Connect with us

बिहार

‘पंच के बात मूड़े पर, खूंटा गाड़ब दरे पर’ वाली कहावत को सच कर रहे हैं तेजप्रताप यादव, लालू-राबड़ी मोर्चा को बताया असली RJD, मांगा अपने प्रत्याशी के लिए समर्थन

Published

on

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बड़े लाल और बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव के जन्मदिन पर लगा कि अब परिवार की मुश्किलें हल हो गई हैं, लेकिन ये सब केवल एक दिन की बात ही थी। तेजप्रताप के जम्दीन के मौके पर उनकी मां राबड़ी देवी आयीं, छोटे भा तेजस्वी यादव आये। मां ने घर लौटने की गुहार भी लगाई, भाई ने कृष्ण कह कर बधाई भी दी लेकिन तेजप्रताप अपने फैसले पर अडिग रहे। सबको लगा कि अब तेजप्रताप मां गए हैं लेकिन अगले ही दिन वह निर्दलीय प्रत्याशी अंगेश कुमार सिंह उर्फ अंगराज के समर्थन में शिवहर लोस क्षेत्र में जनसंपर्क करने पहुंच गए।

तेजप्रताप यादव लोगों से मिले तथा अपने लालू-राबड़ी मोर्चा को असली राजद बताते हुए समर्थन की अपील। बता दें कि तेजप्रताप यादव ने अपनी ओर से दो उम्मीदवारों के नाम घोषित किए थे। इनमें जहानाबाद से चंद्रप्रकाश और शिवहर से अंगेश कुमार सिंह थे। हालांकि राजद की ओर से इन दोनों ही जगहों पर अपने उम्मीदवार मैदान में उतारे हैं।

तेजप्रताप ने कहा कि विकास की गंगा बहेगी। काम बेहतर होगा। कई जगहों पर गाड़ी से उतरकर दुकानों पर पहुंचे। लोगों से सीधा संवाद किया। साथ ही अंगेश को वोट देने की अपील की। उन्होंने शिवहर लोस क्षेत्र के मधुबन, ढाका, चिरैया, पचपकड़ी, घोड़ासहन में रोड शो किया और अंगेश कुमार सिंह का लोगों से परिचय कराया। नारा दिया लालू को जेल से निकालना है।

इस बीच गुरुवार को शिवहर लोस सीट से राजद प्रत्याशी के तौर पर सैय्यद फैसल अली ने नामांकन पत्र मोतिहारी कलेक्ट्रेट में दाखिल किया। कुछ देर बाद सूचना मिली कि तेजप्रताप शिवहर संसदीय सीट क्षेत्र में पहुंचे हैं।

गौरतलब है कि टिकट बंटवारे को लेकर राजद में विवाद था। तभी तेजप्रताप ने लालू-राबड़ी मोर्चा का गठन किया था। कहा था कि लोकसभा चुनाव में अपने प्रत्याशी उतारेंगे। इस बीच तेजप्रताप के जन्मदिन पर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव उनसे मिलने गए थे। बताया था कि तेजस्वी से उनका कोई मतभेद नहीं है, सब ठीक हो जाएगा। http://www.satyodaya.com

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बिहार

तेजस्वी यादव ने घर के बाहर लगाया जमावड़ा, उड़ाई सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां

Published

on

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस को रोकने के लिए लॉकडाउन लागू है। वहीं घर से बाहर निकलने के लिए कुछ निर्देश जारी किए गए है। लेकिन नेता व विधायक इन नियमों की धज्जियां उड़ा रहे है। ऐसा ही एक मामला बिहार का है। जहां  पूर्व डिप्टी सीएम और राष्ट्रीय जनता दल नेता तेजस्वी यादव शुक्रवार गोपालगंज जाने पर तुल गए। गाड़ियों के काफिले और सैकड़ों कार्यकर्ताओं के बीच दो गज की दूरी व बिना मास्क के नियमों ली हवा निकाल दी। पुलिस और आरजेडी के बीच तनातानी जारी है।

पूर्व सीएम राबड़ी देवी के घर के बाहर विधायकों और पार्टी नेताओं का जमावड़ा लगा हुआ है। न मास्क, न सोशल डिस्टेंसिंग के साथ लॉकडाउन के सभी नियमों की धज्जियां उड़ा दी। अभी भी तेजस्वी यादव अपनी मां और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी और भाई तेज प्रताप यादव के साथ गोपालगंज जाने के लिए अड़े हैं। वहीं पटना पुलिस ने साफ कह दिया है कि किसी हाल में कानून नहीं तोड़ने दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें:- पूर्व पीएम चौधरी चरण सिंह की पुण्यतिथि आज, सीएम योगी ने अर्पित की श्रद्धांजलि

गोपालगंज में आरजेडी के तीन कार्यकर्ताओं की हत्या के बाद सियासत गर्म हो गई है। हत्या का आरोप जेडीयू नेता पर लगा है। तेजस्वी की मांग है कि आरोपी को फौरन गिरफ्तार किया जाए और इसी सियासी रोड पर वो पटना से गोपालगंज जाने पर अड़ गए हैं।  पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने कहा कि अगर सरकार काम न कर रही हो, लोग मर रहे हो, भूख से, गोलियों से, अपराधी लोगों को मार रहे हैं, ऐसे में हमारी जिम्मेदारी है कि पीड़ित के आंसू को पोंछे और सरकार की जिम्मेदारी है कि अपराधी को पकड़े। उन्होंने सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि लॉकडाउन में अपराधियों को विशेष पास दिया गया था। यही अपराधी-गुंडा जब हजार लोगों के साथ जुलूस निकालता है, तो कार्रवाई नहीं होती है और हम जब पीड़ित के आंसू पोंछने जा रहे हैं तो हमें रोका जा रहा है। पुलिस जेडीयू विधायक को क्यों नहीं गिरफ्तार कर रही है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

बिहार

1200 किलोमीटर साइकिल के सफर ने ज्योति के सपनों को दी नई उड़ान

Published

on

लखनऊ। मंजिल उन्हीं को मिलती है, जिनके सपनों में जान होती है,
पंख से कुछ नहीं होता, हौसलों से उड़ान होती है…

जी हां यही सच है…और अगर विश्वास न हो तो बिहार के दरभंगा की बेटी ज्योति की कहानी जान लीजिए। जिसने हिम्मत और जज्बे की ऐसी मिसाल कायम की है कि पूरी दुनिया उसे सलाम कर रही है। लाॅकडाउन के बीच हरियाणा के गुरुग्राम में फंसे अपने घायल पिता को साइकिल पर बैठाकर बिहार की इस बेटी ने 1200 किलोमीटर का सफर तय किया। कलयुग की इस श्रवण कुमार बेटी के साहस की मुरीद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की बेटी इवांका ट्रम्प भी हो चुकी हैं। साइक्लिंग का शौक रखने वाली ज्योति ने देश के युवाओं को संघर्ष की जो राह दिखाई है, उसकी मिसाल मिलनी मुश्किल है। पूरा देश बिहार की इस बेटी से प्रेरणा ले रहा है। इसके साथ ही तमाम राजनीति हस्तियों ने ज्योति की मदद की भी पहल की है।

केन्द्रीय खेल एवं युवा कल्याण राज्य मंत्री किरेन रिजीजू ने ज्योति का कॅरियर संवारने की जिम्मेदारी ली है। रविवार को एक ट्वीट कर केन्द्रीय मंत्री कहा, मैं विश्वास दिलाता हूं कि साई के अधिकारियों और साइक्लिंग फेडरेशन्स से ज्योति कुमारी के परीक्षण के बाद मुझे रिपोर्ट करने के लिए कहूंगा। यदि संभावित पाया, तो उसे नई दिल्ली में आईजीआई स्टेडियम परिसर में राष्ट्रीय साइक्लिंग अकादमी में प्रशिक्षु के रूप में चुना जाएगा।

किरेन रिजीजू ने यह ट्वीट केन्द्रीय मंत्री राम विलास पासवान के एक ट्वीट कर जवाब देते हुए किया है। श्री पासवान ने केन्द्रीय खेल मंत्री किरेन रिजीजू से अपील की थी कि वह ज्योति पासवान की साइक्लिंग की प्रतिभा को और अधिक संवारने के लिए इसके उचित प्रशिक्षण और छात्रवृति की व्यवस्था करें।

ज्योति पासवान के साहस और जज्बे की तारीफ तो पूरी दुनिया कर रही है। साथ मदद के लिए भी लोग आगे आ रहे हैं। हाल ही में सपा मुखिया अखिलेश यादव ने ज्योति को 1 लाख रुपए की आर्थिक मदद का ऐलान किया है। इसके अलावा संघ विचारक प्रो. राकेश सिन्हा ने भी ज्योति को 25000 हजार रुपए की मदद दी है।

राकेश सिन्हा ने ज्योति व उसके परिवार से फोन पर बात भी की है। राज्य सरकार ने भी ज्योति को हर संभव मदद का आश्वासन दिया है। शनिवार को राज्य शिक्षा विभाग की टीम ने दरभंगा स्थित ज्योति के घर पहुंचकर उसका 9वीं कक्षा में नामांकन कराया। शिक्षा विभाग की टीम ने ज्योति को नई साइकिल, पोशाक, काॅपी-किताबें आदि भी भेंट की। ज्योति ने 2017 में 8वीं पास करने के बाद आर्थिक तंगी के चलते पढ़ाई छोड़ दी थी।

साहस न दिखाती तो भूख से मर जाते बाप-बेटी

दरअसल बिहार के दरभंगा में रहने वाले मोहन पासवान हरियाणा के गुरुग्राम में मजदूरी करते हैं। इस साल की शुरूआत में ही मोहन पासवान किसी हादसे में गंभीर रूप से घायल हो गए। 15 साल की ज्योति अपने पिता की सेवा के लिए जनवरी में गुरुग्राम गई थी। इसी बीच कोरोना महामारी के चलते मार्च में लाॅकडाउन हो गया। दोनों बाप-बेटी वहीं फंस गए। बीमारी के चलते पिता की जेब खाली थी। दोनों के सामने भूखे मरने की नौबत आ गई।

सरकारी मदद से खरीदी पुरानी साइकिल

इसी बीच प्रधानमंत्री राहत कोष से 1 हजार रुपए की मदद मिली। इस समय तक ज्योति ने घायल पिता को लेकर अपने घर दरभंगा लौटने का निश्चय कर लिया था। 1000 रुपए में कुछ पैसे और मिलाकर ज्योति ने एक पुरानी साइकिल खरीदी। जिस पर पिता को बिठाकर घर के लिए निकल पड़ी।

यह भी पढ़ें-महाराष्ट्र में एक और संत की हत्या, बदमाशों ने गला रेतकर मौत के घाट उतारा

पहले तो पिता ने बेटी को मना किया लेकिन ज्योति की जिद और कोई और रास्ता न होने पर वह तैयार हो गए। 8 दिन में 1200 किलोमीटर का सफर तय कर ज्योति अपने घर दरभंगा के सिरहुल्ली पहुंच गई, और फिर यहीं से ज्योति पूरी दुनिया में साहस और जज्बे की जीती-जागती मिसाल बन गई। मीडिया के पूछने पर पिता मोहन पासवान बस इतना ही कहते हैं कि उन्हें बेटी पर गर्व है। वहीं ज्योति कहती है, मैं अपने पिता की बेटी नहीं, बेटा हूं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

बिहार

सीवान में फूटा कोरोना बम, एक ही परिवार के 25 लोग कोरोना पाॅजिटिव

Published

on

बिहार में कुल 60 संक्रमित मरीजों से 31 लोग एक ही गांव के सदस्य

लखनऊ। उत्तर प्रदेश से सटे बिहार में भी कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है। बिहार में अब तक कुल 60 मरीजों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है। सबसे ताज्जुब वाली बात यह है कि इन 60 मरीजों से 25 मरीज एक ही परिवार के हैं। इस परिवार का एक सदस्य कुछ दिन पूर्व विदेश यात्रा से लौटा था। शुरूआती जांच में उसकी रिपोर्ट निगेटिव आई थी। जिसके चलते संक्रमण पूरे परिवार में फैल गया। अब सीवान कोरोना के लिए हाॅट स्पाॅट बन चुका है। यह सभी संक्रमित व्यक्ति इसी जनपद के पंजवार गांव के हैं। पंजवार गांव में अब तक कुल 31 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है। गुरुवार को बिहार में कोरोना संक्रमण के कुल 19 मामले सामने आए हैं।

यह भी पढ़ें-लखनऊ: गरीबों को लंच पैकेट में बांट दिया नाॅनवेज, लोगों ने किया हंगामा

बेगुसराय के बछवाड़ा में 15 और 18 वर्ष के युवकों में कोरोना की पुष्टि हुई है। यह दोनों युवक जमात में शामिल रहे हैं। इस तरह इस गांव में कुल संक्रमित मरीजों की संख्या 4 हो गयी है। कोरोना संक्रमण को लेकर बिहार के 4 जनपदों को संवेदनशील माना जा रहा है। इनमें सीवान, मंुगेर, पटना और गया शामिल हैं। हालांकि संक्रमित मरीज कुल 11 जिलों में मिल चुके हैं। फिलहाल गुरुवार को बड़ी संख्या में कोरोना मरीज मिलने के बाद सीवान, बेगूसराय और नवादा की सीमाएं सील कर दी गयी है। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

June 1, 2020, 11:25 pm
Partly cloudy
Partly cloudy
29°C
real feel: 34°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 69%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 4:43 am
sunset: 6:26 pm
 

Recent Posts

Trending