Connect with us

प्रदेश

अखिल भारतीय साहित्य गोष्ठी का शानदार आयोजन

Published

on

विगत 13 अप्रैल 2019 की शाम गोरखपुर के सहजनवा अंतर्गत तख्था गांव में भारतवर्ष के कोने-कोने से लब्धप्रतिष्ठ साहित्यकारों का आगमन हुआ। अवसर था अखिल भारतीय साहित्य गोष्ठी का। अखिल भारतीय साहित्य गोष्ठी के इस आयोजन के सूत्रधार थे तख्था गांव के निवासी और पूर्व जिला समाज कल्याण अधिकारी, लखनऊ के श्री बलदेव त्रिपाठी।

इस कार्यक्रम में पं.दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय के पूर्व विभागाध्यक्ष प्रो. अनंत मिश्र, दिल्ली से वरिष्ठ नाटककार और कवि श्री प्रताप सहगल, वरिष्ठ कवयित्री डॉ.शशि सहगल, डॉ.रमेश तिवारी, कवि श्री रणविजय राव, रांची से अनवरत पत्रिका के संपादक श्री दिलीप कुमार तेतरबे, कैमूर, बिहार से वीररस के कवि डॉ.विनोद कैमूरी, लखनऊ से अखिल भारतीय साहित्यकार परिषद के अध्यक्ष श्री विजय त्रिपाठी, महामंत्री श्री शिवमंगल सिंह ‘मंगल’, श्री कुमार तरल, दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री व उ.प्र.आवास विकास परिषद के उपाध्यक्ष श्री अश्वनी त्रिपाठी, गोरखपुर विकास प्राधिकरण के मुख्य लेखा अधिकारी श्री महेन्द्र मिश्र, श्री जीतेन्द्र त्रिपाठी, क्षेत्रीय प्रबंधक, ग्रामीण बैंक, बलिया, श्री आदित्य सिंह, आर.आई., पुलिस ट्रेनिंग सेंटर, गोरखपुर, श्री शैलेन्द्र श्रीवास्तव, अध्यक्ष, अखिल भारतीय भ्रष्टाचार निरोधक समिति, डॉ. अप्रमेय मिश्र, सहायक प्राध्यापक, महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा, तख्था एवं आसपास के ग्रामवासियों की उपस्थिति उल्लेखनीय रही।

कार्यक्रम का आरंभ श्रीमती गीता त्रिपाठी और सुश्री शांभवी त्रिपाठी के द्वारा सरस्वती वंदना से हुआ। श्री अश्वनी त्रिपाठी, उपाध्यक्ष, उ.प्र.आवास विकास परिषद के उद्बोधन और पुष्पमाला-अंगवस्त्र आदि से देश भर से आए गणमान्य साहित्यकारों और ग्रामवासियों का स्वागत किया गया। दिल्ली से पधारे व्यंग्यालोचक डॉ. रमेश तिवारी ने कार्यक्रम का सफल संचालन किया।

श्री रणविजय राव की कविता ‘मन में बसता है मेरा गांव’ कविता से कविता-पाठ का आरंभ हुआ। देश की राजधानी दिल्ली में रहते हुए भी रणविजय जी ने जिस अंदाज में अपने गांव से जुड़े संबंधों और रिश्ते-नातों की उष्मा को शब्दों के द्वारा कविता में प्रस्तुत किया वह श्रोताओं में विशेष रूप से सराहा गया। कुमार तरल जी ने अवधी भाषा में देश की राजनीति और राजनेताओं की विसंगतियों पर कविता में जो प्रहार किया, वह श्रोताओं को खूब पसंद आया। श्रोताओं की तालियां इसकी साक्षी थीं। इसके बाद विनोद कैमूरी जी ने हिंदी और भोजपुरी में गीतों की धमाकेदार प्रस्तुति दी। वायुसेना के पायलट अभिनंदन की जांबाजी को जिस प्रकार फगुआ (होली) के गीत में सुनाया, उसे सुनकर श्रोता झूम उठे। अखिल भारतीय साहित्यकार परिषद के अध्यक्ष श्री विजय त्रिपाठी जी ने अपने काव्य पाठ में देश की आजादी से लेकर आज तक की राजनीतिक स्थिति का साक्षात्कार अत्यंत तीखे तेवरों में कराया। डॉ. अप्रमेय मिश्र जी की कविता में व्याप्त संदेश को श्रोताओं ने गंभीरता से सुना और सराहा। शिवमंगल सिंह ‘मंगल’ ने अपनी कविता को पंजाबी, अंग्रेजी, भोजपुरी, अवधी, बुंदेली आदि कई भाषाओं में प्रस्तुत कर खूब तालियां बटोरीं। कार्यक्रम के मध्य में रांची से प्रकाशित अनवरत मासिक पत्रिका के ‘बलदेव त्रिपाठी – विशेषांक’ का लोकार्पण किया गया। अनवरत पत्रिका के संपादक श्री दिलीप कुमार तेतरबे जी ने अपने उद्बोधन में इस विशेषांक-निर्माण के मूल में पत्रिका के संयुक्त संपादक और व्यंग्यालोचक डॉ. रमेश तिवारी की प्रेरणा तथा भूमिका का बखूबी उल्लेख किया। बलदेव त्रिपाठी का साहित्य अनुभव की प्रामाणिकता और समाज की सच्ची तस्वीर को हमारे सामने रखता है। तेतरबे जी ने अपने वक्तव्य में बलदेव त्रिपाठी के उपन्यासों ‘अर्थागमन’, ‘विक्रय मूल्य’ और कहानी-संग्रह ‘पिअरका फुलवा’ पर भी सारगर्भित वक्तव्य दिया। दिल्ली से पधारीं वरिष्ठ कवयित्री डॉ. शशि सहगल की कविता ‘मीठे चावल’ ने श्रोताओं को विशेष रूप से पसंद आई। गोरखपुर विकास प्राधिकरण के मुख्य लेखा अधिकारी श्री महेन्द्र मिश्र की कविता को भी श्रोताओं द्वारा सराहा गया।

दिल्ली से पधारे वरिष्ठ नाटककार प्रताप सहगल ने कविता और कवियों की सामर्थ्य और सीमा की ओर संकेत करते हुए समाज में रचनाकार की सकारात्मक भूमिका पर जोर देते हुए कहा कि साहित्य का मूल उद्देश्य समाज को जोड़ने का है । मुझे खुशी है कि आज का कवि विशेष रूप से जागरुक और सक्रिय हुआ है। यदि हम जीवन और रचना में समग्रता और समन्वय की धारणा के साथ आगे बढ़ें तो हमारा साहित्य निश्चित रूप से बेहतर समाज-निर्माण के उद्देश्य को हासिल करेगा। कार्यक्रम की अध्यक्षता गोरखपुर विश्वविद्यालय के पूर्व विभागाध्यक्ष हिन्दी विभाग ने की। उन्होंने भारतीय समाज की विविधता के गुण की बात करते हुए सभी के महत्व और सहयोग को रेखांकित किया। इस सफल-सार्थक आयोजन के लिए आयोजन के सूत्रधार श्री बलदेव त्रिपाठी को विशेष साधुवाद देते हुए प्रो. मिश्र ने ऐसे आयोजनों की समाज-निर्माण में भूमिका का भी उल्लेख किया। प्रो. मिश्र ने बलदेव त्रिपाठी जी से  इस गांव में प्रत्येक वर्ष ऐसे अखिल भारतीय वार्षिक आयोजन और भी बृहद स्तर पर करने का सुझाव दिया। ऐसे आयोजनों से गांव और शहर के लोगों को भी एक-दूसरे के जीवन को करीब से देखने, समझने, घुलने-मिलने का अवसर मिलता है । इसलिए समाज निर्माण और विकास में साहित्य और साहित्यकारों की यह भूमिका है और उत्तरदायित्व भी।

देश भर से पधारे विद्वानों और गोरखपुर तथा आसपास के साहित्यकारों के साथ-साथ गांववासियों की उपस्थिति से कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए सभी के प्रति श्री बलदेव त्रिपाठी के धन्यवाद ज्ञापन के साथ कार्यक्रम संपन्न हुआ। http://www.satyodaya.com

Continue Reading
1 Comment

1 Comment

  1. Ramesh Tiwari

    April 15, 2019 at 3:24 pm

    वाह, सत्योदय के समाचार संपादक की पारखी नजर का जवाब नहीं। मैं इस आयोजन का साक्षी था। सचमुच अत्यंत आत्मीय और सराहनीय आयोजन रहा। सूत्रधार बलदेव त्रिपाठी और समस्त तख्था ग्रामवासियों को अनेकानेक साधुवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

प्रदेश

वसीम रिजवी ने पीएम मोदी की सबसे बड़ी जीत का किया दावा

Published

on

फाइल फोटो

लखनऊ । अपने बयानों से सुर्खियों में बने रहने वाले शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने वीडियो जारी कर अपना बयान दिया है । बनारस में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सबसे बड़ी जीत होने वाली है । अयोध्या में राम मंदिर निर्माण शुभ संकेत होगा देशद्रोही और नफरत फैलाने वाले जो भारत को खंडित करके एक और पाकिस्तान बनाना चाहते हैं । यह जीत उनके विचारों की करारी हार होगी देश के सबसे बड़े चुनाव में भारत की जीत लगभग तय है । भारत एक बार फिर मोदी जी के मजबूत और सुरक्षित हाथों में जाने को तैयार है ।

यह भी पढ़ें : लोकसभा चुनाव नतीजे आने के बाद यूपी में होगा बड़ा प्रशासनिक फेर बदल

वसीम रिजवी अक्सर चर्चा में रहतें है । अभी हाल में रिजवी का एक बयान और आया था जिसमें उन्होंने देश के पीएम मोदी पर ही दिया था । रिजवी ने कहा था कि अगर नरेंद्र मोदी देश के दोबारा प्रधानमंत्री नहीं बने तो वह अयोध्या में राम जन्मभूमि के गेट के पास जाकर आत्म हत्या कर लेंगे । http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

लोकसभा चुनाव नतीजे आने के बाद यूपी में होगा बड़ा प्रशासनिक फेर बदल

Published

on

प्रतीकात्मक चित्र

लखनऊ । यूपी में चुनाव नतीजे आने के बाद बड़ा प्रशासनिक फेर बदल APC की कुर्सी पर सीनियर IAS की तैनाती चेयरमैन पिकप के कुर्सी पर नए IAS अफसर की पोस्टिंग चकबंदी आयुक्त पर तैनात होंगे नये IAS अफसर ACEO आपदा प्राधिकरण में तैनात होंगे IAS अफसर प्रमुख सचिव बेसिक शिक्षा पर होगी नई तैनाती आबकारी में तैनात किये जायेंगे नये IAS अफ़सर भूतत्व एव खनिज में तैनात होंगे नये IAS अफसर औद्योगिक विकास आयुक्त के पद पर नए IAS अससर की तैनाती राजस्व परिषद में आयुक्त और सचिव के पद पर IAS की तैनाती प्रमुख सचिव चिकित्सा व स्वास्थ्य के पद पर नए सीनियर IAS अफसर होंगे तैनात ।

यहां भी पढ़ें : राबड़ी देवी की सुरक्षा में तैनात जवान ने खुद को मारी गोली

मुख्यमंत्री कार्यालय में नए सचिव और विशेष सचिव की होगी तैनाती 5 सीनियर IAS होंगे इसी महीने रिटायर्ड, उनकी जगह नई तैनाती IAS दीपक सिंघल, पीवी जगनमोहन होंगे रिटायर्ड IAS चन्द्र प्रकाश त्रिपाठी, कर्ण सिंह होंगे रिटायर्ड IAS बलविंदर सिंह भुल्लर मई में होंगे रिटायर्ड UP के 23 PCS से IAS बने अफसरों की पोस्टिंग 23 नये IAS अफसरों ने DM और VC बनने का लगाया है दांव इसके साथ ही जिले में जमे अफसरों को भी हटाया जाएगा PCS अफसर छोटे लाल मिश्रा सस्पेंड केंद्रीय चुनाव आयोग से मंजूरी मिलने के बाद नियुक्ति विभाग ने किया सस्पेंड IAS अफ़सर शारदा सिंह के निलंबन को ECI ने नही किया मंजूर चकबन्दी विभाग में फर्जी टाइप टेस्ट लेकर भर्ती का आरोप 70 चपरासियों को क्लर्क बनाने के मामले में धांधली ।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

चौका नदी मामले में दाखिल हुई ग्रीन ट्रिब्यूनल में याचिका

Published

on

पर्यावरण सुरक्षा का सबसे बड़ा प्रशासनिक भ्रष्टाचार है चौका नदी मुहाने पर कब्जा : विजय कुमार

लखनऊ। जनपद सीतापुर की चौका नदी पर प्रशासन की मिलीभगत से कब्जा जमाए लोगों को वहां से हटाकर उसके मुहाने को खोलने को लेकर जनपद के अंतिम-आदमी के साथ मिलकर वर्षों से संघर्ष कर रहे सबल अधिवक्ता संघर्ष-मंच के मुख्य-कार्यकर्ता विजय कुमार पाण्डेय एवं मताधिकारी संघ के मुख्य-कार्यकर्ता पी.एन.कल्की ने उच्च-न्यायालय के बाद मामले को नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के सामने पेश कर दिया है। मांग की है कि पारिस्थितिकी संतुलन के लिए नदी के मुहाने को खुलवाया जाय और सचिव, उ.प्र. सिंचाई, जिलाधिकारी, सीतापुर, जिला पंचायत अध्यक्ष एवं अन्य लोगों पर व्यक्तिगतरूप से आर्थिक जुर्माना किया जाए।
प्रकरण यह था कि सीतापुर की जल और जीवन दायिनी नदी चैका के मुहाने पर प्रशासन की मिलीभगत से भू-माफियाओं ने कब्जा जमा लिया जिससे उसका प्रवाह बंद हो गया जिसके लिए मताधिकारी संघ के मुख्य-कार्यकर्ता पीएन कलकी ने ग्रामीणों की मदद से काफी लम्बा संघर्ष किया लेकिन प्रशासन ने उन्ही से नदी के मुहाने को बताने का आग्रह किया और मुहाना खोलने के बारे में चुप्पी साधे रहे।

यह भी पढ़ें-सिर्फ लखनऊ में ही क्यों मनाए जाते हैं जेठ के बड़े मंगल, जानें कब-कैसे चल निकली परंपरा…

पीएन कलकी ने पूंछे जाने पर बताया कि वर्तमान युग पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी संतुलन के प्रति काफी संवेदनशील है और भारत संयुक्त-राष्ट्र पर्यावरण संस्थान का सक्रिय सदस्य है। यह मानवता से संबंधित विषय होने के कारण भारत जैसे विशाल देश के लिए सर्वाधिक संवेदनशील है लेकिन सीतापुर प्रशासन के लिए यह विषय मायने नहीं रखता। इसलिए वह इस नदी को पुनर्जीवित नहीं करना चाहता। उन्होंने कहा कि सबल अधिवक्ता संघर्ष-मंच के मुख्य-कार्यकर्ता विजय कुमार पाण्डेय ने इसके लिए उच्च-न्यायालय के समक्ष जनहित याचिका दायर की लेकिन प्रारम्भिक हलचल के अलावा कोई निष्कर्ष नहीं निकला ।
सबल अधिवक्ता संघर्ष-मंच के मुख्य-कार्यकर्ता विजय कुमार पाण्डेय ने कहा कि मामले को ग्रीन ट्रिब्यूनल लखनऊ के समक्ष दायर किया गया है। क्योंकि यह प्रकरण सम्पूर्ण भौगोलिक क्षेत्र की पारिस्थितकीय स्थितियों को प्रभावित करने वाला ही नहीं बल्कि पर्यावरण सुरक्षा अधिनियम, 1986 की धारा 2(क), संविधान के अनु.21, 39 (इ), 48। 51।(ह), 252 और 263 जल अधिनियम की धारा 17(1)(ं) के विपरीत है जिससे बेहता, लहरपुर, रेउसा, बिसवां, महमूदाबाद और रामपुरमथुरा ब्लाक बुरी तरह प्रभावित है जिसके कारण यहाँ प्रतिवर्ष, बाढ़, हैजा, मलेरिया, महामारी खसरा और डायरिया जैसी संक्रामक बीमारियों का प्रकोप होता है और अन्तुलित पारिस्थितिकीय परिस्थितियों का प्रभाव जीव-जंतुओं और पौधों पर पड़ता है, विजय पाण्डेय ने कहा कि उम्मीद है कि ग्रीन ट्रिब्यूनल इस विषय का अवश्य संज्ञान लेगा और सकारात्मक परिणाम आएगा।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

May 19, 2019, 1:01 am
Partly cloudy
Partly cloudy
28°C
real feel: 27°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 50%
wind speed: 1 m/s WSW
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 4:47 am
sunset: 6:19 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 8 other subscribers

Trending