Connect with us

प्रदेश

नीति आयोग का प्रस्ताव नामंजूर, बिजली वितरण व निजीकरण का विरोध करेंगे कर्मचारी

Published

on

बिजली सेक्टर में किसी भी निजीकरण का प्रबल विरोध होगा

लखनऊ। नीति आयोग द्वारा बिजली वितरण का निजीकरण और शहरों व ग्रामीण क्षेत्रों में फ्रेंचाइजी मॉडल लागू करने के प्रस्ताव पर बिजली कर्मचारियों ने कड़ा ऐतराज जताया है। कर्मचारियों व इन्जीनियरों ने कहा है कि बिजली सेक्टर में किसी भी प्रकार से निजीकरण करने की कोशिश की गई तो इसका प्रबल विरोध होगा।
आल इण्डिया पॉवर इन्जीनियर्स फेडरेशन के चेयरमैन शैलेन्द्र दुबे ने बुधवार को जारी बयान में बताया कि नीति आयोग द्वारा जारी स्ट्रेटेजी पेपर में उन्हीं बातों का उल्लेख है जो इलेक्ट्रिसिटी (एमेंडमेंट ) बिल 2014 और 2018 में सम्मिलित थीं द्य उन्होंने कहा कि इलेक्ट्रिसिटी (एमेंडमेंट ) बिल 2014 और 2018 विगत लोकसभा में पारित न हो पाने के कारण लैप्स हो गए और नई लोकसभा में पुनः इस बिल को रखने के पहले बिजली कर्मचारियों व् इंजीनियरों से वार्ता होनी चाहिए द्य उन्होंने कहा कि फेडरेशन ने वार्ता हेतु केंद्रीय विद्युत् मंत्री आर के सिंह को पत्र भेजकर समय माँगा है।

यह भी पढ़ें-मौलाना कल्बे जव्वाद के लिए अभद्र भाषा का प्रयोग करने पर हुआ बवाल

आल इण्डिया पॉवर इन्जीनियर्स फेडरेशन का यह कहना है कि बिजली के क्षेत्र में विगत 25 वर्षों में किये गए निजीकरण और फ्रेंचाइजी के सभी प्रयोग पूरी तरह असफल साबित हुए हैं। ऐसे में इन्हीं असफल प्रयोगों को आगे बढ़ाने के नीति आयोग के प्रस्ताव पर जल्दबाजी में एकतरफा निर्णय लेने के बजाय केंद्र सरकार को बिजली कर्मियों को विश्वास में लेकर सार्थक ऊर्जा नीति बनानी चाहिए जिससे आम लोगों को सस्ती और गुणवत्तापरक बिजली उपलब्ध हो सके।
उन्होंने कहा कि बिजली बोर्डों के विघटन का प्रयोग विफल रहा है, मात्र विघटन कर नई बिजली कंपनियों के गठन से घाटा तो निरंतर बढ़ ही रहा है, अनावश्यक प्रशासनिक खर्चे भी बढ़ गए हैं। अतः बिजली कंपनियों के एकीकरण की जरूरत है जिससे उत्पादन, पारेषण और वितरण में बेहतर सामंजस्य हो सके। विघटन के बाद की स्थिति यह है कि एक ओर उत्पादन और पारेषण कंपनियों को मुनाफे के नाम पर अरबों रूपए का इनकम टैक्स देना पद रहा है तो वहीं दूसरी ओर वितरण कम्पनियां सरकार की दोषपूर्ण ऊर्जा नीति के चलते अरबों रुपए के घाटे में हैं। इनकम टैक्स और घाटे दोनों की भरपाई अंततः आम उपभोक्ताओं से बिजली टैरिफ बढ़ा कर की जा रही है जो किसी के हित में नहीं है। उन्होंने चेतावनी दी कि यदि नीति आयोग की रिपोर्ट के आधार पर निजीकरण की कोई एकतरफा कार्यवाही की गई तो देश के 15 लाख बिजली कर्मचारी और इंजीनियर राष्ट्रव्यापी आंदोलन प्रारम्भ करने हेतु बाध्य होंगे।http://www.satyodaya.com

प्रदेश

तेज बारिश की वजह से पक्का मकान गिरा, 3 की मौत, 2 घायल

Published

on

फाइल फोटो

रायबरेली में एक बड़ा हादसा हुआ है। मामला फुर्सतगंज थाना क्षेत्र के ब्रह्मनी गांव का है। जहां बारिश के बजह से बुधवार को पक्के मकान का बरामदा गिर गया। जिसमें एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत हो गई, जबकि दो लोग गंभीर रुप से घायल हो गए। जिसके बाद घायलों को पास के अस्पताल में भर्ती कराया गया।

जानकारी के मुताबिक सरस्वती सिंह (75), बीना (30) व राज (15) की बरामदे के नीचे दबकर मौके पर ही मौत हो गई। वहीं घायल कमलाकर सिंह (62) व एक तीन साल की बच्ची का फुरसतगंज के सामुदायिक केंद्र में इलाज चल रहा है। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

राम मंदिर पर अध्यादेश लाए पीएम मोदी: भारतीय बौद्ध संघ

Published

on

लखनऊ: भारतीय बौद्ध संघ के पदाधिकारियों ने बुधवार को प्रेसवार्ता करते हुए कहा कि आरक्षण जरुरतमंदों को आर्थिक आधार पर मिले और राम मंदिर के लिए अध्यादेश लाया जाये। प्रेसवार्ता में संगठन के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव एडवोकेट टीएस वरुण, पूर्व विधायक व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयप्रकाश निषाद, राष्ट्रीय महासचिव रामधर राकेश और कोषाध्यक्ष अनुराग चौधरी सहित कई कार्यकर्ता मौजूद रहे।

ये भी पढ़े- Maruti Suzuki XL6 MPV भारत में हुई लॉन्च, जानें शुरुआती कीमत

भंते संघप्रिय राहुल ने कहा कि यह पहला मौका है जब बौद्ध भिक्षुओं ने राम मंदिर पर अध्यादेश लाने की मांग की है। राम मंदिर का फैसला आना बाकी है। हम पीएम मोदी से मांग करते हैं कि संसद में विशेष बिल लाकर इस मामले को सुलझाएं। राम मंदिर दशकों से हिन्दुओं की आस्था का सवाल बना है। इसका निस्तारण जरुरी है। हम मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इस मामले का हल निकालने की मांग करते हैं। इस संदर्भ में मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री को पत्र भी भेजा गया है। भारतीय बौद्ध संघ के पदाधिकारियों का कहना था कि प्रधानमंत्री ने कश्मीर से धारा 370 हटाकर भारत को सपनों का भारत बना रहे हैं। तीन तलाक पर फैसले से मुस्लिम महिलाओं की मान सम्मान की रक्षा होगी। बाबा साहेब ने इस बिल को लाने की वकालत की थी। हम प्रधानमंत्री का आभार जताते हैं।  http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

कड़ी सुरक्षा के बीच सिर्फ 3 मिनट में साक्षी-अजितेश ने कराया शादी का रजिस्ट्रेशन

Published

on

बरेली: भाजपा विधायक राजेश मिश्रा उर्फ पप्पू भरतौल की बेटी साक्षी मिश्रा और अजितेश ने बुधवार सुबह 10 से पहले ही रजिस्ट्रार ऑफिस में बेहद गोपनीय तरीके से अपनी शादी का रजिस्ट्रेशन करवाया। 

बता दें कि साक्षी और अजितेश ने थम्ब इम्प्रेशन से लेकर रजिस्ट्रेशन की बाकी औपचारिकताएं मात्र 3 से 4 मिनट में पूरी की और फौरन वापस निकल गए। बताया जा रहा है कि इस दौरान दोनों को बड़े ही गोपनीय तरीके से पुलिस की कड़ी निगरानी में रजिस्ट्रार ऑफिस लाया गया।

ये भी पढ़ें: जन्माष्टमी पर इस्कॉन मंदिर में होगा दो दिवसीय कार्यक्रम का आयोजन

बता दें कि इससे पहले साक्षी मिश्रा ने सीएम योगी जनसुनवाई पोर्टल पर शिकायत की थी कि कुछ लोग उनके पिता के साथ-साथ ससुराल पक्ष के लोगों को भी बदनाम कर रहे हैं।
साक्षी ने कहा था कि उनके पिता और ससुराल वालों के बारे में गलत सूचनाएं फैलाई जा रही हैं, जिसपर रोक लगाई जाए।

बताते चलें कि भाजपा विधायक की बेटी साक्षी मिश्रा ने अपने भाई विक्की के दोस्त अजितेश से 3 जुलाई को प्रेम विवाह रचाया था। जिसके बाद दोनों ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर किया, जिसमें साक्षी ने अपने पिता और उनके साथियों से अपनी जान को खतरा बताया था और बरेली पुलिस व बरेली एसएसपी से अपनी और पति अजितेश की सुरक्षा की भी मांग की थी। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

August 21, 2019, 11:56 pm
Fog
Fog
27°C
real feel: 34°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 94%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:11 am
sunset: 6:08 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 9 other subscribers

Trending