Connect with us

प्रदेश

मतगणना कल: ईवीएम से लेकर स्ट्रांग रूम तक नजर रखेगी सपा-बसपा

Published

on

फाइल फोटो

लखनऊ । सपा और बसपा की मुलाकात के बाद मतगणना से जुड़ी रणनीति का आभाव सामने आने लगा है । वैसे दोनों ही पार्टियों की तरफ से 23 मई को गिनती के समय ईवीएम के ऊपर नजर रखने के लिए प्रत्याशियों व गणना एजेंट को विशेष ध्यान रखने के निर्देश जारी किए गए हैं ।
उन्हें स्ट्रांग रूम खुलने से ईवीएम के मिलान व गणना प्रक्रिया की पूरी तरह से जानकारी दी गई है । बसपा प्रदेश कार्यालय की तरफ से पदाधिकारियों व जिम्मेदार नेताओं को निर्देश भेजे गए हैं । मतगणना के शुरू में ईवीएम खुलने के समय किन-किन बातों का ध्यान रखना है, इसकी जानकारी दी गई है ।

यह भी पढ़ें : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहुंचे बजरंगबली के दरवार में, महेंद्र नाथ पांडे ने भी किया दर्शन

कहा गया है कि ईवीएम खुलने से पहले हर हाल में लेखा, पीठासीन अधिकारी की डायरी और पीएसओएस आदि प्रपत्रों में दर्शायी गई ईवीएम, बीयू और सीयू तथा वीवीपैट के नंबरों का मिलान कराएं । यह भी सुनिश्चित कर लें कि प्रयोग की गई ग्रीन पेपर सील व स्पेशल टैग का नंबर वही है जो उपरोक्त प्रपत्रों में पीठासीन अधिकारियों द्वारा दर्ज किया गया है । सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की तरफ से प्रत्याशियों को एक पत्र भेजा गया है । यह सुनिश्चित करने को कहा गया है कि स्ट्रांग रूम खुलने के समय प्रत्याशी या पार्टी का वही पदाधिकारी मौजूद रहे जो स्ट्रांग रूम बंद कराने के समय रहा हो । इसके अलावा मतगणना के समय की सावधानी व तकनीकी बातों पर ध्यान देने को कहा गया है ।http://www.satyodaya.com

प्रदेश

वीवीआईपी मूवमेंट के लिए अत्याधुनिक वाहन खरीदेगी योगी सरकार

Published

on

लखनऊ। केन्द्र और प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद से ही उत्तर प्रदेश में वीवीआईपी मूवमेंट काफी ज्यादा बढ़ गया है। संसदीय सीटों के लिहाज से देश का सबसे महत्वपूर्ण राज्य होने के चलते सभी राजनीतिक दलों वरिष्ठ नेता और केन्द्र सरकार के प्रतिनिधि भी अकसर प्रदेश के दौरे पर रहते हैं। जिससे प्रदेश पर वीवीआईपी मूवमेंट दबाव काफी बढ़ गया है। इन सभी वीवीआईपी मूवमेंट की सुरक्षा की जिम्मेदारी राज्य सरकार की होती है। साथ ही शहर की यातायात व्यवस्था पर भी दबाव पड़ता है। योगी सरकार ने इन वीवीआईपी मूवमेंट को देखते हुए अब सुरक्षा मुख्यालय को और मजबूत बनाने की तैयारी कर ली है। जिसके तहत वीवीआईपी सुरक्षा काफिले से खस्ताहाल अम्बेसडर कारों को हटाकर बुलेटप्रूफ तेज रफ्तार वाली स्कार्पियो, फार्च्यूनर और सफारी को शामिल किया जाएगा।

सूत्रों के मुताबिक प्रदेश में वीवीआईपी मूवमेंट के बढ़ते दबाव और फ्लीट में पुराने वाहनों को लेकर सुरक्षा मुख्यालय ने यह फैसला लिया है। बता दें कि जल्द ही महाराष्ट, हरियाणा और झारखण्ड में होने वाले चुनावों के दौरान यूपी में वीवीआईपी मूवमेंट बढ़ेगा। योगी सरकार इन चुनावों से पहले अत्याधुनिक बुलेटपू्रफ वाहनों का बेड़ा तैयार कर लेना चाहती है। सुरक्षा मुख्यालय ने वाहन खरीदे जाने को लेकर शासन को प्रस्ताव भी भेज दिया है। वीवीआईपी सुरक्षा काफिलों में इन वाहनों के शामिल होने से जहां मूवमेंट की रफ्तार बढ़ेगी वहीं बुलेटपू्रफ वाहन होने से सुरक्षा भी पुख्ता होगी।
खबरों के मुताबिक सुरक्षा मुख्यालय ने 16 बुलेटपू्रफ अम्बेसडर कारों को निष्प्रयोज्य करार दिया है। जबकि करीब आधा दर्जन और अम्बेसडर कारों को बेड़े से हटाने की प्रक्रिया जारी है। इनके स्थान स्कार्पियो, सफारी और फाच्र्यूनर कारों को बेड़े में शामिल किया जाएगा।

यह भी पढ़ें-आईएनएक्स घोटाला: चिदंबरम से पूछताछ के पहले ईडी के जांच अधिकारी का तबादला

बता दें कि अभी तक लखनऊ, मेरठ, गोरखपुर, नोएडा और वाराणसी में वीवीआईपी मूवमेंट के लिए रिजर्व वाहन रखे जाते हैं लेकिन जल्द आगरा और बरेली में भी वीवीआईपी फ्लीट के लिए वाहन रिजर्व में रखे जाएंगे। वर्तमान समय में सुरक्षा मुख्यालय की तरफ से राज्यपाल, मुख्यमंत्री व पूर्व मुख्यमंत्रियों समेत करीब 100 वीवीआईपी और वीआईपी को सुरक्षा दी जा रही है। इन सभी के सुरक्षा काफिले में बुलेटपू्रफ समेत अन्य वाहन लगाए जाते हैं।
जानकारी के अनुसार सुरक्षा मुख्यालय ने पुराने हो चुके वाहनों की जानकारी देते हुए पिछले दिनों शासन को एक प्रस्ताव भेजा था। सुरक्षा मुख्यालय ने शासन को 10 बुलेटपू्रफ फाच्र्यूनर, 4 बुलेटपू्रफ सफारी स्टार्म 41 स्कार्पियो, 20 सफारी व चार एसी स्टार बसों को खरीदे जाने का प्रस्ताव भेजा था। सुरक्षा मुख्यालय ने 16 अन्य वाहनों समेत जैमर भी खरीदे जाने का भी प्रस्ताव भेजा था। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

गोवंश की चुनौतियों से निपटने के लिए 2 सितम्बर को होगी बैठक…

Published

on

गोसेवा आयोग सभी विभागों के साथ करेगा समन्वय बैठक 

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में गोवंश के संवर्धन और संरक्षण की चुनौतियों से निपटने के लिए गोसेवा आयोग 2 सितम्बर को सभी विभागों के साथ समन्वय बैठक करेगा। यह निर्णय आयोग में बुलाई गई विशेषज्ञों की बैठक में लिया गया है। जिसमें विशेषज्ञों ने गोसंरक्षण की चुनौतियों के मद्देनजर बताया कि सरकार के निर्देशों के बावजूद विभागों के बीच बेहतर समन्वय नहीं बन पा रहा है, इसके लिए आयोग को ठोस कदम उठाना चाहिए। 

गोसेवा आयोग के अध्यक्ष प्रो. श्यामनन्दन सिंह ने आयोग में गोसेवा, और गो संरक्षण से जुड़े विभिन्न विशेषज्ञों की एक बैठक बुलाई। आयोग ने उत्तर प्रदेश के सभी सम्बन्धित विभागों के प्रमुखों और निदेशकों की बैठक में बुलाने का निर्णय लिया है।

यह भी पढ़ें: एंकर बने विराट कोहली ने अपने आदर्श विवियन रिचर्ड्स से पूछे ये सवाल. 

उत्तर प्रदेश में गोशालाओं और 4 हजार से अधिक गोसंवर्धन केन्द्रों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए आयोग ने सभी विशेषज्ञों से सुझाव आमंत्रित किए हैं।  गोसेवा आयोग गो उत्पादों के साथ पंचगव्य आधारित औषधियों का वृहद पैमाने पर प्रचार प्रसार करने की रणनीति बना रहा है। आयोग जल्द ही इसके लिए विशेषज्ञ और इस क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने वाले संस्थानों का सहयोग लेगा। 

इन्दिरा भवन स्थित आयोग के मुख्यालय में आयोजित बैठक में गोसेवा आयोग, उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष प्रो. श्याम नन्दन सिंह, आयोग के सचिव डॉ. आनन्द सोलंकी, गोसेवा अधिकारी डॉ संजय यादव, उत्तर प्रदेश गोसेवा आयोग के पूर्व सचिव और राज्य मानद पशु कल्याण अधिकारी डॉ. प्रमोद कुमार त्रिपाठी, लखनऊ नगर निगम के संयुक्त निदेशक (पशु कल्याण) डॉ. ए. के. राव, पंचगव्य उत्पादों के विशेषज्ञ डॉ. मोहित त्रिवेदी, यूनाइट फाउण्डेशन के उपाध्यक्ष राधेश्याम दीक्षित, आयोग के विशेषज्ञ डॉ. प्रतीक सचान, डॉ. शिवकुमार गंगवार, अनिल कुमार गुप्ता, अखिलेश श्रीवास्तव व अन्य विशेषज्ञ शामिल हुए।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों और महिला सुरक्षा को लेकर सपा महिला सभा ने किया प्रदर्शन

Published

on

प्रदर्शन

फाइल फोटो

लखनऊ। यूपी में पेट्रोल और डीजल के दामों में बढ़ोतरी के बाद सपा महिला सभा ने कलेक्ट्रेट पर जमकर प्रदर्शन किया है। इसी क्रम में आज सपा महिला सभा की कार्यकर्ताओं ने सड़कों पर तख्तियां लेकर विरोध प्रदर्शन करती नजर आईं।

बता दें प्रदर्शन के दौरान महिलाओं ने बिगड़ती कानून व्यवस्था और महिला सुरक्षा जैसे मुद्दों को लेकर भी बात की है। सपा कार्यकर्ताओं ने कैसरबाग बारादरी से जिला कलेक्ट्रेट तक पैदल मार्च निकालकर आक्रोश जताया है। इतना ही नहीं सभी कार्यकर्ताओं ने अपनी मांगों को लेकर जिलाधिकारी के माध्यम से राज्यपाल को ज्ञापन भी सौंपा है।

वहीं सपा महिला सभा की कार्यकर्ता प्रेमलता यादव ने कहा कि आज महिला सभा की  सभी कार्यकर्ता और पदाधिकारी सड़क पर केंद्र सरकार और राज्य सरकार के विरोध में उतरें हैं। उन्होंने कहा पेट्रोल, डीजल, गैस के दाम इतने ज्यादा बढ़ गए हैं कि हम सभी लोग मजबूर हो गए हैं। उन्होंने कहा गाड़ी खरीद सकते हैं, लेकिन उसमें पेट्रोल नहीं भरवा सकते हैं। इससे हतास होकर हम सभी महिलाएं सड़क पर उतरी हैं।

ये भी पढ़ें:अगर घर में हैं 14-21 साल के बच्चे, तो रहना होगा चौकन्ना…

इतना ही नही उन्होंने इस दौरान महिलाओं और बच्चियों के साथ हो रहे दुष्कर्म के विरोध में भी प्रदर्शन किया है। उन्होंने कहा जब तक हमारी मांगे पूरी नहीं होती तब तक इसी तरह सड़कों पर उतर कर हम प्रदर्शन करते रहेंगे।http://www.satyodaya.com  

Continue Reading

Category

Weather Forecast

August 22, 2019, 4:07 pm
Fog
Fog
32°C
real feel: 40°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 76%
wind speed: 2 m/s ENE
wind gusts: 2 m/s
UV-Index: 3
sunrise: 5:11 am
sunset: 6:07 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 9 other subscribers

Trending