Connect with us

प्रदेश

आजम के समर्थन में उतरे मुलायम, कहा- सपा करेगी आंदोलन, मैं भी दूंगा साथ

Published

on

लखनऊ। यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री व समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव तकरीबन ढाई साल के बाद मंगलवार को मीडिया से रूबरू हुए। उन्होंने ने कहा कि जौहर यूनिवर्सिटी बनाने के लिए आजम खान ने दिन-रात मेहनत की है। उनपर दर्ज मुकदमे राजनैतिक प्रतिशोध के तहत दर्ज किए गए हैं। इसके खिलाफ समाजवादी पार्टी आंदोलन करेगी। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि मैं खुद आंदोलन में साथ रहूंगा।

मुलायम ने कहा कि उनके ऊपर बेबुनियाद जमीन हड़पने के आरोप लगाए गए। आजम ने गरीबों की लड़ाई लड़ी। चंदे के पैसे से जौहर यूनिवर्सिटी बनाई, जिसमें देश-विदेश के छात्र पढ़ते हैं। आज़म ने मेहनत से यूनिवर्सिटी बनाई है। अपना विधायकी और सांसदी का फंड यूनिवर्सिटी में लगा दिया। सैकड़ों बीघा जमीन ख़रीदने वाला दो बीघा जमीन के लिए गड़बड़ी नहीं करता है। सिर्फ दो बीघा जमीन के लिए उन पर दर्जनभर मुकदमा किया गया है। हम इस कार्रवाई के खिलाफ पूरे प्रदेश में आंदोलन चलाएंगे।

ये भी पढ़े- आखिर कौआ क्यों करता है इस शख्स पर हमला? जानिए वजह

पूर्व सीएम मुलायम सिंह यादव ने कहा कि आजम के बारे में सब जानते हैं कि वो एक गरीब परिवार से आए हैं। बिना किसी से पैसा लिए या बिना कोई गलत किए वो यहां तक पहुंचे हैं। सब पत्रकार मित्र आजम के बारे में सारा सच जानते हैं। उन्होंने कहा कि बीजेपी के भी कुछ नेता कह रहे हैं कि यह सही नहीं हो रहा है और उससे भाजपा को नुकसान होगा। आगे कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो प्रधानमंत्री से भी मिलेंगे, लेकिन अभी ऐसा कह नहीं सकते हैं कि पीएम से मिलेंगे या नहीं। आजम के साथ अन्याय और अत्याचार हो रहा है। इसके खिलाफ खड़े होने की जरूरत है।

मुलायम सिंह यादव ने इसी के साथ आठ बिन्दुओं का एक लिखित वक्तव्य भी जारी किया..

1. भीख मांगकर चन्दे से बनायी गयी यूनिवर्सिटी को तबाह करने की कोशिश है।

2. सारी जिन्दगी की कमाई और मेहनत से आज़म खां ने यह यूनिवर्सिटी बनायी है उन्होंने इसकी तामीर के लिए एमएलए कोटे से मिले मकान को भी बेच दिया और वह स्वयं आज भी पतली गली के एक छोटे से मकान में रहते हैं।

3. यूनिवर्सिटी के निर्माण के लिए सैकड़ो बीघा जमीन खरीदने वाला इंसान डेढ- दो बीघा जमीन की बेईमानी कर ही नहीं सकता मात्र दो बीघा जमीन के लिए 27 गंभीर धाराओं में मुकदमे दर्ज कर लिए गए वो जमीनें 13 से 15 वर्ष पूर्व खरीदी गई हैं।

4. जिन्दगी भर गरीबों और मजलूमों के हक की लड़ाई लड़ने वाले आजम खां कैसे जालिम और गरीब विरोधी हो सकते हैं।

5. जमीन से कब्जा तात्कालीन जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक द्वारा हटाया गया और वर्षों बाद लूट, डकैती की रिपोर्ट आजम के साथियों तथा समाजवादी पार्टी कार्यकर्ताओं के विरूद्ध लिखी गयी।

6. सरकारी जमीन पर सरकारी आवास बनाने के लिए सरकार द्वारा जिन अवैध कब्जों को हटाया गया वर्षों बाद अवैध कब्जाधारियों की शिकायत पर शासन द्वारा आजम और सपा कार्यकर्ताओं पर लूट डकैती के झूठे मुकदमे दर्ज किए गये हैं। इस प्रकार उनपर लगभग 80 मुकदमे तथा कार्यकर्ताओं पर हजारों मुकदमे दर्ज किए गए हैं। राजनैतिक प्रतिशोध का ऐसा भयावह रूप मैंने अपने पूरे राजनैतिक जीवन में न देखा और न सुना है राजनीतिक विवाद का यह मतलब होता है कि ऐसा ख्याल भी नहीं आया था।

7. आजम की सगी बूढी 75 वर्षीय बहन को घर के अंदर से थाने का दरोगा पुलिसकर्मियों के साथ अभद्रता और अश्लीलता के साथ घसीटते हुए थाने ले जाते हैं। तथा थाने में भी अमानवीय बर्ताव करते हुए। 10-11 सादे कागजो पर हस्ताक्षर करा लेता है। इस अत्याचार को देखकर जब बूढ़ी महिला की हालत बिगडती है तो उन्हें घर पर पटक दिया जाता है। जहां से उन्हें अस्पताल ले जाया गया। 3 दिन बाद बड़े अस्पताल में इलाज लिए रेफर कर दिया जहां वो बूढ़ी महिला आज जिंदगी और मौत की जंग लड़ रही है। उनका गुनाह बस यह है कि वो अली जौहर ट्रस्ट की कोषाध्यक्ष हैं और वो आजम खान की सगी बहन हैं।

8. इस समय रामपुर देश का सबसे चर्चित जिला है। इस समय आजम खां के चरित्र हनन की कोई कोशिश की जा रही चूकि उनका पूरा जीवन सादगी और ईमानदारी का प्रतीक है। संतोष इस बात का है कि यह सारे आरोप शिक्षा के मंदिरों को बनाने के लिए लगे हैं और सरकारें इन मंदिरों को मिटाना चाहती हैं परन्तु ऐसा नहीं होगा जीत न्याय की होगी। http://www.satyodaya.com

प्रदेश

यूपी: बदमाशों ने भाजपा नेता को गोलीमार कर उतारा मौत के घाट, मची सनसनी

Published

on

प्रतीकात्मक चित्र

सहारनपुर: देवबंद थाना क्षेत्र में दिन-दहाड़े बदमाशों ने तल्हेड़ी-मानकी के समीप मंगलवार को बाइक सवार भाजपा नेता यशपाल सिंह की गोली मार कर हत्या कर दी। वहीं इस घटना से इलाके में हड़कंप मच गया। घटना की सूचना पर देवबंद कोतवाली प्रभारी आनंद देव मिश्र पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे और मामले की जांच शुरू कर दी। इसी क्रम में पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के भेज दिया है।

ये भी पढ़ें: तेज रफ्तार कार ने मारी आधा दर्जन लोगों को टक्कर

जानकारी के मुताबिक बदमाश घटना को अंजाम देने के बाद मौके से फरार हो गए। वहीं पुलिस के अनुसार मृतक यशपाल सिंह (55) मिरगपुर के प्रधान शिवकुमार के बड़े भाई थे। बताया जा रहा है कि यशपाल सिंह देवबंद से अपने गांव मिरगपुर कि ओर जा रहे थे। तभी रास्ते में मानकी के पास अज्ञात बदमाशों ने उन्हें गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया। फिलहाल पुलिस मामले की छानबीन के साथ ही हमलावारों की तलाश में जुट गई है।  पुलिस के मुताबिक किसी पुरानी रंजिश के चलते भाजपा नेता कि हत्या कि गई है। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

यूपी कांग्रेस में बब्बर ‘राज’ खत्म, अब ‘लल्लू’ के हाथों में ‘हाथ’ की कमान

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश कांग्रेस को नया प्रदेश अध्यक्ष मिल गया है। दशहरा की पूर्व संध्या पर कांग्रेस नेतृत्व ने पार्टी के विधानमंडल दल के नेता अजय कुमार ‘लल्लू’ को प्रदेश की कमान सौंप दी है। इसके साथ ही यूपी कांग्रेस अध्यक्ष पद से राज बब्बर की छुट्टी हो गयी। सूत्रों के मुताबिक यूपी कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष पद पर अजय कुमार लल्लू की ताजपोशी के साथ ही कांग्रेस विधायक आराधना मिश्रा ‘मोना’ को कांग्रेस विधानमंडल दल का नेता बनाया गया है।

अजय कुमार लल्लू वैश्य (ओबीसी) समाज से आते हैं। वह दो बार के कांग्रेस विधायक हैं। 40 वर्षीय अजय कुमार लल्लू कुशीनगर जिले की तमकुहीराज विधानसभा सीट से विधायक हैं। वर्ष 2012 और फिर 2017 में वह चुनाव जीतकर विधानसभा पहुंचे।
जनहित के मुद्दों को लेकर मुखर रहने वाले श्री लल्लू 2019 के लोकसभा चुनाव के बाद से ही महत्वपूर्ण जिम्मेदारी निभा रहे हैं। चुनाव के बाद कांग्रेस ने सभी जिला समितियों को भंग करते हुए यूपी विधानसभा उपचुनाव के लिए दो सदस्यीय समिति का गठन किया था। अजय कुमार लल्लू को बड़ी जिम्मेदारी देते हुए कांग्रेस ने उन्हें पूर्वी यूपी में संगठन के फेरबदल के लिए प्रभारी बनाया है।

यह भी पढ़ें-सुभासपा नेता अरविन्द राजभर को धमकी देने वाला युवक गिरफ्तार

राज्य सभा सांसद राज बब्बर को यूपी कांग्रेस की कमान 2017 के विधानसभा चुनाव के बाद सौंपी गयी थी। लेकिन विधानसभा चुनावों में पार्टी को खास सफलता नहीं मिली। 2019 के आम चुनावों में मिली करारी हार के बाद राज बब्बर ने अपनी जिम्मेदारी लेते हुए पार्टी को इस्तीफा सौंपा था। हालांकि तब उनका इस्तीफा स्वीकार नहीं हुआ था।
1989 में जनता दल के जरिये राजनीति में कदम रखने वाले राज बब्बर समाजवादी पार्टी से तीन बार लोकसभा सांसद भी रहे चुके हैं। साल 2006 में राज बब्बर कांग्रेस में शामिल हो गए। लंबे समय तक कांग्रेस के जुड़े रहने के बाद वह राज्यसभा भेजे गए और फिर यूपी कांग्रेस अध्यक्ष की कुर्सी तक पहुंचे। उत्तर प्रदेश की गलियों में पले बढ़े राज बब्बर का यूपी से बहुत पुराना ताल्लुक है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

यमुना एक्सप्रेस-वे पर कार का फटा टायर, हादसे में 6 लोग घायल…

Published

on

मथुरा: थाना सुरीर क्षेत्र में यमुना एक्सप्रेस-वे पर माइल स्टोन 88 के समीप सोमवार को तेज रफ्तार कार का टायर फटने से एक सड़क हादसा हो गया। बताया जा रहा है कि टायर फटने से कार रेलिंग तोड़कर सर्विस रोड में जा गिरी। वहीं हादसे में कार सवार 6 लोग घायल हो गए, जिन्हें पुलिस व एक्सप्रेस-वे कर्मचारियों ने मौके से हॉस्पिटल पहुंचाया।

ये भी पढ़ें: साइना नेहवाल की बायोपिक के लिए परिणीति चोपड़ा कर रही हैं कड़ी मेहनत

जानकारी के मुताबिक मनोज कुमार निवासी फरीदाबाद हरियाणा अपनी कार बुकिंग पर चलाते हैं। वहीं सोमवार को सांदीपन घोष निवासी कोलकाता ने आगरा घूमने के लिए कार की बुकिंग की थी। वह  अपने परिजनों एलसी घोष, अमित घोष, दिलीप घोष एवं सचिन घोष के साथ यमुना एक्सप्रेस-वे होते हुए आगरा जा रहे थे। तभी दोपहर करीब 1 बजे कार का टायर फट गया, जिसके चलते कार अनियंत्रित हो गई और रेलिंग तोड़कर सर्विस रोड पर नीचे जा गिरी। इस हादसे में कार सवार 6 लोग घायल बताए जा रहें हैं। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

October 8, 2019, 7:01 pm
Clear
Clear
27°C
real feel: 31°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 73%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:32 am
sunset: 5:16 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 10 other subscribers

Trending