Connect with us

प्रदेश

महानिदेशक स्कूल शिक्षा का पद सृजित करने को लेकर अधिकारियों में रोष

Published

on

उप्र एजूकेशनल आफीसर्स एसोसिएशन उत्तर प्रदेश ने की बैठक

लखनऊ। उप्र एजूकेशनल आफीसर्स एसोसिएशन ने रविवार को राजधानी के एल्डिको-1 स्थित पाॅयनियर मान्टेसरी इण्टर काॅलेज में एक बैठक की। पदाधिकारियों ने एक स्वर में महानिदेशक स्कूल शिक्षा का पद भारतीय प्रशासनिक सेवा के विशेष सचिव राज्य परियोजना निदेशक, समग्र शिक्षा अभियान के समकक्ष स्तर का प्रस्तावित किये जाने का विरोध किया है। पदाधिकारियों ने कहा कि शिक्षा निदेशक, (बेसिक), निदेशक (एससीईआरटी) एवं निदेशक साक्षरता, वैकल्पिक शिक्षा उर्दू एवं प्राच्य भाषाओं के मध्य समन्वय की कोई समस्या नहीं है।
कहा कि निदेशक मध्यान्ह भोजन तथा राज्य परियोजना निदेशक, समग्र शिक्षा अभियान के पद अस्थायी हैं तथा भारत सरकार की सर्व शिक्षा अभियान की गाइडलाइन के अनुसार इन अस्थायी इकाइयों को शिक्षा विभाग को हस्तान्तरित किया जाना चाहिए। लेकिन उत्तर प्रदेश सरकार अस्थायी इकाई में महानिदेशक का पद सृजित कर पूरे बेसिक शिक्षा विभाग का नियंत्रण उसे देने की तैयारी कर रही है, जो सही नहीं है।

बैठक में पदाधिकारियों ने कहा कि शिक्षा निदेशक का पद ग्रेड पे- रू. 10,000 का होता है जबकि भारतीय प्रशासनिक सेवा में विशेष सचिव का ग्रेड पे-6600 से 8700 के मध्य होता है। ऐसी स्थिति में कम वेतन ग्रेड वाले आईएएस अधिकारी को उससे उच्च वेतनक्रम एवं विशेष शैक्षिक योग्यता के अधिकारी (शिक्षा निदेशक) का नियंत्रक अधिकारी कैसे बनाया जा सकता है? बैठक में उपस्थित अधिकारियों ने कहा कि शासन ने बिना विचार विमर्श किए गलत तरीके से से यह फैसला लिया है जिससे शिक्षा विभाग के अधिकारियों में काफी असंतोष है।

यह भी पढ़ें-भारत में हर वर्ष करीब 70 हजार महिलाएं सर्वाइकल कैंसर की हो रहीं शिकार

बैठक में पदाधिकारियों ने तय किया कि यूपी एजूकेशनल आफीसर्स एसोसिएशन उत्तर प्रदेश इस संबंध में मुख्यमंत्री, उप मुख्यमंत्री, माध्यमिक शिक्षा मंत्री, बेसिक शिक्षा मंत्री व मुख्य सचिव सहित अन्य विभागीय अधिकारियों से मिलकर इस निर्णय को लागू करने का विरोध करेंगे। साथ ही पदाधिकारियों ने आगामी रणनीति के बारे में भी विचार विमर्श किया।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

प्रदेश

मायावती ने ट्वीट कर कहा- लॉकडाउन बढ़ाने के फैसले का स्वागत करेगी बीएसपी

Published

on

लखनऊ। कोरोना वायरस के संकट के बीच भारत सरकार ने देश में 21 दिनों का लॉकडाउन लागू किया है। 14 अप्रैल को लॉकडाउन की मियाद खत्म हो रही है। इस बीच इसकी अवधि को लेकर मंथन जारी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कोरोना वायरस को लेकर राज्यों के वर्तमान हालात पर मुख्यमंत्रियों से चर्चा कर रहे हैं।

बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने इसको लेकर ट्वीट किया है। बसपा सुप्रीमो मायावती ने ट्वीट कर कहा कि ‘कोरोना वायरस के घातक प्रकोप की वजह से देश में जारी 21 दिवसीय लाॉकडाउन की हर स्तर पर गहन समीक्षा करके व व्यापक जनहित का भी पूरा-पूरा ध्यान रखकर यदि केन्द्र सरकार इसे और आगे बढ़ाने का कोई फैसला लेती है तो बी.एस.पी. इसका स्वागत करेगी।

इसे भी पढ़ें- कन्नौज में सामने आया पहला कोरोना पॉजिटिव मरीज, पूरे गांव को किया गया सील

  1. कोरोना वायरस के घातक प्रकोप की वजह से देश में जारी 21-दिवसीय लाॅकडाउन को, इसकी हर स्तर पर गहन समीक्षा करके व व्यापक जनहित का भी पूरा-पूरा ध्यान रखकर यदि केन्द्र सरकार इसे और आगे बढ़ाने का कोई फैसला लेती है तो बी.एस.पी. इसका स्वागत करेगी।

मायावती ने ट्वीट कर ये भी कहा कि ‘केन्द्र व राज्य सरकारों से भी अपील है कि वे इस राष्ट्रीय संकट की घड़ी में जाति, धर्म व दलगत राजनीति से ऊपर उठकर व कोई भी फैसला लेते समय खासकर गरीबों, कमजोर तबकों, मजदूरों व किसानों आदि के हितों व इनकी मदद का जरूर ध्यान रखें। साथ ही कोरोना वायरस के प्रकोप से जूझने वाले सभी डाक्टरों, नर्सों, सफाई व पुलिसकर्मियों तथा अप्रत्यक्ष तौर पर ऐसी देश सेवा में लगे सभी लोगों के हर प्रकार के बचाव व पारिवारिक सुरक्षा आदि के लिए भी केन्द्र व राज्य सरकारों को काफी तत्पर दिखना चाहिये ताकि इनकी हौसला अफजाई होती रहे।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

मेरठ से राहत भरी खबर: 12 कोरोना पॉजिटिव मरीज आज होंगे डिस्चार्ज

Published

on

लखऩऊ। पश्चिम उत्तर प्रदेश के मेरठ जनपद में 11 इलाकों को हॉटस्पॉट घोषित कर वहां पूरी तरह से लॉकडाउन कर दिया गया है। इसी क्रम में मेरठ जिले से राहत भरी खबर है। यहां कोरोना पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा 43 पहुंच गया है। लेकिन कई दिनों से भर्ती 12 कोरोना मरीज़ों की पहली बार रिपोर्ट निगेटिव आई है। वहीं दूसरी रिपोर्ट का इंतजार है। इन मरीजों की दूसरी रिपोर्ट भी अगर निगेटिव आती है तो इन्हें चौदह दिनों के क्वारेंटाइन के बाद घर जाने दिया जाएगा।

इसे भी पढ़ें- कन्नौज में सामने आया पहला कोरोना पॉजिटिव मरीज, पूरे गांव को किया गया सील

बता दें कि महाराष्ट्र के अमरावती से आए 50 साल के मरीज समेत 12 की जांच रिपोर्ट निगेटिव मिलने से प्रशासन ने राहत की सांस ली है। इसमें ज्यादातर अमरावती से आए मरीज के ही रिश्तेदार हैं। बीते 27 मार्च को पॉजिटिव आए मरीज की जांच रिपोर्ट 14 दिन बाद निगेटिव मिली है। हालांकि इस दौरान महाराष्ट्र से आए मरीज को कई बार ऑक्सीजन पर लेना पड़ा है। डॉक्टर उन्हें वेंटिलेटरपर लेने की तैयारी कर चुके थे लेकिन तबीयत में सुधार की वजह से ज़रुरत नहीं पड़ी इस मरीज के कई रिश्तेदारों की रिपोर्ट भी निगेटिव मिली है।

उधर, हॉटस्पॉट वाले इलाकों में घर घर सैनिटाइज़ेशन हो रहा है। मेरठ में हॉटस्पॉट वाले 14 स्थान पर सभी घरों में सैनिटाइज़ेशन का कार्य युद्ध स्तर पर शुरु हो गया है। स्वास्थ्य विभाग की टीम कोरोना योद्धा की तरह काम करते हुए घर घर जा रही है और सैनिटाइजेशन की प्रक्रिया को पूरा कर रही है। जिला मलेरिया अधिकारी सत्यप्रकाश खुद पीपीई किट पहनकर घर-घर पहुंचकर सैनिटाइजेशन का कार्य पूरा करवा रहे हैं। हॉटस्पॉट वाले स्थानों पर घर घर कूड़ा गाड़ी पहुंचेगी. वहीं प्रत्येक घर का कूड़ा लेकर इसे डंपिंग ग्राउंड में दबाया जाएगा।

इसे भी पढ़ें- को लेकर सवालों के घेरे में प्रशासन, कनिका कपूर का अपार्टमेंट नहीं हुआ सील

मेरठ में कुल 11 हॉटस्पॉट चिन्हित
आठ थाना क्षेत्रों में 11 इलाके सील, जिसमें सरधना और मवाना थाना क्षेत्र का कुछ हिस्सा, थाना नौचंदी क्षेत्र का शास्त्री नगर सेक्टर 13 और हुमायूं नगर, थाना सिविल लाइन का सूर्य नगर ,हरनाम दास रोड , थाना सरूरपुर क्षेत्र के खिवाई इलाका और थाना फलावदा क्षेत्र का महलका गांव पूरी तरह से सील कर दिया गया है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

कन्नौज में सामने आया पहला कोरोना पॉजिटिव मरीज, पूरे गांव को किया गया सील

Published

on

लखनऊ। दुनिया के साथ-साथ भारत में भी कोरोना वायरस महामारी का कहर दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। उत्तर प्रदेश के कन्नौज में शनिवार को कोरोना पॉजिटिव का पहला केस सामने आया है। बताया जा रहा है कि युवक राजस्थान में नौकरी करता था। जो बीते 28 मार्च को अपने गांव आया था। हैरानी की बात यह है, कि थर्मल स्क्रीनिंग में युवक की रिपोर्ट नॉर्मल निकली थी, और अभी भी कन्नौज सीएमओ उसमे कोई कोरोना पॉजिटिव सिम्पटम न होने की बात कर रहे हैं. पहले केस पॉजिटिव निकलने के बाद कन्नौज में हड़कंप मच गया है। पूरे गांव को सील कर युवक के परिजनों को क्वारंटाइन कर दिया गया है।

इसे भी पढ़ें- को लेकर सवालों के घेरे में प्रशासन, कनिका कपूर का अपार्टमेंट नहीं हुआ सील

सीएमओ डॉ. के. स्वरूप ने 30 वर्षीय युवक के कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि की है। युवक ठठिया थाना क्षेत्र के बदलपुरवा गांव का रहने वाला है। सीएमओ का कहना है कि जब युवक आया था, तो उसकी थर्मल स्क्रीनिंग करायी गई थी, जो बिल्कुल नॉर्मल थी उन्होंने बताया की ग्रामीणों के कहने पर मेडिकल कालेज जांच के लिए भेजा।

युवक की जिद पर जब उसका सैम्पल सैफई जांच के लिये भेजा तो रिपोर्ट पॉजिटिव निकली रिपोर्ट पॉजिटिव देख स्वास्थ्य विभाग व जिला प्रशासन के हाश उड़ गए आनन फानन में युवक को कानपुर भेजा गया है। वहीं  गांव को सील कर भारी पुलिस फोर्स तैनात कर दिया गया है। पुलिस ने गांव में मुनादी कर ग्रामीणों को घरों में ही रहने को कहा है। कोरोना पॉजिटिव युवक के परिजनों को स्वास्थ्य विभाग ने मेडिकल कालेज में क्वारंटाइन कर दिया। सीएमओ डॉ. के. स्वरूप का कहना है कि पूरे गांव को रात में सेनीटाइज किया जाएगा उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग की टीम ग्रामीणों की जांच करेगी।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

April 11, 2020, 2:00 pm
Sunny
Sunny
36°C
real feel: 39°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 20%
wind speed: 2 m/s WNW
wind gusts: 2 m/s
UV-Index: 7
sunrise: 5:16 am
sunset: 5:59 pm
 

Recent Posts

Trending