Connect with us

प्रदेश

बसपा में जोन इंचार्ज व्यवस्था खत्म, अब राज्य स्तर पर भी होंगे तीन कोऑर्डिनेटर

Published

on

फाइल फोटो

लखनऊ। लोकसभा चुनाव 2019 में सपा के साथ गठबंधन के बाद भी परिणाम न मिलने पर बसपा अब यूपी में अकेले ही सभी चुनाव लड़ने का फैसला ले चुकी है। प्रदेश में 13 सीट पर होने वाले विधनसभा उप-चुनाव के लिए अपने प्रत्याशी घोषित करने के साथ ही बसपा प्रचार में लग गई है।

बसपा प्रदेश कार्यालय में मायावती ने गुरुवार को एक अहम बैठक की। इस बैठक में जिला अध्यक्ष, विधानसभा अध्यक्ष, पूर्व सांसद, विधायक व सभी पदाधिकारी शामिल हुए। जिसमें उपचुनाव की रणनीति की तैयारियां पर चर्चा की गई। वर्तमान सरकार के द्वारा लागू विजली की बढ़ी दरों पर चर्चा की गई। मोटर अधिनियम 2019 लागू होने के बाद बढ़ी चालान की दरों पर भी हुई। वहीं प्रदेश में पुलिस की कार्यप्रणाली पर भी की चर्चा की गई।

ये भी पढ़े- यूपी: बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने विधानसभा उप-चुनाव के लिए घोषित किए संयोजक

इस दौरान बसपा सुप्रीमो मायावती ने राष्ट्रीय स्तर की तरह राज्य स्तर पर तीन मुख्य कोऑर्डिनेटर बनाए। राज्य स्तरीय तीन कोऑर्डिनेटर में राष्ट्रीय महासचिव आरएस कुशवाहा, प्रदेश अध्यक्ष मुनकाद अली व एमएलसी भीमराव अंबेडकर शामिल किए गए हैं। साथ ही बसपा ने बामसेफ को मंडल स्तर से खत्म कर दिया है। जिला स्तर तथा विधानसभा स्तर पर बामसेफ को बरकरार रखा गया है। वहीं प्रदेश में कुल 18 मंडल बनाये गए हैं, हर मंडल में एक जोन इंचार्ज होगा। इससे पहले तीन मंडल का जोन होता था अब एक ही जोन होगा। http://www.satyodaya.com

प्रदेश

निर्दोषों पर कार्रवाई बर्दाश्त नहीं, पुलिसिया बर्बरता की हो जांच: प्रियंका गांधी

Published

on

लखनऊ। कांग्रेस कमेटी की महासचिव प्रियंका गांधी ने राजघाट स्थित संत शिरोमणि संत रविदास मंदिर में दर्शन के बाद बाबू जगजीवन राम की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित कीं। दर्शन के बाद नाव से प्रियंका गांधी ने पंचगंगा घाट स्थिति प्रसिद्ध श्री मठ में CAA का शांतिपूर्ण तरीके से विरोध प्रदर्शन करने के बाद तानाशाह योगी आदित्यनाथ द्वारा जेल में डाले गए आंदोलनकारी छात्रों, सामाजिक कार्यकर्ताओं से मुलाकात कर बातचीत कीं।

प्रियंका गांधी से बातचीत के दौरान छात्र आंदोलनकारियों और सामाजिक कार्यकर्ताओं ने कहा कि बनारस में पूरा CAA-NRC के खिलाफ प्रदर्शन शांतिपूर्ण तरीके से किया जा रहा है। बनारस के एतिहासिक बेनियाबाग जोकि हमारे स्वतंत्रता आंदोलन का गवाह रहा है। जहां पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का अस्थिकलश अंतिम दर्शन के लिए रखा गया था वहां पर प्रशासन ने हमें शांतिपूर्ण तरीके से बात रखने से रोका। छात्र आंदोलकारियों ने प्रियंका गांधी को बताया कि हम संविधान बचाने का नारा लगा रहे थे लेकिन तानाशाह सरकार ने हमें गिरफ्तार कर लिया।

जेल से रिहा हुए आंदोलनकारियों ने कहा कि जेल में तमाम तरह से उन्हें प्रताड़ित किया गया। उनको परिजनों से मिलने नहीं दिया गया। जब उनकी गैरकानूनी गिरफ्तारी हुई तो उनको खाना तक प्रशासन ने नहीं दिया। आंदोलनकारियों ने कहा कि जो लोग बाहर आंदोलनकारियों के जमानत और समर्थन में खड़े थे उनको पुलिस लगातार धमका रही थी। लगातार उनके घरों पर पुलिस भेजकर प्रताड़ित किया जा रहा था।

आंदोलनकारियों ने बेनियाबाग में पुलिस के बर्बर लाठीचार्ज और तोड़फोड़ की जानकारी देते हुए प्रियंका गांधी से कहा कि पुलिस अधिकारी जान से मारने और काटने की धमकी दे रहे थे, सिर्फ इतना ही नहीं एक पुलिसकर्मी जो कि खुद हिंसा में शामिल था वह इस मामले में जांच अधिकारी बना दिया गया है।

महासचिव से संवाद के दौरान बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के छात्रों ने कहा कि बनारस पूरे साल धारा 144 लागू रहती है। हमारे विश्वविद्यालय को प्रधानमंत्री ने विदेशी शरणार्थी कैम्प बना दिया है जिसके गेट पर हमेशा पुलिस की गाड़ियां खड़ी रहती हैं, वज्र वाहन खड़े रहते हैं। कैम्पस में भाजपा के गुंडे आये दिन मारपीट करते हैं। बाहर पुलिस परेशान करती। संघ परिवार से जुड़े शिक्षक धमकी देते हैं। यह सिर्फ इसलिए हो रहा है कि हम सत्य के लिए लड़ रहे हैं। संविधान के लिए लड़ रहे हैं।

आंदोलन में जेल गए सामाजिक कार्यकर्ताओं ने संवाद के दौरान कहा कि बनारस गंगा-जमुना तहज़ीब की धरती है, यह बात संघ परिवार की आंखों में चुभती है। भाजपा सरकार लगातार CAA-NRC के मामले को हिन्दू-मुसलमान करना चाहती है लेकिन संघ परिवार को बनारस की जमीन ने कड़ा संदेश दिया है कि संविधान विरोधी इस कानून को जनता स्वीकार नहीं करेगी। आंदोलनकारियों ने कहा कि सरकार जेल और लाठी के दम पर इस संविधान बचाने के मुहिम को रोकना चाहती है लेकिन जेल और लाठी से देश की जनता नहीं डरती है।

आंदोलनकारियों ने महासचिव प्रियंका गांधी से बताया कि पुलिस और प्रशासन ने अमानवीयता की सीमा को ताख पर रखकर आंदोलनकारियों को गिरफ्तार किया। 15 माह की चंपक के मां बाप को पकड़ा गया, एक आंदोलनकारी के पिता कैंसर से पीड़ित हैं उसको गैरकानूनी तरीके से गिरफ्तार किया गया। सिर्फ इतना ही नहीं एक आंदोलनकारी के गिरफ्तारी के सदमे से उनके पिता की मौत हो गयी। सामाजिक कार्यकर्ताओं ने कहा कि इतने दमन और उत्पीड़न के बावजूद उनके हौसले बुलंद हैं और संविधान बचाने की यह लड़ाई जारी रहेगी।

प्रियंका गांधी ने पुलिसिया हिंसा में मारे गए बजरडीहा के 9 साल के सगीर के परिजनों से मुलाकात की। सगीर की दादी ने प्रियंका गांधी को बताया उनका पोता गली में खेलने गया था, किसी को कोई खबर नहीं थी शाम को जब वह घर नहीं आया तो उसकी तलाश हुई तो पता चला कि पुलिस हिंसा में उसकी हत्या हो गयी है। सगीर की दादी ने रोते हुए कहा कि पुलिस ने तो मेरे पोते का अंतिम संस्कार भी रीति रिवाज की तरह नहीं होने दिया, यह कैसी सरकार?

आंदोलनकारियों से बातचीत करते हुए महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा कि CAA कानून संविधान विरोधी है और संविधान की रक्षा करना हर एक भारतीय का दायित्व है। भाजपा सरकार लोगों के मौलिक अधिकारों को खत्म करना चाहती है। सरकार आमादा है कि लोगों की अभिव्यक्ति की आज़ादी को कुचल दिया जाए लेकिन कांग्रेस पार्टी ऐसा नहीं होने देगी। काँग्रेस पार्टी भारतीय संविधान और नागरिकों के हितों के साथ खड़ी है।

प्रियंका गांधी ने कहा कि पूरे देश में अराजकता का मौहाल है। बनारस में भी अन्य जगह की तरह बर्बर उत्पीड़न और दमन हुआ है। लोगों को गैरकानूनी तरीके से गिरफ्तार किया गया। सिर्फ इतना ही नहीं लोगों के परिजनों को परेशान किया गया और धमकी दी गयी है।

उन्होंने ने आंदोलनकारियों से बातचीत में कहा कि कांग्रेस पार्टी ने CAA-NRC के खिलाफ शांतिपूर्ण प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा और दमन के खिलाफ उत्तर प्रदेश के राज्यपाल को ज्ञापन दिया है। जिसमें हमने मांग की है कि यूपी सरकार के गृह विभाग और डीजीपी द्वारा तुरन्त आदेश जारी करके पुलिस और सरकार द्वारा किये जा रहे गैर कानूनी, हिंसात्मक और आपराधिक कार्यवाही को तुरन्त रोका जाए।

दूसरी मांग है कि मौजूदा हाईकोर्ट के जज या सेवानिवृत्त हाईकोर्ट के जज की निगरानी में कानूनी ढंग से शांतिपूर्वक विरोध प्रदर्शन कर रहे लोगों पर लगाये गये आरोपों की सत्यता और तथ्य की निष्पक्ष जांच का आदेश दिया जाए।

उन्होंने कहा कि हमने मांग की है कि न्यायिक प्रक्रिया पूरी किये बिना सम्पत्तियों को सीज करना या सम्पत्तियों की कुर्की सम्बन्धी प्रक्रिया पर तुरन्त रोक लगाई जाए।उन्होंने आंदोलन में शामिल छात्रों से कहा कि हमने राज्यपाल से यह मांग की है कि पूरे देश की तरह प्रदेश में भी छात्र शांतिपूर्ण तरीके से अपना विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं उनपर किसी भी तरीके की कार्रवाई नहीं होनी चाहिए। मुलाकात के बाद महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी ने बाबा विश्वनाथ मंदिर में दर्शन किया।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

शिवपाल यादव ने कहा, प्रसपा लड़ेगी हिंदी के अधिकार व सम्मान की लड़ाई

Published

on

नेपाल सांसद ने कहा, हमारा देश भी हिन्दी जन अभियान के साथ
विश्व हिन्दी दिवस पर प्रसपा कार्यालय में संगोष्ठी आयोजित

लखनऊ। आज पूरा देश हिन्दी दिवस मना रहा है। इस मौके पर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के लखनऊ स्थित शिविर कार्यालय में ‘हिंदी की वैश्विक संस्थिति’ पर संगोष्ठी का आयोजन किया गया। संगोष्ठी की अध्यक्षता पूर्व शिक्षा मंत्री शारदा प्रताप शुक्ल व संचालन पूर्व राज्यसभा सदस्य वीरपाल यादव ने किया। हिंदी को संयुक्त राष्ट्र संघ की आधिकारिक भाषा का दर्जा देने की मांग करते हुए प्रसपा प्रमुख शिवपाल सिंह यादव ने कहा, प्रसपा हिंदी की निर्णायक लड़ाई लड़ेगी और संयुक्त राष्ट्र हिंदी जन अभियान को आगे बढ़ायेगी। दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी भाषा होने के बावजूद हिंदी का आधिकारिक न होना दुःखद व दुर्भाग्यपूर्ण है।

यह भी पढ़ें-सुप्रीम कोर्ट ने कहा, इंटरनेट लोगों का मौलिक अधिकार, पाबंदी की समीक्षा करे सरकार

शिवपाल ने कहा कि हमारी अपील है कि प्रधानमंत्री मोदी हिंदी के लिए खुलकर बोलें। हिंदी के सवाल पर सारी दुनिया एकमत है। विश्व हिंदी दिवस हमारे लिए संकल्प का दिन है। शीघ्र ही दुनिया के शीर्ष हिंदी सेवियों की बैठक बुलाकर हिंदी के बहाने वैश्विक उपनिवेशवादी सोच से संघर्ष का शुभारम्भ किया जाएगा। गांधी, सुभाष-लोहिया से लेकर अटल बिहारी बाजपेयी तक हिंदी को विश्व पटल पर प्रतिष्ठित करना चाहते थे, अब यह काम हमारी पीढ़ी को करना होगा।

संगोष्ठी में मौजूद नेपाल के कद्दावर सांसद व संयुक्त राष्ट्र हिंदी के महासचिव अभिषेक प्रताप शाह ने शिवपाल की मांग का समर्थन करते हुए कहा, नेपाल के हिंदी भाषी इस जन-अभियान में साथ हैं। अगली बैठक काठमांडू में होगी। हिंदी जन अभियान के अध्यक्ष दीपक मिश्र ने बताया कि संयुक्त राष्ट्र संघ सोशल मीडिया में हिंदी पर आ चुका है लेकिन अभी यह सम्मान आधा-अधूरा है। हिंदी को जो वैश्विक सम्मान मिलना चाहिए अभी तक नहीं मिला। श्री मिश्र ने बताया कि 10 जनवरी 1976 में पहला विश्व हिंदी सम्मेलन नागपुर में हुआ था। इसी की स्मृति में 2006 से विश्व हिंदी दिवस मनाया जाता है।

यह भी पढ़ें-शिशिर त्रिपाठी हत्याकांड से अधिवक्ताओं में रोष, कहा- अब बस…बहुत हुआ

हिंदी के लिए अब तक 42 देशों के 7 हजार प्रतिनिधियों ने हस्ताक्षर किया है। हिंदी भारत की सांस्कृतिक अस्मिता की प्रतिनिधि है, हिंदी की उपेक्षा भारत का अपमान है। शिवपाल ने नेपाली सांसदों के शिष्टमंडल को महात्मा गांधी-लोहिया व बीपी कोईराला की चर्चा करते हुए ऐतिहासिक तस्वीर व हिंदी साहित्य भेंट की। संगोष्ठी को पूर्व विधान परिषद सदस्य रामनरेश यादव मिनी समेत कई वक्ताओं ने सम्बोधित किया।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

डायल 112 को तीन वर्ष पूरे, डीजीपी ने पुलिसकर्मियों को किया सम्मानित

Published

on

लखनऊ। पुलिस आकस्मिक सेवा डायल 112 (डायल 100) के तीन वर्ष पूरे होने पर शुक्रवार को डीजीपी ओपी सिंह ने लखनऊ स्थित डायल 112 मुख्यालय में एक प्रेस कान्फे्रंस कर पुलिस आकस्मिक सेवा के बारे में विस्तृत जानकारी दी। इस मौके पर डीजीपी ने डायल 112 सेवा में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले पुलिसकर्मियों व पुलिस को सही समय पर सूचना देकर लोगों की जानें बचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले आम लोगों को भी प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। डीजीपी ने बताया कि पिछले तीन वर्षों में हमने अपना आपातकालीन नंबर विश्वस्तरीय बनाया है। हमारी आपातकालीन सेवा ’डायल 112’ को विश्वस्तरीय सम्मान मिल चुका है। 2.69 लाख पुलिसकर्मी अब तक इस सेवा से जुड़कर जनता की मदद कर रहे हैं। डीजीपी ने कहा, कोई भी व्यक्ति आपात स्थिति में 112 की सेवा ले सकता है।

डीजीपी ने बताया कि महिलाओं की सुरक्षा के लिए हमने बड़े कदम उठाए हैं। महिलाओं को तत्काल मदद पहुंचाने के लिए महिला पाॅवर लाइन 1090 को डायल 112 के साथ जोड़ा गया है। 112 को अधिक प्रभावी बनाने के लिए रेलवे पुलिस, एम्बुलेंस और फाॅयर सर्विस को भी डायल 112 से जोड़ा जा रहा है। 112 सेवा के पीआरवी जवानों की ट्रेनिंग पर भी विशेष ध्यान दिया गया है।

यह भी पढ़ें-पर्यटन-विशेष म्यूजिकल वीडियो सलाम लखनऊ को उम्मीद संस्था ने किया प्रदर्शित

जिससे मुसीबत के समय 112 सेवा के जवान लोगों की जान-माल की हिफाजत कर सकें। डीजीपी ने कहा कि हमने कुंभ और लोकसभा चुनाव शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न कराया है। स्मार्ट पुलिसिंग के लिए हम लगातार काम कर रहे हैं। पुलिस सेवा को और बेहतर कैसे बनाया जाए, इस पर भी लगातार काम किया जा रहा है।

कमिश्नरी सिस्टम पर ज्यादा कुछ नहीं बता सकता

लखनऊ और नोएडा में पहली बार कमिश्नरी सिस्टम लागू होने की चर्चा पर डीजीपी ने कहा, इस बारे में शासन स्तर पर चर्चा चल रही है। लेकिन यह सरकार का फैसला है। अभी मैं इस बारे में कुछ ज्यादा नहीं बोल सकता।

अपराध में आई कमी, मिलकर काम करें पुलिस के सभी अंग

दूसरे राज्यों का हवाला देते हुए डीजीपी ने कहा, पिछले दो वर्षों में प्रदेश में डकैती, बलात्कार, छेड़छाड़ और हत्या जैसी घटनाओं में काफी कमी दर्ज की गई है। साथ ही 112 सेवा पर आने वाले फोन काल और पुलिस के मौके पर पंहुचने के समय पर ध्यान दिया गया है। अपने अधीनस्थ अफसरों को नसीहत देते हुए डीजीपी ने कहा, पुलिस के सभी अंग मसलन पीएसी, एटीएस, एसटीएफ, जीआरपी, जिला पुलिस टीम भावना से काम करें। तभी हम आम लोगों की उम्मीदों पर खरे उतर पाएंगे। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

January 10, 2020, 5:41 pm
Fog
Fog
11°C
real feel: 11°C
current pressure: 1020 mb
humidity: 87%
wind speed: 1 m/s WSW
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 6:27 am
sunset: 5:01 pm
 

Recent Posts

Trending