Connect with us

बिहार

नहीं थम रहा बिहार में हत्याओं का दौर, पत्रकार के पुत्र की बेरहमी से हत्या, मारने से पहले फोड़ी आंखें  

Published

on

बिहार में हत्याओं का दौर थमने का नाम नहीं ले रहा। इस बार बेखौफ अपराधियों ने निशाना बनाया है एक पत्रकार के पुत्र को. घटना बिहार के नालंदा की है, जहां एक दैनिक अखबार के ब्यूरो चीफ के 18 वर्षीय बेटे को बेरहमी से मौत के घाट उतार दिया गया। इस दिल दहला देने वाली घटना के बारे में पुलिस ने बताया कि मृतक को मरने से पहले उसकी दोनों आंखें निकाल ली गईं थीं। मामला नालंदा के हरनौत पुलिस थाने के अंदर पड़ने वाले गांव में रविवार रात का है।

मीडिया के अनुसार पुलिस अधीक्षक नीलेश कुमार ने बताया, ‘उसकी आंखों से खून बह रहा है। इसके अलावा शरीर पर कोई चोट नहीं दिख रही है। मौत का कारण पोस्टमार्टम के बाद पता चलेगा। जांच जारी है।’

पुलिस ने बताया कि पत्रकार आशुतोष कुमार के बेटे अश्विनी कुमार उर्फ चिंटू हसनपुर गांव से ताल्लुक रखते थे लेकिन परिवार हरनौत में रहता है। वह कभी-कभार ही अपने गांव जाते थे। नालंदा एसपी नीलेश कुमार ने बताया कि यह अभी नहीं पता चल पाया है कि अश्विनी कब और कैसे गांव पहुंचा क्योंकि वह अपने परिवार के साथ हरनौत में रहता था।

नीलेश ने बताया, पुलिस मामले में एसआईटी गठित करेगी। मृतक का शव गांव के बाहर एक खेत में मिला। शरीर में चोट के कई निशान थे। एसपी ने बताया कि हत्या के पीछे की वजह अभी सामने नहीं आ सकती है क्योंकि घरवाले फिलहाल पुलिस को कुछ भी बता पाने की स्थिति में नहीं हैं। http://www.satyodaya.com

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

देश

राबड़ी देवी की सुरक्षा में तैनात जवान ने खुद को मारी गोली

Published

on

फाइल फोटो

लखनऊ । बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री और लालू यादव की पत्नी राबड़ी देवी के सुरक्षा में तैनात केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के जवान गिरिअप्पा नामक जवान ने खुद को गोली मारी गिरिअप्पा ने अपने ही हथियार से ही पटना स्थित राबड़ी देवी के आवास पर खुद को गोली मार ली । घटना शुक्रवार रात दस बजे की है । आत्महत्या का कारण अभी स्पष्ट नहीं हो सका है । शुरुआती जांच में पुलिस मान रही है कि पारिवारिक विवाद में जवान ने खुदकुशी की है । सचिवालय डीएसपी ने घटना की पुष्टि की है ।


मिली जानकारी के मुताबिक घटना गुरुवार देर रात 2 बजे की है । गिरियप्पा कर्नाटक के बेलगाव का रहने वाला था । पिछले 9 महीने से गिरियप्पा पटना स्थित राबड़ी आवास पर तैनात था । राबड़ी देवी आवास पर कुल 11 सीआरपीएफ तैनात थे । जिसमें 8 कांस्टेबल 2 हवलदार 1 टीम लीडर शामिल है । इनमें गिरियप्पा भी शामिल था ।

यह भी पढ़ें : मायावती पर आठवले का पलटवार-कहा, पीएम मोदी की पत्नी की चिंता छोड. पहले खुद कर लें शादी


बताया जा रहा है कि गिरियप्पा ने अपने X95 हथियार से ही गोली मारकर आत्महत्या कर ली । घटना के बाद सुरक्षाकर्मीयों ने घटना को दिन भर छिपाकर रखा । वहीं पटना पुलिस के मुताबिक प्रथम दृष्टया परिवारिक विवाद का मामला लग रहा है । बताया जा रहा है कि गिरियप्पा का फोन पर अपनी पत्नी से बहस हुआ था । पटना पुलिस के मुताबिक घटना शुक्रवार की है । मृतक जवान के शव को कर्नाटक भेज दिया गया है ।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

बिहार

NDA प्रत्याशी की जनसभा में जनता ने बरसाए जूते चप्पल, आने वाले थे भोजपुरी स्टार पवन सिंह, मगर…!!

Published

on

फाइल फोटो

लोकसभा चुनाव के दौरान प्रत्याशी अपने प्रचार के लिए पूरी मेहनत से जुटे हुए हैं। ऐसे में वो ज्यादा से ज्यादा लोगों के बीच अपनी सभा करना चाहते हैं। जनसभा तक लोगों को बुलाने के लिए किसी फिल्मी सितारे को बुलाने हेतु भी परहेज नहीं किया जा रहा। परहेज किया भी कैसे जा सकता है जब राजनीति में अब खुद फिल्मी चेहरों की कमी न रह गई हो। इसी क्रम में बिहार में एक एनडीए प्रत्याशी ने अपने चुनाव प्रचार के लिए भोजपुरी स्टार पवन सिंह बुलाया था। यह जनसभा लौरिया के साहू जैन स्टेडियम में आयोजित की गई थी।

जनसभा में पहुंचे लोगों में अपने पसंदीदा स्टार को देखने की काफी उत्सुकता थी लेकिन यही उत्सुकता तब आक्रोश में बदल गई जब 5 घंटे बीतने पर भी पावन सिंह जनसभा में नहीं पहुंचे। इसके बाद तो मौजूद जनता ने जमकर उत्पात मचाया। लोग भीषण गर्मी में पावन सिंह की एक झलक पाने को आये थे लेकिन जब उन्हें पता चला कि वे नहीं आने वाले तो दर्शक आक्रोशित और बेकाबू हो गए। इस दौरान दर्शकों ने सभा स्थल पर मौजूद बैरिकेडिंग व कुर्सियों को तोड़ डाला।

दरअसल पवन को बिहार में एनडीए प्रत्याशी वैद्यनाथ प्रसाद का प्रचार करने आना था। जानकारी के मुताबिक कुछ लोगों ने स्टेज पर जूते चप्पल भी बरसाए। इस दौरान सभा में भगदड़ मच गई, जिसमें कई लोग जख्मी हो गए। बता दें कि 12 मई को छठे चरण के दौरान बिहार की आठ सीटों पर मतदान होगा।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक गुरुवार को एनडीए प्रत्याशी वैद्यनाथ प्रसाद का प्रचार करने के लिए पवन सिंह और सतीशचंद्र दूबे सहित कई नेताओं को हेलीकॉप्टर से यहां आना था। इस दौरान भोजपुरी सुपरस्टार पवन सिंह को देखने के लिए हजारों लोग एक बजे से ही कड़ी धूप में स्टेडियम में डटने लगे।

संचालक स्टेज से बार-बार पवन सिंह के आने की घोषणा करते रहे। लेकिन जब 4 घंटे तक भी पवन सिंह नहीं पहुंचे तो, गर्मी से बेहाल लोगों के सब्र का बांध टूट गया, जिसके बाद लोगों ने जमकर बवाल किया। बैरिकेडिंग, कुर्सियां तोड़ने के बाद स्टेज पर जूते-चप्पल फेंकना शुरू कर दिया। जानकारी के मुताबिक़ भीड़ को उग्र होता देख जेडीयू व बीजेपी नेताओं ने तुरंत मंच से उतरने में अपनी भलाई समझी।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

बिहार

समान कार्य समान वेतन पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, 3.50 लाख नियोजित शिक्षकों के हाथ लगी मायूसी, जानिए

Published

on

नियोजित शिक्षकों ने तकरीबन दस साल पहले सामान काम सामान वेतन को लेकर पटना हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी। हाईकोर्ट ने शिक्षकों के हक में फैसला भी सुना दिया था लेकिन आज सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के फैसले को पलट दिया है। सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से बिहार के साढ़े तीन लाख नियोजित शिक्षकों को बहुत बड़ा झटका लगा है।

वहीं इस फैसले से बिहार सरकार को बड़ी राहत मिली है। सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को नियोजित शिक्षकों समान काम के बदले समान वेतन देने के फैसले से इनकार करते हुए पटना हाईकोर्ट के फैसले को भी पलट दिया है। हाई कोर्ट से मिली ख़ुशी के बाद सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने बिहार के इन नियोजित शिक्षकों को फिर से मायूस कर दिया है।

सुप्रीम कोर्ट में अटॉर्नी जनरल के।के। वेणुगोपाल ने कहा था कि शिक्षकों की नियुक्ति और वेतन देना राज्य सरकार का काम है। इसमें केंद्र की कोई भूमिका नहीं है। केंद्र ने तर्क दिया था कि नियमित शिक्षकों की बहाली बीपीएससी के माध्यम से हुई है। वहीं नियोजित शिक्षकों की बहाली पंचायती राज संस्था से ठेके पर हुई है, इसलिए इन्हें समान वेतन नहीं दिया जा सकता है।

सात महीने बाद हुए इस फैसले का सीधा असर बिहार के साढ़े तीन लाख शिक्षकों और उनके परिवार वालों पर पड़ेगा। बिहार के नियोजित शिक्षकों का वेतन फिलहाल 22 से 25 हजार है और अगर कोर्ट का फैसला शिक्षकों के पक्ष मे आता तो उनका वेतन 35-40 हजार रुपए हो जाता। शिक्षकों की इस लड़ाई में देश के दिग्गज वकीलों ने उनका पक्ष कोर्ट में रखा था।

शिक्षकों की तरफ से कपिल सिब्बल और अभिषेक मनु सिंघवी जैसे वकीलों ने कोर्ट में बहस की,
जिसके बाद नोहर सप्रे और जस्टिस उदय उमेश ललित की खंडपीठ ने अंतिम सुनवाई पिछले साल तीन अक्तूबर को की थी और फैसला सुरक्षित रखा गया था, लेकिन शुक्रवार को कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए नियोजित शिक्षकों को समान वेतन देने से इनकार कर दिया है। आपको बता दें कि कोर्ट के इस फैसले से बिहार के प्राथमिक स्कूल से लेकर प्लस टू विद्यालयों के शिक्षक इस फैसले से प्रभावित होंगे।

निश्चित है कि सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से ये नियोजित शिक्षक बिहार सरकार से खासा नाराज होंगे ऐसे में देखना ये होगा कि इन साढ़े तीन लाख नियोजित शिक्षकों की मायूसी इस चुनावी माहौल पर कितना असर डालती है।  http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

May 19, 2019, 1:06 am
Partly cloudy
Partly cloudy
28°C
real feel: 27°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 50%
wind speed: 1 m/s WSW
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 4:47 am
sunset: 6:19 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 8 other subscribers

Trending