Connect with us

बिहार

Bihar: किशनगंज में उद्घाटन के पहले ही बह गया 1.42 करोड़ों की लागत से बना पुल

Published

on

लखनऊ। बिहार में रोज हो रहे बारिश और बाढ़ से लोग लगातार विभीषिका झेल रहे हैं। बिहार में विधानसभा चुनाव सिर पर हैं। राज्य में हर तरफ राज्य और केंद्र राज्य सरकार द्वारा उद्घाटन और शिलान्यास का काम जारी है। इसी कड़ी में बिहार के किशनगंज जिले में एक निर्माणाधीन पुल उद्घाटन के पहले ही बह गया है। यह मामला दिघलबैंक प्रखंड के पथरघट्टी पंचायत का है। यहां जिले में करोड़ों की लागत बन रहा एक निर्माणाधीन पुल भरभरा कर गिर गया और इसका मलवा पानी के साथ बह गया। यहां गोवाबाड़ी में 1 करोड़ 42 लाख की लागत से बन रहा गोवाबाड़ी पुल बह गया है।

इसे भी पढ़ें- पूर्व मंत्री और कांग्रेस नेता दलसिंगार यादव का कोरोना से निधन, लखनऊ में थे भर्ती

सूचना के मुताबिक पथरघट्टी के ग्वालटोली के पास कनकई नदी का बहाव तेज हो गया, जिसके कारण कच्ची सड़क तेजी से कटती गई। बताया जाता है कि अब पुल के एक हिस्से के धंस जाने से उधर का पूरा इलाका टापू की शक्ल ले चुका है। लोगों ने बताया कि अप्रोच रोड की मरम्मती होते ही आवाजाही शुरू हो जाती। लेकन उद्घाटन से पहले ही पुल जमीदोंज हो गया। गौरतलब है कि साल 2017 में आई प्रलयंकारी बाढ़ में दिघलबैंक प्रखंड पूरी तरह से तबाह हो गया था।जिसमें गोआबाड़ी-कुढ़ेली के बीच भी सड़कें कटीं। बाद में वहां पुल निर्माण का कार्य शुरू हुआ। लेकिन लोगों की उम्मीद पूरी होने से पूर्व ही उस पर पानी फिर गया।

इस पुल के टूटने के बाद स्थानीय लोगों का आरोप है कि पुल निर्माण में अनियमितता बरती गई है। इसके साथ ही उनका कहना है कि संवेदक और अभियंता ने नियमों को ताक पर रख कर पुल निर्माण कार्य किया है। ग्रामीणों की मांग है कि इस मामले में जांच करके दोषियों पर कार्रवाई की जाए।http://www.satyodaya.com

बिहार

20 अक्टूबर से बिहार में धुंआधार चुनाव प्रचार करेंगे सीएम योगी

Published

on

लखनऊ। बिहार में विधानसभा चुनावों का बिगुल बज चुका है। इस बार का बिहार चुनाव कई मायनों में काफी रोचक और खास होने वाला है। एक तरफ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सहित जदयू और भाजपा के दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव पर है तो वहीं आरजेडी और लोजपा के युवा नेतृत्व के लिए यह चुनाव किसी अग्नि परीक्षा से कम नहीं है।

सत्ता बचाने के लिए भाजपा और जदयू ने अपने चुनावी महारथी मैदान में उतार दिए हैं। खुद प्रधानमंत्री और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की कई संयुक्त रैलियां होने वाली हैं। भाजपा के स्टार प्रचारक और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्याथ की भी ड्यूटी बिहार चुनाव प्रचार में लगायी गयी है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 20 अक्टूबर से बिहार में ताबड़तोड़ चुनावी रैलियां करने जा रहे हैं। पार्टी ने सीएम योगी का चुनाव कार्यक्रम निर्धारित कर दिया है।कार्यक्रम के मुताबिक पहले चरण में बिहार के अलग-अलग छह स्थानों पर सीएम योगी की रैलियां होंगी। योगी 6 दिन में 18 रैलियां करेंगे, यानि की एक दिन में वह तीन स्थानों पर जनसभाओं को संबोधित करेंगे।

यह भी पढ़ें-अंधविश्वास में फंसकर 900 से ज्यादा लोगों ने किया था सुसाइड, यकीन करना मुश्किल

सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि सीएम योगी 20 अक्टूबर को सुबह 9 बजे बिहार के लिए लखनऊ से रवाना होंगे। इस दिन वह बिहार के तीन स्थानों कैमूर, अरवल और रोहतास में चुनावी जनसभाएं करेंगे। पहली जनसभा कैमूर में 12 बजे, दूसरी सभा अरवल में 2 बजे और रोहतास के विक्रम गंज में 3.15 बजे तीसरी चुनावी जनसभा को संबोधित करेंगे।

10 नवंबर को आएंगे चुनाव परिणाम

बता दें कि कोरोना काल में बिहार पहला ऐसा राज्य है जहां विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं। चुनाव आयोग ने तीन चरणों में बिहार चुनाव संपन्न कराने का ऐलान किया है। पहला चरण का मतदान 28 अक्टूबर को, दूसरे चरण का 3 नवंबर और तीसरे चरण का मतदान 7 नवंबर को होगा। 10 नवंबर को वोटों की गिनती होगी और इसी दिन परिणाम भी घोषित कर दिए जाएंगे।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

बिहार

बिहार विधानसभा चुनाव का ऐलान, तीन चरणों में होगा मतदान, 10 नवंबर को परिणाम

Published

on

कोरोना महामारी के बीच देश में पहला चुनाव संपन्न कराने के लिए चुनाव आयोग ने कसी कमर

लखनऊ। निर्वाचन आयोग ने बिहार विधानसभा चुनावों का ऐलान कर दिया है। मतदान तीन चरणों में 28 अक्टूबर, 3 नवंबर और 7 नवंबर को होगा। 10 नवंबर को मतगणना होगी और उसी दिन चुनाव परिणाम घोषित कर दिया जाएगा। 28 अक्टूबर को पहले चरण में 16 जिलों की 71 सीटों पर, 3 नवंबर को दूसरे चरण में 17 जिलों की 94 सीटों पर और 7 नवंबर को तीसरे चरण में 15 जिलों की 78 सीटों पर मतदान होगा। कोरोना महामारी के बीच देश में पहली बार विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं। शुक्रवार को चुनाव कार्यक्रम की घोषणा करते हुए मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा, वैश्विक महामारी के बीच चुनाव संपन्न कराने के लिए खास प्रबंध किए जाएंगे। कोविड-19 प्रोटोकाल को विशेष ख्याल रखा जाएगा।

कोरोना संक्रमितों के लिए आखिरी घण्टा

मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने बताया कि मतदान का समय एक घण्टे के लिए बढ़ा दिया गया है। कोरोना संक्रमित लोग आखिरी घण्टे में अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर सकेंगे। अति संवेदनशील क्षेत्रों को छोड़कर अधिकतर मतदान केन्द्रों पर मतदान सुबह 7 बजे से शाम तक होगा।

यह भी पढ़ें-एक ही दिन में कत्ल की 3 वारदातों से दहला बरेली, 5 साल के मासूम का अपहरण कर हत्या

बता दें कि बिहार की मौजूद विधानसभा का कार्यकाल 29 नवंबर को समाप्त हो रहा है। 243 वाली बिहार विधानसभा में बहुमत हासिल करने के लिए 122 सीटें जीतना जरूरी है। बिहार चुनाव में मुख्य मुकाबला लालू प्रसाद यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) और नीतीश कुमार की जदयू के बीच होने वाला है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

बिहार

बिहार में बाढ़ का कहरः देखते ही देखते कोसी की लहरों में समा गया स्कूल

Published

on

लखनऊ। बिहार के कई इलाकों में पिछले कुछ दिनों से हो रही बारिश की वजह से नदियां एक बार फिर उफान पर हैं। कभी ‘बिहार का शोक’ कही जाने वाली कोसी नदी  में भी इन दिनों जलस्तर बढ़ा हुआ है। इस कारण सहरसा जिले के निचले इलाकों के बाढ़ का पानी घरों तक पहुंच गया है। कोसी नदी में आई बाढ़ के कहर की झलक आज जिले के महिषी प्रखंड में देखने को मिली। बाढ़ और कटाव की वजह से महिषी प्रखंड में स्थित एक स्कूल लोगों के देखते ही देखते नदी में समा गया। नदी का जलस्तर बढ़ने से पानी स्कूल तक पहुंच गया था और कटाव की वजह से यह घटना हुई।

यह भी पढ़ें: फिरोजाबाद: भाजपा सांसद के बेटे पर कोरोना फैलाने का आरोप

बाढ़ को देखने के लिए स्थानीय लोग भी बड़ी संख्या में मौजूद हो जाते है। लोग बाढ़ की विभीषिका को लेकर काफी भयभीत हैं। इसी बीच स्कूल की इमारत के गिरने की आवाज आती है और धीरे-धीरे पूरा स्कूल बाढ़ के पानी में समा जाता है।

कोसी की बाढ़ से करीब आधा दर्जन जिले प्रभावित

बता दें कि बिहार के पूर्वी इलाकों में बहने वाली कोसी नदी की बाढ़ से सहरसा, मधेपुरा, सुपौल, अररिया आदि जिले हर साल प्रभावित होते हैं। इस साल भी मानसून सीजन की शुरुआत में कोसी नदी का जलस्तर बढ़ने के कारण कई जिलों के निचले इलाकों में बाढ़ का पानी घुस आया था। इस वजह से प्रशासन ने बाढ़ प्रभावितों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया था। महिषी प्रखंड के कुंदह मध्य विद्यालय के बाढ़ के पानी में समा जाने के बाद स्थानीय लोगों ने बताया कि पिछले 10 दिनों से इस इलाके में बाढ़ की वजह से कटाव हो रहा था। आज सुबह से ही जलस्तर में वृद्धि देखी जा रही थी।http://satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

October 23, 2020, 1:21 pm
Mostly sunny
Mostly sunny
31°C
real feel: 36°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 58%
wind speed: 1 m/s NNW
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 3
sunrise: 5:40 am
sunset: 5:01 pm
 

Recent Posts

Trending