Connect with us

प्रदेश

वीरू स्टाइल में टंकी पर चढ़ अजय पंडित ने किया प्रदर्शन, जानें क्या है पूरा मामला  

Published

on

फाइल फोटो

लखनऊ । जियामऊ स्थित पानी के टंकी पर चढ़े अजय पंडित लगातार मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी से मिलने की मांग कर रहे हैं। पानी की टंकी पर पर चढ़े अजय पंडित चाहते है कि यूपी 100 फीसदी रिश्वत मुक्त हो जाए। वह तब तक टंकी से नीचे नहीं उतरेंगे जब तक योगी या उनके कोई प्रतिनिधि उनसे मिलने नहीं आते हैं।

यह मामला जियामऊ के गौतमपल्ली थाने का है इतना ही नहीं अजय के साथ उनके भतीजे अनिल और भी कई लोग 100 फीसीदी रिश्वत मुक्त यूपी की मांग कर रहे हैं। उन्होंने कहा है अगर ऐसा नहीं होता तो वे पानी के टंकी में कूद जाएंगे।

जब 100 फीसीदी रिश्वत मुक्त यूपी को लेकर अजय पंडित के भतीजे अनिल से बात की गई तो उन्होंने कहा जैसे पेड़ को सिंच कर बड़ा किया जाता है फिर उसमें फल लगता है और उस फल को खाने की सभी को इच्छा होती है, लेकिन कभी किसी ने सोचा यह फल आया कैसे। अगर उसे खत्म करना हो एक झटके में खत्म किया जा सकता है। ठीक उसी तरह करप्शन है जिसका बीज 70 साल पहले बोया गया था, लेकिन अगर सरकार चाहते तो उसे एक झटके में खत्म कर सकती है।

उन्होंने कहा ऐसे में अब जब हम कोशिश कर रहे हैं करप्शन खत्म करने की तो कोई मेरी सुन नहीं रहा है। जब उनसे पूछा गया उपर पानी के टंकी पर कौन-कौन है और वो आपके क्या है। आपकी मांगे क्या है। इस पर अनिल जवाब देते हुए कहते है कि उपर मेरे चाचा अजय पंडित के साथ पांच लोग और हैं, उनकी भी मांगे यूपी से करप्शन खत्म करो है।

जब उनसे सवाल किया गया इससे पहले भी कभी इस तरह की कोई कोशिश की तो इसके जवाब में उन्होंने कहा है जैसा की हमारे प्रधानमंत्री मोदी जी कहते है डिजिटल से बड़ा को सोर्स दूसरों तक अपनी समस्या पहुंचाने का तो हमने उन्हें ट्वीटर, फेसबुक, जब झग से ट्वीट और मैसेजे किया लेकिन हमे कोई जवाब नहीं मिलता तब हम लोगों ने ये रास्ता निकाला है।

जब अनिल से पूछा गया कि प्रशासन की तरफ से क्या कहा जा रहा है तो उन्होंने कहा की चलिए आप लोगों योगी से मिलवाया जाएगा, लेकिन इस अनिल का कहना है की वो लोग चाहते है योगी खुद यहां आएं या अपना कोई प्रतिनिधि भेजे। जब वोट की बात होती है, तो वे आते है लेकिन अब जब जनता की समस्या तो हम जाएं, वह स्वयं क्यों नहीं आ सकते है।

जब पानी की टंकी पर चढ़े लोगों की मांगों के बारे में एडीएम प्रफ्फुल त्रिपाठी से बात की गई तो उन्होंने कहा टंकी पर अजय शुक्ल और उनके साथ एक-दो लोग है और नीचे भी एक-दो बठे हुए हैं। उन्होंने अ कॉमन मैन के नाम से एक पत्र रख दिया है। उनका यही कहना की यूपी से करप्शन को खत्म कर दिया जाए। उन्होंने कहा है की उनके पास समाधान है इन सब को खत्म करने का और हम माननीय मुख्यमंत्री जी से मिलकर उस तरीके को बताएंगे।

एडीएम ने ये भी कहा की हम लोग लगातार उनसे बातचीत कर रहे है उन्हें नीचे उतारने और मुख्यमंत्री जी मिलवाने के लिए बोल रहे है, लेकिन उनका कहना है की वे खुद आएं उनसे मिलने। उन लोगों का ये भी कहना है की हमे सिर्फ मुख्यमंत्री जी से वार्ता करनी है और किसी से नहीं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

प्रदेश

यूपी के मुख्यमंत्री द्वारा कांग्रेस पर लगाया गया झूठा और भ्रामक आरोप- वीरेंद्र चौधरी

Published

on

लखनऊ। यूपी कांग्रेस कमेटी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा कांग्रेस पर झूठे और भ्रामक आरेाप लगाये जाने पर कड़ा ऐतराज जताया है। कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष वीरेन्द्र चौधरी ने कहा, कि लाॅकडाउन के पहले चरण से ही कोरोना महामारी से बचाव हेतु और श्रमिकों की सुरक्षित घर वापसी तथा किसानों, मजदूरों, छोटे व्यापारियों के हितों को लेकर कांग्रेस ने सरकार को लगातार पत्र लिखकर महत्वपूर्ण सुझाव दिये थे। साथ ही इस महामारी से निपटने के लिए सर्वदलीय बैठक बुलाने हेतु कई बार निवेदन भी किया था। लेकिन मुख्यमंत्री ने एक बार भी इन बातों पर ध्यान नहीं दिया। सरकार पर सवाल खड़े होने पर प्रदेश की जनता से सरासर झूठ बोलकर गुमराह करने का प्रयास कर रहे हैं।

चौधरी ने कहा कि प्रदेश के कोविड-19 अस्पतालों की दुर्दशा छिपी नहीं है। एक तरफ जहां पीपीई किट्स को लेकर घोटाले की बात सामने आयी। वहीं कई अस्पतालों में नकली पीपीई किट्स के चलते चिकित्सकों, नर्सों, टेक्नीशियन व सफाईकर्मियों की जान खतरे में डाल दी गयी। लखनऊ, गोरखपुर, रायबरेली, कानपुर, बहराइच, सीतापुर सहित अन्य जिलों में बनाये गये कोविड-19 अस्पतालों में कोरोना के मरीजों की देखभाल और इलाज में भारी लापरवाही भी उजागर हुई।

प्रदेश सरकार द्वारा अनुबंधित प्राइवेट टेस्टिंग लैब और सरकारी लैब में कोरोना पाजिटिव के टेस्टिंग आंकड़ों में भारी अन्तर भी सामने आया। सरकार द्वारा आगरा माॅडल को पूरे देश में जोर-शोर से प्रचारित किया गया जबकि हकीकत में आगरा में इतनी दुर्व्यवस्था हुई कि आगरा ‘वुहान’ बनने की कगार पर पहुंच गया था। वहीं दूसरी तरफ आगरा, बस्ती, रायबरेली आदि जिलों के कवारेन्टीन सेंटर में रखे गये लोगों के साथ जानवरों से भी बदतर बर्ताव किया गया और बदइंतजामी का आलम यह रहा कि कोरोना सैम्पल को बन्दर लेकर भाग जा रहे हैं।

इसे भी पढ़ें-रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी का 2021 तक कर्जमुक्त करने का लक्ष्य

लाॅकडाउन-1 के पहले दिन से ही कांग्रेस पार्टी पूरी शिद्दत के साथ जनसेवा में जुटी हुई है। कांग्रेस ने महामारी के दौरान 90 लाख लोगों तक राशन, भोजन पहुंचाने का काम किया है। 10 लाख प्रवासी मजदूरों की मदद की गयी। साढ़े सात लाख मास्क एवं सेनीटाइजर का वितरण किया गया। 22 सांझी रसोईघरों का संचालन किया जा रहा है और 40 स्थानों पर हाईवे टास्क फोर्स बनाकर कांग्रेस के 5 हजार प्रतिबद्ध सिपाहियों ने प्रवासी श्रमिकों और जरूरतमंदों की दिन-रात मदद की। वहीं योगी सरकार की मजदूर और गरीब विरोधी नीतियों के चलते सड़कों पर चल रहे श्रमिकों और जरूरतमंद लोग भूख और प्यास से तड़पकर जान गंवाने के लिए विवश हो रहे हैं।

इस महामारी के दौरान प्रदेश के प्रवासी मजदूरों को लाने के लिए कांग्रेस ने एक हजार से ज्यादा बसें उ0प्र0 की सीमा आगरा व गाजियाबाद में खड़ी की थी। सरकार ने पहले अनुमति भी दी लेकिन कांग्रेस की सेवाभाव से भयभीत होकर राजनीतिक ईर्ष्या वश न तो उन बसों को चलने दिया उल्टे मजदूरों के लिए दिन-रात एक कर रहे कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष श्री अजय कुमार लल्लू को फर्जी मुकदमा दर्ज करवाकर जेल में बन्द कर दिया। कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता लगातार प्रदेश अध्यक्ष को छोड़ने के लिए शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर विरोध भी जता रहे है और राज्य सरकार की शुद्धि बुद्धि के लिए हवन यज्ञ भी कर रहे हैंhttp://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

लॉकडाउन 0.5: DM ने की बैठक, मार्केट में सभी नियमों व प्रोटोकॉल का कराएं पालन

Published

on

लखनऊ। सरकार की तमाम कोशिशों के वावजूद भी देश प्रदेश में कोरोना मरीजों की संख्या में इजाफा होता जा रहा है। कोरोना संक्रमण को काबू में लाने के लिए लखनऊ के जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने रविवार को अधिकारियों के साथ बैठक करते हुए अधिकारियों को तमाम दिशा निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने कहा कि लॉकडाउन 0.5 में बाजारों को सुनियोजित ढंग से खोला जाए। बैठक में अपर जिलाधिकारी नगर श्री के पी सिंह अपर जिलाधिकारी प्रशासन अमरपाल सिंह सहित अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।

जिलाधिकारी ने कहा, कि बाजारों को खोलने से पहले वहां पर बचाव का पुख्ता इंताजाम किया जाय। बाजारों में समुचित सैनिटाइजेशन की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। इसके साथ ही बाजारों में मार्केट कंट्रोल रूम स्थापित किया जाए और आवश्यकतानुसार निगरानी के लिए सीसीटीवी कैमरे व पब्लिक ऐड्रेस सिस्टम लगाएं जाए। बाजार में कोविड-19 से बचने के लिए सभी लॉकडाउन 0.5 को नियमों व प्रोटोकॉल जैसे मास्क, सैनिटाइजर के साथ ही सोशल डिस्टेंस का विशेष ध्यान रखा जाए।

इसे भी पढ़ें-यूपी में कोविड अस्पतालों एवं अन्य चिकित्सा सुविधाओं को और सुदृढ़ किया जाए- CM योगी

उन्होंने कहा कि बाजार में आने वाले ग्राहकों को सुरक्षित रखना हमारा दायित्व है। इसके निगरानी मैकेनिज्म सिस्टम का प्रयोग किया जाए। जिलाधिकारी ने कहा कि कोविड-19 से सुरक्षा दृष्टि से सभी अधिकारी मॉनिटरिंग हेतु टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करें। बाजारों में लगाए गए सीसीटीवी कैमरे की फीड को ऑनलाइन कनेक्टिविटी के साथ क्रियाशील बनाएं ताकि मोबाइल फोन पर भी रियल टाइम मॉनिटरिंग की जा सके। इसके साथ ही अधिकारी बैठकों के लिए भी टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करें ताकि समय की बचत की जा सके।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

सेवा कार्य रोकने के लिए यूपी कांग्रेस अध्यक्ष की गिरफ्तारी सरकार की योजना- ललन कुमार

Published

on

कितना भी दमन हो, सेवा से पीछे नहीं हटेंगे

लखनऊ। यूपी कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू की गिरफ्तारी को लेकर यूपी कांग्रेस मीडिया संयोजक ललन कुमार ने सरकार पर तंज कसते हुए कहा, कि योगी सरकार अजय कुमार लल्लू को गिरफ्तार करवाकर ना इंसाफी कर रही है। बस मामले में सरकार ने कांग्रेस अध्यक्ष पर फर्जी का आरोप लगाया है, और एक बेकसूर को जेल में रखा है। जिस चलते प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष की गिरफ्तारी के खिलाफ कार्यकर्ताओं में भयंकर रोष है।

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय लल्लू के गिरफ्तारी को लेकर जहां कांग्रेस लगातार शांतिपूर्ण प्रदर्शन, हवन यज्ञ, मशाल जुलूस, खून से पत्र लिखकर विरोध जता रही है। कांग्रेस सेवा दल कई दिनों से यह प्रदर्शन कर रहे है। इस यज्ञ के जरिए यूथ कांग्रेस अजय लल्लू की रिहाई की मांग की है। हवन यज्ञ के द्वारा सभी युवा कांग्रेसजनों ने प्रदेश अध्यक्ष के तत्काल रिहाई के लिए योगी सरकार को सद्बुद्धि प्रदान करने के लिए ईश्वर से कामना की की है। प्रदेश भर के कार्यकर्ताओं ने लॉकडाउन का पालन करते हुए इस प्रदर्शन को कर रहे है।

इस सब के बावजूद भाजपा सरकार ने हमारे 90 कार्यकर्ताओं पर मुकदमा दर्ज कर दिया है। इसमें पूर्व विधायक व पूर्व नेता विधानमंडल दल प्रदीप माथुर, पूर्व विधायक, अनुग्रह नारायण सिंह, पूर्व एमएलसी, विवेक बंसल, यूपी कांग्रेस के उपाध्यक्ष, पूर्व विधायक पंकज मलिक भी शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें-भाजपा सरकार राजनीति द्वेष के चलते बेगुनाह को दे रही है सजा- आराधना मिश्रा

यूपी कांग्रेस मीडिया संयोजक ललन कुमार बताया, अजय कुमार लल्लू की गिरफ्तारी सेवा कार्य को रोकने के लिए की गई है, इसलिए प्रदेश के कार्यकर्ता सेवा कार्य नहीं रोकेंगे। साथ ही राजीव गांधी के शहादत दिवस के मौके पर उनको सलाम करते हुए पूरे प्रदेश से लगभग 50,000 कार्यकर्ताओं ने फेसबुक लाइव के जरिए इस दमन के खिलाफ आवाज उठाई साथ ही सोशल मीडिया के जरिए काली पट्टी बांधकर प्रदर्शन कर रहे है।

उन्होंने बताया कि पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने लखनऊ व दिल्ली में इस मुद्दे पर प्रेस कांफ्रेंस के जरिए इसका विरोध किया। कांग्रेस महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी जी, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रदेश अध्यक्ष के माता-पिता से बात की, और इस गिरफ्तारी के खिलाफ आवाज उठाई। कई अन्य प्रदेशों के कांग्रेस नेताओं ने भी यूपी अध्यक्ष समेत अन्य कार्यकर्ताओं पर हो रहे गिरफ्तारी के खिलाफ आवाज बुलंद कर रहे है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

June 1, 2020, 12:04 am
Fog
Fog
26°C
real feel: 32°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 86%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 4:43 am
sunset: 6:26 pm
 

Recent Posts

Trending