Connect with us

प्रदेश

अदिति सिंह मेरी बेटी जैसी… रायबरेली हिंसा की हो निष्पक्ष जांच : दिनेश प्रताप सिंह

Published

on

भाजपा के प्रतिनिधि मंडल ने राज्यपाल से मुलाकात कर सौंपा ज्ञापन

लखनऊ। बीते दिनों रायबरेली जिला पंचायत अध्यक्ष अवधेश प्रताप सिंह के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव को लेकर हुई राजनीतिक हिंसा के मामले में कांग्रेस लगातार भाजपा सरकार व एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह पर आरोप लगा रही है। गुरुवार को अपना पक्ष रखने के लिए भाजपा का एक प्रतिनिधि मंडल राज्यपाल राम नाईक से मिलने पहंुचा। #RaeBareli प्रतिनिधि मंडल में दिनेश प्रताप सिंह भी थे। भाजपाइयों ने राज्यपाल को पूरी घटना की जानकारी देते हुए निष्पक्ष जांच की मांग की है। बता दें कि बुधवार को कांग्रेस का एक प्रतिनिधि मंडल भी राज्यपाल से मिलकर उन्हें ज्ञापन दे चुका है। कांग्रेस का आरोप है कि दिनेश प्रताप सिंह के भाई अवधेश प्रताप सिंह को बचाने के लिए सरकार के इशारे पर रायबरेली जिला प्रशासन पक्षपातपूर्ण कार्रवाई कर रहा है। रायबरेली में जिला पंचायत सदस्यों की आवाज को दबाया जा रहा है। साथ ही उनकी जान को खतरा भी बताया गया था।#AvdeshPratapSingh

यह भी पढ़ें-चार साल बाद फिर आया क्रिकेट का महापर्व…जानें कब और कहां से हुई इसकी शुरूआत….

इसी क्रम में भाजपा के प्रतिनिधि मंडल ने भी राज्यपाल के सामने अपना पक्ष रख दिया है। इस मौके पर एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह, एमएलसी विद्या सागर सोनकर समेत भाजपा के कई नेता मौजूद रहे। राज्यपा को ज्ञापन देने के बाद मीडिया से बात करते हुए दिनेश प्रताप सिंह ने बताया कि हमने राज्यपाल से मुलाकात कर ज्ञापन दिया और मांग की है कि घटना की निष्पक्ष जांच करायी जाए। रायबरेली में हुई घटना में जो भी मुकदमा लिखा गया है वो बिल्कुल झूठा है इसलिए हमारे लोगों के खिलाफ दर्ज मुकदमे खत्म किये जाएं। #Aditi Singh

एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह ने कहा कि अदिति सिंह कांग्रेस की विधायक है लेकिन वह हमारी बेटी जैसी हैं। हम भगवान का धन्यवाद देते हैं कि वो बाल-बाल बच गई। दिनेश प्रताप सिंह ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा पर हमला करते हुए कहा कि अपनी हार से हताश कांग्रेस अब अलोकतांत्रिक तरीके अपना रही है। कहा कि गांधी परिवार का क्या इतना खराब दिन आ गया है कि प्रियंका गांधी जिला पंचायत सदस्यों को 16 दिन तक एक होटल के कमरे में बंद कर रखवा रही हैं ।# PriyankaVadra

बता दें कि बीते मंगलवार को रायबरेली जिला पंचायत अध्यक्ष अवधेश प्रताप सिंह के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग होनी थी। इसी सिलसिले में सुबह करीब 10 बजे कांग्रेस विधायक अदिति सिंह कुछ जिला पंचायत सदस्यों के साथ रायबरेली जा रही थीं। बछरांवा टोल के पास दर्जनों युवकों ने विधायक के काफिले पर हमला कर दिया। जिला पंचायत सदस्य राकेश अवस्थी को जमकर पीटा गया और अदिति सिंह की गाड.ी का पीछा गया, जिससे उनकी गाड.ी अनियंत्रित हो गयी और पलट गयी। जिसमें विधायक को हल्की चोटें आईं। आरोप है कि विधायक पर फायरिंग भी की गयी। राकेश अवस्थी गंभीर रूप से घायल हैं उनका इलाज चल रहा है। घटना के बाद जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग स्थगित कर दी गयी थी।http://www.satyodaya.com

प्रदेश

कार्यों में लापरवाही पर up परिवहन निगम का प्रोजेक्ट लीडर (टिकटिंग) निलंबित

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के एमडी डाॅ. राज शेखर ने ऑन लाइन टिकट बुकिंग में गंभीर लापरवाही मिलने पर प्रोजेक्ट लीडर (टिकटिंग) को निलम्बित कर दिया है। परिवहन निगम की वेबसाइट पर टिकट बुकिंग की तुलना में निजी टिकट बुकिंग वेबसाइट-पार्टनर एपीआई के पोर्टल से टिकट बुकिंग की संख्या अधिक रहने, निगम वेबसाइट पर टिकट बुकिंग में अधिक समय लगने, ऑन लाइन रिफण्ड के निस्तारण में अत्यधिक विलम्ब एवं ऑन लाइन बुकिंग संबंधी समस्या का समय से निस्तारण न होने पर यह कार्रवाई की गयी है।

यह भी पढ़ें-राज्यपाल आनंदी बेन पटेल की दीर्घायु के लिए मनकामेश्वर मठ में की गयी विशेष पूजा

बता दें कि निगम की बसों में ऑन लाइन टिकट बुकिंग की व्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए अपर प्रबन्ध निदेशक, परिवहन निगम मुख्यालय की अध्यक्षता में प्रधान प्रबन्धक (आईटी), उप मुख्य लेखाधिकारी (आडिट) एवं स्टाफ ऑफीसर की समिति का गठन किया गया है। यह समिति प्रतिदिन ऑन लाइन टिकटों की बुकिंग का विवरण तैयार कर समीक्षा करती है। इसके बाद अपनी हर रोज की रिपोर्ट प्रबन्ध निदेशक (एमडी) को देती है। इस समिति का उद्देश्य है कि यात्रियों को बेहतर, सुगम और सुविधायुक्त ऑनलाइन बुकिंग सेवा मिल सके। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

सरकार की वादा खिलाफी पर राज्य कर्मचारियों ने निकाला मशाल जुलूस

Published

on

12 दिसम्बर को प्रदेश भर में होगा धरना प्रदर्शन

लखनऊ। पुरानी पेंशन बहाली, वेतन विसंगति, भत्तों की समानता व मुख्य सचिव के साथ हुए अन्य समझौतों पर कार्यवाही न होने से नाराज राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद ने प्रदेश भर में मशाल जुलूस निकाले। राज्य कर्मचारियों ने सभी जनपदों में जिलाधिकारियों को ज्ञापन भी सौपे। लखनऊ जनपद के राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के अध्यक्ष सुभाष चंद्र श्रीवास्तव के नेतृत्व में सैकड़ों कर्मचारियों ने शाम 4 बजे नगर निगम मुख्यालय से डीएम कार्यालय तक मशाल जुलूस निकाला। कलेक्ट्रेट में हुई सभा में सुरेश रावत ने घोषणा की कि 12 दिसम्बर को परिषद सभी जनपदों में धरना देगी। इसके बाद भी मांगों पर विचार नहीं हुआ तो 21 जनवरी 2020 को मण्डलों में मंडल मुख्यालय पर कर्मचारी बड़ा प्रदर्शन किया जाएगा। धरने के दिन ही अगले बड़े आन्दोलन की घोषणा भी की जायेगी।

परिषद के महामंत्री अतुल मिश्रा ने बताया कि 9 व 12 अक्टूबर के आन्दोलनों के बाद शासन ने परिषद की प्रमुख मांगों पर अनेक निर्णय लिए थे। परिषद ने पुरानी पेंशन बहाली की भी प्रमुख रूप से मांग की थी, लेकिन सरकार ने अब तक इस पर कोई निर्णय नहीं लिया है। जिससे कर्मचारियों में रोष बढ. रहा है। चिकित्सा विभाग के फार्मेसिस्ट, आप्टोमेट्रिस्ट, लैब टेक्निशियन सहित अन्य संवर्गों की वेतन विसंगति दूर की जा चुकी है लेकिन प्रदेश में अभी भी वेतन विसंगति जारी है। मुख्य सचिव के साथ बैठक में केन्द्र सरकार द्वारा वित्त पोषित योजनाओं एवं राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं में 03 लाख आउटसोर्सिंग संविदा ठेके कर्मचारियों के लिए स्थाई नीति बनाने, राज्य कर्मचारियों को राज्य कर्मचारी कल्याण निगम के माध्यम से राज्य जीएसटी मुक्त सामग्री क्रय की सुविधा का लाभ व कर्मचारी कल्याण निगम कर्मियों की बदहाली दूर करने का निर्णय लिया गया था।

बैठक में समझौता हुआ था कि कल्याण निगम के सामानों में लगने वाला जीएसटी का 50 प्रतिशत भार सरकार वहन करेगी। लेकिन अब तो वित्त विभाग ने कल्याण निगम को बन्द करने का ही सुझाव दे दिया है। जिससे वहां के कर्मचारियों की नौकरी पर ही तलवार लटक गई है। वेतन विसंगति एवं वेतन समिति की संस्तुतियॉ एवं शेष बचे भत्तों पर मंत्रिपरिषद से अनुमोदन लिये जाने, पूर्व विनियमित कर्मचारियों की अर्हकारी सेवाएं को जोड़ते हुए पेंशन निर्धारित करने, डिप्लोमा इंजीनियर्स की भॉति ग्रेड वेतन 4600 – को इग्नोर करके 4800 – के ग्रेड वेतन के समान मैट्रिक्स लेवल अनुमन्य करने, उपार्जित अवकाश में 300 दिन के संचय की सीमा को समाप्त करने, राजस्व संवर्ग सींच पर्यवेक्षक, जिलेदार सेवा नियमावली, एवं तकनीकी पर्यवेक्षक नलकूप सेवानियमावली, अधीनस्थ वन सेवा नियमावली प्रख्यापित करने, सभी संवर्गो का पुनर्गठन, जिनकी सेवा नियमावली प्रख्यापित नही हैं, उसे प्रख्यापित कराने का निर्णय लिया गया था। लेकिन किसी भी समझौते पर विचार नहीं हुआ।

यह भी पढ़ें-नगर निगम कर्मचारी संयुक्त मोर्चा ने महापौर और नगर आयुक्त को सौंपा मांग पत्र

शासन द्वारा संविदा आउटसोर्सिंग कर्मचारियों के लिए स्थाई नीति का निर्माण फरवरी 2019 में पूर्ण कर लिया गया लेकिन अभी तक मंत्रिपरिषद से पारित नहीं कराया गया। संविदा व आउटसोर्सिंग कर्मचारियों की स्थाई नीति जारी न होने से कर्मचारियों का लगातार शोषण हो रहा है। कुछ विभागों में पूर्व से चली आ रही योजनाओं के कार्मिकों को सेवा से बाहर किए जाने की नोटिस पकड़ा दी गयी। इसी प्रकार समझौतों पर कार्यवाही तो नही हो सकी बल्कि उसके स्थान पर राज्य कर्मचारियों पर अभी तक प्राप्त हो रहे छः भत्ते समाप्त कर जले पर नमक छिड़कने जैसा कार्य किया गया। अनेक ऐसे संवर्ग हैं जिनमें छठे वेतन आयोग की वेतन विसंगतियां व्याप्त हैं। केन्द्रीय कर्मचारियों की भांति भत्तों की समानता, वाहन भत्ता एवं मकान किराए भत्ते के संशोधन के सम्बन्ध में वित्त विभाग द्वारा अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गयी। जिससे केन्द्रीय एवं राज्य कर्मचारियों को प्राप्त हो रहे भत्तों में बड़ा अन्तर आ गया है।

यह भी निर्णय लिया गया था कि एक समान शैक्षिक योग्यता वाले संवर्गों को एक समान वेतन भत्ते अनुमन्य किए जाएंगे, चाहे वे किसी भी विभाग में कार्यरत हो, परन्तु वित्त विभाग द्वारा अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हो सकी है। कर्मचारियों की कैशलेस चिकित्सा अभी तक प्रारम्भ नहीं हो सकी, जबकि पूर्व से मिल रहे चिकित्सा प्रतिपूर्ति भुगतान को और जटिल बना दिया गया। निर्णयों को लागू करने के बजाय सरकार 50 वर्ष पूर्ण कर रहे कर्मचारियों को जबरन सेवानिवृत्त कर रही है। परिषद ने मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजकर मांग की है कि समझौतों का क्रियान्वयन कराने का निर्देश जारी करें। साथ ही कर्मचारियों का उत्पीड़न राकें।

मशाल जुलूस में उप्र कर्मचारी शिक्षक संयुक्त मोर्चा के अध्यक्ष वीपी मिश्रा, महासचिव शशि मिश्रा, निगम महासंघ के महामंत्री घनश्याम यादव, परिषद के अध्यक्ष सुरेश रावत, वरिष्ठ उपाध्यक्ष गिरीश चन्द्र मिश्र, संगठन प्रमुख डाॅ. केके सचान, फार्मासिस्ट फेडरेशन के अध्यक्ष सुनील यादव, महामंत्री अशोक कुमार, सांख्यिकि सेवा संघ वन विभाग के अध्यक्ष डाॅ. पीके सिंह, सहायक वन कर्मचारी संघ के अध्यक्ष मो. नदीम, महामंत्री अमित श्रीवास्तव, राजकीय नर्सेज संघ के महामंत्री अशोक कुमार, सिंचाई संघ के अध्यक्ष राजेन्द्र तिवारी, महामंत्री अवधेश मिश्रा, राजस्व अधिकारी संघ के अध्यक्ष विजय किशोर मिश्रा, वन विभाग मिनिस्ट्रियल के महामंत्री आशीष पान्डे, कर्मचारी संघ ट्यूबवेल टेक्निकल कर्मचारी संघ उप्र के अध्यक्ष उमेश राव, महामंत्री रजनेश माथुर, वाणिज्य कर मिनिस्ट्रियल स्टाफ एसो. के अध्यक्ष कमल दीप महामंत्री जेपी मौर्य,

यह भी पढ़ें-महाराष्ट्रः कांग्रेस और एनसीपी के बीच बनी सहमति, कल मुंबई में बैठक

बेसिक हेल्थ वर्कर एसो. के अध्यक्ष धनन्जय तिवारी, महामंत्री एसएस शुक्ला, मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ की अध्यक्षा मीरा पासवान, केजीएमयू कर्मचारी परिषद के अध्यक्ष विकास सिंह, महामंत्री प्रदीप गंगवार, आरएमएल आयुर्विज्ञान संस्थान कर्मचारी संघ के अध्यक्ष रणजीत यादव, महामंत्री सच्चितानन्द मिश्रा, एनएचएम कर्मचारी संघ के अध्यक्ष मयंक सिंह, आप्टोमेट्रिस्ट एसो. के अध्यक्ष सर्वेश पाटिल, राम मनोहर कुशवाहा, महामंत्री एक्स-रे टेक्नीशियन एसो. आरकेपी सिंह, महामंत्री समाज कल्याण मिनि. एसो. के बीएन मिश्रा, डीडी त्रिपाठी, सुनील यादव एलटी एसो., सुभाष श्रीवास्तव जिलाध्यक्ष, जिला मंत्री संजय पांडेय, राजेश श्रीवास्तव, अजय पान्डे, कमल श्रीवास्तव आदि उपस्थित रहे।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

शादी के दिन इमोशनल हुईं अदिति सिंह, पिता को याद कर किया ट्वीट…

Published

on

अदिति सिंह

फाइल फोटो

लखनऊ। यूपी के रायबरेली सदर से कांग्रेस विधायक अदिति सिंह आज शादी के बंधन में बंधने वाली हैं। अदिति सिंह पंजाब से कांग्रेस विधायक अंगद सिंह सैनी के साथ 7 फेरे लेंगी। अदिति और अंगद की शादी गुरुवार को दिल्ली में संपन्न होगी। इसके बाद 23 नवंबर को रिसेप्शन होगा।

ऐसे में शादी के दिन अदिति सिंह ने एक ट्वीट किया है जिसे पढ़कर हम सब ही की आंखें नम हो जाएंगी। उन्होंने ट्वीट कर लिखा- एक पिता की सबसे बड़ा सपना उसकी बेटी की शादी करना होता है, पापा आपने अंगद को मेरा सच्चा जीवनसाथी चुना, आज इस खुशी के मौके पर आप नही हैं, आपकी बहुत याद आ रही है।

जानकारी के मुताबिक सदर विधायक अदिति की शादी में बड़ी राजनीतिक हस्तियों के शामिल होने के कयास लगाए जा रहे हैं। अपनी शादी के मौके पर अदिति सिंह खुद इस बात की पुष्टि की है कि उनकी और अंगद की शादी उनके पिता ने तय की थी। अदिति और अंगद दोनों के ही परिवार दशकों से राजनीति में हैं। कांग्रेस विधायक अदिति सिंह का परिवार जितने समय से राजनीति में है, लगभग उतने ही समय से अंगद सैनी का परिवार भी पंजाब की राजनीति में एक्टिव है।

अदिति सिंह ने बताया था कि अंगद से रिश्ता उनके पिताजी अखिलेश सिंह ने तय किया था। दोनों सियासी परिवार से ताल्लुक रखते हैं। अंगद का परिवार भी पुराने कांग्रेसी हैं और अदिति के पिता भी यूथ कांग्रेस में थे। दोनों परिवार एक दूसरे को काफी सालों से जानते हैं।

ये भी पढ़ें:सर्जरी के लिए अस्पताल में भर्ती होंगे कमल हासन, निकाला जाएगा इम्प्लांट…

अदिति सिंह ने भी कहा कि मेरे पिताजी को ये रिश्ता सही लगा। अंगद भी एक विधायक हैं। मेरे पिताजी ऐसा दामाद चाहते थे जो मेरे सियासी करियर को समझे। मेरे क्षेत्र के प्रति जो जिम्मेदारियां हैं उसे समझे। अदिति ने कहा कि शादी के बाद मेरी राजनीतिक पारी खत्म नहीं होगी। उन्होंने कहा कि रायबरेली मेरी जिम्मेदारी है और मैं इसे छोड़कर कहीं नहीं जाऊंगी।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

November 22, 2019, 12:31 am
Clear
Clear
17°C
real feel: 18°C
current pressure: 1020 mb
humidity: 87%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 6:01 am
sunset: 4:44 pm
 

Recent Posts

Trending