Connect with us

बिहार

झारखंड: युवक को भीड़ ने खंभे से बांधकर घंटो पीटा,वीडियो वायरल….

Published

on

हिंदू-मुस्लिम

फाइल फोटो

झारखंड के खरसावां में बाइक चोरी के मामले में भीड़ ने एक युवक को खंभे से बांधकर खूब पीटा। घंटों मारने के बाद फिर भीड़ ने उसे पुलिस के हवाले कर दिया। जहां पुलिस ने युवक को अधमरी हालत में अस्पताल में भर्ती कराया। उसके बाद उसकी मौत हो गई।

आपको बता दें इस पूरी घटना का एक वीडियो बड़ी तेजी के साथ वायरल हो रहा है। जिसमें आप देख सकते हैं किस तरह गुस्साई भीड़ एक युवक को खूब पीट रही हैं। वहीं पीड़ित युवक की पहचान तबरेज अंसारी के रूप में हुई है, जिसकी उम्र 24 साल है।

जानकारी के मुताबिक झारखंड की भीड़ हिंसा की घटना का तथकथित वीडियों सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमे एक युवक डंडे से तबरेज अंसारी को खूब मार रहा है और उससे श्री राम के नारे लगाने को भी कह रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक तबरेज को 18 जून को पुलिस को सौंपा गया था। जिसके बाद पुलिस ने युवक को हॉस्पिटल में भर्ती कराया। जहां 6 दिन बाद उसकी मौत हो गई।

वहीं युवक को पीटने वाले की भी पहचान हो चुकी है। जिसका नाम पप्पू मंडल है और उसे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इस दौरान ये भी पता चला पीड़ित तबरेज अंसारी की महारष्ट्र के पुणे में वेल्डिंग का काम करता था। लेकिन ईद मनाने के लिए वह अपने गांव खरसावां आया था। इतना ही नहीं ईद के दौरान उसके परिवार वालों ने उसकी शादी भी तय कर दी थी।

आपको बता दें 18 जून को तबरेज अंसारी दो लोगों के साथ जमशेदपुर के लिए निकला था। वहीं इस घटना के बारे में झारखंड के समाजसेवक औरंगजेब अंसारी का कहना है कि उसे नहीं पता था उसे नहीं पता था वे लड़के उसे कहां ले जा रहे हैं। लेकिन जब भीड़ ने उसे घेर लिया तो वह डर गया। उसने यह भी कहा कि यह बाइक उसकी नहीं है, बल्कि उसके साथ जो लड़के थे यह उनकी है।

ये भी पढ़े:

हिंसक भीड़ ने तबरेज की एक न सुनी और उसे पकड़कर पीटने लगे। जिसके बाद भीड़ ने करीब 18 घंटे  से अधिक युवक की पिटाई की है। उसके बाद उसे जय श्री राम का नारा लगाने के लिए भी कहा। इतना ही नहीं भीड़ ने बाद में युवक को अधमरी हालत में पुलिस को सौंप दिया। लिस को सौंप दिया। http://www.satyodaya.com

बिहार

बिहार: मां ने अपने 4 बच्चों के साथ ट्रेन के आगे लगाई छलांग…

Published

on

पटना के पड़ोसी जिला जहानाबाद में एक दिल दहला देने वाली घटना घटित हुई है, जहां जहानाबाद में एक मां अपने 4 बच्चों के साथ ट्रेन के आगे कूद गई। बताया जा रहा है कि जिसमें मां समेत 3 बच्‍चों की मौके पर मौत हो गई, जबकि एक बच्‍चा घायल हो गया है। घायल बच्चे को मौके पर स्‍थानीय अस्‍पताल में एडमिट करवाया गया।   

जानकारी के अनुसार, पटना-गया रेलखंड के कड़ौना हाॅल्ट के समीप शनिवार की रात एक महिला अपने तीन बच्चों के साथ ट्रेन से कटकर आत्महत्या कर ली। बताया जाता है कि घरेलू कलह से तंग आकर महिला अपने चार बच्चों के साथ जान देने गई थी। वहीं, शवों की स्थिति ऐसी है कि उसें पहचानना भी मुश्किल हो रहा है। 

ये भी पढ़ें: राजधानी में स्वाइन फ्लू ने दी दस्तक, अस्पतालों में हाई अलर्ट जारी…

जीआरपी ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल लाया है। जानकारी के मुताबिक घटना की सूचना मिलते ही इलाके में हड़कंप मच गया, जिसके बाद काफी संख्‍या में स्‍थानीय लोग पहुंच घटनास्थल पर पहुंच गए। वहीं अभी शवों की शिनाख्त जारी है। रेल पुलिस ने शवों की शिनाख्‍त के लिए स्‍थानीय थाने से संपर्क किया है। फिलहाल घटना के कारण का अब तक पता नहीं चल सका है। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

बिहार

सरकारी इंजीनियर 30 साल से एक साथ कर रहा था तीन-तीन नौकरियां

Published

on

नई दिल्ली। मीडिया में अभी तक एक से बढ़कर एक नटवर लाल के किस्से सुर्खियां बन चुके हैं। लेकिन बिहार के एक नटवर लाल का कारनामा सामने आने के बाद लोग दंग रह गए। यह कोई सड़कछाप नटवरलाल नहीं बल्कि एक सरकारी नटवरलाल है। जिसने फर्जीवाड़े में ऐसा इतिहास रच दिया है जैसा शायद कोई और नटवरलाल न रच पाए। कहां तो एक अदद सरकारी नौकरी मिलना मुश्किल है, वहीं बिहार सरकार के एक सहायक इंजीनियर के पास सरकारी नौकरियों की भरमार है, शायद इसीलिए वह एक नहीं, दो नहीं बल्कि तीन-तीन नौकरियां कर रहा था, वह भी एक साथ।
इस नटवरलाल सरकारी इंजीनियर ने 30 साल तक एक साथ तीनों नौकरियां की और सैलरी भी उठाई। इतना ही नहीं तीनों ही नौकरियों में उसे प्रमोशन भी मिला। भला हो आज की अत्याधुनिक तकनीकों का जिनके चलते 30 साल बाद ही सही लेकिन आखिरकार इस चालबाज इजीनियर को पकड़ा गया। आरोपी इंजीनियर सुरेश राम पटना जिले का रहने वाला है।

इस इंजीनियर के फर्जीवाड़े का खुला किया वृहद वित्तीय प्रबंधन प्रणाली (सीएफएमएस) ने। दरअसल बिहार में हर सरकारी कर्मचारी को सीएफएमएस में अपना आधार, जन्मदिन और पैन कार्ड डिटेल के साथ अन्य जानकारी भरकर जमा करनी होती है। सुरेश राम ने जब सीएफएमएस में अपनी डिटेल भरी तो उसे फर्जीवाड़े का खुलासा हो गया।
सीएफएमएस प्रणाली के तहत वेतन प्रक्रिया में खुलासा हुआ कि सुरेश पाल नाम का एक ही व्यक्ति तीन जगह सहायक अभियंता के पद पर कार्यरत है। एक सुरेश पाल जल संसाधन विभाग बांका में सहायक अभियंता, दूसरा सुरेश पाल सुपौल जिले में सहायक अभियंता और तीसरा सुरेश पाल किशनगंज भवन प्रमंडल में सहायक अभियंता के पद पर तैनात है।

यह भी पढ़ें-गूंथे हुए आटे को मृत बच्चा बताकर मुआवजा लेने पहुंची महिलाएं

तीनों सुरेश पाल की सभी डिटेल एक जैसी ही थीं। इसके बाद सुरेश पाल की पोल खुल गई। बिहार सरकार के उप सचिव चन्द्रशेखर प्रसाद सिंह ने सुरेश पाल को सभी कागजात लेकर पटना मुख्यालय में पेश होने का कहा। जिसके बाद सुरेश पाल मुख्यालय पहुंचा तो लेकिन खुद को फंसता देख अधिकारियों को झांसा देकर फरार हो गया। खुलासे के बाद सुरेश पाल के साथ की शिकायत पर किशनगंज पुलिस ने उसके खिलाफ एफआईआर भी दर्ज की है। खबर के मुताबिक सुरेश पाल पिछले तीन दशक से सरकार को चूना लगा रहा था और अ बवह रिटायर होने वाला था। 20 फरवरी, 1988 को पटना में सबसे पहले उसे राज्य सड़क निर्माण विभाग में नियुक्त किया गया था।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

बिहार

दरोगा और कांस्टेबल की गोली मारकर हत्या, सर्विस पिस्टल लेकर फरार हुए बदमाश

Published

on

प्रतिकात्मक चित्र

बिहार में बेखौफ बदमाशों के हौसले बुलंद होते जा रहे है। जहां अपराधियों के निशाने पर अब पुलिसवाले आ गए हैं। मामला सारण जिले का है। मंगलवार की रात अपराधियों ने एसआईटी के दारोगा और एक कांस्टेबल की हत्या कर एके-47 रायफल और सर्विस पिस्टल लूट लिया। जानकारी के मुताबिक बदमाशों की खोज में निकली पुलिस टीम पर अपराधियों ने हमला बोल दिया। जिसमें दो पुलिसवालों को गोली मारकर हत्या कर दी।

ये भी पढ़े- कांग्रेस नेता चिदंबरम के फरार होने पर CBI ने जारी किया लुकआउट नोटिस

सारण जिला के मढ़ौरा में एसआईटी के दारोगा मिथिलेश और सिपाही फारुक के पार्थिव शरीर को बिहार के डीजीपी ने सलामी दी। बिहार के डीजीपी ने इस घटना की कड़ी निंदा करते हुए अपराधियों की इस हरकत को कायराना बताते हुए नाराजगी जाहिर की है और कहा है कि इस घटना का हम जवाब देंगे और एक-एक को कड़ी सजा दी जाएगी। वहीं शहीद दारोगा के परिजनों ने पूरे मामले की सीबीआई से जांच कराने की मांग की है। परिजनों को आशंका है कि मंगलवार की शाम दारोगा की अपराधियों के साथ हुई मुठभेड़ किसी साजिश का हिस्सा भी हो सकता है। पुलिस कर्मियों का शव रात को करीब 11:30 बजे सदर अस्पताल पहुंचा। लेकिन डीएम से अनुमति लेने की प्रक्रिया पूरी होने के बाद करीब 12:00 बजे रात को पहले दोनों शवों का पोस्टमार्टम किया गया। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

August 25, 2019, 9:40 pm
Thunderstorms
Thunderstorms
24°C
real feel: 25°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 100%
wind speed: 4 m/s E
wind gusts: 4 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:12 am
sunset: 6:04 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 9 other subscribers

Trending