Connect with us

कोरोना वायरस

Corona Update: UP में बीते 24 घंटे में 2778 व लखनऊ में 279 नए केस

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण के पिछले 24 घंटे में 2,778 नए मामले सामने आए है। इस दौरान 41 लोगों की सांसे थम गई हैं। राजधानी लखनऊ में बुधवार को 279 नए रोगी मिले है और 7 लोगों की मौत हो गई है।

लखनऊ में बीते 24 घण्टों  के दौरान 475 रोगियों की अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया है। अबतक 53,422 लोगों को अस्पताल से डिस्चार्ज किया जा चुका है। वहीं लखनऊ में 4393 केस अभी भी एक्टिव है। जिनका अलग-अलग अस्पतालो में इलाज चल रहा है। अबतक 797 लोगों की जान जा चुकी है। प्रदेश में गोरखपुर कोरोना संक्रमण के नए मामलों में आज दूसरे स्थान पर रहा है। जहां 173 केस आये है। इसके अलावा प्रयागराज में 151, गाजियाबाद में 145, गौतमबुद्ध नगर और मेरठ में 139-139, वारणसी में 100 और मुरादाबाद में 96 मरीज मिले है।

अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद नए मामलों के साथ ही कुल संक्रमितों की संख्या अब 4,44,711 हो गई है। इसमें से अबतक 4,01,306 लोग इलाज के बाद पूरी तरह ठीक हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में रिकवरी रेट बढ़कर अब 90.24 प्रतिशत हो गया है।

अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश  में  कोरोना के 36,898 मामले अभी भी सक्रिय हैं। इनमें से 16,613 लोग होम आइसोलेशन में हैं। वहीं 3015 लोग भुगतान के आधार पर अपना इलाज करा रहे हैं। बाकी के लोग सरकारी अस्पतालों में भर्ती हैं।  साथ ही बताया कि अभी तक 2,45,972 लोगों ने होम आइसोलेशन के विकल्प को चुना और इसमें से 2,29,359 लोग इलाज के बाद ठीक हो चुके हैं। अबतक सूबे में 6507 लोगों की कोरोना से जान जा चुकी है।

यह भी पढ़ें :- IPI 2020: दिल्ली ने टॉस जीतकर राजस्थान के खिलाफ बल्लेबाजी का लिया निर्णय

अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य ने बताया कि हम लगातार ज्यादा टेस्ट कर रहे हैं। प्रदेश में मंगलवार को 1,62,773 कोरोना सैंपल्स की जांच हुई। अबतक प्रदेश में  में 1,23,55,046 कोरोना नमूनों की जांच हो चुकी है। उन्होंने कहा कि कोरोना को रोकने के लिए टेस्टिंग एक महत्वपूर्ण हथियार है।http://www.satyodaya.com

कोरोना वायरस

बिहार के सीनियर IPS विनोद कुमार की कोरोना से मौत

Published

on

पटना। इस वक्त की बड़ी खबर बिहार की राजधानी पटना से आ रही है जहां भारतीय पुलिस सेवा के एक वरीय अधिकारी का कोरोना से निधन हो गया है बिहार कैडर के आईपीएस अधिकारी और पूर्णिया रेंज के आईजी विनोद कुमार कोरोना से बीमार होने के बाद पिछले 4 दिनों से पटना एम्स में भर्ती थे जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई विनोद कुमार की मौत शनिवार की रात 11 बजे हुई

पूर्णिया रेंज के पहले आईजी
विनोद कुमार पूर्णिया प्रक्षेत्र के पहले आईजी बने थे इससे पहले पूर्णिया में डीआईजी बैठा करते थेआईजी विनोद कुमार 2001 बैच के आईपीएस ऑफिसर थेवो नालंदा  जिला के बिहार शरीफ के रहने वाले थे 15 अगस्त 2019 को पूर्णिया प्रक्षेत्र के पहले आईजी के रूप में इनका नोटिफिकेशन हुआ था और 20 अगस्त 2019 को उन्होंने पूर्णिया में योगदान किया थाइससे पहले वो भागलपुर में आईजी रहे थे इसके अलावा दरभंगा और एसटीएफ के डीआईजी रह चुके थे वो सुपौल के एसपी और मुजफ्फरपुर रेल के एसपी भी रह चुके थे

यह भी पढ़ें: राष्ट्रिय लोक दल के उपाध्यक्ष जयंत चौधरी कोरोना पॉजिटिव, ट्वीट कर दी जानकारी

कोरोना होने के बाद गए थे पटना
आईजी विनोद कुमार का शुक्रवार को कोरोना जांच हुआ था जिसमें वो पॉजिटिव आए थेॉ और इसके बाद वो उसी दिन पटना एम्स चले गए थे जहां इलाज के दौरान देर रात  उनका निधन हो गया उनके निधन से पूर्णिया के पुलिस मेंस एसोसिएशन और पुलिस पदाधिकारियों में शोक व्याप्त है आईजी विनोद कुमार काफी मृदुभाषी थे और अपने कर्तव्य के प्रति काफी सजग थे आईजी ऑफिस के स्टाफ ने बताया कि 3 दिन पहले तक वो ड्यूटी पर थे और फाइल में सिग्नेचर वगैरह करते थे उनके व्यवहार से कार्यालय के सभी स्टाफ और पुलिसकर्मी काफी खुश रहते थे

पुलिसकर्मी शोकाकुल
आईजी के निधन से पुलिसकर्मियों में शोक व्याप्त है मालूम हो कि चुनाव की तैयारियों के बीच ही बिहार में कोरोना का कहर भी लगातार जारी है आईजी विनोद कुमार बिहार के सीमांचल यानी पूर्णिया रेंज के पहले आईजी थे उनके असामयिक निधन से इलाके का पूरा पुलिस महकमा शोकाकुल हैhttp://satyodaya.com

Continue Reading

कोरोना वायरस

UP के पूर्व CM मुलायम सिंह यादव कोरोना पॉजिटिव, गुड़गांव के मेदांता हॉस्पिटल में भर्ती

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव कोरोना वायरस संक्रमित पाए गए हैं। उन्हें इलाज के लिए गुड़गांव के मेदांता हॉस्पिटल में भर्ती किया गया है। हालांकि उनमें कोविड-19 के एक भी लक्षण नहीं हैं। कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद डॉक्टर उनका देखभाल कर रहे हैं। समाजवादी पार्टी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से बुधवार की देर शाम इस बात की जानकारी दी गई।

सपा ने बताया, ‘समाजवादी पार्टी संस्थापक आदरणीय नेताजी श्री मुलायम सिंह यादव जी की कोरोना टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आने के उपरांत चिकित्सकों की देख रेख जारी है। फिलहाल उनमें कोरोना के एक भी लक्षण नहीं हैं।’

मुलायम सिंह यादव के स्वास्थ्य से जुड़ी जानकारी देते हुए उनके बेटे और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट कर बताया, ‘माननीय नेताजी का स्वास्थ्य स्थिर है। आज कोरोना पॉजिटिव होने पर गुड़गांव के मेदांता में उन्हें स्वास्थ्य-लाभ के लिए भर्ती कराया था। हम वरिष्ठ डॉक्टरों के निरंतर संपर्क में हैं और समय-समय पर सूचित करते रहेंगे।’

यह भी पढ़ें: 106 सुहागन महिलाएं ले रही थी विधवा पेंशन, पोल खुलने के बाद राशि वसूलने का आदेश

बता दें कुछ समय पहले भी सपा नेता की तबीयत बिगड़ गई थी, जिसके बाद उन्हें लखनऊ स्थिति मेदांता अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया था। अगस्त के शुरुआत में पेट में दर्द और पेशाब में संक्रमण की समस्या को लेकर वे अस्पताल में भर्ती हुए थे। उससे पहले कई दिनों तक उनका इलाज चला था और अस्पातल से डिस्चार्ज होने के कुछ समय बाद फिर उन्हें भर्ती करना पड़ा। अगस्त से पहले जब वे बीमार पड़े तो पेट में सूजन और दर्द था। जांच में पाया गया कि बड़ी आंत में समस्या है। कोलोनोस्कोपी करके साफ किया गया था। इसके बाद सेहत में सुधार होने पर डॉक्टरों ने उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी।http://satyodaya.com

Continue Reading

कोरोना वायरस

रिसर्च में खुलासा: नहीं हुई है शादी तो कोरोना वायरस से जान को है बड़ा खतरा

Published

on

नई दिल्ली। कोरोना वायरस पर हो रहे नए-नए शोध और अध्ययनों से वैज्ञानिकों और लोगों की चिंता बढ़ती जा रही है। महामारी ने वैश्विक स्तर पर लोगों का जीना मुहाल कर दिया है। वहीं, वैज्ञानिक इसे जड़ से खत्म करने के लिए वैक्सीन बनाने में दिन-रात एक करने में लगे हुए हैं। अब कोविड-19 पर हुए एक और शोध में चिंताजनक आंकड़े सामने आए हैं। शोध में बताया गया है कि कोविड-19 सबसे ज्यादा अविवाहित लोगों के लिए जान का खतरा बन रहा है। स्वीडन की स्टॉकहोम यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता स्वेन ड्रेफॉल को अध्ययन के दौरान बहुत ही चौंकाने वाली बात पता चली है।

ड्रेफॉल के अनुसार, कम आय, शिक्षा का निम्न स्तर, अविवाहित और कम या मध्यम आय वाले देशों में पैदा होने वाले जैसे कुछ ऐसे फैक्टर हैं जो इन लोगों में कोविड-19 से मरने का सबसे ज्यादा जोखिम बढ़ा रहे हैं। ड्रेफॉल ने कहा- हम दिखा सकते हैं कि विभिन्न जोखिम वाले कारकों के यहां अलग-अलग और स्वतंत्र प्रभाव हैं जिन पर कोविड -19 पर हुई बैठक में खुलकर बातचीत की गई है।

यह भी पढ़ें: मानवता शर्मसार: 10 साल की मासूम का अधेड़ ने किया बलात्कार, आरोपी गिरफ्तार

क्या कहता है आंकड़ा
यह अध्ययन स्वीडन में कोविड-19 से मरे 20 और उसके अधिक उम्र के व्यस्कों के स्वीडिश नेशनल बोर्ड ऑफ हेल्थ एंड वेलफेयर में पंजीकृत मौतों के आकड़ों पर आधारित है। नेचर कम्युनिकेशंस नामक पत्रिका में प्रकाशित एक अध्ययन में, ड्रेफॉल ने बताया कि विदेश में पैदा होने वाले लोगों की स्वीडन में जन्म लेने वाले लोगों की तुलना में मृत्यु दर कम है। वहीं, कम आय और शिक्षा का निम्न स्तर भी लोगों में कोविड-19 से मरने का जोखिम बढ़ा रहा है।

महिलाओं की तुलना में पुरुषों के लिए अधिक खतरा
निष्कर्षों से पता चला है कि महिलाओं की तुलना में पुरुषों के कोविड -19 से मरने का खतरा दोगुना है जो पिछले कई अध्ययनों में बताया गया है। अध्ययन के मुताबिक अविवाहित पुरुषों और महिलाओं में विवाहितों की तुलना में कोविड-19 से मरने का जोखिम डेढ़ से दोगुना ज्यादा है। वहीं, विवाहित पुरुषों की तुलना में अविवाहित पुरुषों का मृत्युदर अधिक है जिसका कारण बायोलॉजी और लाइफस्टाल जैसे फैक्टर हैं। रिसर्च टीम के मुताबिक, पहले के कई अध्ययनों से यह भी पता चला है कि सिंगल और अविवाहित लोगों में विभिन्न बीमारियों के कारण भी मृत्युदर में बढ़ोतरी हुई है।http://satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

November 8, 2020, 9:11 pm
Clear
Clear
19°C
real feel: 19°C
current pressure: 1020 mb
humidity: 77%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:51 am
sunset: 4:49 pm
 

Recent Posts

Trending