Connect with us

बिहार

बिहार: जगन्नाथपुर मेले में नवजात शिशुओं का शव बना तमाशा, आरोपी चढ़े पुलिस के हत्थे….

Published

on

फाइल फोटो

रांची के ऐतिहासिक जगन्नाथपुर मेले का एक मामला सामना आया है। जहां नवजात शिशुओं के शवों को केमिकल में डालकर प्रदर्शन किया जा रहा है। हैरानी की बात यह है कि यह प्रदर्शन जहां किया जा रहा है, वहां से महज 50 मीटर की दूरी पर मेले की देखभाल करने के लिए ओपी बनाया गया है। जहां लोगों की काफी भीड़ भी जमा हुई थी। सभी लोग पैसे देकर तमाशा देख रहे थे।

जब इस ऐतिहासिक मेले की तस्वीरें बुधवार को सोशल मीडिया पर वायरल हुई तो प्रशासन हरकत में आया और हटिया डीएसपी प्रभात रंजन बरवार के आदेश पर धुर्वा थाने की पुलिस टीम ने मौके पर पहुंच कर तीन लोगों आरोपियों को अरेस्ट कर लिया है। इन आरोपियों में कोलकाता के वकील माइटी, पिंटू माइटी और प्रभात सिंह शामिल है। हालांकि पुलिस तीनों को हिरासत में लेकर उनसे पूछताछ कर रही है।

डीएसपी ने आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की कही बात

जानकारी के मुताबिक तीनों आरोपियों ने पुलिस को बताया कि वे कोलकाता से इन अविकसित भ्रूण को लाये थे। उन्होंने कहा कि, मेला समिति के लोगों को 10 हजार रुपये भी दिए थे। हालांकि जगन्नाथपुर मेला न्यास समिति के कोषाध्यक्ष लाल प्रवीर नाथ शहदेव ने आरोपियों के इस बयान से साफ इंकार कर दिया। उन्होंने कहा कि इसके लिए कोई अनुमित नहीं ली गई थी और न ही मेला समिति ने आरोपियों से पैसा लिया। उन्होंने कहा कि समिति का तमाशा दिखाने वाले लोगों से कोई लेना-देना नहीं है।

ये भी पढ़े:बिहार: शादी समारोह में घुसा बेकाबू ट्रक, 8 लोगों की मौत, कई घायल….

हटिया डीएसपी प्रभात रंजन ने घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि ऐसी अमानवीय हरकत करने वालों के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाएगी। हालांकि अभी अविकसित भ्रूण का पता लगाने का काम पुलिस का जारी है। जल्द ही ऐसा काम करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। http://www.satyodaya.com

बिहार

बिहार: महानंदा नदी में 80 यात्रियों से भरी नौका पलटी, 5 की मौत

Published

on

कटिहार: पश्चिम बंगाल के मालदा में महानंदा नदी में गुरुवार रात एक बड़ी नौका पलट गई। जानकारी के मुताबिक जिस वक्त ये हादसा हुआ तब नौका में करीब 80 यात्री सवार थे। वहीं इस घटना में 5 लोगों की मौत हो गई है, जबकि राष्ट्रीय आपदा बल (NDRF) की टीम ने 28 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया है।

साथ ही करीब 40 लोग नदी में लापता हो गए है, जिनकी तलाश अभी जारी है। हादसे की सूचना मिलते ही एनडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंची और रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू कर दिया।  मालदा जिला के डीएम ने भी मौके पर पहुंचकर घटनास्थल का जायजा लिया।  

ये भी पढ़ें: संजय निरुपम के बदले अंदाज, कहा कांग्रेस को हमारी जरूरत नहीं…..

बताया जा रहा है कि घटना मालदा जिले के चंचल पुलिस थाना इलाके की है। जगन्नाथपुर में महानंदा नदी में लोगों से भरी नाव उत्तरी दिनाजपुर के लिए रवाना हुई थी, लेकिन उससे पहले ही हादसे का शिकार हो गई। मुकुंदपुर घाट पर पहुंचने से पहले ही नाव महानंदा नदी में डूब गई। दुर्घटना का कारण महानंदा नदी का जलस्तर अधिक होना व नाविक का नाव पर से नियंत्रण खो देना बताया जा रहा है।

वहीं नाव पर यात्रियों के साथ साइकिल और मोटरसाइकिल भी रखे हुए थे। सूत्रों के अनुसार सवार सभी यात्री उत्तरी दिनाजपुर में बैच उत्सव देखने जा रहे थे, इस दौरान संतुलन बिगड़ने ने नाव बीच नदी में पलट गई। मृतकों में एक बिहार के कटिहार का रहने वाला था। लापता लोगों में भी कई बिहार के बताए जा रहे हैं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

बिहार

बिहार में बाढ़ का कहर: अब तक 73 की मौत, कई जगहों पर सड़ रही लाशें

Published

on

फाइल फोटो

पटना। बिहार में बाढ़ के कहर ने लोगों का जीना दुश्वार कर दिया है, वहीं लोगों की मरने की संख्या बढ़ती जा रही है। जहां राजधानी पटना के इलाके में बाढ़ से जुड़ी घटनाओं में मरने वालों की संख्या गुरुवार को 73 तक पहुंच गई है। हालात इतने खराब हो गए हैं कि राहत और बचाव कार्यों में जुटी टीम ने कई जगहों पर लोगों के सड़ रही लाशों को निकाला है।

ये भी पढ़े- सलमान खान को सोशल मीडिया पर धमकी देना पड़ा भारी, 2 युवक गिरफ्तार

जानकारी के अनुसार मूसलाधार बारिश ने राज्य की राजधानी सहित राज्य के 15 जिलों में बाढ़ जैसी स्थिति पैदा कर दी है। राज्य के आपदा प्रबंधन ने कहा कि हम भारी बारिश की वजह से होने वाले जानमाल के नुकसान पर नजर बनाए हुए हैं। हालांकि विभाग जिलेवार सूचना देने में असमर्थ है। भागलपुर में जिला प्रशासन ने 12 लोगों के हताहत होने की पुष्टि की है। पटना शहर के कई हिस्सों में भी आम जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। जिला प्रशासन, एनडीआरएफ और एसडीआरएफ के साथ मिलकर भोजन की व्यवस्था करने में जुटा है। फंसे नागरिकों के लिए पीने का पानी और दवाई की भी व्यवस्था की जा रही है। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

बिहार

बिहार में बाढ़ का कहर, तीन दिन से घर में फंसे थे सुशील मोदी, NDRF ने निकाला

Published

on

पटना। बिहार में पिछले पांच दिनों से मौसम अपना कहर बरपा रहा है। सितंबर के आखिर में आसमान से आफत कुछ इस तरह बरसी है कि जगह-जगह पानी-पानी हो गया है। वहीं बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी और उनका परिवार पिछले तीन दिनों से घर में फंसे रहे। उनके घर में पानी भर गया है। उन्हें सोमवार को NDRF की टीम ने बाहर निकाला। बारिश और बाढ़ से अबतक मरने वालों की संख्या 29 तक पहुंच गई है। सड़कों पर गाड़ियों की जगह नाव नजर आ रहे हैं। प्रदेश के 14 जिलों में रेड अलर्ट घोषित किया गया है।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने बिहार में बारिश और बाढ़ से मरने वाले लोगों के प्रति संवेदना व्यक्त की है। उन्होंने ट्विट कर कहा कि बाढ़ से हालात बेकाबू हो गए हैं और कई लोगों की मौत की खबरें हैं। उन्होंने ट्वीट कर कांग्रेस कार्यकर्ताओं से पीड़ित लोगों के लिए राहत और बचाव कार्य में तत्काल जुट जाने की अपील की है।

ये भी पढ़े- वसूली के मामले में एसएसपी ने लिया एक्शन, इंस्पेक्टर लाइन हाजिर

बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने राज्य सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि बिहार में जो आपदा आई है, उससे देश सकते में है। ये कोई प्राकृतिक आपदा नहीं है बल्कि नीतीश सरकार की वजह से हुआ है।

बता दें कि बारिश थमने के बाद राजेंद्र नगर स्थित अपने निजी घर में परिवार के साथ फंसे उपमुख्‍यमंत्री सुशील मोदी को एनडीआरएफ (NDRF) की टीम ने नाव पर बैठाकर बाहर निकाला। इसके बाद वे अपने सरकारी आवास गए। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

October 11, 2019, 6:11 am
Fog
Fog
22°C
real feel: 26°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 93%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:33 am
sunset: 5:13 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 10 other subscribers

Trending