Connect with us

प्रदेश

यूपी की अर्थव्यवस्था को 1 ट्रिलियन डाॅलर बनाने के लिए सीएम योगी ने की बैठक

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था को एक ट्रिलियन डाॅलर की बनाने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को एक उच्चस्तरीय बैठक की। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 2024 तक देश की अर्थव्यवस्था को 5 ट्रिलियन डाॅलर वाली अर्थव्यवस्था बनाने का संकल्प लिया है। इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए कई कदम भी उठाए गए हैं। सीएम योगी ने अधिकारियों से कहा, पीएम मोदी के इस संकल्प को पूरा करने में उत्तर प्रदेश की महत्वपूर्ण भूमिका है। देश के सबसे बड़े इस राज्य की अर्थव्यवस्था को एक ट्रिलियन डाॅलर बनाने का लक्ष्य रखा गया है। सीएम योगी ने कहा, इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए हमें कई कदम उठाने होंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा, दीर्घकालिक नीतियां एवं मजबूत आधारभूत संरचना निर्माण के साथ ही प्रभावी सुशासन, तीव्र निर्णय और बेहतर उत्तरदायित्व के साथ लक्षित नीतियां एवं नियम बनाने होंगे। बैठक के दौरान आईआईएम लखनऊ, अर्नेस्ट एण्ड यंग, आईआईएम बंगलौर, ग्राण्ट थार्टन, आईआईएम अहमदाबाद, केपीएमजी तथा जापानी ग्रुप ने अपनी-अपनी योजनाएं एवं सुझाव प्रस्तुत किए। बता दें कि प्रदेश की अर्थव्यवस्था को एक ट्रिलियन डाॅलर बनाने के लिए सरकार ने 17 प्रतिष्ठित राष्ट्रीय व अन्तर्राष्ट्रीय संस्थानों से नीतियां बनाने और सुझाव देने के लिए कहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इन संस्थाओं से प्राप्त सुझावों के आधार पर राज्य को रणनीतिक बिन्दु प्राप्त हो जाएंगे। जिनके आधार पर प्रदेश सरकार द्वारा राज्य की अर्थव्यवस्था को 01 ट्रिलियन डाॅलर बनाने के लक्ष्य की प्राप्ति के लिए एक रोडमैप तैयार कराया जाएगा। सीएम योगी ने कहा, मौजूदा वैश्विक परिदृश्य और डाॅलर के उतार-चढ़ाव को देखते हुए 2024 तक जीडीपी को लगभग 4 से 5 गुना करना चुनौतीपूर्ण कार्य है। मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान समय में भारती की कुल जीडीपी में उत्तर प्रदेश की हिस्सेदारी 8.3 प्रतिशत है। पिछले ढाई वर्षों में हमारी सरकार के निरन्तर प्रयास से प्रदेश विकास एवं समृद्धि के पथ पर अग्रसर है। यूपी इन्वेस्टर्स समिट-2018, बुनियादी ढांचे की विभिन्न परियोजनाओं की तीव्र प्रगति, यूपी इण्डस्ट्रियल डिफेंस काॅरिडोर, एक जनपद, एक उत्पाद, स्किल इण्डिया, स्टार्टअप इण्डिया आदि ने प्रदेश के आर्थिक विकास में उत्प्रेरक का कार्य किया है।

यह भी पढ़ें-92 के हुए आडवाणीः सत्ता सुख भोग रहे शिष्य, अलग-थलग पड़े पितामह

इस अवसर पर मंत्री सुरेश खन्ना, सतीश महाना, सिद्धार्थ नाथ सिंह, जय प्रताप सिंह, आशुतोष टण्डन, श्रीकान्त शर्मा, डाॅ. महेन्द्र सिंह, राज्य के वित्तीय सलाहकार केवी राजू, रेरा के अध्यक्ष राजीव कुमार, प्रदेश के सूचना आयुक्त राजीव कपूर, अपर मुख्य सचिव वित्त संजीव कुमार मित्तल, अपर मुख्य सचिव नियोजन कुमार कमलेश, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त आलोक टण्डन, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एसपी गोयल, प्रमुख सचिव ऊर्जा आलोक कुमार, प्रमुख सचिव सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम तथा निर्यात प्रोत्साहन नवनीत सहगल, प्रमुख सचिव कृषि अमित मोहन प्रसाद, प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य देवेश चतुर्वेदी सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे।http://www.satyodaya.com

अंतरराष्ट्रीय

डायल 112 ने दुबई पुलिस अवार्ड-2019 में बनाया तीसरा स्थान, मिला अवार्ड

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की इमरजेंसी पुलिस सेवा डायल 112 को यूएई में सम्मानित किया गया है। दुबई सरकार और दुबई पुलिस एवं अवाया के संयुक्त तत्वधान में पहली बार आयोजित इंटरनेशनल कॉल सेंटर अवार्ड समारोह में डायल 112 ने पुलिस श्रेणी में तृतीय स्थान प्राप्त किया। प्रथम स्थान पर सिंगापुर पुलिस और दूसरे स्थान पर शारजाह पुलिस रही। इस अवसर पर दुबई पुलिस के ब्रिगेडियर जरनल डॉटर अब्दुल्ला अब्दुल रहमान युसूफ बिन सुल्तान ने अवार्ड प्रदान किया। प्रतियोगिता मैं पुलिस श्रेणी में विश्व भर से कुल 500 से अधिक पुलिस संस्थाओं ने भाग लिया।

अवार्ड समारोह में संयुक्त राज्य अमेरिका 911, ऑस्ट्रेलिया 102 और यूरोप 112 ने भी हिस्सेदारी की। अवार्ड लेते हुए डीजीपी ओपी सिंह ने कहा, यह पुरुस्कार हमें नागरिक सुविधाओं में और सुधार करने के लिए प्रोत्साहित करता है। हम आधुनिक टेक्नोलॉजी और परिश्कृत प्रक्रिया द्वारा कानून का राज स्थापित करने के लिए और अच्छे प्रयास करेंगे। डायल 112 को यह अवार्ड गस्त, कॉल पर तत्काल कार्यवाही, रिस्पांस टाइम, नागरिकों का पंजीकरण सहित बेहतर सेवाओं के लिए मिला है।

यह भी पढ़ें-पीएफ घोटालाः तत्कालीन सचिव पीके गुप्ता का बेटा अभिनव गुप्ता भी गिरफ्तार

डायल 112 प्रभारी असीम अरुण ने कहा, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर यह पुरस्कार पाना उत्तर प्रदेश पुलिस के लिए अत्यंत गर्व का विषय है। इसका श्रेय 112 में कार्य कर रहे हजारों कर्मियों को जाता है। जिनकी दिन-रात की मेहनत की वजह से बेहतर रिस्पांस टाइम और नागरिक सुविधाएं मिल पा रही हैं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

21 नवम्बर को लखनऊ में महारैली करेगा उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ की मण्डलीय समीक्षा बैठक लखनऊ स्थित शिक्षक भवन में हुई। बैठक को संबोधित करते हुए प्रान्तीय कोषाध्यक्ष शिवशंकर पाण्डेय ने कहा, जिन-जिन सरकारों ने शिक्षकों का दमन किया गया है, उनके मुखिया इतिहास के कूड़ेदान में चले गए हैं। माण्डलिक संगठन मंत्री बृजेश पाण्डेय ने कहा, शिक्षकों को गैरशैक्षणिक कार्यों में लगा कर शिक्षण कार्य से दूर रखा जाता है।

फिर अध्यापन कार्य ढंग से न कराने का आरोप लगाकर अपमानित किया जाता है। कहा कि शिक्षकों की मूलभूत समस्याओं का निराकरण करने के बजाय समस्याएं बढाई जा रही हैं। उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ ने सरकार से दो-दो हाथ करने के लिए समस्त पदाधिकारियों का आवाहन किया।

यह भी पढ़ें-कर्मचारी शिक्षक संयुक्त मोर्चा की अधिकांश मांगों पर अपर मुख्य सचिव ने दी सहमति

बैठक में 21 नवम्बर को लखनऊ मण्डल में एक शिक्षक महारैली की रणनीति तैयार की गई। जिसमें सभी पदाधिकारियों को बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेने की अपील की गयी। बैठक में लखनऊ, सीतापुर, रायबरेली सहित तमाम जनपदों के पदाधिकारी शामिल रहे। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

कर्मचारी शिक्षक संयुक्त मोर्चा की अधिकांश मांगों पर अपर मुख्य सचिव ने दी सहमति

Published

on

15 दिसंबर तक निर्णय कराने का आदेश

लखनऊ। कर्मचारी शिक्षक संयुक्त मोर्चा की मांगों व समस्याओं को जानने के लिए गुरुवार को अपर मुख्य सचिव नियुक्ति एवं कार्मिक मुकुल सिंघल ने एक बैठक की। कर्मचारी शिक्षक संयुक्त मोर्चा ने अपर मुख्य सचिव को अपनी मांगों व समस्याओं से अवगत कराया। जिसके बाद शिक्षकों की मांगों व समस्याओं के जल्द निवारण के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिया गया। बैठक में अपर मुख्य सचिव ने इस बात पर नाराजगी भी जतायी कि मोर्चा की मांगों पर कई बार मुख्य सचिव स्तर पर बैठकें भी हुईं, लेकिन निर्णयों का अनुपालन नहीं हुआ। जिसके कारण कर्मचारी संगठनों में रोष है।

यह भी पढ़ें-पावर ऑफीसर्स एसोसिएशन के बैनर तले अभियंताओं ने किया प्रदर्शन, निकाली रैली

अपर मुख्य सचिव नियुक्ति एवं कार्मिक मुकुल सिंघल ने मोर्चा की अधिकांश मांगों पर 15 दिसंबर तक निर्णय लेने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए हैं। अपर मुख्य सचिव ने प्रमुख सचिव सार्वजनिक उद्यम, सचिव शिक्षा, वित्त को भी निर्देश दिया है कि संगठनों से वार्ता कर 15 दिसंबर तक निर्देशों का पालन किया जाए। श्री सिंघल ने कहा, 15 दिसंबर के बाद मुख्य सचिव स्तर पर बैठक कराई जाएगी। बैठक के बाद मोर्चा के अध्यक्ष बीपी मिश्र एवं महामंत्री शशि कुमार मिश्र ने बताया कि करीब दो दर्जन बैठकें मुख्य सचिव एवं अपर मुख्य सचिव कार्मिक की अध्यक्षता में हो चुकी हैं। लेकिन एक भी बार निर्देशों का पालन नहीं हुआ।

मोर्चा की प्रमुख मांगों में वेतन समिति की संस्तुतियों पर निर्णय किए जाने, स्थानीय निकाय कर्मचारियों की वेतन विसंगतियों पुनर्गठन एवं विनियमितीकरण, शेष बचे राजकीय निगमों को 7वें वेतन आयोग का लाभ एवं महंगाई भत्ते भी शामिल कर भुगतान, विकास प्राधिकरण कर्मचारियों को राज्य कर्मचारियों की भांति 10 वर्ष की सेवा पर सेवानिवृत्ति लाभ, शिक्षा विभाग के एडेड स्कूलों को 300 दिन का अवकाश नगदीकरण दिया जाए। आउटसोर्सिंग संविदा कर्मियों की सेवा सुरक्षा वेतन की नियमावली का प्रख्यापन तथा तदर्थ माध्यमिक शिक्षकों का विनियमितीकरण शामिल है।

यह भी पढ़ें-डायबिटिक डे पर बलरामपुर अस्पताल में जागरूकता शिविर आयोजित

बैठक में मोर्चा की ओर से वीपी मिश्र अध्यक्ष, शशि कुमार मिश्र महामंत्री, अतुल मिश्र वरिष्ठ उपाध्यक्ष, मनोज कुमार मिश्र, घनश्याम यादव, गिरीश कुमार मिश्र, सुरेश रावत, अमरनाथ सिंह अध्यक्ष, नंदकिशोर मिश्रा, महामंत्री राजकीय शिक्षक संघ आदि उपस्थित थे। शासन की ओर से विशेष सचिव वित्त, कार्मिक, स्थानीय निकाय, परिवहन, शिक्षक, आवास,शिक्षा आदि उपस्थित थे।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

November 14, 2019, 9:56 pm
Fog
Fog
20°C
real feel: 22°C
current pressure: 1020 mb
humidity: 93%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:55 am
sunset: 4:47 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 10 other subscribers

Trending