कार से मिलने वाले पुण्य का वह भागी हो जाता है। मां कालरात्रि दुष्टों का नाश करने वाली हैं। दानव, दैत्य, राक्षस, भूत, प्रेत आदि इनके स्मरण मात्र से ही भयभीत होकर भाग जाते हैं। ये ग्रह-बाधाओं को भी दूर करने वाली हैं। नवरात्र के सातवें दिन मां कालरात्रि की अराधना की जाती है। इस दिन साधक का मन सहस्त्रार चक्र में होता है। मां के इस स्वरूप को अपने हृदय में अवस्थित कर साधक को एकनिष्ठ भाव से उनकी अराधना करनी चाहिए।

यह भी पढ़ें: राशिफल: जानिए 31 मार्च का दिन आपके लिए कैसा रहेगा…

कालरात्रि माता का आराधना मंत्र-
जयन्ती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी।
दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोस्तु ते।।

उपासना मंत्र-
एकवेणी जपाकर्णपूरा नग्ना खरास्थिता, लम्बोष्टी कर्णिकाकर्णी तैलाभ्यक्तशरीरिणी।
वामपादोल्लसल्लोहलताकण्टकभूषणा, वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा कालरात्रिर्भयंकरी॥

आकस्मिक संकटों रक्षा करती हैं कालरात्रि माता
देवी को अक्षत्, धूप, गंध, रातरानी पुष्प और गुड़ का नैवेद्य आदि से विधिपूर्वक पूजा करने कालरात्रि माता प्रसन्न होती हैं और भक्तों को शुभ फल का वरदान देती हैं। पूजा करने के बाद दुर्गासप्तशती या दुर्गा चालीसा का पाठ करना न भूलें। पूजा के अंत में दुर्गा आरती भी जरूर करें। शुभ फल देने के लिए कालरात्रि का दूसरा नाम शुभंकरी भी है। कहा जाता है कि मां कालरात्रि की अराधना से भक्तों को आकस्मिक संकट से रक्षा होती है।http://www.satyodaya.com

अर्थात- यथार्थ

राशिफल: जानिए 31 मार्च का दिन आपके लिए कैसा रहेगा…

Published

on

राशि फलादेश मेष :- (चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, आ)
परिवार में आवाजाही बनी रहेगी। उत्साहवर्धक सूचना प्राप्त होगी। उत्तेजना पर नियंत्रण रखें। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। जोखिम न उठाएं। तनाव रहेगा, मान बढ़ेगा। प्रसन्नता रहेगी। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। शारीरिक कष्ट से बाधा संभव है।

राशि फलादेश वृष :- (ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो)
अप्रत्याशित लाभ हो सकता है। बेरोजगारी दूर होगी। आय में वृद्धि होगी। यात्रा से लाभ होगा। प्रतिद्वंद्वी सक्रिय रहेंगे। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। यात्रा मनोरंजक होगी। लाभ के अवसर बढ़ेंगे। विवाद को बढ़वा न दें।

राशि फलादेश मिथुन :- (का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, ह)
फालतू खर्च होगा। लेन-देन में सावधानी रखें। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। पुराना रोग उभर सकता है। चिंता रहेगी, बाकी सामान्य रहेगा। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। रुका हुआ धन मिल सकता है।

यह भी पढ़ें: सीएम पद से इस्तीफा देकर वापस गोरखपुर जाएं योगी: अजय कुमार लल्लू

राशि फलादेश कर्क :- (ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो)
जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। रुके कार्यों में गति आएगी। धनलाभ होगा। नए अनुबंध हो सकते हैं। जल्दबाजी से बचें। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। आय के नए स्रोत प्राप्त होंगे।

राशि फलादेश सिंह :- (मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे)
आंखों में कष्ट संभव है। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। योजना फलीभूत होगी। घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। प्रतिद्वंद्वी शांत रहेंगे। आय बढ़ेगी। कार्यप्रणाली में सुधार होगा।

राशि फलादेश कन्या :- (ढो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो)
राजकीय सहयोग से लाभ के अवसर बढ़ेंगे। धन प्राप्ति सुगम होगी। दौड़धूप अधिक रहेगी। तनाव रहेगा। पूजा-पाठ में मन लगेगा। निवेश शुभ रहेगा। प्रसन्नता रहेगी। नई योजना बनेगी। मान-सम्मान मिलेगा।

राशि फलादेश तुला :- (रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते)
परिवार के वरिष्ठजनों के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। दूसरों के झगड़ों में न पड़ें। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। वाहन व मशीनरी के प्रयोग में सावधानी रखें। लेन-देन में सावधानी रखें।

राशि फलादेश वृश्चिक :- (तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू)
कोर्ट व कचहरी में अनुकूलता रहेगी। प्रेम-प्रसंग में सफलता मिलेगी। व्यावसायिक गतिविधि बढ़ेगी। विवेक से कार्य करें। लाभ होगा। निवेश व यात्रा मनोनुकूल रहेंगे। चिंता रहेगी। तीर्थदर्शन संभव है। पूजा-पाठ में मन लगेगा।

राशि फलादेश धनु :- (ये, यो, भा, भी, भू, धा, फा, ढा, भे)
विरोधी सक्रिय रहेंगे। तनाव बना रहेगा। भूमि व भवन के कार्य बड़ा लाभ देंगे। रोजगार में वृद्धि होगी। जोखिम लेने का साहस कर पाएंगे। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। उन्नति होगी। कोर्ट व कचहरी में अनुकूलता रहेगी। धनार्जन होगा।

राशि फलादेश मकर :- (भो, जा, जी, खी, खू, खे, खो, गा, गी)
विद्यार्थी वर्ग सफलता हासिल करेगा। किसी आनंदोत्सव में भाग लेने का मौका मिलेगा। स्वादिष्ट भोजन का आनंद प्राप्त होगा। व्यवसाय ठीक चलेगा। उत्तेजना पर नियंत्रण रखें। क्रोध पर नियंत्रण रखें। जोखिम व जमानत के कार्य टालें।

राशि फलादेश कुंभ :- (गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा)
मेहनत अधिक होगी। लाभ में कमी रहेगी। बुरी सूचना मिल सकती है, धैर्य रखें। घर-बाहर अशांति रह सकती है। थकान महसूस होगी। दूसरों के झगड़ों में न पड़ें। चोट, चोरी व विवाद आदि से हानि संभव है। फालतू खर्च होगा।

राशि फलादेश मीन :- (दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची)
मेहनत का फल पूरा-पूरा मिलेगा। मान-सम्मान में वृद्धि होगी। व्यवसाय ठीक चलेगा, रोजगार में वृद्धि होगी। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। जल्दबाजी न करें। भूमि व भवन संबंधी योजना बनेगी। स्वास्‍थ्य कमजोर रहेगा।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अर्थात- यथार्थ

नवरात्रि के छठवें दिन होती है मां कात्यायनी की पूजा, जानें इनका महत्व

Published

on

लखनऊ: दुर्गा के छठे स्वरूप का नाम कात्यायनी है। कत नामक महर्षि के पुत्र ऋषि कात्य ने भगवती पराम्बा की उपासना कर उनसे घर में पुत्री के रूप में जन्म लेने की प्रार्थना की थी। मां भगवती ने उनकी यह प्रार्थना स्वीकार कर ली थी। इन्हीं कात्य गोत्र में विश्व प्रसिद्ध महर्षि कात्यायन उत्पन्न हुए थे। कुछ काल के बाद दानव महिषासुर का अत्याचार पृथ्वी पर बहुत बढ़ गया, तब भगवान् ब्रह्मा, विष्णु, महेश तीनों ने अपने-अपने तेज का अंश देकर महिषासुर के विनाश के लिए एक देवी को उत्पन्न किया। महर्षि कात्यायन ने सर्वप्रथम इनकी पूजा की। इसी कारण से यह कात्यायनी कहलाईं। भगवान कृष्ण को पति रूप में पाने के लिये ब्रज की गोपियों ने इन्हीं की पूजा यमुना तट पर की थी। नवरात्र के छठे दिन साधक का मन आज्ञा चक्र में होता है।

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस: प्रदेश में गहराता कोरोना का संकट, मेरठ में मिले 5 संदिग्ध

कत्यायनी माता पूजा मंत्र
चंद्रहासोज्जवलकरा शार्दूलवरवाहना।
कात्यायनी शुभं दद्यादेवी दानवघातिनी।।

कत्यायनी माता पूजा महत्व…
मान्यता है कि कत्यायनी माता की विधिवत पूजा करने से सभी भौतिक व अध्यात्मिक मनोकामनाओं की पूर्ति होती है। इस चैत्र नवरात्रि के छठवें दिन 30 मार्च, दिन सोमवार को मां कत्यायनी की पूजा की जाएगी। इस दिन खासकर शिक्षा के क्षेत्र में रुचि रखने वाले लोगों को पूजा करना चाहिए। नवरात्रि का व्रत रखने वाले लोग भी माता कत्यायनी की पूजा करते हैं। कहा जाता है कि इनकी पूजा करने से अमोघ फल की प्राप्ति होती है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

अर्थात- यथार्थ

14 फरवरी राशिफल: इस वैलेंटाइन डे अपनाएं ये ज्योतिषीय टिप्स, प्यार होगा मुकम्मल

Published

on

इस वैलेंटाइन डे अपने लव पार्टनर को समझिए। अगर आपने अपने लव पार्टनर को समझ लिया तो फिर आपका प्यार मुकम्मल होगा। इस वैलेंटाइन को आप बहुत ही शानदार बनाने में कामयाब होंगे। आइए चंद्र राशि से जानते हैं प्रेम के मामले में कैसी होती हैं फीमेल पार्टनर..

राशि फलादेश मेष :- (चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, आ)
पुराने मित्र व संबंधी मिलेंगे। अच्‍छी खबर मिलेगी। प्रसन्नता रहेगी। जोखिम न लें। लाभ होगा। कार्यपद्धति में विश्वसनीयता बनाएं रखें। आर्थिक अनुकूलता रहेगी। रुका धन मिलने से धन संग्रह होगा। राज्यपक्ष से लाभ के योग हैं। नई योजनाओं की शुरुआत होगी।

राशि फलादेश वृष :- (ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो)
घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। कार्य पूर्ण होंगे। आय बढ़ेगी। मनोरंजक यात्रा होगी। प्रसन्नता रहेगी। सहयोगी मदद नहीं करेंगे। व्ययों में कटौती करने का प्रयास करें। परिवार में प्रसन्नता का वातावरण रहेगा। व्यापार के कार्य से बाहर जाना पड़ सकता है।

राशि फलादेश मिथुन :- (का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, ह)
शोक समाचार मिल सकता है। काम में मन नहीं लगेगा। विवाद से बचें। मेहनत अधिक होगी। आवास संबंधी समस्या हल होगी। आलस्य न करें। सोचे काम समय पर नहीं हो पाएंगे। व्यावसायिक चिंता रहेगी। संतान के व्यवहार से कष्ट होगा।

राशि फलादेश कर्क :- (ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो)
पार्टी व पिकनिक का आनंद मिलेगा। बौद्धिक कार्य सफल रहेंगे। प्रसन्नता रहेगी। धनार्जन होगा। रोजगार में उन्नति एवं लाभ की संभावना है। लाभदायक समाचार मिलेंगे। सामाजिक एवं राजकीय ख्याति में अभिवृद्धि होगी। व्यापार अच्छा चलेगा।

यह भी पढ़ें: विपक्ष ने राज्यपाल के अभिभाषण को बताया झूठ का पुलिंदा, किया विरो

राशि फलादेश सिंह :- (मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे)

संपत्ति के बड़े सौदे बड़ा लाभ दे सकते हैं। उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे। प्रसन्नता बनी रहेगी। व्यापार में परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। कार्य के विस्तार की योजनाएं बनेंगी। स्वास्थ्य के प्रति लापरवाही न करें। पठन-पाठन में रुचि बढ़ेगी।

राशि फलादेश कन्या :- (ढो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो)
घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। वैवाहिक प्रस्ताव मिल सकता है। व्यवसाय ठीक चलेगा। लाभ होगा। व्यापार-व्यवसाय अच्छा चलेगा। कार्यों में विलंब से चिंता होगी। मानसिक उद्विग्नता रहेगी। पारिवारिक जीवन संतोषप्रद रहेगा।

राशि फलादेश तुला :- (रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते)
चोट व रोग से बचें। जल्दबाजी से हानि होगी। दूसरों पर विश्वास हानि देगा। कार्य में बाधा होगी। पत्नी से आश्वासन मिलेगा। स्वयं के निर्णय लाभप्रद रहेंगे। मानसिक संतोष, प्रसन्नता रहेगी। नए विचार, योजना पर चर्चा होगी। दूसरों की नकल न करें।

राशि फलादेश वृश्चिक :- (तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू)
तंत्र-मंत्र में रुचि बढ़ेगी। यात्रा मनोरंजक रहेगी। निवेश शुभ रहेगा। बाहरी सहायता से काम होंगे। ईश्वर में रुचि बढ़ेगी। कामकाज की अनुकूलता रहेगी। व्यावसायिक श्रेष्ठता का लाभ मिलेगा। आपसी संबंधों को महत्व दें। पूंजी संचय की बात बनेगी।

राशि फलादेश धनु :- (ये, यो, भा, भी, भू, धा, फा, ढा, भे)
वरिष्ठ जन सहायता करेंगे। रुके कार्यों में गति आएगी। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। रोजगार बढ़ेगा। सतर्कता से कार्य करें। संतान के व्यवहार से सामाजिक प्रतिष्ठा में कमी आ सकती है। व्यापार में नए अनुबंध आज नहीं करें। आर्थिक तंगी रहेगी।

राशि फलादेश मकर :- (भो, जा, जी, खी, खू, खे, खो, गा, गी)
रुका हुआ धन मिल सकता है। निवेश शुभ रहेगा। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। प्रसन्नता रहेगी। स्वयं के ही प्रयासों से जनप्रियता एवं मान-सम्मान मिलेगा। रुका काम समय पर पूरा होने से आत्मविश्वास बढ़ेगा। व्यवसाय लाभप्रद रहेगा, नई योजनाएं बनेंगी।

राशि फलादेश कुंभ :- (गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा)
अप्रत्याशित खर्च होंगे। तनाव रहेगा। दूसरों के झगड़ों में न पड़ें। वस्तुएं संभालकर रखें। जोखिम न लें। नए संबंधों के प्रति सतर्क रहें। भूल करने से विरोधी बढ़ेंगे। कार्यक्षेत्र का विकास एवं विस्तार होगा। उपहार मिल सकता है। संतान की चिंता दूर होगी।

राशि फलादेश मीन :- (दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची)
बेरोजगारी दूर करने के प्रयास सफल रहेंगे। वरिष्ठ जन सहायता करेंगे। अप्रत्याशित लाभ होगा। यात्रा होगी। व्यावसायिक अथवा निजी काम से सुखद यात्रा हो सकती है। पठन-पाठन में रुचि बढ़ेगी। दूसरों से न उलझें। आर्थिक स्थिति अच्छी रहेगी।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

April 1, 2020, 2:22 pm
Partly sunny
Partly sunny
34°C
real feel: 37°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 21%
wind speed: 1 m/s WNW
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 6
sunrise: 5:27 am
sunset: 5:54 pm
 

Recent Posts

Trending