Connect with us

प्रदेश

प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह ने कांग्रेस और सपा नेताओं को दिलाई भाजपा की सदस्यता….

Published

on

स्वतंत्रदेव सिंह

फाइल फोटो

लखनऊ। भाजपा में शामिल हुए पूर्व सांसद संजय सिंह, पूर्व मंत्री अमिता सिंह, पूर्व सांसद संजय सेठ और सुरेंद्र नगर ने आज रविवार को यूपी के प्रदेश भाजपा मुख्यालय पर अपनी ताकत दिखाई। कांग्रेस से आने वाले संजय सिंह और अमिता सिंह ने बीजेपी की सदस्यता ग्रहण कर औपचारिक तौर पर पार्टी में शामिल हो गए। संजय सिंह को राहुल गांधी का करीबी माना जाता है। वह इन सभी नेताओं के साथ सैकड़ों समर्थकों ने भी बीजेपी की सदस्यता ली।

ये भी पढ़ें:मुरादाबाद: बस और ट्रक में जबरजस्त भिड़ंत, 24 यात्री घायल, 7 की हालत गंभीर

बता दें कि समाजवादी पार्टी के पूर्व राज्यसभा सांसद संजय सेठ, सुरेन्द्र नागर ने नई दिल्ली में 10 अगस्त को बीजेपी ज्वाइन किया था। इसके बाद दोनों पहली बार यूपी बीजेपी के कार्यक्रम में शामिल हुए। इन दोनों नेताओं ने सुबह मुख्यमंत्री आवास पर सीएम योगी अदित्यनाथ से मुलाकात की थी। स्वतंत्र देव सिंह और सुनील मंत्री की मौजूदगी में दोनों ने सीएम योगी अदित्यनाथ से मुलाकात की थी। प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने संजय सेठ, सुरेंद्र नगर, संजय सिंह और अमिता सिंह को को बीजेपी का अंगवस्त्र पहनाकर स्वागत किया और खुद की सक्रिय सदस्यता के लिए 50-50 साधारण सदस्य बनाने की पुस्तिका भी भेंट की गई। बताते चलें कि इस सदस्यता ग्रहण में जय-जय-जय अखिलेश की तर्ज पर बीजेपी दफ्तर में जय-जय-जय महाराज के नारे भी लगाए गए।http://www.satyodaya.com

प्रदेश

कुत्तों को आईकार्ड बांटेगा वाराणसी नगर निगम, ‘आवारागर्दी’ पर लगेगी लगाम

Published

on

लखनऊ। इन दिनों में उत्तर प्रदेश में सड़क से लेकर संसद तक ‘आवारागर्दी’ पर हंगामा मचा हुआ है। आवारा जानवरों से किसान परेशान हैं और कांग्रेस खूब हो-हल्ला कर रही है। आवारा लड़कों से पुलिस परेशान है, जो खूलेआम भीड़ भरी सड़कों पर फर्राटा भर रहे हैं और कानून व्यवस्था को चुनौती दे रहे हैं। आवारा जानवरों और लड़कों के अलावा आवारा कुत्ते भी छोटी मुसीबत नहीं हैं। सड़कों पर आवारा कुत्तों का झुण्ड देखकर हर कोई ठिठक जाता है। कई ऐसी घटनाएं भी सामने आ चुकी हैं, जब आवारा कुत्तों ने छोटे बच्चों को नोच-नोचकर मार ही डाला।

यह भी पढ़ें-वित्तीय अनियमितता में फंसी भातखण्डे की कुलपति, राज्यपाल ने दिए जांच के आदेश

आवारा कुत्तों की इस समस्या से निपटने के लिए वाराणसी नगर निगम ने एक योजना बनाई है। वाराणसी नगर निगम जल्द ही कुत्तों को भी आईकार्ड देने जा रहा है। ताकि पालतू कुत्तों और आवारा कुत्तों में फर्क किया जा सके। इन आईकार्ड में कुत्तों की पूरी पहचान होगी। कुत्तों के आईकार्ड बनाने के लिए वाराणसी नगर निगम बाकायदा एक साफ्टवेयर भी तैयार करवा रहा है।

पालतू कुत्तों का आईकार्ड बन जाने के बाद आवारा कुत्तों की नसबंदी करना भी आसान हो जाएगा। नगर निगम के एक अधिकारी के अनुसार इस साफ्टवेयर के माध्यम से पालतू कुत्तों का रजिस्टेशन किया जाएगा। वाराणसी नगर निगम ने फिलहाल करीब 20 से 30 हजार कुत्तों का रजिस्टेशन करने का लक्ष्य रखा है।

नगर आयुक्त गौरांग राठी के अनुसार आवारा कुत्तों की नसबंदी का काम पहले से ही चल रहा है। लेकिन 2 महीने बाद इसे बड़े स्तर पर चलाया जाएगा। दिल्ली, अहमदाबाद और इंदौर में यह अभियान पहले से चल रहा है। बता दें कि आवारा बंदरों से वाराणसी नगर निगम पहले से ही परेशान है। ऐसे में आवारा कुत्तों की बढ़ती संख्या एक और मुसीबत की ओर इशारा कर रही है। लेकिन अधिकारियों ने इस समस्या को बढ़ने से पहले ही नियंत्रित करने का प्लान तैयार कर दिया है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

केजीएमयू में स्टाफ की कमी से टल रहे भर्ती मरीजों के ऑपरेशन

Published

on

केजीएमयू

फाइल फोटो

लखनऊ। केजीएमयू की उदासीनता मरीजों पर भारी पड़ रही है। यहां गेस्ट्रो सर्जरी विभाग में मरीजों का इलाज प्रभावित है। स्टाफ की कमी से एक ऑपरेशन थिएटर का संचालन नहीं हो सका। कई ऑपरेशन टाल दिए गए हैं।

केजीएमयू में जनरल सर्जरी, सीटीवीएस, न्यूरो सर्जरी, गेस्ट्रो सर्जरी विभाग में ऑपरेशन की वेटिंग चल रही है। मरीजों को ऑपरेशन की लंबी तारीख दी जा रही है। गेस्ट्रो सर्जरी विभाग में भी एक से दो माह बाद की तारीख दी जा रही है। लंबी तारीख के बाद गुरुवार को ऑपरेशन का नम्बर आया। लेकिन स्टाफ की कमी से एक ऑपरेशन थिएटर का संचालन नहीं हो सका। शताब्दी फेज एक में गैस्ट्रो सर्जरी विभाग है।

ये भी पढ़ें:लखनऊ: काकोरी में युवक ने फांसी लगाकर की आत्महत्या…

यहां दो ओटी संचालन हो रहा है। इसके लिए शिफ्ट के साथ तीन स्टाफ नर्स तैनात हैं। इसमें भी एक चाइल्ड केयर लीव पर चली गई। करीब एक माह से विभाग में मरीजों के इलाज में अड़चन आ रही है। डॉक्टर भर्ती मरीज का समय पर ऑपरेशन नहीं कर पा रहे हैं। विभाग के डॉक्टर नर्स की तैनाती के लिए गुहार लगा रहे हैं। सुनवाई नहीं हो रही है। गुरुवार को एक डॉक्टर ने संस्थान के वाट्सएप ग्रुप पर मरीजों की पीड़ा बयां की हैं। लिहाजा छोटे बड़े दो ऑपरेशन नहीं हो सके।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

डफरिन अस्पताल में खुलेगा पुस्तकालय, स्त्रीरोग व प्रसूता विषय पर कोर्स भी होगा संचालित

Published

on

डफरिन अस्पताल

फाइल फोटो  

लखनऊ। डफरिन अस्पताल में अब नवनिर्मित पुस्तकालय खुलेगा। इससे एमबीबीएस छात्र-छात्राओं को अपने जानकारी बढ़ाने में मदद मिलेगी। यहां चिकित्सकों को कोर्स से संबंधित पुस्तकें, शोध पत्र, ऑनलाइन ई-जर्नल उपलब्ध करवाये जायेंगे।

स्टडी टेबल, चेयर, कंप्यूटर के साथ-साथ लाइब्रेरी में चिकित्सकों को पढऩे के लिये माहौल मिलेगा। तीन साल के लिए शुरू हो रहे पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स में हर बैच के मुताबिक साल भर में 14 से 15 चिकित्सक भर्ती होंगे, डफरिन में स्त्रीरोग व प्रसूता विषय पर कोर्स संचालित किया जाएगा। हर बैच में दो सीट होंगी। एमडी की तर्ज पर दो वरिष्ठ रेजीडेंट चिकित्सक भी कोर्स का हिस्सा होंगे। शोध पत्रों के लिए केजीएमयू से करार कर लिया गया है, वहां की ई-लाइब्रेरी के माध्यम से राष्ट्रीय व अंतराष्ट्रीय शोध पत्र के जरिए चिकित्सकों को ऑनलाइन सुविधा से वरिष्ठ शोधकर्ताओं का परामर्श मिलेगा। 

ये भी पढ़ें:दो बाइकों की टक्कर में गिरे युवक को ट्रैक्टर ने कुचला,मौत…

अस्पताल की प्रमुख चिकित्सा अधीक्षिका डॉ नीरा जैन ने बताया कि अगले माह तक निरीक्षण होना है, उससे पहले पुस्तकालय पहले तल पर बनकर तैयार हो जाएगा, पाठ्यक्रम में मौजूद पूरी सामग्री चिकित्सकों को लाइब्रेरी में उपलब्ध करवाई जाएगी।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

February 28, 2020, 3:33 pm
Mostly cloudy
Mostly cloudy
25°C
real feel: 26°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 53%
wind speed: 1 m/s SE
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 2
sunrise: 6:02 am
sunset: 5:36 pm
 

Recent Posts

Trending