Connect with us

टेक्नोलॉजी

बंद हो रहे एटीएम से बढ़ सकती है दिक्कतें, जानिए वजह…

Published

on

बढ़ती जा रही है कैश की मांग, घट रही है एटीएम की संख्या

एक तरफ देश भर में कैश की मांग बढ़ती जा रही है तो वहीं दूसरी तरफ एटीएम की संख्या लागातर कम होती जा रही है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने आंकड़े जारी कर बताया है कि कैसे दो साल में एटीएम की संख्या में कमी आई है।

ATM से ट्रांजेक्शन की सुविधा के साथ जिस रफ्तार से बढ़ी है उसी रफ्तार से एटीएम की संख्या में कमी आती जा रही है। आपका एटीएम या तो बंद मिलेंगे या फिर बिना कैश के मिलेंगे। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के मुताबित पिछले दो सालों में एटीएम की संख्या में बड़ी कटौती हुई है। ऐसे में आने वाले दिनों में एटीएम की संख्या में आ रही गिरावट के कारण कैश की किल्लत का सामना करना पड़ सकता है।

सख्त नियमों के कारण देश में ATM चलाना ज्यादा महंगा पड़ रहा है, जिसकी वजह से सैकड़ों एटीएम  या तो बंद हो गए हैं या बंद होने के कगार पर हैं। कैश निकालने के लिए लंबी-लंबी कतारें लगानी पड़ सकती हैं। बैंकों में घंटों लाइन में लगकर कैश निकालने का इंतजार करना पड़ सकता है।

यह भी पढ़े: खाकी में भी होता है साहब इंसान…

आरबीआई  की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले दो सालों में देश में ATM की संख्या में गिरावट आई है। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष के मुताबिक ब्रिक्स देशों में शामिल देशों के मुकाबले भारत ऐसा देश है जहां एटीएम की संख्या पहले से कम है। यहां प्रति 100,000 लोगों पर कुछ एटीएम हैं। आपको बता दें कि कॉन्फिडेरेशनल ऑफ एटीएम इंडस्‍ट्रीज (CATMi) ने पिछले साल चेतावनी दी थी कि साल 2019 में भारत के आधे से ज्यादा एटीएम बंद हो जाएंगे। रिपोर्ट के मुताबिक देश में करीब 2 लाख 38 हजार एटीएम हैं, जिनमें से करीब 1 लाख 13 हजार एटीएम मार्च 2019 तक बंद होने थे।

न सिर्फ सरकारी बैंक बल्कि प्राइवेट बैंक भी अपने एटीएम की संख्या में कटौती कर रही है। अकेले स्टेट बैंक 1,000 से ज्यादा मशीनों को बंद कर दिया है। मार्च 2016 में 199,099 एटीएम देश में था जो कि एक मार्च 2017 में बढ़कर 208,354 हो गया। मार्च 2018 में कमी देखने को मिली और यह घटकर 207,052 हो गए। अब मार्च 2019 तक 202,196 एटीएम बचे हैं।

आईएमएफ के मुताबिक रूस में जहां हर 1 लाख व्यक्ति पर 164 एटीएम हैं तो वहीं ब्राजील में 107 एटीएम हैं। चीन में हर 1 लाख व्यक्ति पर एटीएम की संख्या 81 है तो दक्षिण अफ्रीका में यह 68 है। अगर भारत की बात करें तो एक लाख की आबादी पर सबसे कम एटीएम हैं। यहां मात्र 22 एटीएम प्रति 1 लाख व्यक्ति हैं।

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष आईएमएफ के आंकड़ों से भी पता चला है कि ब्रिक्स देशों में सबसे कम एटीएम भारत में ही है।

असिस्टेंट मैनेजर आयूष चंद्रा

सत्योदय से बात-चीत के दौरान जैदपुर ब्रांच ग्रामीण बैंक असिस्टेंट मैनेजर आयूष चंद्रा ने बताया कि बैंक अपने खर्चे को कम करने के लिए एटीएम की संख्या कम की जा रही है और ज्यादातर एटीएम बैंक के पास ही रखे जाएंगे और बैंक में ड्यूटी करने वाले गार्ड की ही ड्यूटी एटीएम पर लगाई जायेगी।http://www.satyodaya.com

टेक्नोलॉजी

इस दिन लॉन्च होगी Renault की सस्ती 7 सीटर कार, कल से बुकिंग शुरू

Published

on

अगर आप कार खरीदने का प्लान बना रहे हैं तो Renault आपके लिए एक नया कार लेकर आई है। बता दें, 28 अगस्त को Renault अपनी नई कार Triber लॉन्च करने जा रही है। 17 अगस्त से इसकी बुकिंग शुरू हो जाएगी।

अगर आप इस कार को खरीदने का मन बना रहे हैं तो आप 11 हजार रुपए की टोकन मनी के साथ बुकिंग करा सकते हैं। Renault ट्राइबर में कई ऐसे फीचर्स दिए गए हैं जिन्हें सेगमेंट में पहली बार पेश किया गया है।

इनमें 8-इंच का टचस्क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्टम (एप्पल कारप्ले और एंड्रॉइड ऑटो कनेक्टिविटी के साथ), सेंटर कूल्ड बॉक्स (रेफ्रीजिरेटर), रिमूवेबल थर्ड रो सीटें और तीनों रो हेतु एसी वेंट जैसे फीचर्स शामिल हैं। इसके अलावा ट्राइबर की खासियत इसका मॉड्यूलर सीटिंग लेआउट है, जिसके चलते ट्राइबर को 2 सीटिंग से लेकर 7-सीटर कार में बदला जा सकता है। ट्राइबर की थर्ड रो की सीटों को निकाल देने पर इसमें 625 लीटर तक का बूट स्पेस मिलता है।

बता दें, रेनो ट्राइबर में 1.0-लीटर, 3-सिलेंडर पेट्रोल इंजन मिलेगा। यह इंजन 72पीएस की पावर और 96एनएम का टॉर्क जनरेट करने में सक्षम है। सेगमेंट की अन्य कारों की तरह ट्राइबर भी 5-स्पीड मैनुअल और ऑटोमैटिक (एएमटी) दोनों गियरबॉक्स विकल्पों में आएगी। इन गियरबॉक्स विकल्पों के साथ यह क्रमशः 20 किमी/लीटर और 20.5 किमी/लीटर का माइलेज देगी। हमने रेनो ट्राइबर के स्पेसिफ़िकेशन की तुलना मिड-साइज हैचबैक कारों से की है। हाल ही में रेनो ट्राइबर के साथ मिलने वाली एक्सेसरीज की जानकारी सामने आई है। इनमें क्रोम गार्निश, डिकल्स, मैटिंग, लगेज रैक सहित अन्य एक्सेसरीज शामिल हैं।

Continue Reading

टेक्नोलॉजी

Hyundai ने अपनी इस कार की कीमत 1.50 लाख रुपए तक घटाई

Published

on

भारत की दिग्गज कार निर्माता कंपनी हुंडई ने हाल ही के दिनों में अपनी पहली हुंडई कोना इलेक्ट्रिक एसयूवी को लॉन्च किया है। वहीं, लोग हुंडई की इस एसयूवी को पसंद कर रहे हैं। बता दें, हुंडई ने देश में इलेक्ट्रिक वाहनों के चलन को बढ़ाने के लिए अपनी कोना इलेक्ट्रिक एसयूवी की कीमत में पूरे 1.50 लाख रुपए की कटौती की है।

आपको बता दें कि हुंडई ने कोना इलेक्ट्रिक को 25.30 लाख रुपए की कीमत के साथ पेश किया था और कटौती के बाद इसकी कीमत 23।71 लाख रुपए हो गई है।

फुल चार्ज में दौड़ेगी 452 किलोमीटर
आपको बता दें, कोना 100 प्रतिशत इलेक्ट्रिक गाड़ी है। यह कार यूं तो दो वर्जन यानी 39।2 kwh और 64 kwh बैटरी पैक में है। लेकिन भारत में इसका एक ही वर्जन यानी 39।2 kwh बैटरी पैक में उपलब्ध है। इस एसयूवी को एक बार फुल चार्ज करने पर यह 452 किलोमीटर तक सफर तय करती है। कोना फिलहाल देश के 11 शहरों में 15 डीलरशिप में उपलब्ध है।

सेफ्टी के लिहाज से कम नहीं है कोना
सेफ्टी के लिहाज से कंपनी ने कोना को दमदार सेफ्टी फीचर्स के साथ बाजार में लॉन्च किया है। कार में 6-एयरबैग्स, ईबीडी के साथ एबीएस, इलेक्ट्रॉनिक स्टैबिलिटी कंट्रोल, हिल असिस्ट, गाइडलाइंस के साथ रीयर कैमरा और टायर प्रेशर मॉनिटरिंग सिस्टम मौजूद है।

कार पर तीन साल की अनलिमिटेड किलोमीटर की वारंटी और बैटरी पर 8 साल/ 1,60,000 किलोमीटर की वारंटी मिल रही है। इस कार में मौजूद 131 bhp की पावर है और यह 395 Nm पीक टॉर्क जनरेट करती है। यह इलेक्ट्रिक कार महज 9.7 सेकेंड में 0 से 100 प्रति घंटा की रफ्तार पकड़ सकती है

Continue Reading

टेक्नोलॉजी

Apple ने सिरी प्रोग्राम पर लगाया बैन, जानिए क्यों….

Published

on

एप्पल

फाइल फोटो

एप्पल ने अभी कुछ टाइम के लिए सिरी की रिकार्डिंग पर बैन लगा दिया है। अभी हाल ही में रिपोर्ट आई थी कि सिरी कॉन्वर्सेशन को एप्पल के थर्ड पार्टी कान्ट्रैक्टर सुनते हैं। वहीं इसके पीछे कंपनी ने यह भी कहा था कि ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि क्वालिटी कंट्रोल किया जा सके।

एप्पल ने जानकारी दी है कि सेवा को दुनिया भर में बैन किया जा रहा है। कंपनी एक सॉफ्टवेयर अपडेट जारी करने की तैयारी में है। इसमें एप्पल यूजर्स को ऑप्शन मिलेगा कि वो सिरी ग्रन्डिंग प्रोग्राम से मना भी कर सकते हैं।

वहीं कंपनी ने यह भी कहा है कि वह इसको दोबारा शुरू नहीं करेगी, जब तक वही इसकी समीक्षा कर लेती है। इसने भविष्य के सॉफ़्टवेयर अद्यतन में उपयोगकर्ताओं को गुणवत्ता आश्वासन योजना से पूरी तरह से बाहर निकलने की क्षमता को जोड़ने के लिए भी प्रतिबद्ध किया है।

एप्पल ने कहा, ‘हम उपयोगकर्ता की गोपनीयता की रक्षा करते हुए एक बेहतरीन सिरी अनुभव देने के लिए प्रतिबद्ध हैं। अगली समीक्षा तक हम विश्व स्तर पर सिरी ग्रेडिंग को निलंबित कर रहे हैं। इसके अतिरिक्त, भविष्य के सॉफ़्टवेयर अपडेट के हिस्से के रूप में, उपयोगकर्ताओं के पास ग्रेडिंग में शामिल होने या न होने का ऑप्शन होगा।

ये भी पढ़ें:फेवरेट एक्ट्रेस से मिलने की चाहत में फैन को लगा इतने लाख का चूना, जालसाजों ने किया ये काम

पिछले हफ्ते गार्डियन की एक रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ था कि कंपनी के थर्ड पार्टी कॉन्ट्रैक्टर्स सिरी की बातें सुनती हैं। सिरी के बारे में गूगल के एक प्रवक्ता ने कहा है कि कंपनी ने लैग्वेज रिव्यू को पॉज कर दिया है। लेकिन जांच खत्म होने के बाद कंपनी इसे फिर से शुरू कर सकती है। हालंकि अभी इसकी जांच चल रही है, इसलिए इसे जारी रखना मुमकिन नहीं था।

गूगल ने कहा है कि कंपनी हैंबर्ग डेटा प्रोटेक्शन अथॉरिटी के साथ टच मे है और इस पर बातचीत चल रही है कि ऑडियो रिव्यू को कैसे किया जाए और यूजर्स को ये कैसे समझया जाए कि डेटा यूज कहां होता है। कंपनी ने ये भी कहा है कि इस तरह के रिव्यू से वॉयस रिकॉग्निशन सिस्टम को बेहतर बनाने में भी हेल्प मिलती है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

August 22, 2019, 7:11 pm
Rain
Rain
29°C
real feel: 35°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 88%
wind speed: 3 m/s NW
wind gusts: 3 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:11 am
sunset: 6:07 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 9 other subscribers

Trending