Connect with us

प्रदेश

सोनिया गांधी ने रायबरेली से पांचवीं बार किया नामांकन

Published

on

कहा, अजेय नहीं हैं मोदी, 2004 मत भूलिए

नामांकन के दौरान राहुल गांधी व प्रियंका का उनका पूरा परिवार भी रहा मौजूद

रायबरेली। यूपीए अध्यक्ष और रायबरेली की चार बार की सांसद सांसद सोनिया गांधी ने गुरूवार को पांचवीं बार रायबरेली से नामांकन दाखिल कर दिया। इस दौरान उनके साथ बेटा, बेटी, दामाद व उनके उनके बच्चे भी उपस्थित रहे। गांधी परिवार हमेशा से रायबरेली ओर अमेठी में भावनात्मक जुडाव के आधार पर संसद पहुंचता रहा है। इसके पहले बुधवार को राहुल गांधी के नामांकन के समय भी पूरा गांधी परिवार सड.कों पर दिखा था।

नामांकन दाखिल करने के लिए कांग्रेस मुख्यालय से निकलने के पहले सोनिया गांधी ने हवन-पूजन किया। इसके बाद कलेक्टेट तक रोड शो किया। इस दौरान उनके साथ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के अलावा रॉबर्ट वाड्रा, रेहान और मिराया वाड्रा भी मौजूद रहे। रास्ते में सोनिया का काफिला भटक गया और काफी जाम लग गया जिससे प्रशासन में हड़कंप मच गया। खराब स्वास्थ्य के चलते सोनिया गांधी ने खुले ट्रक के बजाय गाड़ी से रोड शो किया। इस दौरान उन्होंने बीच-बीच में बाहर निकालकर कार्यकर्ताओं की तरफ हाथ भी हिलाया। रोड शो के दौरान सड़कों पर कांग्रेस समर्थकों का भारी हुजूम उमड़ आया। लोग हाथों में कांग्रेस के झंडे के साथ, न्याय योजना के प्रचार की टीशर्ट और राफेल के लिए काले झंडे भी लिए हुए थे। लगभग 700 मीटर के रास्ते पर रोड शो करते हुए सोनिया गांधी कलेक्ट्रेट पहुंची और नामांकन पर्चा भरा।

नामांकन दाखिल करने के बाद सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चेतावनी देते हुए कहा कि 2004 का आम चुनाव मत भूलिए। उस समय वाजपेयी (अटल बिहारी वाजपेयी) भी अजेय थे लेकिन हम जीते। पीएम मोदी भी अजेय नहीं हैं, कांग्रेस फिर से इस बार जीत दर्ज करेगी। बता दें कि 2004 में सभी सियासी पंडितों के दावों को खारिज करते हुए कांग्रेस ने वाजपेयी सरकार को सत्ता से बेदखल कर दिया था।
सोनिया के साथ राहुल गांधी ने मीडिया से बातचीत में एक बार फिर पीएम मोदी को खुली बहस की चुनौती दी। उन्होंने कहा, भारतीय इतिहास में ऐसे कई लोग रह हैं जो यह सोचते थे कि वह अजेय हैं और भारत के लोगों से बड़े हैं। नरेंद्र मोदी ने 5 साल में भारत के लोगों के लिए कुछ नहीं किया। वह बस इतना बता दें कि उन्होंने अनिल अंबानी को ठेका कैसे दिया?

रायबरेली सीट गांधी परिवार का मजबूत गढ़ रही है और पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की कर्मभूमि मानी जाती है। लेकिन इस बार चर्चा है कि अमेठी और रायबरेली में सीट बचाए रख पाना गांधी परिवार के मुश्किल है। क्योंकि दोनो ही जगह भाजपा के उम्मीदवार गांधी परिवार को कांटे की टक्कर देने की स्थिति में हैं।

सोनिया का मुकाबला दिनेश सिंह से

रायबरेली लोकसभा सीट के लिए मतदान पांचवें चरण के तहत छह मई को होगा। इस बार सोनिया का मुकाबला दिनेश प्रताप सिंह से है, जो कांग्रेस छोडकर हाल ही में भाजपा में शामिल हुए हैं। सपा और बसपा ने रायबरेली से उम्मीदवार नहीं उतारा है। सोनिया इस सीट पर 2004, 2006 (उपचुनाव), 2009 और 2014 में विजयी रही हैं।

रायबरेली में तीन बार हारा कांग्रेस उम्मीदवार

इस सीट से कांग्रेस को 1977, 1996 और 1998 में हार का सामना करना पड़ा। आपातकाल के बाद 1977 में भारतीय लोक दल के राज नारायण ने तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को हराया था। 1996 एवं 1998 में भाजपा उम्मीदवार अशोक कुमार सिंह ने इस सीट पर जीत दर्ज की। यहां से फिरोज गांधी, इंदिरा गांधी, अरुण नेहरू, शीला कौल और सतीश शर्मा चुनाव लड़ चुके हैं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Breaking News:

UPPCL विभाग के 20 हजार संविदा कर्मियों का अनिश्चितकालीन कार्य बहिष्कार हड़ताल

Published

on

यूपी के लगभग 20 हजार संविदा कर्मियों ने अपनी मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन कार्य बहिष्कार हड़ताल कर दी है। कर्मियों का कहना है कि अपनी मांगो को लेकर पहले ही प्रशासन को नोटिस दी थी लेकिन उनकी बात नहीं सुनी गई। जिसके बाद उन्होंने कार्य बहिष्कार हड़ताल करने का फैसला लिया। प्रदेश भर के संविदा कर्मी लखनऊ के आलमबाग के ईको गार्डेन में प्रदर्शन कर रहे हैं।

उन्होंने ठेकेदारी की लूट खत्म कर रोल पर रखकर वेतन दिए जाने की मांग रखी साथ ही साथ कई कई मांगे की हैं। संविदा कर्मी 27 जून से प्रदर्शन कर रहे हैं जहां प्रदेश के कोने-कोने से आकर संविदा कर्मी शामिल हुए। इनका कहना है ठेकेदारी की मनमानी लूट खत्म की जाए । और हमें उचित वेतन साथ ही साथ दुर्घटना बीमा भी लागू किया जाए

लखनऊ। उत्तर प्रदेश पॅावर कॉरपोरेशन निविदा संविदा कर्मचारी संघ के संरक्षक व मोहनलालगंज के सांसद कौशल किशोर की भी इनकी बात नहीं सुनी। ऐसे में यूपी के अलग-अलग जिलों से आए बीस हजार संविदा कर्मियों ने अनिश्चितकालीन कार्य बहिष्कार पर चले गए हैं। अब देखना है कि इसका खामियाजा उपभोक्ताओं को भुगतना पड़ता हैं या उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन को

संयुक्त संघर्ष समिति एवं ऑल इंडिया पावर फेडरेशन के अध्यक्ष शैलेंद्र दुबे ने उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन निविदा संविदा कर्मचारी संघ के आंदोलन को दिया समर्थन

प्रदेश महामंत्री श्री देवेंद्र कुमार पांडे, प्रदेश उपाध्यक्ष हर्षवर्धन,प्रदेश उपाध्यक्ष सुरेंद्र पांडे,दक्षिणांचल उपाध्यक्ष गणेश तोमर,रामभूल सैनी सुरेंद्र कुमार बाजपाई,लखनऊ जिला अध्यक्ष इशरत अली

उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन निविदा संविदा कर्मचारी संघ के तत्वाधान में 27 जून 2019 से इको गार्डन आलमबाग लखनऊ में चल रहे आंदोलन एवं 30 जून 2019 से चल रहे कार्य बहिष्कार के दूसरे दिन संगठन के प्रदेश महामंत्री श्री देवेंद्र कुमार पांडे, प्रदेश उपाध्यक्ष हर्षवर्धन,प्रदेश उपाध्यक्ष सुरेंद्र पांडे,दक्षिणांचल उपाध्यक्ष गणेश तोमर,रामभूल सैनी सुरेंद्र कुमार बाजपाई,लखनऊ जिला अध्यक्ष इशरत अली ने संयुक्त संघर्ष समिति संयोजक एवं ऑल इंडिया पावर फेडरेशन के अध्यक्ष शैलेंद्र दुबे से मुलाकात की और उन्होंने पूर्ण भरोसा दिलाते हुए कहा की हमारा संगठन आपके साथ हैं

Continue Reading

प्रदेश

संचारी रोग नियंत्रण अभियान के दूसरे चरण की हुई शुरुआत…

Published

on

लखनऊ: सीएम योगी आदित्यनाथ ने लोकभवन में सोमवार को संचारी रोग नियंत्रण दस्तक अभियान के दूसरे चरण की शुरुआत की है। बता दें कि यह अभियान एक महीने तक चलेगा। 
इस दौरान सीएम ने कहा कि संचारी रोग नियंत्रण के लिए किए जा रहे काम का अच्छा परिणाम मिला है। संचारी रोग नियंत्रण और दस्तक अभियान बेहद सफल रहा है। साथ ही योगी ने कहा कि इस अभियान में यूनिसेफ ने यूपी सरकार की मदद की है। इंसेफेलाइटिस से प्रदेश के 38 जिले प्रभावित थे, इस अभियान से इस पर काफी रोकथाम हुई है।

पहले चरण में गोरखपुर और बस्ती मंडल के 7 जिलों में अभियान चलाया गया था। इस बार लखनऊ और देवीपाटन मंडल के 10 और जिलों में भी यह दस्तक अभियान चलाया जाएगा। वहीं पिछले साल चलाए गए इस अभियान के अच्छे नतीजे भी आए सामने हैं। साल 2017 की तुलना में 2018 में दिमागी बुखार से होने वाली मौतों में 63 फीसदी की कमी आई है।

ये भी पढ़े: नोएडा: पुलिस ने सेक्स रैकेट का किया भंडाफोड़, 25 विदेशी लड़कियां और 10 लड़के गिरफ्तार

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा, मुझे बहुत प्रसन्नता है कि विगत वर्ष जिस तरह अभियान बनाकर विभाग ने काम किया था। उसका असर नजर आया था, और इस बार भी बड़े स्तर पर इस अभियान का असर नजर आएगा। उन्होंने कहा कि लम्बे अरसे से यह संचारी रोग अपना असर पूर्वांचल में दिखा रहे थे। साल दर साल इससे मौतों की संख्या बढ़ती गई, लेकिन पहले की सरकारों में इस पर सोचने का समय नहीं था। साल 2017 में हमने इस पर काम शुरू किया है। सतत कार्यक्रम के साथ संचारी रोग पर बड़े स्तर पर काम किया जा सकता है।

पिछले साल संचारी रोगों के नियंत्रण के लिए नोडल विभाग बनाये गए थे। संचारी रोग नियंत्रण के लिए किए जा रहे काम का अच्छा परिणाम मिला है। इस अभियान से इंसेफेलाइटिस पर काफी रोकथाम हुई है। साल 2014 से चले इस अभियान में जब उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार बनी तो बड़े स्तर पर उत्तर प्रदेश में काम हुआ है। इस बीमारी से मरने वाले लोग गरीब होते थे, इसलिए पिछली सरकार उनपर ध्यान नही देती थी। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

योगी मंत्री दारा सिंह चौहान ने वृक्षारोपण कर वन महोत्सव का किया शुभारंभ, लगाए 22 करोड़ पौधे….

Published

on

वृक्षारोपण

फाइल फोटो

लखनऊ। राजधानी के कुकरैल में योगी सरकार ने आज वृक्षारोपण कराकर वन महोत्सव का शुभारंभ किया गया। हफ्तेभर तक चलने वाले इस महोत्सव में प्रदेश सरकार के मंत्री दारा सिंह चौहान भी पहुंचे। उन्होंने वृक्षारोपण का वन महोत्सव का शुभारंभ किया।  

बता दें वृक्षारोपण का कार्यक्रम पूजा करने के बाद शुरू किया गया, यह काम पर्यावरण शुद्ध और बेहतर बनाने के लिए यूपी सरकार कर रही है।

इस वन उत्सव में कई स्कूलों के छात्र-छात्राओं भी हिस्सा लिया और पेड़ लगाने के लिए वह कुकरैल के जंगलों में पहुंचे। बता दें वन महोत्सव के अवसर पर अर्जुन,शीशम,नीम, अकेसिया आकरयुलिस फार्मिस  जैसे तमाम प्रजाति के वृक्ष लगाए गए मंत्री दारा सिंह मंत्री के साथ कल्पना अवस्थी के साथ छात्र छात्राओं ने वृक्षारोपण किया।

वहीं दारा सिंह ने वृक्षारोपण के बारे में बात करते हुए कहा कि पहली बार यूपी के अंदर यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में एक साथ 22 करोड़ पौधे लगाने का अभियान चलाया है। जो 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस के मौके पर मुख्य रूप से पूरा हो जाएगा। उन्होंने ये भी कहा सिर्फ देशभर में ही नहीं बल्कि दुनियाभर में इतिहास में सबसे बड़ा दिन होगा जहां पर एक साथ 22 करोड़ पौधे लगाए जाएंगे।

वहीं पौधों को बचाए जाने के बिना पर मंत्री दारा सिंह ने कहा पहली बर नहीं बल्कि पिछली बार भी वन महोत्सव के दिन वृक्षारोपण कराया था। इस अभियान को चलाने के लिए लगभग 22 विभागों को जोड़ा गया है। ऐसे में उन्होंने कहा जो विभाग पौधा लगाएगा वह ही उसके बड़े होने तक उसकी देखभाल करेगा। वहीं सरकार जियो टेकिंग के जरिए उसकी निगरानी करेगी।

ये भी पढ़े:अब अगर एक्सप्रेस वे पर 3 घंटे से पहले पहुंचे आगरा से लखनऊ तो कटेगा चालान, जानिए वजह….

दारा सिंह ने कहा पिछली साल जो पेड़ लगे थे लगभग उसके 80 परसेंट पेड़ सही सलामत हैं। उन्होंने कहा जिस तरह सरकार का अभियान वृक्ष लगाने का है उसी तरह उसे संरक्षित करने का भी है। उन्होंने कहा इस वृक्षारोपण के कार्य में माननीय मुख्यमंत्री योगी ने 100 करोड़ रूपये खर्च किए हैं। वहीं पेड़ लगाने के शुभ कार्य में बच्चों, बूढों, नौजवानों और सभी विभागों के लोगों को भी जोड़ा गया है।इतना ही नहीं साथ-साथ सरकार के 22 प्रतिष्ठानों को भी जोड़ा गया है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

July 1, 2019, 4:01 pm
Mostly cloudy
Mostly cloudy
37°C
real feel: 41°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 41%
wind speed: 1 m/s ENE
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 2
sunrise: 4:47 am
sunset: 6:34 pm
 

Recent Posts

Trending