Connect with us

प्रदेश

फर्जी मुकदमों में फंसाए जा रहे मुसलमानों के साथ खड़ी है कांग्रेस: शाहनवाज आलम

Published

on

कहा, सपा की भाजपा से वैचारिक निकटता को मुसलमान समझने लगा है

लखनऊ। उत्तर प्रदेश कांग्रेस अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के चेयरमैन शाहनवाज आलम ने योगी सरकार पर बेगुनाह मुसलमानों को एनएसए, गुंडा एक्ट और गौकशी के फर्जी मुकदमों में फंसा कर जेल भेजने का अभियान चलाने का आरोप लगाया है। कांग्रेस नेता ने सपा पर भी मुस्लिम विरोधी होने का आरोप लगाया है। रविवार को इटावा के एक होटल में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर शाहनवाज आलम ने कहा, कानून व्यवस्था और रोजगार के मुद्दे पर विफल योगी सरकार बेगुनाह मुसलमानों को जेल भेज रही है। जबकि तमाम अपराधी सरकार के खुले संरक्षण में फल-फूल रहे हैं। बेरोजगारी इस चरम पर पहंुच चुकी है कि युवाओं को थाली बजानी पड़ रही है। सारे कुटीर और मध्यम उद्योग बंद हैं। सिर्फ अपहरण उद्योग को सरकार बढ़ावा दे रही है।

मुस्लिमों से वोट लेकर भी सपा ने कुछ नहीं किया

कभी सपा का गढ़ रहे इटावा में शाहनवाज आलम ने समाजवादियों पर तीखा हमला बोला। कहा कि सपा ने 19 प्रतिशत आबादी वाले मुस्लिम समाज से वोट तो लिया लेकिन न तो पिछड़े मुसलमानों को सरकारी नौकरियों में समायोजित किया और ना ही एनआरसी विरोधी आंदोलन में मारे और फंसाए जा रहे मुसलमानों के साथ ही सपा खड़ी हो रही है।

यह भी पढ़ें-नौकरियों में पांच साल की संविदा शर्त युवाओं के साथ ऐतिहासिक अन्याय: कांग्रेस

सपा प्रमुख अखिलेश यादव के संसदीय सीट आजमगढ़ तक में एनआरसी का विरोध कर रही मुस्लिम महिलाओं पर पुलिसिया दमन हुआ। लेकिन वहां के सांसद होने के नाते भी अखिलेश यादव उनका हाल जानने नहीं गए। वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी बिजनौर, मुजफ्फरनगर, बनारस और आजमगढ़ जाकर मुस्लिम समाज को समर्थन दिया।

आजम की रिहाई के लिए सपा क्यों नहीं उठा रही आवाज!

डॉ. कफील खान की रिहाई के लिए चलाए गए अभियान की तरह आजम खान के लिए अभियान चलाने के सवाल पर शाहनवाज ने कहा, आजम खान सपा के नेता हैं। उन्होंने सपा के लिए अपनी पूरी जिंदगी दे दी। इसलिए सपा को उनके लिए आंदोलन चलाना चाहिए। लेकिन ऐसा लगता है कि सपा या तो भाजपा के दबाव में है। या फिर उसे अपने मुस्लिम नेता के लिए सवाल उठाने से अपने जातिगत वोट के नाराज हो जाने का डर है। जो भी वजह हो, आजम खान के साथ सपा का रवैय्या दुखी करने वाला है। प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान अल्पसंख्यक कांग्रेस के प्रदेश महासचिव राशिद खान, प्रदेश सचिव उमर फारूक, सुबूर अली, इफ्तिखार बशीर कारी शाहबाज कादरी, हाफिज इदरीस आदि उपस्थित रहे।http://www.satyodaya.com

प्रदेश

28 साल का इंतजार खत्म, बाबरी विध्वंस मामले में फैसले की घड़ी निकट

Published

on

लखनऊ। बाबरी विध्वंस मामले में 28 साल बाद आखिरकार फैसले की घड़ी निकट आ गई है। उत्तर प्रदेश के लखनऊ की विशेष सीबीआई अदालत 30 सितंबर को इस केस में अपना फैसला सुनाएगी। इस केस में स्पेशल सीबीआई जज एसके यादव हैं। इसे देखते हुए मध्य प्रदेश के दो बड़े नेताओं पर सबकी निगाहें टिक गई हैं। इनमें से एक हैं पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती और दूसरे हैं बजरंग दल के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मंत्री जयभान सिंह पवैया है। ये दोनों भी बाबरी केस में आरोपी बनाए गए थे। लिहाजा 30 सितंबर को आने वाले फैसले में इनके भविष्य का भी फैसला होगा। फैसले को देखते हुए पूर्व मंत्री जयभान सिंह पवैया ग्वालियर से लखनऊ के लिए रवाना हो गए हैं, जबकि कोरोना पॉजिटिव होने की वजह से ये माना जा रहा है कि उमा भारती वीसी के ज़रिए कोर्ट की कार्यवाही में अपनी उपस्थिति दर्ज कराएंगी।

बता दें 12 जून को बजरंग दल के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और मध्य प्रदेश बीजेपी के कद्दावर नेता जयभान सिंह पवैया के अंतिम बयान दर्ज किए गए थे। ग्वालियर से लखनऊ पहुंचे जयभान सिंह पवैया ने सीबीआई कोर्ट में अपने बयान दर्ज कराए थे। 5 घंटे तक चली कार्यवाही के दौरान उनसे कुल 1050 सवाल किए गए थे। इनमें कुछ सवाल प्रश्नावली के तहत पूछे गए। जबकि कुछ सवाल जज की ओर से पूछे गए थे। जयभान सिंह ने इन सभी 1050 सवालों के जवाब दिए थे। सीबीआई की विशेष कोर्ट में बयान दर्ज कराने के बाद जयभान सिंह पवैया ने अपने बयान में कहा था कि अगर राम काज के लिए उन्हें कोई कुर्बानी देनी पड़ी तो वह इसके लिए तैयार हैं।

यह भी पढ़ें: बाड़मेर: एम्बुलेंस में खत्म हो गई ऑक्सीजन, युवती ने रास्ते में ही तोड़ा दम

क्या है मामला
6 दिसंबर 1992 को अयोध्या में विवादित बाबरी मस्जिद का ढांचा गिरा दिया गया था। इस मामले में बीजेपी के कई दिग्गज नेताओं को आरोपी बनाया गया था। जिसमें लाल कृष्ण आडवाणी, उमा भारती, मुरली मनोहर जोशी, कल्‍याण सिंह, जयभान सिंह पवैया समेत कई और बड़े नेता शामिल थे। इन सभी ने अदालती कार्रवाई का सामना किया। कई साल से चल रहे इस केस में कुछ आरोपियों की मृत्यु भी हो चुकी है।http://satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

कोरोना काल में CM योगी की कैबिनेट मीटिंग आज, इन प्रस्तावों को मिल सकती है मंजूरी

Published

on

लखनऊ। कोरोना महामारी के बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में मंगलवार की शाम को 5 बजे कैबिनेट की बैठक बुलाई है। काफी समय से कैबिनेट बाईसुर्कलेशन प्रस्तावों को मंजूरी दी जा रही थी। लेकिन कोरोना महामारी के चलते इसे स्थगित कर दिया गया था। कैबिनेट की बैठक में राजस्व विभाग के उत्तर प्रदेश आबादी सर्वेक्षण और अभिलेख संक्रिया विनियमावली 2020 को मंजूरी के लिए रखा जा सकता है। मुख्यमंत्री आवास पर शाम को होने वाली इस बैठक में उन्हीं मंत्रियों को बुलाया गया है।

इसे भी पढ़ें- समाज की बहन-बेटियाँ प्रदेश में सुरक्षित नहीं, जो अति-शर्मनाक और निन्दनीय- मायावती

जिन विभागों के प्रस्ताव पास होने हैं। बाकी सभी मंत्री अपने आवास से ऑनलाइन बैठक से जुड़ेंगे। कैबिनेट बैठक में राजस्व, औद्योगिक विकास विभाग, स्वास्थ्य और शिक्षा विभाग समेत कई विभागों के महत्वपूर्ण प्रस्तावों को मंजूरी के लिए रखा जा सकता है। बैठक में राजस्व विभाग के उत्तर प्रदेश आबादी सर्वेक्षण और अभिलेख संक्रिया विनियमावली 2020 को मंजूरी के लिए रखा जा सकता है। बरेली में अस्पताल बनाने के लिए औद्योगिक विकास विभाग की जमीन देने संबंधी प्रस्ताव को भी मंजूरी मिल सकती है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

समाज की बहन-बेटियाँ प्रदेश में सुरक्षित नहीं, जो अति-शर्मनाक और निन्दनीय- मायावती

Published

on

लखनऊ। हाथरस में 19 वर्ष की दलित युवती के साथ दुष्कर्म के बाद उसकी जीभ काटने के मामले पर बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने उत्तर प्रदेश की कानून-व्यवस्था को लेकर सरकार पर तंज कसा है। सोशल मीडिया पर बेहद एक्टिव बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने हाथरस में 19 वर्ष की दलित युवती से साथ दुष्कर्म को बेहद ही शर्मनाक बताया है।

मायावती ने मंगलावार को ट्वीट करके कहा कि यूपी के हाथरस में गैंगरेप के बाद दलित पीड़िता की आज हुई मौत की खबर अति-दुःखद। सरकार पीड़ित परिवार की हर संभव सहायता करे व फास्ट ट्रैक कोर्ट में मुकदमा चलाकर अपराधियों को जल्द सजा सुनिश्चित करे, बीएसपी की यह माँग।

इसे भी पढ़ें- रेल यात्रियों के लिए खुशखबरी: 1 अक्टूबर से 4 जोड़ी नई पैसेंजर ट्रेनें चलेंगी, देखें शिड्यूल

ये है पूरा मामला

बता दें, कि हाथरस में एक दलित युवती के साथ दरिंदगी का मामला सामने आया है। यहां एक 19 वर्ष की लड़की के साथ आरोपियों ने पहले तो दुष्कर्म किया और उसके साथ मारपीट कर रीढ़ की हड्डी तोड़ दी, इतने से भी हैवानों का मन नहीं भरा तो उन्होंने पीड़ित लड़की की जीभ भी काट दी। इस दौरान उसका जेएन मेडिकल कॉलेज, अलीगढ़ के आईसीयू वार्ड में इलाज चल रहा था। लेकिन हालत में कोई सुधार ना होने के चलते उसे सोमवार की सुबह दिल्ली एम्स में भेज दिया गया। जहां इलाज के दौरान पीड़िता की मौत हो गई।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

September 29, 2020, 1:19 pm
Hazy sunshine
Hazy sunshine
34°C
real feel: 41°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 62%
wind speed: 3 m/s NW
wind gusts: 3 m/s
UV-Index: 5
sunrise: 5:28 am
sunset: 5:25 pm
 

Recent Posts

Trending