Connect with us

प्रदेश

अयोध्या: रामलला के मुख्य संत सत्येंद्र दास की सुरक्षा बढ़ी, कई पुलिसकर्मी तैनात

Published

on

लखनऊ। अयोध्या विवाद पर शनिवार को सुप्रीम कोर्ट ने फैसला दे दिया। फैसला आने से पहले ही शासन-प्रशासन सुरक्षा व्यवस्था को लेकर मुस्तैद हो गए थे। फैसले के बाद भी कड़ी नजर रखी जा रही है। इसी क्रम में रामलला के मुख्य संत सत्येंद्र दास के घर की सुरक्षा को बढ़ा दिया गया है। उनकी सुरक्षा में दर्जन भर से अधिक पुलिसकर्मी तैनात किये गए हैं। सूत्रों के अनुसार, उनके साथ ही अयोध्या में अन्य प्रमुख संतो की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

बता दें, सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या में विवादित भूमि को हिंदुओं को देने का फैसला सुनाया है। जबकि मुसलमानों को कहीं और 5 एकड़ जमीन मस्जिद के लिए देने को कहा है। सरकार से मंदिर के लिए तीन महीने के अंदर एक ट्रस्ट बनाने को कहा है।

ये भी पढ़ें: अयोध्या: डोभाल के आवास पर हुई बड़ी बैठक, हिंदू-मुस्लिम धार्मिक नेता हुए शामिल

गौरतलब है कि, अयोध्या मामले को लेकर प्रशासन पहले से ही काफी सतर्क है। संवेदनशील स्थानों पर पुलिस नजर बनाए हुए है। लगातार बैठकों का दौर जारी है। इस दौरान सोशल मीडिया पर भी कड़ी नजर रखी गई। किसी भी तरह की अफवाह न फैलने पाए इसके लिए लगातार मॉनिटरिंग की गई है। आपत्तिजनक पोस्ट करने वालों को हिरासत में भी लिया गया। सूत्रों के मुताबिक बिहार, पश्चिम बंगाल, केरल जैसे कुछ राज्यों पर खास निगाह रखी जा रही है। यहां खुफिया तंत्र को केद्र की तरफ से भी मदद दी जा रही है।http://www.satyodaya.com

प्रदेश

वर्क फ्रॉम होम के लिए 400 लैपटॉप किराए पर लेगी UP 112, शासन से मिली अनुमति

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में लगातार कोरोना वायरस का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। इस प्रकोप की चपेट में आपात सेवा यूपी 112 के तमाम लोग भी आ गए हैं। इस वायरस के प्रकोप से बचने के लिए सरकार नई- नई योजनाएं बना रही है। जिसमें यूपी-112 सेवा को और अधिक सुदृढ़ एवं सशक्त बनाया गया है। इस महामारी को देखते हुए पुलिस की आपात सेवा यूपी 112 को वर्क फ्रॉम होम करने का फैसला लिया जा रहा है। शासन ने इसके लिए 400 लैपटॉप किराए पर लेने की अनुमति दी है।

इसे भी पढ़ें- माले का योगी सरकार में दमन-उत्पीड़न के खिलाफ आज से प्रदेशव्यापी जन अभियान

जिससे वर्क फॉर्म होम के द्वारा आपात सेवा यूपी 112 को सुचारू रूप से चलाया जा सके। यूपी 112 के संवाद अधिकारी पहले से भी वर्क फ्रॉम होम में हैं। कोरोना संक्रमण के कारण अब तक दो बार 112 के मुख्यालय को बंद करने की स्थिति आ चुकी है। एक बार गाजियाबाद के उपकेंद्र को भी बंद करना पड़ा था। उस समय वर्क फ्रॉम में काम करने वाले 140 कर्मचारियों ने आपात सेवा को बनाए रखने में बड़ा योगदान दिया था। कुछ दिनों तक तो वर्क फ्रॉम होम और प्रयागराज उपकेंद्र की बदौलत ही यह सेवा काम करती रही।

बता दें, कि देश में पिछले 24 घंटे में रिकॉर्ड 28,498 कोरोना संक्रमित मिले हैं और इसके साथ ही कुल संक्रमितों की संख्या 9 लाख के आंकड़े को पार कर 906752 हो गई। इसमें 3,11,565 मामले सक्रिय हैं। इस दौरान 553 लोगों की मौत हो गई और मृतकों की संख्या बढ़कर 23727 हो गई है। अब तक 571460 मरीज कोरोना को हरा चुके हैं। कोरोना महामारी से सर्वाधिक प्रभावित महाराष्ट्र में संक्रमितों का आंकड़ा 260924 पर पहुंच गया है तथा 10482 लोगों की मौत हुई है। राज्य में 144507 लोग संक्रमणमुक्त हुए हैं। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

कानपुर एनकाउंटर: विकास दुबे का एक और साथी शशिकांत गिरफ्तार, हथियार बरामद

Published

on

लखनऊ। कानपुर जिले के बिकरु गांव में सीओ सहित पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले में 50 हजार रुपए का इनामी वांछित अपराधी शशिकांत पांडेय  को पुलिस ने मंगलवार रात 2:30 बजे  गिरफ्तार कर लिया है। इसके साथ ही उसके पास से पुलिसकर्मियों से लूटे गए हथियारों को बरामद कर लिया गया है। पुलिस ने उसके पास से एके-47 व 17 कारतूस, इसांस राइफल व 20 जिंदा कारतूस बरामद किया है। जिसकी जानकारी एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने मंगलवार को दी।

एडीजी प्रशांत कुमार ने कहा कि बिकरू कांड के एक और आरोपी शशिकांत पांडेय को गिरफ्तार कर लिया गया है। उस पर 50 हजार रुपये का इनाम था। शशिकांत के खुलासे के बाद पुलिस ने विकास दुबे के घर से एके-47 और 17 कारतूस बरामद कर लिया है। इसके साथ ही शशिकांत के घर से इंसास राइफल भी मिली है। उन्होंने कहा कि इस पूरे मामले में 21 आरोपी थे। जिसमें चार लोग गिरफ्तार किए जा चुके हैं। गिरफ्तार आरोपियों में श्यामू वाजपेयी, जहान यादव, दयाशंकर अग्निहोत्री और शशिकांत है। वहीं  अबतक 6 आरोपियों को एनकाउंटर में  ढेर किया जा चुका है। मारे गए आरोपियों में  विकास दुबे, प्रेम कुमार पांडेय,  अतुल दुबे, अमर दुबे, प्रभात मिश्रा और प्रवीण दुबे शामिल है।

एडीजी ने बताया कि 120बी के तहत सात लोगों को गिरफ्तार किया गया है। 216 में दो आरोपी जेल गए हैं। अभी इस केस में 11 लोगों की तलाश जारी है। इसके अलावा महाराष्ट्र में पकड़े गए दो लोगों को रिमांड पर यूपी लाया जा रहा है। उनपर आगे की कार्रवाई नियमानुसार की जाएगी। गिरफ्तार किया गया शशिकांत पांडेय विकास दुबे का कथित मामा प्रेम कुमार पांडेय का बेटा है। आरोपी शशिकांत ने पूछताछ के दौरान बताया कि इस घटना में विकास दुबे का अलावा अमर दुबे, अतुल दुबे, प्रेम कुमार पांडेय, प्रभात मिश्रा, प्रवीण दुबे, हीरु, शिवम, जिलेदार, रामसिंह, रमेशचंद्र, गोपाल सैनी, अखिलेश मिश्रा, विपुल, श्यामू वाजपेयी, राजेन्द्र मिश्रा, बालगोविंद दुबे और दयाशंकर अग्निहोत्री वारदात में शामिल थे।

यह भी पढ़ें:- सीएम योगी ने कहा- घर या कार्यालय पर भीड़ न जुटाएं सरकार के मंत्री

बता दें कि कानपुर के बिकरू गांव में 2 जुलाई की रात दबिश देने गई पुलिस टीम पर विकास दुबे और उसके गुर्गो ने हमला किया था। इस दौरान सीओ देवेंद्र मिश्रा समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे। इसके बाद एनकाउंटर में विकास दुबे और उसके पांच साथी मारे जा चुके हैं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

माले का योगी सरकार में दमन-उत्पीड़न के खिलाफ आज से प्रदेशव्यापी जन अभियान

Published

on

डॉ. कफील खान समेत जेल में बंद समाज सेवियों की रिहाई जैसी मांगे शामिल

लखनऊ। भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (माले) योगी सरकार में दमन-उत्पीड़न व जंगल राज के खिलाफ लोकतंत्र के लिए 14 से 20 जुलाई तक प्रदेशव्यापी जन अभियान चलाएगी। कोरोना सतर्कता संबंधी नियमों का पालन करते हुए यह अभियान चलेगा।

यह जानकारी देते हुए भाकपा (माले) के राज्य सचिव सुधाकर यादव ने बताया कि सप्ताह भर के अभियान के दौरान पार्टी के नेता-कार्यकर्ता लोगों के बीच जाएंगे और प्रदेश में दलित-आदिवासी उत्पीडऩ, आंदोलनकारियों के दमन व जंगल राज को लेकर योगी सरकार का पर्दाफाश करेंगे। 

उन्होंने कहा, कि गंभीर रूप से बीमार सुप्रसिद्ध कवि वरवर राव, गोरखपुर के बाल चिकित्सक डॉ. कफील खान समेत जेल में बंद समाजसेवियों की रिहाई, राजनीतिक कार्यकर्ताओं पर दर्ज फर्जी मुकदमों की वापसी, कमजोर वर्गों पर अत्याचार के मामलों में न्याय, लोकतंत्र की बहाली और आयकर सीमा के बाहर सभी को प्रतिमाह प्रति यूनिट 10 किलो राशन, दस हजार रु. लॉकडाउन भत्ता व रोजगार की मांग की जाएगी। बैठक, सभा, मार्च आयोजित कर व ज्ञापन देकर अभियान का समापन होगा।

इसे भी पढ़ें-अयोध्या विवाद मामले में आया नया मोड़, रामजन्मभूमि पर बौधिष्ठों ने ठोंका दावा

राज्य सचिव ने कहा कि मोदी-योगी की सरकार कोरोना आपदा से निपटने में असफल साबित हुई है। मरीजों की तेजी से बढ़ती संख्या इसका प्रमाण है। इस मामले में भारत दुनिया के देशों में तीसरे स्थान पर पहुंच गया है। मगर महामारी के दौर में भी भाजपा की केंद व प्रदेश सरकार आपदा को लोकतंत्र-विरोधी कामों व संघी एजेंडे को लागू करने के अवसर के रूप में इस्तेमाल करने से चूक नहीं रही हैं। 

माले नेता ने कहा, कि कानपुर के बिकरु कांड ने जहां कानून-व्यवस्था के योगी सरकार के दावों की पोल खोल दी। इससे जुड़े सभी मामलों की सुप्रीम कोर्ट के सिटिंग जज की अध्यक्षता में जांच करा कर असलियत को उजागर करने के बजाय प्रदेश सरकार की ओर से लीपापोती करने की कोशिश शुरू कर दी गई है।

भाकपा (माले) के राज्य सचिव ने कहा कि योगी राज में निशाने पर अपराधी नहीं, आंदोलनकारी हैं। डॉ. कफील जैसे अल्पसंख्यक तो टारगेट में पहले से ही हैं। लोकतंत्र की आवाज उठाने के कारण सीतापुर, लखीमपुर खीरी, मुरादाबाद, अयोध्या से लेकर प्रयागराज, मिर्जापुर तक भाकपा (माले) के नेताओं-कार्यकर्ताओं के खिलाफ पुलिस द्वारा फर्जी मुकदमे कायम किये गए हैं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

July 14, 2020, 2:48 pm
Thunderstorms
Thunderstorms
32°C
real feel: 39°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 79%
wind speed: 1 m/s SE
wind gusts: 2 m/s
UV-Index: 3
sunrise: 4:53 am
sunset: 6:33 pm
 

Recent Posts

Trending