Connect with us

प्रदेश

PCS अफसर ने जीता मिसेज इंडिया 2019 का खिताब, जानिए कैसा रहा उनका सफर

Published

on

ऋतु सुहास

फाइल फोटो

लखनऊ। अगर इंसान के हौसले बुलंद हो तो वह पूरे आसमान को मुठ्ठी में कर सकता है। ऐसे में कभी किसी को हार नहीं माननी चाहिए। बस मेहनत करते रहना चाहिए। मंजिल खुद-ब-खुद आपके कदम चूमेगी। बता दें अभी हाल ही में अपनी कड़ी मेहनत और लग्न के दम पर पीसीएस अधिकारी ऋतु सुहास ने मुंबई में आयोजित मिसेज इंडिया 2019 का खिताब अपने नाम किया।

इस प्रतियोगिता का फाइनल राउंड रविवार को देर रात पूरा हुआ। इस प्रतियोगिता में शामिल 20 राज्यों के 59 प्रतिभागियों को आत्मविश्वास से भरी ऋतु ने पीछे छोड़ दिया। प्रतियोगिता में कुल 6 राउंड हुए थे, जिसमें कॉस्ट्यूम व सवाल-जवाब सेशन में ऋतु सबसे आगे रहीं और विनर बनीं।

ऋतु सुहास

यूपी का प्रतिनिधित्व करते हुए उन्होंने मुगले आजम की अनारकली ड्रेस पहनी, जिसने निर्णायकों को प्रभावित किया जबकि सवाल-जवाब राउंड में उनसे सफलता और असफलता के मायने पूछे गए। उनका जवाब था कि ये दोनों एक-दूसरे के विलोम नहीं बल्कि पर्यायवाची हैं।

असफल होने के बाद लगातार किए गए प्रयासों का नतीजा है सफलता। सोमवार सुबह राजधानी लौटने पर चौधरी चरण सिंह अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर ऋतु सुहास का जोरदार वेलकम किया गया। एलडीए वीसी पीएन सिंह ने भी उनसे मुलाकात कर उन्हें खिताब जीतने के लिए बधाई दी।

बता दें ऋतु सुहास आईएएस अधिकारी व पैरा शटलर सुहास एल वाई की पत्नी हैं। उनके दो बच्चे भी हैं। वहीं ऋतु सुहास ने बातचीत के दौरान कहा कि ऑफिस और घर की जिम्मेदारी के बीच प्रतियोगिता की तैयारी थोड़ी कठिन चुनौतीपूर्ण रही है। मैंने काफी पहले से इसकी तैयारी शुरू कर दी थी, क्योंकि मैं बहुत ज्यादा समय इसकी तैयारियों के लिए नहीं निकाल पाती थी। इसके लिए मैंने घर में लगे वॉल मिरर और घर के सामने के पार्क को चुना। वहां पार्क में रनिंग के दौरान इस प्रतियोगित की प्रैक्टिस करती थी।

ये भी पढ़ें:फिल्म ‘आयशा’ को लेकर मुश्किल में फंसे वसीम रिजवी, पुलिस ने दर्ज किया मुकदमा

इतना ही नहीं ऋतु ने बताया कि वह पीसीएस के लिए अपनाई सेल्फ स्टडी की टेक्नीक को मिसेज इंडिया बनने के लिए भी अपनाई और सफल हो गई। इतना ही नहीं उन्होंने ये भी बताया कि स्पीच राउंड में सभी प्रतिभागियों ने महिला सशक्तीकरण पर अपनी बात रखी, लेकिन मैंने नमामि गंगे और स्वच्छ कुंभ पर अपनी बात रखी, जिसे जजेस ने काफी पसंद किया।

महंगी ड्रेस नहीं, आत्मविश्वास से जीती प्रतियोगिता

ऋतु कहती हैं कि प्रतियोगिताएं किसी भी स्तर की हों, उनकी तैयारियों ज्यादा खर्च नहीं करना चाहिए। महंगी ड्रेस नहीं बल्कि अपने भीतर का आत्मविश्वास विजेता बनाता है। ऋतु ने बताया कि उन्होंने कॉस्ट्यूम राउंड के लिए ड्रेस अपने एक थियेटर ग्रुप के दोस्त से उधार ली थी और ज्वेलरी किराए पर ली थी, जबकि फाइनल राउंड में जो गाउन मैंने पहना वह अमीनाबाद से कपड़ा खरीदकर बनवाया। हालांकि ऐसी प्रतियोगिताओं में इस्तेमाल किए गए कपड़े काफी महंगे होते हैं। जिन्हें एक बार पहनने के बाद कभी पहना ही नहीं जाता है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

प्रदेश

यूपी कांग्रेस में बब्बर ‘राज’ खत्म, अब ‘लल्लू’ के हाथों में ‘हाथ’ की कमान

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश कांग्रेस को नया प्रदेश अध्यक्ष मिल गया है। दशहरा की पूर्व संध्या पर कांग्रेस नेतृत्व ने पार्टी के विधानमंडल दल के नेता अजय कुमार ‘लल्लू’ को प्रदेश की कमान सौंप दी है। इसके साथ ही यूपी कांग्रेस अध्यक्ष पद से राज बब्बर की छुट्टी हो गयी। सूत्रों के मुताबिक यूपी कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष पद पर अजय कुमार लल्लू की ताजपोशी के साथ ही कांग्रेस विधायक आराधना मिश्रा ‘मोना’ को कांग्रेस विधानमंडल दल का नेता बनाया गया है।

अजय कुमार लल्लू वैश्य (ओबीसी) समाज से आते हैं। वह दो बार के कांग्रेस विधायक हैं। 40 वर्षीय अजय कुमार लल्लू कुशीनगर जिले की तमकुहीराज विधानसभा सीट से विधायक हैं। वर्ष 2012 और फिर 2017 में वह चुनाव जीतकर विधानसभा पहुंचे।
जनहित के मुद्दों को लेकर मुखर रहने वाले श्री लल्लू 2019 के लोकसभा चुनाव के बाद से ही महत्वपूर्ण जिम्मेदारी निभा रहे हैं। चुनाव के बाद कांग्रेस ने सभी जिला समितियों को भंग करते हुए यूपी विधानसभा उपचुनाव के लिए दो सदस्यीय समिति का गठन किया था। अजय कुमार लल्लू को बड़ी जिम्मेदारी देते हुए कांग्रेस ने उन्हें पूर्वी यूपी में संगठन के फेरबदल के लिए प्रभारी बनाया है।

यह भी पढ़ें-सुभासपा नेता अरविन्द राजभर को धमकी देने वाला युवक गिरफ्तार

राज्य सभा सांसद राज बब्बर को यूपी कांग्रेस की कमान 2017 के विधानसभा चुनाव के बाद सौंपी गयी थी। लेकिन विधानसभा चुनावों में पार्टी को खास सफलता नहीं मिली। 2019 के आम चुनावों में मिली करारी हार के बाद राज बब्बर ने अपनी जिम्मेदारी लेते हुए पार्टी को इस्तीफा सौंपा था। हालांकि तब उनका इस्तीफा स्वीकार नहीं हुआ था।
1989 में जनता दल के जरिये राजनीति में कदम रखने वाले राज बब्बर समाजवादी पार्टी से तीन बार लोकसभा सांसद भी रहे चुके हैं। साल 2006 में राज बब्बर कांग्रेस में शामिल हो गए। लंबे समय तक कांग्रेस के जुड़े रहने के बाद वह राज्यसभा भेजे गए और फिर यूपी कांग्रेस अध्यक्ष की कुर्सी तक पहुंचे। उत्तर प्रदेश की गलियों में पले बढ़े राज बब्बर का यूपी से बहुत पुराना ताल्लुक है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

यमुना एक्सप्रेस-वे पर कार का फटा टायर, हादसे में 6 लोग घायल…

Published

on

मथुरा: थाना सुरीर क्षेत्र में यमुना एक्सप्रेस-वे पर माइल स्टोन 88 के समीप सोमवार को तेज रफ्तार कार का टायर फटने से एक सड़क हादसा हो गया। बताया जा रहा है कि टायर फटने से कार रेलिंग तोड़कर सर्विस रोड में जा गिरी। वहीं हादसे में कार सवार 6 लोग घायल हो गए, जिन्हें पुलिस व एक्सप्रेस-वे कर्मचारियों ने मौके से हॉस्पिटल पहुंचाया।

ये भी पढ़ें: साइना नेहवाल की बायोपिक के लिए परिणीति चोपड़ा कर रही हैं कड़ी मेहनत

जानकारी के मुताबिक मनोज कुमार निवासी फरीदाबाद हरियाणा अपनी कार बुकिंग पर चलाते हैं। वहीं सोमवार को सांदीपन घोष निवासी कोलकाता ने आगरा घूमने के लिए कार की बुकिंग की थी। वह  अपने परिजनों एलसी घोष, अमित घोष, दिलीप घोष एवं सचिन घोष के साथ यमुना एक्सप्रेस-वे होते हुए आगरा जा रहे थे। तभी दोपहर करीब 1 बजे कार का टायर फट गया, जिसके चलते कार अनियंत्रित हो गई और रेलिंग तोड़कर सर्विस रोड पर नीचे जा गिरी। इस हादसे में कार सवार 6 लोग घायल बताए जा रहें हैं। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

वन्देभारत के बाद अराजक तत्वों ने तेजस पर भी किया पथराव, टूटे शीशे….

Published

on

तेजस एक्सप्रेस

फाइल फोटो

लखनऊ। देश की पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस नियमित संचालन के पहले दिन ही पथराव का शिकार हो गई। शनिवार रात जब ट्रेन इटावा-कानपुर के बीच थी, तभी कुछ अराजक तत्वों ने ट्रेन पर पथराव कर दिया। जिससे ट्रेन के शेषे भी चटक गए। हालांकि किसी भी यात्री को कोई नुकसान नहीं हुआ है।

लखनऊ जंक्शन से नई दिल्ली के बीच चलने वाली देश की पहली कॉर्पोरेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस का उद्घाटन शुक्रवार को यूपी योगी आदित्यनाथ ने किया था। शुक्रवार को ट्रेन दिल्ली गई थी और शनिवार को वापस आ रही थी। पहले दिन दिल्ली जाने में ट्रेन में 480 और वापसी में 600 सीटों की बुकिंग हुई। इस ट्रेन में कुल 758 सीटें हैं। शनिवार को वापसी के बाद यह ट्रेन लखनऊ के यार्ड में खड़ी थी। रविवार सुबह 6:10 बजे लखनऊ से रवाना होने के पहले ही देखा गया कि ट्रेन के शीशे टूटे हुए थे।

ये भी पढ़ें:लखनऊ चिड़िया घर में चल रहे राज्य-स्तरीय वन्य-प्राणी सप्ताह समारोह का हुआ समापन

बता दें तेजस एक्सप्रेस से पहले वन्देभारत पर भी अराजक तत्वों ने हमला किया था। इस ट्रेन में एक नहीं कई बार हमले हो चुके हैं। जिसकी वजह से इस ट्रेन में आरपीएफ का एक दस्ता जरुर चलता है।

कुछ लोगों की इस हरकत से सोशल मीडिया पर यूजर्स का कहना है कि हम लोग तेजस एक्प्रेस जैसी अच्छी ट्रेन के लायक नहीं है। एक ने लिखा कि इस देश में लोगों कि सोच कब बदलेगी। बता दें तेजस एक्सप्रेस चलने के पहले दिन ट्रेन में 700 से अधिक सीटों की बुकिंग हुई। इस ट्रेन में आम ट्रेन के मुक़ाबले बहुत सारी लगजरी सुविधाएं हैं। जो सभी को चाहिए होती हैं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

October 8, 2019, 5:51 am
Fog
Fog
23°C
real feel: 25°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 88%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:32 am
sunset: 5:16 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 10 other subscribers

Trending