Connect with us

प्रदेश

SC से मिली 5 एकड़ जमीन पर मस्जिद नहीं बनाएगा सुन्नी वक्फ बोर्ड: जुफर फारुखी…

Published

on

सुन्नी वक्फ बोर्ड

फाइल फोटो

लखनऊ। ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) के बाद अब सुन्नी वक्फ बोर्ड अयोध्या में पांच एकड़ जमीन पर मस्जिद बनाने न बनाने पर फैसला लिए जायेगा। सुन्नी वक्फ बोर्ड की आखिरी बैठक 26 नवंबर को होगी। जिसमे 5 एकड़ जमीन को लेकर अंतिम फैसला लिया जाएगा। जानकारी के मुताबिक सुन्नी वक्फ बोर्ड बाबरी मस्जिद के बदले में सरकार द्वारा दी जाने वाली जमीन पर मस्जिद नहीं बनाएगा।

वहीं सूत्रों की माने तो 5 एकड़ जमीन का प्रस्ताव ठुकराने की बाद अब उस जमीन पर हॉस्पिटल या एजुकेशन इंस्टीट्यूट बनाने को लेकर मिल रहे सुझावों पर विकल्प के तौर पर विचार किया जाएगा। ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के अलावा असदुद्दीन ओवैसी और मौलाना महमूद मदनी ने भी 5 एकड़ जमीन पर मस्जिद बनाने को शरीयत के खिलाफ बताया था।

ये भी पढ़ें:उच्च सदन ने हमेशा सत्ता को निरंकुश होने से रोके रखा : पीएम मोदी

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने 17 नवंबर की बैठक में 5 एकड़ जमीन को शरीयत के खिलाफ बताया था। वहीं बोर्ड ने 30 दिनों के भीतर अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसलों को चुनौती देनी की बात भी कही थी।

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सचिव जफरयाब जिलानी ने बोर्ड की बैठक के बाद कहा था, ‘‘मस्जिद अल्लाह की है और शरिया के तहत इसे किसी और को नहीं दिया जा सकता।’’ उन्होंने कहा ‘‘बोर्ड ने साफ कहा है कि वह मस्जिद की जगह अयोध्या में पांच एकड़ जमीन लेने के खिलाफ है। बोर्ड की राय है कि मस्जिद का कोई विकल्प नहीं हो सकता।’’

आपको बता दें सुप्रीम कोर्ट ने 9 नवंबर को बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि मामले में अपने फैसले में कहा था कि 2.77 एकड़ विवादित जमीन राम लला को सौंपी जानी चाहिए, जो तीन वादियों में से एक हैं। पांच न्यायाधीशों की पीठ ने केंद्र सरकार को यह निर्देश भी दिया था कि सुन्नी वक्फ बोर्ड को मस्जिद बनाने के लिए अयोध्या में पांच एकड़ जमीन दे दिया जाए।http://www.satyodaya.com

प्रदेश

राममंदिर भूमिपूजन के लिए बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी को मिला निमंत्रण

Published

on

भूमि पूजन में शामिल होने का सौभाग्य मिला है, मैं खुश हूं

सुरक्षा की दृष्टि से अयोध्या की सभी सीमाएं कल से हो जाएंगी सील

लखनऊ। ब्रह्मांड नायक भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर के निर्माण की तैयारी लगभग पूरी हो चुकी है। 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों भूमि पूजन और राम मंदिर निर्माण के कार्य का शुभारंभ होना है । राममंदिर निर्माण के लिए पांच अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों होने वाले ऐतिहासिक भूमि पूजन को लेकर अयोध्या उत्सव में लीन है। आयोजन को लेकर हर धर्म के लोगों में खुशी का माहौल है। इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए, साधु-संतों के साथ ही अयोध्या भूमि विवाद मामले के पूर्व मुकदमेबाज इकबाल अंसारी को भी राम मंदिर की नींव रखने की रस्म में शामिल होने का निमंत्रण पत्र भेजा जा रहा है। इस पर इकबाल अंसारी ने कहा कि यह भगवान राम की इच्छा थी जो मुझे पहला निमंत्रण मिला। मैं इसे स्वीकार करता हूं।

इकबाल अंसारी ने कहा, “यह धार्मिक नगरी है। यहां गंगा-जमुनी तहजीब कायम है। यहां कण-कण में देवता वास करते हैं। सुप्रीम कोर्ट के निर्णय से सभी विवाद खत्म हो गए। देश के संविधान पर सभी मुस्लिमों को भरोसा है। मैं जरूर जाऊंगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को रामचरित मानस भेंट करूंगा।”

राम मंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन के कार्यक्रम के लिए करीब 300 लोगों को न्योता भेजा गया हैं। इसमें बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी का भी नाम शामिल है। इसे लेकर वह बहुत खुश है। उन्होंने कहा कि यह अयोध्या है यहां के मठ मंदिरों में हमेशा से एकता की फुहार निकलती रही है। मैं हमेशा वहां जाता रहा हूं। इसलिए यह बहुत बड़ा कार्यक्रम होंने जा रहा इसे लेकर मैं बहुत खुश हूं। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री के स्वागत के लिए उन्होंने रामचरितमानस और रामनामी खरीद कर लाए हैं। यह अयोध्या की अनमोल धरोहर है।

बता दें, इकबाल अंसारी ने पहले कहा था, कि उनकी चाहत है कि वो पीएम मोदी को खुद रामनामी पटका ओढ़ाएं और हिन्दू पवित्र ग्रंथ रामचरितमानस भेंट स्वरूप दें। यदि उन्हें ट्रस्ट द्वारा निमंत्रण दिया जाता है तो राममंदिर के भूमि पूजन में शामिल होने का सौभाग्य कतई नहीं गंवाएंगे।

इसे भी पढ़ें- समाजवादी पार्टी के नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी की कोरोना रिपोर्ट आई निगेटिव

अयोध्या में होने वाले भूमिपूजन कार्यक्रम में शामिल होने वाले सभी आमंत्रित लोगों को 4 अगस्त तक पहुंचना होगा। क्योंकि सुरक्षा की दृष्टि से अयोध्या की सभी सीमाएं मंगलवार शाम के बाद से बंद कर दी जाएंगी। उसके बाद किसी को भी अयोध्या में प्रवेश नहीं मिलेगा। 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अयोध्या आगमन और राम मंदिर भूमि पूजन कार्यक्रम को देखते हुए चप्पे-चप्पे पर निगरानी की जा रही है। इतना ही नहीं न कोरोना के चलते सोशल डिसटेंस का पालन करते हुए भूमि पूजन वाले दिन एक साथ पांच लोग इकट्ठे नहीं होंगे। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

समाजवादी पार्टी के नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी की कोरोना रिपोर्ट आई निगेटिव

Published

on

कल होगें अस्पताल से डिस्चार्ज

पार्टी कार्यकर्ताओं में छाई खुशी

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता व नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी की छठवीं लेटेस्ट कोरोना रिपोर्ट सोमवार को नेगेटिव आई है। वह पिछले 40 दिनों से पीजीआई में भर्ती हैं। यानि रामगोविंद चौधरी यानि अब ठीक हो गए हैं। रामगोविंद चौधरी को अस्पताल से डिस्चार्ज किया जा चुका है और अब वो कल अपने घर जाएंगे। इस बात की जानकारी समाजवादी पार्टी के जिला प्रवक्ता सुशील कुमार पाण्डेय ‘कान्हजी’ ने दी।

उन्होनें कहा कि नेता प्रतिपक्ष के स्वास्थ में दिक्कत होने पर 22 जून को कोरोना की जांच रिपोर्ट पॉजिटव निकली आने के कारण पीजीआई के भर्ती कराया गया था। जिला प्रवक्ता सुशील कुमार पाण्डेय ने उन तमाम लोगों का शुक्रिया भी अदा किया है। जिसमें पार्टी कार्यकर्ताओं, उनके परिजनों और पूरे देश के लोगों ने प्रतिपक्ष रामगोविंद के लिए लगातार दुआएं मांग रहे थे। उन लोगों के दुआओं से अब वह ठीक है। उनकी जांच रिपोर्ट नेगेटिव आई है। यह सूचना मिलते ही जनपद में उनके चाहने वालों व पार्टी कार्यकर्ताओं में खुशी छा गई।

इसे भी पढ़ें- देशभर में मनाया जा रहा है रक्षा का त्योहार, PM मोदी समेत इन नेताओं ने दी बधाइयां

बता दे, समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता व नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी के स्वास्थ में दिक्कत होने पर 22 जून को मेदांता लखनऊ में भर्ती हुए थे। जहां 23 जून को उनका कोरोना जांच कराया। जिसमें उनकी जांच रिपोर्ट पॉजिटव निकली थी। वहां से डॉक्टरों के निर्देश पर नेता प्रतिपक्ष को 23 जून को ही लखनऊ के पीजीआई के आईसीयू वार्ड में भर्ती कराया गया था।

जहां पर डा. देवेंद्र गुप्त की देखरेख में इलाज चल रहा था। इस दौरान लगातार पांच बार जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद छठवीं बार की जांच रिपोर्ट आज निगेटिव आई है। श्री कान्ह जी ने कहा कि दूरभाष पर मिली जानकारी के अनुसार आज शाम तक होम आइसोलेशन रहने के निर्देश के साथ हॉस्पिटल से छुटी मिलने की उम्मीद है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

देशभर में मनाया जा रहा है रक्षा का त्योहार, PM मोदी समेत इन नेताओं ने दी बधाइयां

Published

on

लखनऊ। आज देशभर में रक्षाबंधन का त्यौहार मनाया जा रहा है। रक्षाबंधन का त्यौहार श्रावण पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। भाई-बहन के प्यार के प्रतीक इस त्यौहार को लेकर लोगों में काफी उत्साह रहता था। लेकिन इस बार कोरोना और कई जगहों पर लॉकडाउन होने का कारण इस त्यौहार का रंग फीका पड़ गया है। भाई-बहन के पवित्र प्यार के इस पर्व पर कोरोना के कारण सर्तकता भी बरती जा रही है। इसके चलते ही लोगों की आवाजाही और मिठाइयों के इंतजाम पर भी खासा असर दिख रहा है। रक्षाबंधन के इस अवसर पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर कई राजनेताओं ने देशवासियों को बधाई दी है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर लिखा,’ रक्षा बंधन के पावन पर्व पर समस्त देशवासियों को बहुत-बहुत शुभकामनाएं।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्वीट कर कहा, रक्षा बंधन पर सभी देशवासियों को बधाई। राखी प्रेम और विश्‍वास का वह अटूट धागा है जो बहनों को भाइयों‌ से जोड़ता है। आइए, आज हम सब महिलाओं के सम्‍मान और सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध रहने का संकल्‍प दोहराएं।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने ट्वीट कर देशवासियों को रक्षाबंधन के पावन पर्व की शुभकामनाएं दी।

इसे भी पढ़ें- Rakshabandhan 2020: CM योगी ने रक्षाबंधन पर प्रदेशवासियों को दीं शुभकामनाएं

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर कहा, बहनों के मान, सम्मान, गौरव की रक्षा के अपने वचन को हर भाई पूरा करे। कोरोना काल में घर पर रहकर त्योहार मनाएं, ताकि हर भाई-बहन स्वस्थ और दीर्घायु रहें। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

August 3, 2020, 5:50 pm
Cloudy
Cloudy
31°C
real feel: 38°C
current pressure: 99 mb
humidity: 78%
wind speed: 1 m/s SW
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:02 am
sunset: 6:23 pm
 

Recent Posts

Trending