Connect with us

प्रदेश

रायबरेली में जमकर हुई अराजकता, अवधेश प्रताप सिंह के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग स्थगित

Published

on

बछरावां के पास रायबरेली सदर विधायक अदिति सिंह व जिपं सदस्यों पर 50 से 60 युवकों ने किया हमला

लखनऊ। रायबरेली का राजनीतिक संग्राम अब सड.क संग्राम में बदल चुका है। मंगलवार को जिला पंचायत अध्यक्ष अवधेश प्रताप सिंह के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग होनी थी। लेकिन जनपद में सुबह से ही अराजकता चरम पर थी। जिसका परिणाम यह हुआ कि अवधेश प्रताप सिंह के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर होने वाली वोटिंग स्थगित कर दी गयी। अपर सत्र न्यायाधीश ने निर्धारित कोरम के अभाव में जिला पंचायत सदस्यों के प्रस्ताव को स्थगित कर दिया। यह जानकारी जिलाधिकारी नेहा शर्मा ने दी है। वहीं इस मामले में एडीजी लॉ एंड ऑर्डर ने पुलिस से रिपोर्ट तलब की है।

बता दें कि इससे पहले मंगलवार सुबह करीब 10 बजे विधायक अदिति सिंह का काफिला लखनऊ से रायबरेली जा रहा था। उनके पीछे जिला पंचायत सदस्य राकेश अवस्थी व कुछ अन्य सदस्यों की गाडि.यां भी थी। बछरांवा में टोल प्लाजा के पास करीब दो दर्जन युवकों ने राकेश अवस्थी के साथ चल रहीं गाडि.यों को रोक लिया और उनके साथ मारपीट करते हुए गाड़ी में लाद लिया। इसके बाद युवकों ने विधायक अदिति सिंह की गाड़ी का पीछा किया। दबंगों से बचने के लिए तेज गति से जा रही विधायक की गाड़ी हरचंदपुर थाना क्षेत्र के मोदी स्कूल के पास पलट गयी। जिसमें उन्हें हल्की चोट आई है। घटना के चलते कई रायबरेली हाइवे पर जाम लग गया ओर अफरा-तफरी का माहौल बन गया। सड.क पर वाहनों की लंबी कतार लग गयी। घटना की सूचना मिलते ही पूर्व विधायक व अदिति सिंह के पिता अखिलेश सिंह भी जिला अस्पताल पहुंच गए।

यह भी पढ़ें-एनजीटी की सख्ती व हाईकोर्ट की फटकार के बाद जागा नगर निगम, 72 घंटे लगातार शहर में चलाएगा सफाई अभियान

कांग्रेस विधायक अदिति सिंह ने कहा कि अवधेश प्रताप सिंह के गुर्गों ने हत्या के इरादे से उनके ऊपर जानलेवा हमला किया है। अदिति ने कहा कि मेरा वाहन गुंडों ने पलटा है। इसके बाद मेरी गाड़ी पर दूसरे वाहनों से ठोकर मारी गई। हमला करने वालों में जिला पंचायत अध्यक्ष अवधेश सिंह भी शामिल थे। अदिति सिंह ने बताया कि लखनऊ से रायबरेली आते समय जिला पंचायत अध्यक्ष अवधेश सिंह ने हमला कराया है। दिनेश प्रताप सिंह के कॉलेज के बाहर हथियारों से लैस 50-60 लड़को ने हमला किया। जिला पंचायत अध्यक्ष अवधेश सिंह भी उनके साथ मौजूद थे। उन्होंने कहा वह अवधेश प्रताप के खिलाफ नामजाद मुकदमा दर्ज कराऐंगी।

बता दें कि अवधेश प्रताप सिंह दिनेश प्रताप सिंह के भाई हैं। दिनेश प्रताप सिंह कभी सोनिया गांधी के बहुत करीबी थे। लेकिन 2018 में उन्होंने हाथ का साथ छोड.कर भाजपा का दामन थाम लिया। इस बार भाजपा ने सोनिया को उनके गढ. में टक्कर देने के लिए दिनेश को ही मैदान में उतारा था। दिनेश के एक भाई अवधेश प्रताप सिंह जिला पंचायत अध्यक्ष हैं। वहीं एक और भाई राकेश प्रताप सिंह कांग्रेस से रायबरेली के हरचंदपुर से विधायक हैं। मंगलवार को अवधेश प्रताप सिंह के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग होनी थी।

घटना से रायबरेली में तनाव

फिलहाल इस घटना के बाद रायबरेली शहर में तनाव है। हमले के विरोध में ऊंचाहार से सपा विधायक मनोज पांडेय ने पैदल मार्च निकाला। उन्होंने जिला पंचायत सदस्यों पर हुए हमले की निंदा की। वहीं, अदिति सिंह, एमएलसी दीपक सिंह अपने समर्थकों के साथ धरने पर बैठ गई हैं। इससे पहले अस्पताल में कांग्रेसियों व पुलिस प्रशासन के बीच तीखी झड़प भी हुई।

यूपी में अब जंगलराज

इस मामले में कांग्रेस प्रवक्ता उमा शंकर ने बताया कि लोकतंत्र में तरह की घटनाएं निंदनीय हैं। कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि रायबरेली में दिनेश प्रताप सिंह व उनके भाई अवधेश प्रताप सिंह द्वारा खुलेआम गुंडागर्दी की जा रही है। जिला पंचायत सदस्यों को वोटिंग से रोकनेे के लिए अवधेश सिंह के गुर्गों ने इस घटना को अंजाम दिया। इस दौरान उन्होंने महिला विधायक अदिति सिंह पर भी जानलेवा हमला किया। उत्तर प्रदेश में अब लोकतंत्र का राज नहीं जंगलराज हो गया है।

सीएम योगी के इशारे पर हुआ हमला-
एमएलसी दीपक सिंह

कांग्रेस एलएलसी दीपक सिंह ने आरोप लगाया कांग्रेस विधायक व जिला पंचायत सदस्यों पर यह हमला योगी सरकार और दिनेश प्रताप सिंह के इशारे पर किया गया है। लगातार जिला पंचायत सदस्यों के मुकदमे किए गए। आज सरेआम सदस्यों पर हमले किए गए। एक दिन पहले जिला पंचायत सदस्यों का अपहरण किया गया। यह पुलिस के संरक्षण में किया गया। अभी तक केस दर्ज नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी इसके खिलाफ अदालत का दरवाजा खटखटाएगी। अदिति सिंह राबयरेली के बाहुबली अखिलेश सिंह की बेटी हैं।

क्या है मामला

बता दें कि अभी कुछ दिन पहले जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लेकर जिला पंचायत सदस्य जिलाधिकारी कार्यालय पहंुचे थे। लेकिन रायबरेली जिलाधिकारी ने यह कहते हुए अवधेश प्रताप सिंह के खिलाफ कार्रवाई से मना कर दिया कि कुछ सदस्यों ने जबरन हस्ताक्षर कराने का आरोप लगाया है। जिसके बाद प्रदर्शन कर रहे सदस्यों व कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया था। हाल ही में लखनऊ में प्रेस कांफे्रंस कर जिला पंचायत सदस्यों ने भाजपा सरकार पर गंभीर आरोप लगाए थे।http://www.satyodaya.com

प्रदेश

मुस्लिम युवक की टोपी उतरवाई, जय श्री राम का नारा न लगाने पर कर दी पिटाई

Published

on

कानपुर। जनपद से भीड़ द्वारा हिंसा की एक घटना सामने आई है। यहां के बर्रा इलाके में एक मुस्लिम युवक की पिटाई का मामला सामने आया है। आरोप है कि शुक्रवार को किदवई नगर स्थित मस्जिद से एक किशोर नमाज पढ़ कर लौट रहा था। तब ही वहां तीन-चार अज्ञात बाइक सवार आ गये। वे उसके टोपी पहनने का विरोध करने लगे। इतना ही नहीं उससे जय श्री राम का नारा लगाने को भी कहा। मना करने पर उसकी बुरी तरह पिटाई कर दी।

ताज नाम के इस युवक का कहना है कि उन्हें मेरी टोपी से एतराज था। मुझे टोपी उतारने को उन्होंने कहा था साथ ही जय श्री राम का नारा लगाने के लिए भी बोला लेकिन जब मैंने मना किया तो मुझे मारने लगे। मेरी चिल्लाने की आवाज सुनकर वहां से गुजर रहे लोग आ गए और तब मैं बच पाया। ताज ने यह भी आरोप लगाया है कि उन लोगों ने इस इलाके में दोबारा टोपी पहन कर न आने की धमकी दी है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

प्रदेश में हर दिन हो रहीं हत्या, लूट और बलात्कार की घटनाएं : अखिलेश यादव

Published

on

सपा मुखिया ने योगी सरकार पर बोला करारा हमला

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने शनिवार को योगी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में अंधेरनगरी, चैपट राजा की कहावत चरितार्थ हो रही है। भाजपा सरकार आंकड़े दबाकर प्रदेश में कानून व्यवस्था के नियंत्रण में होने का खोखला दावा कर रही है। जबकि कोई दिन ऐसा नहीं जाता है जब प्रदेश में हत्या, लूट और बलात्कार की घटनाएं न हो रही हों। भाजपा सरकार के बड़बोलेपन का अपराधियों पर तो कोई असर हुआ नहीं, उल्टे पुलिस ही कानून हाथ में लेकर लोगों को प्रताड़ित करने लगी है। भाजपा राज में स्थिति यह है कि अपराधी भयमुक्त हैं और जनसामान्य भयभीत।
पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि लखनऊ में एक किशोर को घर से उठाकर पुलिस चैकी में बंद रखा गया। निर्दोष से जुर्म जबरन कबूलवाने के लिए उसको बर्बरता से पीटा और बूट से पैर कुचल डाले। जब ये हाल है तो मुख्यमंत्री किस मुंह से अपने राज में शांति व्यवस्था बने रहने की बात करते हैं? मामला भाजपा के किसी नेता का हो तो उसकी रिपोर्ट तक दर्ज नहीं होती है। पुलिस विवेचना ठंडे बस्ते में चली जाती है।

यह भी पढ़ें-शहर की प्रतिभाओं को लखनऊ में ही मिलेगा बेहतर मंच : महापौर संयुक्ता भाटिया

वहीं दूसरी ओर संडीला (हरदोई) में 8 साल के एक बच्चे का अपहरण करके अपराधियों ने उसकी हत्या कर दी। देहरादून-नैनीताल हाइवे पर बिजनौर पुलिस ने वाहन चेकिंग के दौरान एक अनुसूचित जाति के युवक की ऐसी पिटाई की कि उसकी मृत्यु हो गई। लखनऊ में निगोहा थाने के चौकीदार ने एक युवती से छेड़खानी कर दी। गुडम्बा इलाके में बदमाशों ने घर में घुसकर एक महिला की हत्या कर दी। मेरठ में 44वीं पीएसी वाहिनी के कमाण्ड हाउस से इंसास रायफलें गायब, लौटाने के लिए 3.50 लाख रुपए की मांग की गई। इटावा में छह दिनों से एक युवक को थाने में बंद रखा गया। संवेदनहीनता का यह उदाहरण है।
सपा मुखिया ने कहा कि सच तो यह है कि प्रदेश में भाजपा सरकार हर मोर्चे पर विफल है। उसके राज में कोई भी व्यक्ति न तो सड़क पर सुरक्षित है और नहीं जेल में। जेलों में माफिया डान अपने दरबार सजा रहे हैं और वहीं से अपराधिक गतिविधियों का विस्तार कर रहे है। अवैध खनन पर कोई रोक नहीं है। धोखाधड़ी करनेवाली कम्पनियां आराम से लोगों के पैसे लूटकर गायब हो जाती हैं। तमाम अपराधिक मामलों का लम्बे समय से खुलासा ही नहीं हो सका है। पीड़ित का ही उत्पीड़न करना पुलिस ने अपना कर्तव्य मान लिया है।

यह भी पढ़ें-निदेशक के शोषण व मनमानी से आयुर्वेदिक फार्मासिस्टों में रोष, सीएम योगी को लिखा पत्र

हद तो यह है कि अगर इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्र भी अपनी कोई मांग उठाते हैं तो उनके ऊपर लाठियां बरसाई जाती है और गिरफ्तारियां होती है। उनके लोकतांत्रिक अधिकारों का हनन किया जा रहा है। यह छात्रसंघ समाप्त किये जाने की साजिश है। भाजपा सरकार की वजह से चारों तरफ अराजकता है। जनता के सब्र का ज्यादा इम्तिहान लेना खतरनाक होगा।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

निदेशक के शोषण व मनमानी से आयुर्वेदिक फार्मासिस्टों में रोष, सीएम योगी को लिखा पत्र

Published

on

लखनऊ। राजकीय आयुर्वेदिक एवं यूनानी फार्मासिस्ट संघ की कार्यकारिणी की बैठक औषधि निर्माणशाला राजाजीपुरम में सम्पन्न हुई। बैठक में निदेशालय द्वारा आयुर्वेदिक फार्मासिस्ट सम्वर्ग की उपेक्षा और शोषण का आरोप लगाया गया। कार्यकारिणी की बैठक में उपस्थित पदाधिकारियों ने आरोप लगाया कि आयुर्वेद निदेशक प्रो. सत्यनारायण सिंह के कार्यभार ग्रहण करने के बाद से ही फार्मेसिस्टों के साथ उपेक्षापूर्ण व्यवहार किया जा रहा है। शासन के आदेशों और निर्देशों की अवहेलना आम बात हो गयी है। बैठक में पदाधिकारियों ने कहा कि वर्ष 2017 से एसीपी के पात्र फार्मेसिस्टों की एसीपी नहीं स्वीकृत की जा रही है। जबकि सरकार ने एसीपी में समयबद्धता का आदेश दिसम्बर 2013 में ही दे दिया है। इसी तरह शासन से आदेश होने के बाद भी आज तक आयुर्वेदिक फार्मेसिस्टों के समायोजन की सूची जारी नहीं की गयी। सम्वर्ग में आज तक कोई वरिष्ठता सूची न होने के कारण पदोन्नति आदि लम्बित हैं। इस संबंध में जब कभी संघ के पदाधिकारी निदेशक से वार्ता करने जाते हैं तो उन्हें अपमानित किया जाता है।

यह भी पढ़ें-ईरान-अमेरिका तनावः पेंटागन ने पहली बार कतर में तैनात किए अपने लड़ाकू विमान

निदेशक द्वारा सुनवाई न होने पर संघ ने अपनी समस्याएं प्रांतीय संघ आयुष सचिव के सामने रखीं। विधान परिषद सदस्य ध्रुव कुमार त्रिपाठी ने आयुष सचिव से मिलकर संघ की समस्याओं से अवगत कराया। लेकिन निदेशक ने आयुष सचिव को दरकिनार कर दिया। जिसके बाद संघ ने विधान परिषद सदस्य ध्रुव कुमार त्रिपाठी के माध्यम से अपनी मांगें और समस्याएं मुख्य सचिव अनूपचन्द पाण्डेय के समक्ष उठाई। मुख्य सचिव के निर्देश पर आयुष सचिव ने 17 जून 2019 को 2 दिन में आख्या देने के लिए निदेशक को पत्र भेजा। लेकिन अभी तक निदेशक ने आख्या नहीं भेजी है। सापफ है कि निदेशक अपनी मनमानी पर उतारू हैं। पदाधिकारियों ने बताया कि अब हमने आयुर्वेदिक फार्मासिस्टों की समस्याओं के निराकरण के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा है। यदि अब भी हमारी समस्याओं का निराकरण नहीं हुआ तो उप्र के आयुर्वेदिक फार्मेसिस्ट धरना प्रदर्शन के लिए विवश हो जाएंगे।

यह भी पढ़ें-प्रियंका ने किया योगी सरकार पर वार, यूपी पुलिस बनी दीवार

संघ ने बताया कि आयुर्वेदिक चिकित्सालयों में 50 प्रतिशत से अधिक चिकित्साधिकारी के पद रिक्त है। जिसका परिणाम है कि फार्मासिस्ट ही इंचार्ज हैं और चिकित्सालयों का संचालन कर रहे हैं। लेकिन उन्हें काफी मेहनताना दिया जा रहा है। पत्र में मुख्यमंत्री से मांग की है कि आयुर्वेद विभाग के निदेशक की कार्यप्रणाली पर नजर रखी जाए। आयुर्वेद फार्मासिस्टों को शोषण और उत्पीड़न से मुक्ति दिलायी जाए। विभाग की स्थिति को सुधारने के लिए किसी आइएएस को विभाग का निदेशक बनाया जाए। कार्यकारिणी की बैठक में सभी निर्वाचित पदाधिकारी मनोनीत पदाधिकारी मण्डलीय संगठन सचिव सदस्य कार्यकारिणी के अलावा प्रदेश के समस्त जनपदों के अध्यक्ष मंत्री उपस्थित थे। संघ के प्रांतीय अध्यक्ष विद्याधर पाठक, वरिष्ठ उपाध्यक्ष सुखलाल पटेल, महामंत्री आनन्द कुमार सिंह, संयुक्त मंत्री राम कुमार वर्मा, प्रान्तीय कोषाध्यक्ष सत्यप्रकाश द्विवेदी, प्रांतीय आय व्यय निरीक्षक सत्यवान सहित लगभग 150 के ऊपर पदाधिकारी उपस्थित थे। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

June 30, 2019, 10:51 am
Cloudy
Cloudy
28°C
real feel: 33°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 78%
wind speed: 3 m/s ESE
wind gusts: 3 m/s
UV-Index: 4
sunrise: 4:46 am
sunset: 6:34 pm
 

Recent Posts

Trending