Connect with us

प्रदेश

बिजली दरों में वृद्धि के खिलाफ सड़कों पर उतरेगी उप्र किसान सभा

Published

on

लखनऊ। प्रदेश में बढ़ी हुई बिजली दरों का चौतरफा विरोध हो रहा है। प्रदेश भर के व्यापारी लगातार बिजली दरें घटाने के लिए प्रदर्शन कर रहे हैं, जनता भी परेशान है। बिजली दरों के विरोध में अब उत्तर प्रदेश किसान सभा ने भी मैदान में उतरने का ऐलान किया है। उप्र किसान सभा ने बिजली दरों में वृद्धि को अनुचित बताते हुए शुक्रवार को कहा कि 21 सितंबर को किसान सभा जिला मुख्यालयों पर प्रदर्शन करेगी और आंदोलन को तेज करेगी। यूपी किसान सभा ने किसानों सहित आम जनता से भी अपील की है कि वह सरकार के इस निर्णय के खिलाफ सड.कों पर उतरे और बिजली दरें घटाने का दबाव बनाए। किसान सभा के प्रांतीय महामंत्री मुकुट सिंह ने एक प्रेसवार्ता कर कहा कि गांवों में बिना मीटर वाले उपभोक्ताओं के बिजली बिल में 25 फीसदी, किसानों के ट्यूबवेल पर 14 फीसदी, शहरी घरेलू उपभोक्ताओं का 15 फीसदी, व्यापारियों, दुकानों पर 9 फीसदी, उद्योग पर 5 फीसदी की वृद्धि अनुचित है।

उत्तर प्रदेश में अन्य प्रदेशों की अपेक्षा ज्यादा महंगे दर पर बिजली दी जा रही है। योगी सरकार ने बिजली की दरों में दूसरी बार वृद्धि की है। किसान सभा के पदाधिकारी ने कहा कि शहरी इलाकों सहित ग्रामीण क्षेत्रों में अंधाधुंध बिजली कटौती हो रही है। स्थानीय फाल्ट, जले ट्रांसफार्मर को समय से न बदले जाने और अघोषित कटौती से जनता परेशान है। सरकार इस पर ध्यान नहीं दे रही है। किसान नेता ने कहा कि इस वृद्धि को सरकार ने आनन-फानन में लागू कर दिया है। जबकि आयोग के ही टैरिफ के अनुसार उपभोक्ताओं का बिजली कंपनियों पर 13337 करोड. रुपए बकाया है, उस पर सरकार खामोश है।

यह भी पढ़ें-जानिए आयुष्मान भारत योजना के तहत लखनऊ में कितने लाभार्थीयों ने उठाया लाभ

तथाकथित घाटा पूरा करने-बकाया वसूली और चोरी रोकने के नाम पर हेवी पैनल्टी, एफआईआर, जेल तथा संगणना में हेराफेरी, तेज गति के मीटरों से ज्यादा बिलिंग आदि से जनता का उत्पीडन और अवैध वूसली की जा रही है। सरकार घाटे का रोना रो रही है लेकिन सरकारी क्षेत्र में उत्पादित सस्ती बिजली ना लेकर देशी-विदेशी कारपोरेटस से महंगी बिजली खरीद रही हैं। बिजली के निजीकरण की बडी साजिश रची जा रही है। बिजली विभाग में बडे पैमाने पर पद रिक्त है। ठेका व संविदा पर काम लिया जा रहा हैं अर्जित वेतन का भुगतान नही किया जा रहा है। 19 सितम्बर को लखनऊ में होने वाले संयुक्त सम्मेलन में बिजली कर्मी, अधिकारी, मजदूर किसानो के बडे साझा आंदोलन का ऐलान किया जायेगा। http://www.satyodaya.com

प्रदेश

बेचारे! गरीब मंत्री, पूर्व मुख्यमंत्री नहीं भर सकते इनकम टैक्स, सरकार भरती है टैक्स

Published

on

लखनऊ। क्या आज के माननीय, मंत्री और मुख्यमंत्री गरीब तबके से आते हैं? वह इतने गरीब हैं कि अपना इनकम टैक्स भी नहीं भर सकते? ऐसी ही मान्यता के आधार पर करीब 4 दशक पहले बने कानून के तहत उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने अपने दो साल के कार्यकाल के दौरान जितने मंत्री रहे हैं उनका करीब 86 लाख रुपए इनकम टैक्स जमा किया है। अब बाकी बचे पूर्व मुख्यमंत्रियों और मंत्रियों के नाम से इनकम टैक्स जमा करने की तैयारी कर रही है। योगी सरकार अब अपने 18 मुख्यमंत्रियों और मौजूदा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित करीब 1000 मंत्रियों का इनकम टैक्स जमा करने की तैयारी कर रही है। यह मुख्यमंत्री समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और बीजेपी समेत कांग्रेस पार्टी से रहे हैं।
सरकार जिन पूर्व मुख्यमंत्रियों का इनकम टैक्स जमा करेगी, उनमें कल्याण सिंह, मुलायम सिंह, राजनाथ सिंह, नारायण दत्त तिवारी, मायावती, अखिलेश यादव और योगी आदित्यनाथ के नाम शामिल हैं।
ऐसा कानून बनाते समय दलील दी गयी थी कि ज्यादातार विधायक और मंत्री गरीब होते हैं लेकिन मौजूदा समय में यदि चुनावी हलफनामों पर गौर किया जाए तो अधिकतर प्रत्याशी लाखों और करोड.ों रुपयों की संपत्ति के मालिक होते हैं। वह महंगी गाडि.यों से चल रहे हैं और आलीशान बंगलों में रहते हैं। मौजूदा समय में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री का मासिक वेतन 3 लाख 65 हजार रुपए है। इसमें भत्ते भी शामिल हैं।

यह भी पढ़ें-दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव में एबीवीपी ने तीन पदों पर जमाया कब्जा

बता दें कि उत्तर प्रदेश में कानून है कि सरकार पूर्व मुख्यमंत्रियों, मौजूदा मुख्यमंत्री और मंत्रियों का इनकम टैक्स सरकारी खजाने से जाता है। मुख्यमंत्रियों और मंत्रियों का इनकम टैक्स जमा करने का यह कानून 1981 में मुख्यमंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह के समय में बना था।

करीब 40 साल पहले बने इस कानून में कहा गया है कि राज्य के मुख्यमंत्री और मंत्री का वेतन अत्यंत कम होता है, वह गरीब तबके से आते हैं इसलिए अपना इनकम टैक्स नहीं भर सकते। जनता का प्रतिनिधि होने के नाते विधायकों, मंत्रियों और मुख्यमंत्रियों के इनकम टैक्स का भुगतान सरकारी खजाने से होना चाहिए।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

जानिए आयुष्मान भारत योजना के तहत लखनऊ में कितने लाभार्थीयों ने उठाया लाभ

Published

on

लखनऊ। आयुष्मान भारत योजना प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना को लेकर शुक्रवार को सीएमओ नरेंद्र अग्रवाल प्रेस कॉन्फ्रेंस की। जिसमें उन्होंने कहा कि एसईसीसी 2011 डाटा के अनुसार लखनऊ में कुल 279930 लाभार्थीयों को चिन्हित किया गया। नरेंद्र अग्रवाल ने कहा कि जिले के कुल 4108 परिवार मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना के अंतर्गत चिन्हित किये गए। जबकि लखनऊ में अब तक कुल 105053 गोल्डन कार्ड निर्गत किये गए है।

उन्होंने कहा कि सूचीबद्ध चिकित्सालयों द्वारा 84295 व् जन सुविधा केंद्रों द्वारा 20758 गोल्डन कार्ड निर्गत किये गए। योजना का लाभ दिए जाने के लिए 30 राजकीय व् 129 निजी चिकित्सालयों को किया गया। जिसमें लाभार्थियो का उपचार के लिए TMC पोर्टल पर पंजीकरण कराया गया। जिसके तहत निजी चिकित्सालयो में 6333 व् राजकीय चिकित्सालयो में 6163 लाभार्थियो को लाभ मिला।

ये भी पढ़े- जनता को शुद्ध दूध और कड़कनाथ चिकन उपलब्ध कराएगी कमलनाथ सरकार, खोले दो आउटलेट

सीएमओ नरेंद्र ने कहा कि आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत 15 सितम्बर से 2 अक्टूबर तक कार्यक्रमो का आयोजन किया जायेगा। 15 सितम्बर को ब्लॉक व् ग्राम स्तर पर जन जागरूकता के लिए प्रभात भेरी निकाली जायेगी। इसके बाद कार्यक्रम के माध्यम से आयुष्मान भारत योजना के सम्बन्ध में लोगो को जागरूक किया जायेगा। आगे कहा कि 23 सितम्बर को जनपद के प्रत्येक नगरीय,ग्रामीण सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर ANM  की कार्यशाला का आयोजन भी होगा। जहां 1 अक्टूबर को विश्व वृद्ध दिवस के अवसर पर वृद्धों को दी जाने वाली सुविधाओं पर चर्चा होगी।

वहीं 2 अक्टूबर को स्वास्थ्य स्वक्षता पोषण समिति की बैठक में आयुष्मान दोनों स्तंभो HWC व् PM-JAY के प्रति जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। साथ ही कहा कि इन सभी कार्यक्रमों का उद्देश्य ज्यादा से ज्यादा लाभार्थियो को चिन्हित कर उनका उपचार करना है। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

प्रदेश

बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी कल अयोध्या दौरे पर, आर्टिकल 370 पर देंगे व्याख्यान

Published

on

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और सांसद सुब्रमण्यम स्वामी शनिवार को अपने जन्मदिन के अवसर पर अयोध्या का दौरा करेंगे। इस दौरान स्वामी कई कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे। वहां प्रेस वार्ता भी करेंगे साथ ही आर्टिकल 370 पर व्याख्यान भी देंगे।

सुब्रमण्यम स्वामी का 15 सितंबर को जन्मदिन है। स्वामी इस अवसर पर अयोध्या पहुंचेंगे। यहां वो शनिवार दोपहर 2 बजे एक प्रेस वार्ता करेंगे। उसके बाद अवध विश्वविद्यालय के संत कबीर सभागार में स्वामी आर्टिकल 370 पर व्याख्यान देंगे। यह कार्यक्रम उनका शाम 5 बजे है।

ये भी पढ़ें: हेलमेट लगा होगा, सीट बेल्ट बंधी होगी तो नहीं रोकेगी पुलिस, यातायात निदेशालय ने दिए निर्देश

वहीं, अगले दिन यानि रविवार सुबह को वो रामलला के दर्शन भी करेंगे। दर्शन के बाद शंकराचार्य आश्रम में पूजा करेंगे। यही नहीं स्वामी इसके बाद कार सेवक पुरम में गो-पूजन भी करेंगे। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

September 13, 2019, 6:51 pm
Fog
Fog
27°C
real feel: 32°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 94%
wind speed: 3 m/s E
wind gusts: 3 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:21 am
sunset: 5:44 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 10 other subscribers

Trending