Connect with us

प्रदेश

एलडीए की कार्रवाई के बाद आज तोड़े जाएंगे नाका के होटल….

Published

on

फाइल फोटो

लखनऊ। लखनऊ विकास प्राधिकरण का बुलडोजर थाना नाका क्षेत्र में बने होटलों को तोड़ने की कार्रवाई में चला है और ये कार्रवाई आज से शुरू कर दी गई है। एक साल पूर्व इन दोनों होटलों में अग्निकांड में 7 लोगों की मौत हुई थी। जिसके बाद से ही लगातार कार्रवाई चल रही थी। नाका थाना क्षेत्र स्थित विराट इंटरनेशनल, एसएसजे इंटरनेशनल होटल हैं जिस को तोड़ने के लिए 2 दिन पहले एलडीए ने लखनऊ एसएसपी से फोर्स मांगी थी, जिस पर आज एलडीए की बड़ी कार्रवाई देखने को मिली है।

बताते चलें कि होटल निर्माण के बाद से ही 2013 में होटलों को तोड़ने के आदेश जारी हुए थे। लेकिन भ्रष्ट अधिकारियों की वजह से तोड़ा नहीं जा सका और 2018 में एक बड़ा हादसा हुआ। जिसमें 7 लोगों की मौत हो गई। जिसके बाद से ही लगातार जांच चल रही थी। जिसमें एक आईएएस, दो पीपीएस सहित 30 इंजीनियर जांच में दोषी पाएं गये थे।

आपको बताते चलें कि एक साल पूर्व इन्हीं होटलो में आग लगने से 7 लोगों की दर्दनाक मौत हो गई थी। जिसके बाद से लगातार कार्रवाई चल रही थी तो वहीं आज लखनऊ विकास प्राधिकरण के अधिकारी पुलिस फोर्स के साथ पहुंचे और बड़ी कार्रवाई करते हुए होटल को गिराना शुरू करवा दिया। लेकिन इस दौरान एक बड़ी लापरवाही लखनऊ विकास प्राधिकरण की देखने को मिली। इस दौरान एलडीए के अधिकारी मानक को ताक पर रखकर प्राइवेट मजदूरों से करा रहे हैं। मजदूरी बिना किसी सुरक्षा के होटल को तोड़ने के लिए लगाया गया। मजदूरों को ना तो सर पर हेलमेट और ना ही पैर में बड़े वाले जूते दिखाई दिए जिससे एक बड़ा हादसा हो सकता है। जब इस पर एलडीए अधिशासी अभियंता ओपी मिश्रा से बात करनी चाही तो वह भागते नजर आए लेकिन बड़ा सवाल है कि आखिर इसका जिम्मेदार कौन होगा?

ये भी पढ़े:वर्ल्ड कप में इंडिया की जीत के बाद उन्हें उपहार में मिलेगी बनारस की ये साड़ी, खासियत जान हो जाएंगे हैरान…

नियम-कानून ताक पर रखकर संचालित किए जा रहे चारबाग के होटल विराज इंटरनेशनल और होटल एसएसजे 10 जुलाई को गिराए जाएंगे। पिछले साल इन दोनों होटल में आग लगने से 7 लोगों की मौत हुई थी। लखनऊ विकास प्राधिकरण की संयुक्त सचिव ऋतु सुहास ने ये आदेश दिया है। होटल पिछले एक साल से उस कालिख को अपने में समेटे खड़े हुए हैं जो आग के हादसे में इन पर छाई थी। आवासीय नक्शा पास करा के अवैध तरीके से बने होटल विराट इंटरनेशनल और एसएसजे में लगी आग की चपेट में 7 लोग आए थे। कानपुर की डेढ़ साल की मेहर और पटना निवासी गणेश प्रसाद और उनके बेटे अविनाश समेत 7 लोगों की मौत हो गई थी। दोनों ही होटलों का मानचित्र प्राधिकरण से आवासीय में पास करा के इनमें होटल संचालित किया जा रहा था।

जिनमें से विराज इंटरनेशनल के बेसमेंट में अवैध तौर पर बार भी संचालित किया जा रहा था। यहां आग लगी थी। पिछले एक साल से दोनों होटलों के ध्वस्तीकरण आदेश पर एलडीए से कोई कार्रवाई नहीं की जा रही थी, आखिरकार अब इनको ध्वस्त किया गया है। लेकिन पिछले साल सूचीबद्ध किए गए 100 अन्य अवैध होटलों को कौन बचा रहा है ये भी बड़ा सवाल है? सकरी गलियों में कई मंजिल ऊंचे होटल बनाए गए हैं। जिनमें हादसा होने की पूरी आशंका है।http://www.satyodaya,.com

प्रदेश

पुष्पेंद्र यादव एनकाउंटर की जांच हाईकोर्ट के सिटिंग जज से कराई जाए: अखिलेश

Published

on

लखनऊ। सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने गुरुवार को झांसी के वीरांगना होटल में प्रेस कांफ्रेंस की। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार का रवैया ठीक नहीं है। पीड़ितों की एफआईआर दर्ज नहीं की जाती है। पुष्पेंद्र यादव के परिवार के साथ अन्याय हुआ है। पीड़ित परिवार न्याय चाहता है। समाजवादी पार्टी पीड़ित परिवार को इंसाफ दिलाएगी।

अखिलेश ने कहा कि पुष्पेंद्र की हत्या हुई है, यह फेक एनकाउंटर है। पुलिस प्रशासन पर भरोसा नहीं है। जितना निष्पक्ष प्रशासन होगा उतनी अच्छी छवि सरकार की होगी। ये भाजपा सरकार अपनी अच्छी छवि नहीं बनाना चाह रही है। हाईकोर्ट के एक सिटिंग जज से पुष्पेंद्र के मामले की जांच कराई जानी चाहिए। दोषियों को सरकार बचा रही है। पूरे झांसी, जालौन, कालपी और कानपुर की जनता सच जानती है।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में मानवाधिकार उल्लंघन के मामलों में सबसे ज्यादा नोटिसें मिली है। हिरासत में मौते भी सबसे ज्यादा हुई हैं। यूपी में अफसर बेलगाम हैं। उन्होंने कहा कि याद रखिए  कोई भी सरकार हमेशा नहीं रहती है। आषा करता हूं कि प्रशासन पुष्पेंद्र के मामले में पर्दा डालने का प्रयास नहीं करेगा। 

सपा प्रमुख ने कहा कि नोटबंदी से भ्रष्टाचार खत्म होने का दावा झूठा साबित हुआ है। 370 से कश्मीर में आतंकवाद कहां खत्म हुआ? जीएसटी के संकट से हम उबर नहीं पाए हैं। इससे व्यापार बढ़ा नहीं, नुकसान ज्यादा हुआ है। हमारे देश का ग्रोथ रेट गिरा है। बांग्लादेश हमसे आगे हो गया है। कुपोषण में हम नम्बर एक हैं।

ये भी पढ़ें: बच्चों और माता-पिता के बीच मोबाइल बना दीवार: सीएमओ

उन्होंने कहा कि प्रशासन अपनी जिम्मेदारी नहीं निभा रहा है। दोषियों को बचाने की साजिश हो रही है। उन्होंने कहा कि वे सरकार को जगाने की कोशिश कर रहे हैं। उपचुनाव के बाद वे साइकिल यात्रा निकालेंगे। यह यात्रा गरीबों को न्याय दिलाने के लिए होगी।       http://www.satyodaya.com                     

Continue Reading

प्रदेश

मुस्लिम बुद्धिजीवियों ने कहा- मोहब्बत के लिए मस्जिद की जमीन देने में कोई हर्ज नहीं

Published

on

लखनऊ। सुप्रीम कोर्ट अयोध्या भूमि विवाद पर डे टू डे सुनवाई कर रहा है। लेकिन इस बीच कोर्ट के बाहर भी सुलह-समझौते की कोशिशें जारी हैं। गुरुवार को मुस्लिम फॉर पीस संस्था ने राजधानी के एक निजी होटल में मुस्लिम बुद्धजीवियों की एक बैठक बुलाई थी। इस बैठक में राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद पर चर्चा हुई। यहां मस्जिद की जमीन को केंद्र सरकार को सौंपे जाने पर सहमति बनी है साथ ही कई और भी प्रस्ताव पास हुए हैं।

इस बैठक में रिटायर्ड आईएएस अधिकारी अनीस अंसारी, अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के पूर्व वाइस चांसलर जमीरउद्दीन शाह, रिटायर्ड आईपीएस विभूति नारायण रॉय, रिटायर्ड आईएएस एसएटी रिजवी, रिटायर्ड जज बीडी नकवी, रिटायर्ड नेसार अहमद सहित मशहूर कार्डियोलाजिस्ट डॉक्टर मंसूर हसन ने अपनी बात रखी।

यहां चर्चा के दौरान निर्णय हुआ कि सुन्नी वक्फ बोर्ड के जरिए मस्जिद की जमीन को केंद्र सरकार को सौंप देना चाहिए। इसमें कहा गया कि सुप्रीम कोर्ट के माध्यम से भूमि विवाद पर जो भी फैसला आएगा, उसका स्वागत किया जाएगा। लेकिन बेहतर यही होगा कि मामले का हल आपसी बातचीत के जरिए निकाला जाए। बैठक के दौरान सभी ने इस बात पर सहमति जताई कि हिंदुस्तान में अमन रहना चाहिए और अगर मोहब्बत कायम करने के लिए मस्जिद की जमीन छोड़नी पड़ती है तो भी किसी को दिक्कत नहीं होनी चाहिए।

ये भी पढ़ें: साइबर क्राइम से निपटने के लिए यूपी पुलिस ने तैयार की खास रणनीति

यहां यह भी कहा गया कि मस्जिद के लिए अलग से जमीन देनी चाहिए साथ ही जिन्होंने मस्जिद को शहीद किया था उन्हें जल्द से जल्द सजा मिलनी चाहिए। वहीं, अयोध्या में दूसरी मस्जिदों के रखरखाव के लिए मंजूरी मिले। बताया गया कि यहां पास हुए प्रस्तावों को सेटलमेंट कमेटी और सुन्नी वक्फ बोर्ड के चेयरमैन को भेजा जाएगा। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

गुटखा मसाला का पैसा मांगने पर दुकानदार को बदमाशों ने मारी गोली

Published

on

प्रतीकात्मक फोटो

लखनऊ। यूपी में बदमाशों के हौसले बुलंद होते जा रहे हैं। उनके अंदर से पुलिस का खौफ खत्म होता दिख रहा है। ऐसा ही मामला अलीगढ़ से आया है। जहां अपराधियों ने एक दुकानदार को गुटखे का पैसा मांगने पर गोली मार दी। गोली लगने से घायल युवक को अस्पताल में भर्ती कराया जहां उसका इलाज चल रहा है। वहीं पुलिस मामला दर्ज कर आरोपी की तलाश में जुटी है।

जानकारी के अनुसार यह घटना अलीगढ़ के माधोपुर क्षेत्र का है। जहां बुधवार रात आरोपी ने दुकानदार को सिर्फ इसलिए गोली मार दी क्योंकि उसने गुटखा के पांच रुपये मांग लिए। जब दीपक, तिकन्ना, पोटा और फौजदार एक दुकान पर गए और दुकानदार छोटू अग्रवाल से पांच रुपये का एक गुटखा खरीदा। छोटू ने चारों से गुटखा के रुपये मांगे, तो उन्होंने मना कर दिया। जब छोटू ने इसके लिए जिद की तो चारों ने उसकी पेटी से कुछ रुपये निकाल लिए और उसकी पिटाई कर दी।

ये भी पढ़े- पीसीयू सभागार में सहकारिता अधिकारियों एवं कर्मचारियों को किया गया सम्मानित

दुकान के पास ही खड़ा एक स्थानीय निवासी अमित जब छोटू को बचाने गया तो संदिग्धों ने छोटू को गोली मार दी। जिसके बाद घायल छोटू को अस्पताल में भर्ती कराया गया। स्थानीय निवासी अमित का कहना है कि आरोपियों ने उनके खिलाफ शिकायत करने पर उसके परिजनों की भी मौत के घाट उतारने की धमकी दी।

वहीं पुलिस अधीक्षक ने कहा कि शिकायत के आधार पर संदिग्धों के खिलाफ पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और आरोपियों को जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

October 11, 2019, 6:46 am
Fog
Fog
22°C
real feel: 27°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 93%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 1
sunrise: 5:33 am
sunset: 5:13 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 10 other subscribers

Trending