Connect with us

प्रदेश

वीरू स्टाइल में टंकी पर चढ़ अजय पंडित ने किया प्रदर्शन, जानें क्या है पूरा मामला  

Published

on

फाइल फोटो

लखनऊ । जियामऊ स्थित पानी के टंकी पर चढ़े अजय पंडित लगातार मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी से मिलने की मांग कर रहे हैं। पानी की टंकी पर पर चढ़े अजय पंडित चाहते है कि यूपी 100 फीसदी रिश्वत मुक्त हो जाए। वह तब तक टंकी से नीचे नहीं उतरेंगे जब तक योगी या उनके कोई प्रतिनिधि उनसे मिलने नहीं आते हैं।

यह मामला जियामऊ के गौतमपल्ली थाने का है इतना ही नहीं अजय के साथ उनके भतीजे अनिल और भी कई लोग 100 फीसीदी रिश्वत मुक्त यूपी की मांग कर रहे हैं। उन्होंने कहा है अगर ऐसा नहीं होता तो वे पानी के टंकी में कूद जाएंगे।

जब 100 फीसीदी रिश्वत मुक्त यूपी को लेकर अजय पंडित के भतीजे अनिल से बात की गई तो उन्होंने कहा जैसे पेड़ को सिंच कर बड़ा किया जाता है फिर उसमें फल लगता है और उस फल को खाने की सभी को इच्छा होती है, लेकिन कभी किसी ने सोचा यह फल आया कैसे। अगर उसे खत्म करना हो एक झटके में खत्म किया जा सकता है। ठीक उसी तरह करप्शन है जिसका बीज 70 साल पहले बोया गया था, लेकिन अगर सरकार चाहते तो उसे एक झटके में खत्म कर सकती है।

उन्होंने कहा ऐसे में अब जब हम कोशिश कर रहे हैं करप्शन खत्म करने की तो कोई मेरी सुन नहीं रहा है। जब उनसे पूछा गया उपर पानी के टंकी पर कौन-कौन है और वो आपके क्या है। आपकी मांगे क्या है। इस पर अनिल जवाब देते हुए कहते है कि उपर मेरे चाचा अजय पंडित के साथ पांच लोग और हैं, उनकी भी मांगे यूपी से करप्शन खत्म करो है।

जब उनसे सवाल किया गया इससे पहले भी कभी इस तरह की कोई कोशिश की तो इसके जवाब में उन्होंने कहा है जैसा की हमारे प्रधानमंत्री मोदी जी कहते है डिजिटल से बड़ा को सोर्स दूसरों तक अपनी समस्या पहुंचाने का तो हमने उन्हें ट्वीटर, फेसबुक, जब झग से ट्वीट और मैसेजे किया लेकिन हमे कोई जवाब नहीं मिलता तब हम लोगों ने ये रास्ता निकाला है।

जब अनिल से पूछा गया कि प्रशासन की तरफ से क्या कहा जा रहा है तो उन्होंने कहा की चलिए आप लोगों योगी से मिलवाया जाएगा, लेकिन इस अनिल का कहना है की वो लोग चाहते है योगी खुद यहां आएं या अपना कोई प्रतिनिधि भेजे। जब वोट की बात होती है, तो वे आते है लेकिन अब जब जनता की समस्या तो हम जाएं, वह स्वयं क्यों नहीं आ सकते है।

जब पानी की टंकी पर चढ़े लोगों की मांगों के बारे में एडीएम प्रफ्फुल त्रिपाठी से बात की गई तो उन्होंने कहा टंकी पर अजय शुक्ल और उनके साथ एक-दो लोग है और नीचे भी एक-दो बठे हुए हैं। उन्होंने अ कॉमन मैन के नाम से एक पत्र रख दिया है। उनका यही कहना की यूपी से करप्शन को खत्म कर दिया जाए। उन्होंने कहा है की उनके पास समाधान है इन सब को खत्म करने का और हम माननीय मुख्यमंत्री जी से मिलकर उस तरीके को बताएंगे।

एडीएम ने ये भी कहा की हम लोग लगातार उनसे बातचीत कर रहे है उन्हें नीचे उतारने और मुख्यमंत्री जी मिलवाने के लिए बोल रहे है, लेकिन उनका कहना है की वे खुद आएं उनसे मिलने। उन लोगों का ये भी कहना है की हमे सिर्फ मुख्यमंत्री जी से वार्ता करनी है और किसी से नहीं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

प्रदेश

स्कूल में शिक्षक नहीं कर सकतें मोबाइल का इस्तेमाल

Published

on

फाइल फोटो
लखनऊ । उत्तर प्रदेश देश का पहला ऐसा राज्य बन गया है जहां बेसिक शिक्षा विभाग के सरकारी स्कूलों में अब शिक्षक मौजूदा स्कूल टाइम सुबह 8 बजे से दोपहर 1 बजे तक मोबाइल फोन पर सोशल मीडिया फेसबुक, व्हाट्सएप्प आदि का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे। दरअसल, स्कूल के शिक्षकों द्वारा बच्चों को पढ़ाई में ध्यान देने की बजाय सोशल साइट पर व्यस्त रहने की शिकायतें अक्सर सामने आती थीं। इसी को देखते हुए सरकार ने चेतावनी दी है कि अगर कोई भी शिक्षक मोबाइल फोन पर सोशल मीडिया का इस्तेमाल करता मिला तो उसके खिलाफ निलंबन जैसी सख्त कार्रवाई की जाएगी।

शिक्षा व्यवस्था को सुधारने के लिए प्रदेश सरकार का है ये कदम

प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने यह आदेश प्रतिबंध बेहतर शिक्षा व्यवस्था को प्रभावी करने की दिशा में उठाया है। सूत्रों के मुताबिक सीएम योगी जल्द ही कोई मोबाइल नंबर जारी करने वाले हैं, जिस पर आम जनता सरकारी स्कूल से जुड़ी शिकायतों को सीधे उन तक पहुंचा सकेगी । आपको बता दें कि सीएम योगी ने सरकारी कर्मचारियों, शिक्षकों की सुस्ती व भ्रष्टाचार के खिलाफ बेहद कड़ा रुख अखित्यार किया है। बीते दो सालों के कार्यकाल में सीएम योगी ने 600 से ज्यादा अधिकारियों और कर्मचारियों पर कार्रवाई की है। जबकि अभी 200 कर्मचारी सरकार की रडार पर हैं।

शिक्षको के जींस -टी शर्ट पहनने पर भी रोक

सरकारी स्कूलों में शिक्षको के जींस और टी शर्ट पहनकर आने पर भी तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी गई है। भड़कीले पैंट शर्ट भी पहनकर शिक्षक स्कूल नहीं आ सकेंगे। अगर किसी ने इन निर्देशों की अवहेलना की तो उसे भी विभागीय कार्रवाई का सामना करना पड़ेगा। सरकार ने यह फरमान सुनाते हुए तत्काल पालन करने के निर्देश दिए हैं।

बच्चों के साथ शिक्षकों की भेजनी होगी सेल्फी

लंबे समय से बिगड़ी प्राइमरी शिक्षा को सुधारने की दिशा में प्रदेश सरकार कोशिश कर रही है। सरकार की मंशा के अनुसार सभी जिले में तैनात अफसर भी शिक्षा की गुणवत्ता सुधारने को अलग अलग तरीके अपना रहे हैं। इसी क्रम में जिलों स्कूलों में समय पर शिक्षकों की हाजिरी चेक करने के लिए बच्चों के साथ शिक्षकों को सेल्फी अपने विभाग के ग्रुप पर भेजनी है। जिससे स्कूल में उनकी उपस्थित सुनिश्चित की जा सके।

Continue Reading

प्रदेश

उज्ज्वला योजना के तहत प्रदेश सरकार ने दिये 1.32 करोड़ से अधिक गैस कनेक्शन

Published

on

लखनऊ। पीएम मोदी की महात्वाकांक्षी उज्ज्वला योजना के तहत उत्तर प्रदेश में 1.32 करोड़ से अधिक गैस कनेक्शन वितरित किये गए हैं। वहीं, इस हफ्ते लगभग 117410 नये गैस कनेक्शन जारी किये गये हैं। यह जानकारी खाद्य एवं रसद विभाग की रिपोर्ट से प्राप्त हुई है।

गौरतलब है कि, पीएम मोदी ने उज्ज्वला योजना को 1 मई 2016 को प्रदेश के बलिया जिले से लॉन्च किया था।  PMUY के तहत सरकार गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले परिवारों को घरेलू रसोई गैस का कनेक्शन देती है। केंद्र की इसी योजना के तहत प्रदेश सरकार ने 1.32 करोड़ से अधिक गैस कनेक्शन दिये हैं।

ऐसे पाएं गैस कनेक्शन

उज्ज्वला योजना के तहत गैस कनेक्शन लेने के लिए BPL परिवार की कोई महिला आवेदन कर सकती है। इसके लिए आपको KyC फार्म भर कर नजदीकी एलपीजी केंद्र में जमा करना होगा। आवेदन के लिए 2 पेज का फॉर्म, जरूरी दस्‍तावेज, नाम, पता, जन धन बैंक अकाउंट नंबर, आधार नंबर आदि की जरूरत पड़ती है। साथ ही आपको यह भी बताना होगा कि आप 14.2 किलोग्राम का सिलेंडर लेना चाहते हैं या 5 किलोग्राम का।

आवेदन के फॉर्म को आप नजदीक के एलपीजी वितरण केंद्र से मुफ्त में प्राप्त कर सकते हैं या फिर प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना की वेबसाइट से डाउनलोड कर सकते हैं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

प्रदेश गुजर रहा है बदहाली के दौर से: अखिलेश यादव

Published

on

फाइल फोटो

लखनऊ । समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भाजपा सरकार पर निशान साधते हुए कहा है कि भाजपा राज में प्रदेश बदहाली के बुरे दौर से गुजर रहा है । बरसात आते ही लोगों की जिंदगी में तबाही आने लगती है । बाढ़ की चपेट में कीमती जाने चली जाती हैं । बरसात के शुरूआत में ही प्रदेशवासी जलभराव, उफनाते नालों, बिजली व पेयजल संकट से त्रस्त होने लगे हैं । यहां तक कि लखनऊ में रहने वाले भी बेहाल हैं ।

भाजपा ने अच्छे दिन आने का वादा किया था, जनता उस दिन का इंतजार करते ही रही है । जनता सुविधाएं अस्तव्यस्त हैं । जनता की असुविधा बढ़ती जा रही है लेकिन सत्ता में बैठे लोगों को कोई चिंता है ही नहीं । शहरी सुविधाओं की जिन पर जिम्मेदारी है, वे लापरवाह हैं । मुख्यमंत्री की निगाहें भी इन सब पर नहीं जाती हैं ।

लखनऊ शहर जहां सरकार का मुख्यालय हैं, बिजली-पानी के संकट से जूझ रहा है । अभी हल्की बरसात ही हुई है लेकिन कई क्षेत्रों में भीषण जल भराव होने लगा है । नालों की सफाई कागजों पर करके नगर निगम के अफसरान अपनी कुर्सियों पर आराम फरमा रहे हैं । कोई दिन नहीं जाता जब शहर के किसी न किसी हिस्से में बिजली पानी के संकट को लेकर प्रदर्शन न होता हो । कई कालोनियों-मुहल्लों के नलों में गंदे पानी सप्लाई की शिकायतें आम हो गई हैं । कहीं-कहीं तो दो-दो दिन तक पानी का अकाल पड़ा रहा ।

भाजपा सरकार पूरे प्रदेश में 24 घंटे बिजली सप्लाई का दावा करने में संकोच नहीं करती है । लेकिन हकीकत यह है कि हर रोज बिजली नागरिकों को रूलाती रहती है । आधा से ज्यादा राजधानी अंधेरे में डूबी रहती है । ऐतिहासिक धरोहरों में भी अंधेरा है । जब से भाजपा सरकार आयी है तब से ही चारों तरफ अंधेरा ही अंधेरा छाया है । इन दिनों भीषण गर्मी से बेहाल लोग आक्रोशित होकर बिजलीघरों पर हमलावर हो रहे हैं ।

विकास और लखनऊ को स्मार्टसिटी बनाने के सरकार के झूठे दावों की पोल तो इसी से खुल जाती है कि नगर निगम भी यह मानने को विवश हो गया है कि शहर के 92 जगहों पर जल भराव हो रहा है । लगातार बिजली संकट के चलते कई स्थानों पर नागरिकों ने उग्र होकर या तो बिजली कर्मियों को बंधक बना लिया, या मारपीट की और बिजलीघरों में तोड़फोड़ तक की । यह स्थिति प्रदेश व्यापी है । हर तरफ लोग आंदोलित हैं ।

यह भी पढ़ें: भूमाफियाओं से खाली करायी गईं अवैध जमीनें

भाजपा सरकार अपने झूठ को सच्चाई में बदलने की कोशिशें कागजी तौर पर भले कर ले, लेकिन जनता की नज़रों में उसकी सच्चाई छुपने वाली नहीं है । लोगों के सब्र का बांध भी टूट रहा है । राजधानी में बिजली-पानी संकट की ऐसी स्थिति है तो राज्य का हाल असहज ही समझा जा सकता है । भाजपा सरकार का आधा समय बीतने को है लेकिन भाजपा ने अपने कार्यकाल में एक यूनिट भी विद्युत उत्पादन नहीं किया । समाजवादी सरकार की योजनाओं को ही भाजपा यदि जारी रखती तो राज्य की जनता की यह बुरी गत नहीं होती । http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

July 3, 2019, 9:46 pm
Partly cloudy
Partly cloudy
33°C
real feel: 38°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 62%
wind speed: 1 m/s ENE
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 4:48 am
sunset: 6:34 pm
 

Recent Posts

Trending