Connect with us

टेक्नोलॉजी

बंद हो रहे एटीएम से बढ़ सकती है दिक्कतें, जानिए वजह…

Published

on

बढ़ती जा रही है कैश की मांग, घट रही है एटीएम की संख्या

एक तरफ देश भर में कैश की मांग बढ़ती जा रही है तो वहीं दूसरी तरफ एटीएम की संख्या लागातर कम होती जा रही है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने आंकड़े जारी कर बताया है कि कैसे दो साल में एटीएम की संख्या में कमी आई है।

ATM से ट्रांजेक्शन की सुविधा के साथ जिस रफ्तार से बढ़ी है उसी रफ्तार से एटीएम की संख्या में कमी आती जा रही है। आपका एटीएम या तो बंद मिलेंगे या फिर बिना कैश के मिलेंगे। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के मुताबित पिछले दो सालों में एटीएम की संख्या में बड़ी कटौती हुई है। ऐसे में आने वाले दिनों में एटीएम की संख्या में आ रही गिरावट के कारण कैश की किल्लत का सामना करना पड़ सकता है।

सख्त नियमों के कारण देश में ATM चलाना ज्यादा महंगा पड़ रहा है, जिसकी वजह से सैकड़ों एटीएम  या तो बंद हो गए हैं या बंद होने के कगार पर हैं। कैश निकालने के लिए लंबी-लंबी कतारें लगानी पड़ सकती हैं। बैंकों में घंटों लाइन में लगकर कैश निकालने का इंतजार करना पड़ सकता है।

यह भी पढ़े: खाकी में भी होता है साहब इंसान…

आरबीआई  की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले दो सालों में देश में ATM की संख्या में गिरावट आई है। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष के मुताबिक ब्रिक्स देशों में शामिल देशों के मुकाबले भारत ऐसा देश है जहां एटीएम की संख्या पहले से कम है। यहां प्रति 100,000 लोगों पर कुछ एटीएम हैं। आपको बता दें कि कॉन्फिडेरेशनल ऑफ एटीएम इंडस्‍ट्रीज (CATMi) ने पिछले साल चेतावनी दी थी कि साल 2019 में भारत के आधे से ज्यादा एटीएम बंद हो जाएंगे। रिपोर्ट के मुताबिक देश में करीब 2 लाख 38 हजार एटीएम हैं, जिनमें से करीब 1 लाख 13 हजार एटीएम मार्च 2019 तक बंद होने थे।

न सिर्फ सरकारी बैंक बल्कि प्राइवेट बैंक भी अपने एटीएम की संख्या में कटौती कर रही है। अकेले स्टेट बैंक 1,000 से ज्यादा मशीनों को बंद कर दिया है। मार्च 2016 में 199,099 एटीएम देश में था जो कि एक मार्च 2017 में बढ़कर 208,354 हो गया। मार्च 2018 में कमी देखने को मिली और यह घटकर 207,052 हो गए। अब मार्च 2019 तक 202,196 एटीएम बचे हैं।

आईएमएफ के मुताबिक रूस में जहां हर 1 लाख व्यक्ति पर 164 एटीएम हैं तो वहीं ब्राजील में 107 एटीएम हैं। चीन में हर 1 लाख व्यक्ति पर एटीएम की संख्या 81 है तो दक्षिण अफ्रीका में यह 68 है। अगर भारत की बात करें तो एक लाख की आबादी पर सबसे कम एटीएम हैं। यहां मात्र 22 एटीएम प्रति 1 लाख व्यक्ति हैं।

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष आईएमएफ के आंकड़ों से भी पता चला है कि ब्रिक्स देशों में सबसे कम एटीएम भारत में ही है।

असिस्टेंट मैनेजर आयूष चंद्रा

सत्योदय से बात-चीत के दौरान जैदपुर ब्रांच ग्रामीण बैंक असिस्टेंट मैनेजर आयूष चंद्रा ने बताया कि बैंक अपने खर्चे को कम करने के लिए एटीएम की संख्या कम की जा रही है और ज्यादातर एटीएम बैंक के पास ही रखे जाएंगे और बैंक में ड्यूटी करने वाले गार्ड की ही ड्यूटी एटीएम पर लगाई जायेगी।http://www.satyodaya.com

टेक्नोलॉजी

Social media: लाइफ को आसान बनाते – बनाते खतरनाक होता जा रहा है सोशल मीडिया…

Published

on

हम आज उस समय और युग में हैं जहां सूचना सिर्फ एक बटन दबाने पर मिल जाती है। इनके कारण हम अपने चारों ओर की जानकारी से अवगत हो जाते हैं। सोशल मीडिया वह जगह है, जहां हमे किसी भी चीज के बारे में जानने, पढ़ने, समझने और बोलने का मौंका मिलता हैं। सोशल मीडिया उन बड़े तत्वों में से एक है। जिसके साथ हम जुडे हुए हैं और जिसे हम अनदेखा नहीं कर सकते।सोशल मीडिया आज हमारे जीवन में एक बड़ी भूमिका निभा रहा है। एक बटन दबाने पर ही हमारे पास अत्यंत विस्तृत संबंधित सकारात्मक और नकारात्मक किसी भी प्रकार की जानकारी पहुंच जा रही है।

सोशल मीडिया जानकारी का आदान-प्रदान करने तथा हमें सोशल नेटवर्किंग में भाग लेने में मदद करता है। सोशल मीडिया ब्लॉगिंग और चित्रों को साझा करने तक ही सीमित नहीं है, बल्कि ये हमे बहुत मजबूत उपकरण भी प्रदान करता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि सोशल मीडिया का प्रभाव बहुत अधिक और दूर तक पहुंच रहा है और यह किसी के छवि को बना या बिगाड़ भी सकता है।सोशल मीडिया को आजकल हमारे जीवन में होने वाले सबसे हानिकारक प्रभावो में से एक माना जाने लगा है। दिन प्रतिदिन दिन सोशल मीडिया के गलत उपयोग से बुरा परिणाम सामने आता ही रहता है ।

कई चिकित्सकों का मानना ​​है कि सोशल मीडिया लोगों में निराशा और चिंता पैदा करने वाला एक कारक है। ये बच्चों में खराब मानसिक विकास का भी कारण बनते जा रहा है। सोशल मीडिया का अत्यधिक उपयोग निद्रा को प्रभावित करता हैं। साइबर बुलिंग, छवि खराब होना आदि जैसे कई अन्य नकारात्मक प्रभाव भी हैं। सोशल मीडिया की वजह से युवाओं में ‘गुम हो जाने का भय’ (एफओएमओ) अत्यधिक बढ़ गया है।

सोशल मीडिया के कई ऐसे नुकसान और भी हैं जिन्हें यहां बताएंगें:-

साइबर बुलिंग: कई बच्चे साइबर बुलिंग के शिकार बने हैं जिसके कारण उन्हें काफी नुकसान हुआ है।बुलिंग का मतलब होता है तंग करना। जब ये बुलिंग हद से आगे बढ़ जाती है तो पीड़ित की मानसिक शांति भंग हो जाती है। यहीं उनका सामना किसी बुलिंग करने वाले से हो जाता है। मामला गाली-गलौच से लेकर फोटो से छेड़छाड़ और धमकियों तक पहुंच जाता।

हैकिंग: व्यक्तिगत डेटा का नुकसान जो सुरक्षा समस्याओं का कारण बन सकता है तथा आइडेंटिटी और बैंक विवरण चोरी जैसे अपराध, जो किसी भी व्यक्ति को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

बुरी आदते: सोशल मीडिया का लंबे समय तक उपयोग, युवाओं में इसके लत का कारण बन सकता है। बुरी आदतो के कारण महत्वपूर्ण चीजों जैसे अध्ययन आदि में ध्यान खोना हो सकता है। लोग इससे प्रभावित हो जाते हैं तथा समाज से अलग हो जाते हैं और अपने निजी जीवन को नुकसान पहुंचाते हैं।

घोटाले: कई शिकारी, कमजोर उपयोगकर्ताओं की तलाश में रहते हैं ताकि वे घोटाले कर और उनसे लाभ कमा सके।

रिश्ते में धोखाधड़ी: हनीट्रैप्स और अश्लील एमएमएस सबसे ज्यादा ऑनलाइन धोखाधड़ी का कारण हैं। लोगो को इस तरह के झूठे प्रेम-प्रंसगो में फंसाकर धोखा दिया जाता है।

स्वास्थ्य समस्याएं: सोशल मीडिया का अत्यधिक उपयोग आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बड़े पैमाने पर प्रभावित कर सकता है। अक्सर लोग इसके अत्यधिक उपयोग के बाद आलसी, वसा, आंखों में जलन और खुजली, दृष्टि के नुकसान और तनाव आदि का अनुभव करते हैं।

सामाजिक और पारिवारिक जीवन का नुकसान: सोशल मीडिया के अत्यधिक उपयोग के कारण लोग परिवार तथा समाज से दुर, फोन जैसे उपकरणों में व्यस्त हो जाते हैं ।

यह भी पढ़ें –बोल्ड कंटेंट के सहारे टीवी सीरियलों को कड़ी टक्कर देने को तैयार है वेब सीरीज…

अपराध के प्रति उकसाना : अक्सर लोग हिंसात्मक और अपराधिक घटनाओं को लाइव कर देते हैं या फिर ऐसे वीडियोज को अपलोड कर देते है जिस से अन्य लोगो को अपराध करने में प्रोत्साहन मिलता हैं। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

टेक्नोलॉजी

जानिए किस 4G नेटवर्क की स्पीड ने छोड़ा सबको पीछे…

Published

on

आज की डिजिटल दुनिया जितनी तेजी से बदल रही हैं, उतनी ही तेजी के साथ इंटरनेट की मांग बढ़ती जा रही हैं | उसी मांग को ध्यान में रखते हुए JIO ने एक बार फिर स्पीड के मामले में सबको पीछे छोड़ दिया हैं। वहीं दूरसंचार नियामक ट्राई द्वारा मार्च माह के लिए जारी ताजा आंकड़ो के मुताबिक औसत 4G डाउनलोड स्पीड में रिलायंस जियो ने फिर बाजी मार ली है | मार्च महीने में Jio की औसत डाउनलोड स्पीड 22.2 एमबीपीएएस दर्ज की वोडाफोन नेटवर्क की औसत 4 जी डाउनलोड स्पीड फरवरी में के 6.8 एमबीपीएस थी,जो मामूली सुधार के साथ मार्च में 7.0  एमबीपीएस हो गई है। उधर एयरटेल की तरह 4जी डाउलोड स्पीड की तरह जियो ने औसत 4जी अपलोड स्पीड में भी सुधार किया,मार्च महीने में जियो की 4जी अपलोड स्पीड 4.6 गई, जो फरवरी महीने की 20.9 एमबीपीएस स्पीड से कहीं ज्यादा है।

4जी डाउनलोड स्पीड के मामले में जियो ने अपनी प्रतियोगी कंपनी एयरटेल को दोगुने से भी ज्यादा अंतर से मात दी है। जारी आंकड़ों के अनुसार, भारती एयरटेल की डाउनलोड स्पीड फरवरी की 9.4 एमबीपीएस से गिरकर मार्च में 9.3 एमबीपीएस हो गई है। यह लगातार दूसरा महीना है जब एयरटेल की 4जी डाउनलोड स्पीड कम हुई है। हालांकि वोडाफोन आइडिया की 4जी डाउनलोड स्पीड में भी गिरावट दर्ज की गई है।

यह भी पढ़े: तीन बच्चों सहित पत्नी की हत्या करने वाला आरोपी गिरफ्तार

फरवरी की 5.7 एमबीपीएस स्पीड के मुकाबले मार्च में यह गिरकर 5.6 एमबीपीएस हो गई,मार्च में वोडाफोन ने एक बार फिर औसत 4जी अपलोड स्पीड में नंबर एक का ताज बरकरार रखा । पिछले महीने ही उसने आइडिया को नंबर दो पर धकेल कर नंबर एक का ताज हासिल किया था, वोडाफोन की 4जी अपलोड स्पीड मार्च महीने में 6.0 एमबीपीएस दर्ज की गई,पिछले महीने भी वोडाफोन की अपलोड स्पीड 6.0 एमबीपीएस ही थी। मार्च में आइडिया और एयरटेल नेटवर्क की औसतन 4जी अपलोड स्पीड में मामूली गिरावट देखी गई,आइडिया की 4जी अपलोड स्पीड 5.5 एमबीपीएस और एयरटेल की 3.6 एमबीपीएस रही है।

http://www.satyodaya.com

Continue Reading

टेक्नोलॉजी

यूजर्स को मिलने जा रहा है Whatsapp का नया ऐनिमेटेड फीचर, जानिए इसके बारे में

Published

on

 नईदिल्ली:- इंस्टैंट मेसेजिंग ऐप Whatsapp अपने यूजर्स के चैट एक्सपीरियंस को बेहतर और मजेदार बनाने के लिए लगातार नए-नए फीचर रोलआउट करता रहता है। जहां इंस्टैंट मैसेजिंग एप व्हॉट्सएप ऐनिमेटेड स्टिकर को आज लॉन्च कर दिया। फिलहाल ये फीचर उपलब्ध नहीं है। कई वर्जन पर इसका टेस्ट किया जा रहा है। जिसमें एंड्रॉयड, iOS और वेब भी उपलब्ध है।

आपको बता दें कि वॉट्सऐप ने पिछले साल अक्टूबर में स्टिकर्स फीचर को लॉन्च किया था। इन्हें देखने के बाद कहा जा सकता है कि इन ऐनिमेटेड स्टिकर्स के आने से यूजर्स के चैटिंग का मजा दोगुना बढ जायेगा। अगर आप रिसीव किए ऐनिमेटेड स्टिकर को सेंड करते हैं तो यह ऐनिमेटेड फॉर्म में ही जाएगा। वॉट्सऐप अपने ऐनिमेटेड स्टिकर्स के लिए , iOS ऐप पर भी सपॉर्ट उपलब्ध कराएगा।

जानकारी के मुताबिक वॉटस्ऐप पर इस वक्त 13 प्री-इंस्टॉल्ड स्टिकर्स सेट ऑफर करता है। ऐंड्रॉयड यूजर्स अगर चाहें ‘Get More Stickers’ ऑप्शन पर टैप करके गूगल प्ले स्टोर से स्टिकर डाउनलोड कर सकते हैं। आपको बता दें कि इसी हफ्ते एक रिपोर्ट आई थी। जिसमें कहा गया था कि व्हॉट्सएप यूजर्स को स्क्रीनशॉट लेने से रोकने के लिए एक नया फीचर लाने जा रहा है। इसका मकसद एप की प्राइवेसी और सिक्योरिटी को और मजबूत करना है। जबकि स्क्रीनशॉट वाला ये फीचर यूजर्स के लिए तभी काम करेगा, जब एंड्रॉयड यूजर्स को नया फिंगरप्रिंट अथॉन्टिकेशन फीचर मिलेगा।http://www.satyodya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

May 17, 2019, 7:21 pm
Sunny
Sunny
37°C
real feel: 36°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 24%
wind speed: 2 m/s WNW
wind gusts: 2 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 4:48 am
sunset: 6:18 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 8 other subscribers

Trending