Connect with us

प्रदेश

पारिवारिक विवाद को समझौते से हल कराया जाए: शशि कांत गुप्ता

Published

on

लखनऊ। इलाहाबाद उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति शशि कांत गुप्ता ने कहा है कि पारिवारिक न्यायालयों द्वारा पारिवारिक विवादों को सुलह-समझौते पर हल कराया जाये यह सबसे अच्छा उपाय है। इससे पारिवारिक कटुता समाप्त होती है और परिवार में एकजुटता का परिचय भी मिलता है।

गुप्ता ने शुक्रवार को गोमती नगर स्थित न्यायिक प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान में पारिवारिक न्यायालय में कार्यरत न्यायाधीशों के तीन दिवसीय प्रशिक्षण कायक्रम को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि पारिवारिक विवादों को सुलझाने में परामर्श मुख्य भूमिका निभाता है। पारिवारिक न्यायालय का मुख्य उद्देश्य शादी से जुड़े विवादों को समझौते से शीघ्रता से सुलझाना है।

यह भी पढ़ें: सरकारी अस्पतालों में तैनाती के लिए चिकित्सकों के होंगे वॉक इन इंटरव्यू

मुख्य अतिथि न्यायमूर्ति ने कहा कि जहां न्यायालय से समझौते के आसार लगते हैं तथा दोनों पार्टियों को मान्य हो, न्यायालय समझौतों की शर्तों के अनुसार दोनों पार्टियों व पक्षों को समझने के लिए समय भी देता है। उन्होंने कहा कि मध्यस्थता किसी विवाद को गरिमा, आपसी सम्मान और शिष्टाचार को सुलझाने में एक प्रभावशाली सुविधाजनक माध्यम है। उन्होंने कहा कि मध्यस्थता न्यायालय के बोझ को भी कम करता है।

न्यायमूर्ति उच्च न्यायालय इलाहाबाद पीके श्रीवास्तव ने इस बात पर बल दिया कि पारिवारिक न्यायालय के न्यायाधीशों को समाज के प्रति संवेदनशील बनाया जाये क्योंकि समाज संक्रमण के दौर से गुजर रहा है तथा स्थिरता की ओर प्रयासरत है। उन्होंने कहा कि अनेक प्रकार की वैवाहिक समस्याएं हैं जिन्हें पारिवारिक न्यायालय द्वारा हल किया जा सकता है। न्यायिक प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान के चेयरमैन न्यायमूर्ति महबूब अली ने कहा कि पारिवारिक न्यायालय की स्थापना वैवाहिक प्रकरणों का तेजी से निपटारा करने के लिए की गई है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

प्रदेश

राजधानी के हॉटस्पॉट इलाकों का जिलाधिकारी और पुलिस कमिश्नर ने किया निरीक्षण

Published

on

लखनऊ। राजधानी के जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश और पुलिस कमिश्नर सुजीत पांडेय ने आज मंगलवार को राजधानी के हॉटस्पॉट कैंट के सदर, वाल्मीकी मोहल्ला, और वजीरगंज इलाको का औचक का निरीक्षण किया। और लोगो से घरों में रहने और सोशल डिस्टेंसिंग के पालन की अपील भी की। हॉटस्पॉट इलाको की व्यवस्था का जायजा लेने के बाद डीएम अभिषेक प्रकाश ने अफसरों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए।

इसे भी पढ़ें-कोरोना संकट के दौरान सरकार योगी ने गन्ना किसानों को 20 हजार करोड़ का किया भुगतान

वहीं हॉटस्पॉट इलाको में ड्यूटी कर रहे पुलिस कर्मियों को कमिश्नर सुजीत पांडेय ने सराहना करते हुए उन्हें समानित करने की बात भी कही। निरीक्षण में दौरान डीसीपी, एसीपी समेत और भी अधिकारी मौजूद रहे। हॉटस्पॉट इलाको में पुलिस ने पहले से ही सख्ती बढ़ा रखी थी। और सील किए गए मोहल्लों के प्रवेश पर बेरिकेडिंग के साथ ही हॉटस्पॉट का बोर्ड लगा दिया गया था।

आज निरीक्षण के दौरान उक्त क्षेत्रो में लाॅकडाउन का अनुपालन, सैनीटाइजेशन का कार्य व आवश्यक सामग्री की उपलब्धता सम्बन्धी सभी कार्य सुचारु रुप से कराए जाने के निर्देश भी संबंधित अधिकारियों को दिए गए। हॉटस्पॉट क्षेत्र के किसी भी व्यक्ति के बाहर जाने, और बाहर से आने वाले व्यक्ति को प्रवेश नहीं करने देने के पुलिस को निर्देश दिए गए है।

Continue Reading

प्रदेश

मायावती का अमेरिका पर हमला, कहा-जार्ज फ्लायड की पुलिस के हाथों मौत दर्दनाक

Published

on

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी की (बसपा) की अध्यक्ष मायावती ने मंगलवार को अमेरिका पर भी हमला बोला है। उन्होंने कहा कि जार्ज फ्लायड की पुलिस के हाथों मौत काफी दर्दनाक है। वहां पर अश्वेतों की जिंदगी की भी कीमत है, को लेकर काफी बवाल हो रहा है। अमेरिका में हर जगह तथा विश्व के बड़े-बड़े शहरों में भी इसके समर्थन में जो आन्दोलन हो रहा है उसका पूरी दुनिया को स्पष्ट संदेश है कि इंसान के जीवन की कीमत है व इसको सस्ती समझने की भूल नहीं करनी चाहिए। मायावती ने अपने ट्वीट में लिखा, जार्ज फ्लायड की पुलिस के हांथों मौत के बाद ’अश्वेतों की जिन्दगी की भी कीमत है’ को लेकर अमेरिका में हर जगह व विश्व के बड़े शहरों में भी इसके समर्थन में जो आन्दोलन हो रहा है उसका पूरी दुनिया को स्पष्ट संदेश है कि आदमी के जीवन की कीमत है व इसको सस्ती समझने की भूल नहीं करनी चाहिए।

यह भी पढ़ें:- गुजरात में कल ‘निसर्ग तूफान’ दे सकता है दस्तक, अलर्ट जारी

मायावती ने दूसरे ट्वीट में प्रवासी मजदूरों का मुद्दा उठाया है। उन्होंने लिखा, खासकर अपने भारत का अनुपम संविधान तो प्रत्येक व्यक्ति की स्वतंत्रता, सुरक्षा व उसके आत्म-सम्मान व स्वाभिमान के साथ जीने की जबर्दस्त मानवीय गारंटी देता है, जिसपर सरकारों को सर्वाधिक ध्यान देना चाहिए. अगर ऐसा होता तो करोड़ों प्रवासी श्रमिकों को आज इतने बुरे दिन नहीं देखने पड़ते। बसपा मुखिया ने कोराना वायरस के लगातार बढ़ते संक्रमितों तथा मौतों की संख्या के मद्देनजर केन्द्र व देश के विभिन्न राज्यों के बीच तालमेल व सद्भावना रखने की सलाह दी है। उन्होंने तीसरे और अतिंम ट्वीट में कहा, कोराना के बढ़ते मरीजों व मौतों के मद्देनजर केन्द्र व देश के विभिन्न राज्यों के बीच तालमेल व सद्भावना के बजाय उनके बीच बढ़ता आरोप-प्रत्यारोप तथा राज्यों की आपसी सीमाओं को सील करना अनुचित व कोरोना के विरूद्ध संकल्प को कमजोर करने वाला। केन्द्र का प्रभावी हस्तक्षेप जरूरी है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

कोरोना संकट के दौरान सरकार योगी ने गन्ना किसानों को 20 हजार करोड़ का किया भुगतान

Published

on

फसल खरीद के बाद तत्काल किसानों के खातों में भेजी गई रकम

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को टीम-11 की बैठक में किसानों को किए जा रहे भुगतान की समीक्षा की। बैठक में सीएम को बताया कि कोरोना संकट के दौरान सरकार ने इस सत्र का गन्ना किसानों को 20 हजार करोड़ का भुगतान किया है। साथ ही गेहूं किसानों को योगी सरकार ने 3 हजार 890 करोड़ का भुगतान किया गया है। लॉकडाउन के बावजूद फसल खरीद के बाद तत्काल किसानों के खातों में रकम भेजी गई।

यही नहीं सरकार युद्धस्तर पर गेहूं खरीद कराती रही। एफपीसी के माध्यम से किसानों के खेतों पर जाकर भी गेहूं खरीद की गई। लॉकडाउन के दौरान भी योगी सरकार ने न्यूनतम समर्थन मूल्य पर कुल 3.477 लाख कुंतल गेहूं खरीदा है। इसी दौरान किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर 8887 मीट्रिक टन चने की भी खरीद हुई और भुगतान किया गया है। इस सत्र में 11 हजार 500 लाख कुंतल गन्ने की हुई पेराई, यूपी में हुआ 1251 लाख कुंतल चीनी का उत्पादन हआ। फसलों की कटाई के लिए लॉकडाउन के दौरान यूपी सरकार ने कृषि यंत्रों को खेतों तक जाने की सबसे पहले छूट दी थी।

इसे भी पढ़ें-पहले दिन गोमती, लखनऊ मेल और पुष्पक हुई रवाना, यात्रियों ने ली राहत की सांस

इस अवधि में यूपी सरकार ने सभी 119 चीनी मिलें चलाई। इसके साथ ही यूपी देश का नंबर–1 चीनी उत्पादक प्रदेश बन गया है, और 2-नंबर पर महाराष्ट्र की चीनी उत्पादन है। 2 हजार 424 श्रमिकों को भी पूरे लाकडाउन के दौरान मिला 119 चीनी मिलों में रोजगार मिला। वहीं 35 से 40 हजार किसान इन 119 चीनी मिलों से सीधे जुड़े। वहीं गन्ना छिलाई में भी 10 लाख श्रमिकों को प्रतिदिन रोजगार दिया गया। यही नहीं प्रदेश के 2 करोड़ 4 लाख किसानों को कोरोना आपदा के दौरान दो बार 2- 2 हजार की किसान सम्मान निधि दी गई।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

June 2, 2020, 3:49 pm
Mostly cloudy
Mostly cloudy
33°C
real feel: 38°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 58%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 1
sunrise: 4:43 am
sunset: 6:27 pm
 

Recent Posts

Trending