Connect with us

प्रदेश

बसपा सुप्रीमो ने संगठन में किया बड़ा फेरबदल, पार्टी कोआर्डिनेटर का पद खत्म

Published

on

फाइल फोटो

लखनऊ। उपचुनाव  में करारी शिकस्त के बाद बुधवार को राजधानी में बसपा की अहम बैठक हुई। जिसमें बसपा अध्यक्ष मायवती ने संगठन में बड़ा फेरबदल किया है। मायावती ने कोऑर्डिनेटर  के पद को खत्म कर दिया है। अब सिर्फ प्रदेश अध्यक्ष का पद बरकरार रहेगा। इसके साथ ही संगठन में जोनल इंचार्ज और मंडलवार व्यवस्था को भी भंग कर दिया गया है।

बसपा मुख्यालय पर हुई बैठक में मायावती ने उपचुनाव में मिली करारी शिकस्त की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने जोनल कोऑर्डिनेटर और अन्य पदाधिकारियों संग संगठन को लेकर चर्चा की। इसके बाद पार्टी में कोऑर्डिनेटर का पद खत्म कर दिया गया। हालांकि अब सिर्फ बसपा प्रदेश अध्यक्ष का पद बरकरार रहेगा।

ये भी पढ़े- शरद पवार ने कहा- हमारी भूमिका तय, बीजेपी और शिवसेना बनाए सरकार

यूपी को 4 सेक्टर में बांटा

मंडलीय और जोनल व्यवस्था ख़त्म कर बसपा में सेक्टर व्यवस्था लागू की गई। पूरे प्रदेश के संगठन को 4 सेक्टरों में बांटा गया है। मायावती ने 5-5 मंडलों के 2-2 सेक्टर बनाए और 4-4 मंडलों के 2-2 सेक्टर बनाए। सेक्टर व्यवस्था के तहत यूपी को 4 सेक्टर्स में बांट कर बसपा काम करेगी। बैठक के दौरान मायावती ने 2022 के मद्देनजर अभी से तैयारी शुरू करने के लिए कार्यकर्ताओं को निर्देश भी दिए। मायावती ने बैठक में बूथ और सेक्टर कमेटियों को सक्रिय करने के निर्देश दिए। इतना ही नहीं मायावती ने जलालपुर विधान सभा सीट पर हार के कारणों की पूरी रिपोर्ट भी मांगी है।

इन जिलों को मिलाकर बनाया 4-4 सेक्टर

मायावती ने लखनऊ, बरेली, मुरादाबाद, सहारनपुर और मेरठ मंडल को एक सेक्टर में रखा है। दूसरे सेक्टर में आगरा, अलीगढ़, कानपूर, चित्रकूट और झांसी मंडल को रखा गया है। तीसरे सेक्टर में इलाहबाद, मिर्जापुर, फैज़ाबाद और देवीपाटन मंडल शामिल हैं। चौथे सेक्टर में वाराणसी, आजमगढ़, गोरखपुर और बस्ती शामिल हैं।http://www.satyodaya.com

प्रदेश

सीएम योगी ने कहा- घर या कार्यालय पर भीड़ न जुटाएं सरकार के मंत्री

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में कोरोना महामारी तेजी से अपने पैर पसार रही है। जिसके चलते सीएम योगी आदित्यनाथ के मंत्री, भाजपा नेता व अन्य पार्टियों के नेता विधायक कोरोना संक्रमण की चपेट में आने लगे है। जिसके बाद सीएम योगी सख्त हो है। उन्होंने सभी मंत्रियों को सतर्क करते हुए सलाह दी है कि बेवजह घर या दफ्तर में भीड़ न इकट्ठा करें। इसके साथ ही बेहद जरूरी होने पर ही वह फील्ड में जाएं। उन्होंने कहा कि मंत्री भी फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करें। संक्रमित होने के बाद अपने दफ्तर और घर के लोगों की जांच कराने के साथ ही अपने घर और दफ्तर को पूरी तरह से सैनिटाइज जरूर कराएं।

प्रदेश सरकार राजेंद्र प्रताप सिंह उर्फ मोती सिंह, धर्म सिंह सैनी, चेतन चौहान, उपेंद्र तिवारी और रघुराज सिंह के कोरोना पॉजिटिव निकलने बाद मुख्यमंत्री ने सख्त रूख अपनाते हुए यह निर्देश दिए हैं। वहीं कैबिनेट मंत्री मोती सिंह का पूरा परिवार कोरोना संक्रमित हो गया था। उन्हें इलाज के लिए मेरठ में भर्ती कराया गया है।

यह भी पढ़ें:- CM योगी के एक और मंत्री ठाकुर रघुराज सिंह कोरोना पाॅजिटिव, संख्या पहुंची 5

कोरोना के संक्रमण ने विधानसभा सचिवालय को भी चपेट में आ गया है। विधानसभा अध्यक्ष के ओएसडी पंकज मिश्रा कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। इसके साथ ही विधानसभा अध्यक्ष का एक गार्ड भी कोरोना संक्रमित मिला है। इन सबके संक्रमित पाये जाने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंत्रियों को सतर्कता बरतने के निर्देश दिया है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

यूपी की भाजपा सरकार अपराध रोक पाने में पूरी तरह विफल- अखिलेश यादव

Published

on

भाजपा सराकर ने हमेशा अपराधियों को प्रश्रय दी है

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने उत्तर प्रदेश में बढ़ रहे अपराध और कानपुर काण्ड के बाद यूपी सरकार को आड़े हाथ लिया है। अखिलेश यादव ने भाजपा पर अपराधियों को प्रश्रय देने का आरोप लगाते हुए कहा, कि सरकार देश हो या प्रदेश अपराध को रोक पाने में पूरी तरह से विफल साबित हो रही है।

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सोमवार को जारी बयान में कहा, कि समाजवादी पार्टी हमेशा से ही अपराधियों के खिलाफ रही है। समाजवादी सरकार में कभी भी अपराधियों को प्रश्रय नहीं दिया गया। लेकिन भाजपा सराकर ने हमेशा अपराधियों को पनाह दी है। इस सरकार ने ना केवल इनको पाला है, बल्कि अपराधों को रोकने में भी पूरी तरह विफल रहीं है। फर्जी एनकाउण्टर के प्रयोग से अपराधी तो डरे नहीं लेकिन निर्दोष अवश्य भयग्रस्त हो गये। सबसे ज्यादा अपराधी भाजपा में ही है। आखिर भाजपा न्यायालयों पर भरोसा क्यों नहीं करती है।

अखिलेश यादव ने भाजपा सत्ता के मद में विधिक प्रक्रिया से बाहर जाकर पुलिस प्रशासन का दुरूपयोग कर रही है। वह अपराधों पर रोक नहीं लगा सकती। जब तक भाजपा अपने बचाव में दूसरों को फंसाने की रणनीति पर काम करती रहेगी, तब तक न्याय व्यवस्था सुदृढ़ नही हो सकती। बदले की भावना से विपक्ष पर हमलावर होने से भाजपा को कुछ मिलने वाला नहीं क्योंकि झूठ के पैर नहीं होते हैं।

इसे भी पढ़ें-Lucknow: ऐशबाग रेलवे मनोरंजन केंद्र के अंदर फांसी से लटका मिला विवाहिता का शव

आगे समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा, कि भाजपा समाज में नफरत फैलाना और समाज को बांट कर राजनीति करना चाहती है और कर भी रही है।जो कि यह लोकतंत्र की परम्पराओं के विरूद्ध है। सरकार की यह जिम्मेदारी है, कि समाज में सभी के साथ बराबरी का व्यवहार होना चाहिए। जाति के आधार पर निर्णय करने से समाज में असंतोष व्याप्त होता है। इसलिए समाजवादी पार्टी सदैव सामाजिक न्याय की पक्षधर रही है, जिससे किसी भी वर्ग के अधिकारों का हनन न हो। बराबरी का समाज बनने से भेदभाव मिटता है।

भाजपा ने जनता की कभी नही सोचा है। उसने केवल राजनीतिक ताकत चाहा है। भाजपा को बस सरकार की भूख है। जनता की भूख से उसका कुछ लेना देना नहीं है। जनता निराश है, या खुश इससे उसको कोई लेना देना नही है। भाजपा ने युवाओं की प्रगति का रास्ता रोका है। लोगों का भरोसा तोड़ा है। मुख्यमंत्री की ‘‘ठोको नीति‘‘ के कारण अपराध बढ़ते जा रहे हैं। अपनी विफलता के बारे में चर्चा करना भाजपा नेतृत्व को रास नहीं आता है। प्रदेश में तीन वर्ष चार माह में जनता को भाजपा ने उलझा दिया है। गुमराह करने को ही भाजपा अपनी सफलता समझती है। यही अंतर है भाजपा और समाजवादी पार्टी में। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

कांग्रेस ने पूछा- डिफेंस एक्सपो व इन्वेस्टर मीट से कितने युवाओं को मिला रोजगार?

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने योगी सरकार के 1.25 करोड़ रोजगार देने वाले दावे को झूठा बताया है। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार प्रदेश के बेरोजगारों और प्रवासी मजदूरों के साथ छलकपट और धोखाधड़ी करने का काम कर रही है। जमीनी स्तर पर हालात इतने खराब हैं कि मजदूर आत्महत्या करने को मजबूर हैं।

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने एक जारी बयान में कहा कि योगी सरकार मजदूरों बेरोजगारों के साथ छल और धोखाधड़ी कर रही है। जिसकी वजह से मजदूर आत्महत्या के लिए मजबूर हो रहे है। उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि पिछले एक महीने में अकेले बांदा जिले में 15 से अधिक प्रवासी मजदूर आपदा काल में लौटे थे। उन्होंने खुदकुशाी कर ली है। वहीं झांसी में भी एक मजदूर ने आर्थिक तंगी के चलते आत्महत्या करने को मजबूर हो गया। लल्लू ने योगी सरकार से पूछते हुए कहा कि डिफेन्स एक्सपो और इन्वेस्टर मीट में खरबों रुपए के करार हुए थे। उससे कितने लोगों को रोजगार मिला है। दोनों आयोजनों में सरकार ने करोड़ो रुपये जनता के पानी की तरह बहा दिए।

प्रदेश अध्यक्ष ने मजदूरों की हालात पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि पूरे प्रदेश में मजदूर तंगी हालात में जी रहे हैं। उन्हें कोई रोजगार नहीं मिला है। ना ही तो कोई कारगर योजना जमीन पर काम कर रही है। हालात इतने बदतर हो गए हैं कि मजदूर आत्महत्या को मजबूर हो गए हैं। लेकिन मजदूर विरोधी सरकार उनकी बात तक सुनने को तैयार नहीं है। मजदूर आस लगाए बैठे कि सरकार स्किल मैपिंग करके उनको योग्यता के हिसाब से रोजगार देगी, लेकिन अब तो उनके घरों में खाने के लाले पड़े हुए हैं।

यह भी पढ़ें:- एसपीजीआई के निदेशक डाॅ. आरके धीमान बने केजीएमयू के कार्यवाहक कुलपति

उन्होंने कहा बुनकरी-दस्तकारों का बुरा हाल है। कोरोना संकट में व्यापार बंद है। कांच उद्योग, पीतल उद्योग, फर्नीचर उद्योग, चमड़े का उद्योग, होजरी उद्योग, डेयरी, मिट्टी बर्तन उद्योग, फिशरी, अन्य घरेलू और लघु उद्योग सभी को तेज झटका लगा है। सरकार लगातार इनकी अनदेखी कर रही है। उन्होंने सरकार से तत्काल प्रवासी मजदूरों के लिए आर्थिक पैकेज देने की घोषणा करने की मांग की।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

July 14, 2020, 1:39 pm
Cloudy
Cloudy
30°C
real feel: 37°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 78%
wind speed: 1 m/s SE
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 5
sunrise: 4:53 am
sunset: 6:33 pm
 

Recent Posts

Trending