Connect with us

प्रदेश

सोमवार से 48 घण्टे का कार्यबहिष्कार करेंगे प्रदेश भर के बिजली कर्मचारी

Published

on

लखनऊ। भविष्य निधि घोटाले के विरोध में पिछले कई दिनों से धरना प्रदर्शन और पैदल मार्च निकाल रहे प्रदेश भर के बिजली कर्मचारी सोमवार से कार्यबहिष्कार करने जा रहे हैं। कर्मचारी संगठनों ने पहले ही चेतावनी दे दी थी कि यदि सरकार ने पीएफ भुगतान और पूर्व चेयरमैन की गिरफ्तारी नहीं सुनिश्चित की तो बिजली कर्मचारी हड़ताल पर चले जाएंगे। जिसके क्रम में 18 और 19 नवंबर को प्रदेश भर के बिजली कर्मचारी 48 घण्टे का कार्यबहिष्कार करेंगे।

घोटाले की जांच से असंतुष्ट विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति की मांग है कि घोटाले के मुख्य आरोपी पावर कारपोरेशन के पूर्व चेयरमैन व अन्य आईएएस अधिकारियों को गिरफ्तार किया जाय। मुख्यमंत्री की घोषणा के 15 दिन बाद भी सीबीआई जांच न शुरू न होने पर संघर्ष समिति में नाराजगी जतायी है। लगातार रविवार को 13वें दिन बिजली कर्मचारियों ने विरोध सभाएं की। संघर्ष समिति के केन्द्रीय पदाधिकारियों की लखनऊ में बैठक हुई। समिति की मुख्य मांग है कि जीपीएफ व सीपीएफ के भुगतान की गारण्टी लेते हुए सरकार गजट नोटिफिकेशन जारी करे। साथ ही घोटाले के मुख्य आरोपी पावर कारपोरेशन के पूर्व चेयरमैन व अन्य जिम्मेदार अधिकारियों को गिरफ्तार किया जाए।

संघर्ष समिति ने कहा है कि 48 घण्टे का कार्य बहिष्कार 18 नवम्बर को सुबह 8 बजे से शुरू होगा। समिति के पदाधिकारियों ने बताया कि प्रदेश को बिजली संकट से बचाने के लिए बड़े उत्पादन ग्रहों, 400 केवी विद्युत उपकेन्द्र व सिस्टम आपरेशन की शिफ्ट में कार्य करने वाले कर्मचारी व अभियन्ता कार्यबहिष्कार में शामिल नहीं होंगे। विद्युत वितरण उपकेन्द्रों सहित पारेषण, वितरण व उत्पादन के अन्य सभी कर्मचारी व अभियन्ता पूरी तरह कार्य बहिष्कार करेंगे। बहिष्कार के बाद बिजली कर्मचारी राजधानी लखनऊ में शक्ति भवन पर विरोध सभा करेंगे।

यह भी पढ़ें-यूपी के गुंडाराज से लड़ने के लिए कांग्रेस तैयार करेगी महिलाओं की फौज : शबाना

परियोजनाओं में गेट पर और जनपदों में सबसे बड़े कार्यालय पर विरोध सभाये की जायेेंगी। संघर्ष समिति की सभा में शैलेन्द्र दुबे, राजीव सिंह, गिरीश पाण्डेय, सदरूद्दीन राना, सुहैल आबिद, राजपाल सिंह, राजेन्द्र घिल्डियाल, विनय शुक्ला, शशिकान्त श्रीवास्तव, महेन्द्र राय, वी सी उपाध्याय, डी के मिश्र, करतार प्रसाद, कुलेन्द्र सिंह चैहान, मो इलियास, पीएन तिवारी, पवन कुमार श्रीवास्तव, परशुराम, एके श्रीवास्तव, पीएन राय, भगवान मिश्र, केएस रावत, आरएन यादव, आरएस वर्मा, पीएस बाजपेई, अमिताभ सिन्हा सम्मिलित रहे।http://www.satyodaya.com

प्रदेश

यूपी ने एक ही दिन में 25 करोड़ पौधारोपण का बनाया रेकार्ड, सीएम योगी ने दी बधाई

Published

on

वन मंत्री दारा सिंह चैहान ने प्रेस कांफ्रेंस कर अभियान की सफलता का किया ऐलान

दावा, करीब 26 करोड़ पौधों का हुआ रोपण

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के वन विभाग ने आज एक ही दिन में 25 करोड़ पौधारोपण अभियान को सफलतापूर्वक अंजाम दिया। इस मौके पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और वन मंत्री दारा सिंह चैहान ने सभी प्रदेशवासियों को बधाई दी। इस मौके पर सीएम योगी ने कहा कि 1 जुलाई से 7 जुलाई वन महोत्सव मनाया जाता है। हमारी सरकार ने पिछले चार वर्ष में हर बार वन महोत्सव के बीच पौधारोपण का लक्ष्य बढ़ाते हुए इस बार 25 करोड़ पौधारोपण का रेकार्ड बनाया है। योगी ने कहा कि प्रकृति और पर्यावरण के प्रति हम सब की जवाबदेही है।

प्रेस कांफ्रेंस करते वन मंत्री दारा सिंह चौहान

सीएम योगी ने बताया कि पहले वर्ष 2017 में 5करोड़ से अधिक, दूसरे वर्ष 11 करोड़ से अधिक, तीसरे वर्ष 22 करोड़ से अधिक और इस बार 25 करोड़ से अधिक पौधारोपण एक ही दिन में किया गया है। कोरोना संकट के बीच इतना बड़ा कार्य अपने आप में एक उपलब्धि है। योगी ने कहा यह कार्य टीम वर्क, जज्बा और समर्पण के बिना संभव नहीं था। मुख्यमंत्री ने वन विभाग सहित सभी विभागों, अधिकारियों व कर्मचारियों को बधाई दी।

यह भी पढ़ें-यूपी आज पौधारोपण का बनाएगा रेकार्ड, सीएम योगी ने की शुरुआत

उत्तर प्रदेश के वन एवं पर्यावरण मंत्री दारा सिंह चौहान ने कहा, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मार्ग दर्शन में यह अभूतपूर्व उपलब्धि हासिल हुई है। वन मंत्री ने वन विभाग सहित इस कार्य में लगे 26 अन्य विभागों के अधिकारियों और कर्मचारियों को धन्यवाद दिया। वन मंत्री अभियान सफल होने के बाद शाम 6 बजे अरण्य भवन, मुख्यालय पारिजात सभाकक्ष में प्रेस कान्फ्रेंस की। दारा सिंह चैहान ने कहा, इस वृक्षारोपण कार्यक्रम पर 10 देशों के लोगों ने हिट किया है। उन्होंने इस कार्यक्रम की सफलता के लिये प्रदेश की आम जनता मजदूर, किसान, स्वेच्छिक संगठनों का हृदय से धन्यवाद दिया।

वन मंत्री ने बताया कि पौधारोपण अभियान के दौरान पंचवटी, हरिशंकरी व नक्षत्र वाटिका की स्थापना की गयी। साथ ही 51 प्रजातियों के 251 पौधों का रोपण किया गया। प्रदेश में प्रत्येक जनपद में जन प्रतिनिधियों एवं विशिष्ट जनों की उपस्थिति में वृक्षारोपण कार्यक्रम आयोजित हुआ। कोविड 19 संक्रामक महामारी से बचाव के लिए जरूरी प्रोटोकाल का भी पालन किया गया।

हर गांव में सहजन का एक पौधा रोपित

वन मंत्री ने कहा कि औषधीय पौधों, फलों एवं सहजन जैसे वृक्षों के उत्पाद हमारी रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाते हैं। साथ ही पोशक तत्वों की पूर्ति कर हमें कोविड-19 जैसे रोगों से लड़ने में सक्षम बनाते हैं। महिलाओं व बच्चों में कुपोषण की समस्या देखते हुए ‘वृक्षारोपण मिशन 2020‘ में प्रदेश के हर गांव में सहजन का एक पौधा रोपित किया गया।

जीवन बनाए व बचाए रखने में जैव विविधता की महत्वपूर्ण भूमिका

पौधशालाओं एवं वृक्षारोपण में पौधों को पोषक तत्व देने के लिए जीवामृत का निर्माण पौधशालाओं में किया जा रहा है। मंत्री ने कहा कि मानव जीवन के स्वास्थ्य, आजीविका, प्रतिरोधक क्षमता एवं जीवन बनाए व बचाए रखने में जैव विविधता की महत्वपूर्ण भूमिका है। इस बात को समझते हुए पूरा विश्व जीवन के विविध रूपों को बनाए व बचाए रखने के लिए प्रयासरत है। प्रेस वार्ता के दौरान अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश कुमार अवस्थी, प्रमुख सचिव, पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग सुधीर गर्ग, प्रधान मुख्य वन संरक्षक और विभागाध्यक्ष डा राजीव कुमार गर्ग भी उपस्थित रहे।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

अखिलेश ने पूछा, कानपुर के अपराधी को किस सत्ताधीश का प्राप्त था संरक्षण?

Published

on

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भ्रष्टाचार और कानून व्यवस्था को लेकर सरकार को घेरा है। उन्होंने कहा है कि भाजपा सरकार में भ्रष्टाचार और संवेदनहीनता आम बात है। ध्वस्त कानून व्यवस्था के मोर्चे पर भाजपा सरकार अपनी नाकामी छुपाने के लिए विपक्ष पर आरोप मढ़ देती है। नृशंस अपराधी अपनी गतिविधियां बेखौफ चलाते रहते है, सरकार और उसका पूरा प्रशासनिक तंत्र क्यों सोता रहा? विकास दुबे के घर के पास मिली भाजपा नेता की गाड़ी पर उन्होंने नाम लिए बिना कहा कि सरकार को यह तो स्पष्ट करना चाहिए कि कानपुर का अपराधी किसके सम्पर्क में रहा है और कौन सत्ताधीश उससे मिलने आते थे?

सपा अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा सरकार कोरोना संकट की आड़ में अपनी लापरवाहियों पर पर्दा डालती रही है। किसी की जिन्दगी से खिलवाड़ किया जाना शर्मनाक है। मेरठ में 2500 रूपए लेकर कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट देने का गोरखधंधा चल रहा है। रामपुर में एक क्वारंटाइन सेंटर में युवक ने छत से कूद कर जान दे दी। परिजनों ने सेंटर पर अव्यवस्था और उत्पीड़न का आरोप लगाया है। वहीं सफाई कर्मियों को कोरोना योद्धा घोषित कर उन्हें मालाएं पहनाने वालों को शर्म आनी चाहिए कि उन्नाव में उन्हें कई माह से वेतन नहीं दिया गया है और उनके परिवार भुखमरी के कगार पर पहुंच गए है।

यह भी पढ़ें:- आईजी रेंज मोहित अग्रवाल पहुंचे बिकरू गांव, कहा- शक के घेरे में है चौबेपुर थाना

उन्होंने कहा कि कोरोना संकट के दौर में सरकार की लापरवाही की शिकायतें राजधानी लखनऊ से आ रही है। मुख्यमंत्री की टीम-इलेवन हो या नगर-निगम, स्वास्थ्य विभाग, पुलिस और प्रशासन के अधिकारी अब सभी अपने दायित्वों के निर्वहन में टालमटोल करने लगे हैं। एक दूसरे को जिम्मेदार ठहरा कर अपनी गलतियां छुपा रहे है। इसके नतीजे कितने खतरनाक हो सकते हैं। इसका अंदाजा होते हुए भी सब आंखे मूंदे हुए है। प्रदेश् में भाजपा सरकार न तो कानून व्यवस्था संभाल पा रही है और न ही स्वास्थ्य व्यवस्था। नेताओं, अफसरों और माफियाओं के गठजोड़ से स्थिति बिगड़ती जा रही है। सरकारी तंत्र का दुरूपयोग विपक्ष की आवाज दबाने के काम में हो रहा हैं। इससे समाज का हर वर्ग परेशान है। प्रदेश में अराजकता, अव्यवस्था और अत्याचार की बाढ़ आ गई है। जनता के लिए यह स्थिति असहनीय है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

आईजी रेंज मोहित अग्रवाल पहुंचे बिकरू गांव, कहा- शक के घेरे में है चौबेपुर थाना

Published

on

एडीजी जोन जय नारायण सिंह ने कहा- आपराधिक इतिहास, परिवार व नजदीकी लोगो को कैसे मिला असलहों का लाइसेंस

लखनऊ। कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों के शहीद होने के तीसरे दिन रविवार को फिर आईजी रेंज मोहित अग्रवाल कानपुर के बिकरू गांव पहुंचे। वहां उन्होंने विकास दुबे के जमींदोज किलानुमा मकान का निरीक्षण किया। उन्होंने आपरेशन विकास की गतिविधियों के बारें में बताया कि राजस्थान, हरियाणा और बिहार में भी पुलिस टीमें बनाकर कांबिंग शुरू हो गई है। इन सभी प्रदेशों के आईजी और डीआईजी सीधे संपर्क में हैं। इस चक्रव्यूह को भेद पाना आसान नहीं होगा। जल्द ही विकास पुलिस के शिकंजे में होगा। यह किसी आतंकी घटना से कम नहीं है। विकास के साथ वही सुलूक होगा जो एक आतंकवादी के साथ होता है।

उन्होंने कहा कि कानपुर में एनकाउंटर की घटना के बाद चौबेपुर थाना शक के घेरे में आ गया है। कितने पुलिसकर्मियों ने विकास दुबे से बात की, इस मामले की जांच चल रही है। अगर कोई भी पुलिसकर्मी विकास दुबे की मदद में संलिप्त पाया गया तो उसके खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया जाएगा। 307 का मुकदमा दर्ज कर पुलिस विभाग से बर्खास्त भी किया जाएगा। आईजी ने कहा कि विकास दुबे के सभी संभावित ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है और जल्द ही सफलता हासिल होगी। उन्होंने बताया कि इस पूरी घटना में 21 नामजद हैं और 50-60 अज्ञात हैं। 8 पुलिस कर्मियों के शहीद होने के बाद हमने इलाके में सर्च ऑपरेशन चलाया जिसमें दो बदमाश मारे गए। इसमें एसएसपी कानपुर दिनेश कुमार की बुलेट प्रूफ जैकेट पर गोली लगी थी। गोलियां मेरे बगल से भी निकलीं और हमारे दो सिपाही घायल हुए।

मोहित अग्रवाल ने एसओ की मुखबरी पर बताया कि चौबेपुर के निलंबित थानाध्यक्ष पर घटना के एक दिन पहले विकास दुबे ने राइफल तानी थी। लेकिन थानाध्यक्ष ने यह बात छुपाई और उनकी लापरवाही के चलते यह घटना हुई। अगर हमें इस बात की जानकारी होती तो हम पूरी तैयारी और बुलेट प्रूफ जैकेट पहनकर जाते। वहीं विकास दुबे के मामले में आईजी कानपुर मोहित अग्रवाल ने माना है कि अगर मौके पर चौबेपुर एसओ विनय तिवारी एक्शन लेते तो कई अपराधी मारे जाते। उनकी शिथिलता पर उनको सस्पेंड किया गया है। थाने के सभी पुलिसकर्मियों की जांच हो रही है। किसी की कमी पाए जाने पर कार्रवाई होगी। उहोंने बताया कि 21 नामजद आरोपी हैं जिनमें दो मारे गए हैं। एक आज मुठभेड़ में घायल है।

यह भी पढ़ें:- गाजियाबाद की मोमबत्ती फैक्टी में लगी भीषण आग, सात लोगों की जलकर मौत

आईजी रेंज ने नेस्तनाबूत किले से बरामदगी के सवाल पर कहा जल्द ही बड़ा खुलासा किया जाएगा। पुलिस को सूचना थी कि विकास दुबे ने अपने घर में भारी मात्रा में आधुनिक हथियारों को दीवारों, तयखाने और सुरंग छिपा रखा है। छानबीन जारी है। वहीं आईजी ने दो टूक कहा चौबेपुर थाने से पुलिस कार्यवाही लीक हुई है, इसके पुख्ता सबूत मिल चुके हैं। पूरे थाने के पुलिसकर्मी की जांच होगी। मोबाइल काल डिटेल जुटाई जा रही है। जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ पुलिस हत्याकांड का षड्यंत्र रचने का मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी। वहीं बिकरु पहुंचे एडीजी जोन जय नारायण सिंह ने बताया कि आपराधिक इतिहास के बाद भी परिवार व नजदीक के लोगो को असलहों का लाइसेंस कैसे दिया गया है। इसकी जांच की जा रही है। 11 असलहों की जांच की जा रही है। औरेया में जो गाड़ी मिली है उसकी जांच की जा रही है। गाड़ी में एक मोबाइल मिला है। गाड़ी से जुड़े परिवार से पूछताछ की जा रही है। जल्द ही मोस्टवांटेड तक पुलिस पहुंच जाएगी।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

July 5, 2020, 11:31 pm
Fog
Fog
29°C
real feel: 36°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 88%
wind speed: 1 m/s ENE
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 4:49 am
sunset: 6:34 pm
 

Recent Posts

Trending