Connect with us

व्यापार

घायल फौजी के लिए पूर्व सीएम अखिलेश ने दिखाई ऐसी दरियादिली कि आप भी बोल उठेंगे वाह!

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने एक बार फिर दरियादिली दिखायी है। दरअसल अखिलेश यादव कैंट थाना क्षेत्र के रजमन चौकी के पास घायल पड़े व्यक्ति के पास भीड़ देखकर रुकवाई अपनी फ्लीट।
घर से पार्टी कार्यालय के लिए जा रहे अखिलेश यादव ने घायल युवक को फौरन अस्पताल में भर्ती करवाया। घायल को अपनी फ्लीट में चल रहे सुरक्षा कर्मियों की गाड़ी से भेजवाया सिविल हॉस्पिटल। घायल व्यक्ति का नाम फौजी धर्मेंद्र कुमार बताया जा रहा है। https://satyodaya.com

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

व्यापार

पूर्वी यूपी में एजीआर शेयर का मार्केट लीडर बना रिलायंस जियो

Published

on

लखनऊ। अपने विस्तृत नेटवर्क, आकर्षक ऑफर और करोड़ों ग्राहकों के दम पर रिलायंस जियो कामयाबी के नए कीर्तिमान गढ़ते जा रहा है। अडजस्टेड ग्रॉस रेवेन्यू (एजीआर) के हिसाब से पूर्वी यूपी में रिलायंस जियो सबसे बड़ी टेलीकाॅम कंपनी बन गयी है। ट्राई की नई रिपोर्ट के अनुसार जुलाई-सितंबर तिमाही में जियो ने अपनी प्रतिद्वंदी कंपनियों को पछाड़ते हुए एजीआर में मार्केट लीडर बनकर उभरी है। जियो के एजीआर शेयर जहां 49 प्रतिशत हो गए हैं, वहीं वहीं दूसरी बड़ी टेलीकाॅम कंपनी एयरटेल का एजीआर शेयर 29 प्रतिशत रह गया है। वोडाफोन-आईडिया का एजीआर शेयर मात्र 20 प्रतिशत रह गए हैं। जबकि मार्केट में बीएसएनएल का शेयर सिर्फ 2 प्रतिशत रह गया है।

यह भी पढ़ें-प्रमुख सचिव ने मोहनलालगंज तहसील का किया निरीक्षण, दिए निर्देश

जियो ने पिछले तिमाही की तुलना में जुलाई-सितम्बर 2019 में 10 प्रतिशत की बढ़त हासिल की है। इसी अवधी में पिछले तिमाही की तुलना में जहां एयरटेल का शेयर सिर्फ 2.4 प्रतिशत बढ़ा है। वहीं दूसरी टेलीकॉम कंपनी वोडाफोन-आईडिया का एजीआर शेयर 4.2 प्रतिशत गिरा है। सरकारी टेलीकॉम ऑपरेटर बीएसएनएल में इसी तिमाही में एजीआर शेयर में सबसे बड़ी गिरावट लगभग 8.3 प्रतिशत देखी गयी है। जुलाई-सितम्बर 2019 तिमाही में मार्केट लीडर जियो ने एजीआर 757 करोड़ रुपये दर्ज की है। एयरटेल ने एजीआर 450 करोड़ रुपये व वोडाफोन-आईडिया ने 312 करोड़ रुपये दर्ज किया है। बीएसएनएल की एजीआर सिर्फ 30 करोड़ रुपये रह गयी है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

व्यापार

आरकाॅम को रिकार्ड घाटा, अनिल अंबानी ने डायरेक्टर पद से दिया इस्तीफा

Published

on

लखनऊ। देश के सबसे अमीर उद्योगपति मुकेश अंबानी के भाई अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस कम्युनिकेशंस (आरकाॅम) दिवालिया हो चुकी है। कर्ज के जाल में फंसी कंपनी को उबारने के लिए अनिल अंबानी ने काफी प्रयास किया लेकिन सफलता नहीं मिली। जिसके बाद अनिल अंबानी ने आरकाॅम के डायरेक्टर पद से इस्तीफा दे दिया है। कंपनी ने इस बात की जानकारी शनिवार को रेग्युलेटरी फाइलिंग में दी है। अंबानी के साथ कंपनी के अन्य चार बड़े पदाधिकारियों ने भी पद से इस्तीफा दे दिया है। जिनमें छाया विरानी, मंजरी कक्कड़, रायना करानी और सुरेश रंगचर ने निदेशक पद से इस्तीफा दिया है। हालांकि इन सभी के इस्तीफे अभी स्वीकार नहीं किए गए हैं।

जुलाई-सितंबर तिमाही में आरकाॅम को 30,142 करोड़ का घाटा

रिलायंस कम्युनिकेशंस दिवालिया प्रक्रिया में है। शुक्रवार को आरकाॅम ने इस वर्ष की दूसरी तिमाही के नतीजे जारी किए। जुलाई-सितंबर की तिमाही में कंपनी को 30,142 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। किसी भारतीय कंपनी का यह दूसरा बड़ा तिमाही घाटा है। कंपनी ने इससे पहले वित्त वर्ष में इसी तिमाही में 1141 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ कमाया था। वहीं इस तिमाही के दौरान कंपनी की आय घटकर 302 करोड़ रुपये रह गई, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 977 करोड़ रुपये थी। फिलहाल शेयर बाजार में आरकॉम का शेयर 59 पैसे पर है।

एजीआर के लपेटे में आरकॉम

तिमाही नतीजे जारी करते हुए आरकाॅम ने बताया है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुपालन में कंपनी ने एडजस्टेड ग्रॉस रेवेन्यू (एजीआर) के बकाया भुगतान के लिए 28,314 करोड़ रुपए का प्रावधान किया है जिसके चलते इतना नुकसान हुआ। आरकाॅम की कुल देनदारियों में 23,327 रुपए का लाइसेंस शुल्क और 4,987 करोड़ रुपए का स्पेक्ट्रम यूज शुल्क शामिल है। एजीआर एक तरह का यूजेज और लाइसेंस शुल्क है जो दूरसंचार मंत्रालय द्वारा टेलीकाॅम कंपनियों से वसूला जाता है। हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने केन्द्र और टेलीकाॅम कंपनियों की याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए केन्द्र के हक में फैसला सुनाया था।

यह भी पढ़ें-पीएम मोदी के सलाहकार से मिला इप्सेफ का प्रतिनिधि मंडल

चीन के बैंकों ने दर्ज कराया है मामला

बता दें कि वित्तीय संकट से गुजर रहे अनिब अंबानी पर हाल ही में चीन के तीन बड.े बैंकों ने भी लंदन कोर्ट में करीब 47,600 करोड़ रुपए न चुकाने का मामला दर्ज कराया था। एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक चीन के इन बैंकों का दावा है कि अनिल अंबानी की निजी गारंटी की शर्त पर आरकाॅम को 2012 में उन्होंने करीब 65 हजार करोड़ रुपए का कज्र दिया था। तब अनिल अंबानी ने इस लोन की पर्सनल गारंटी लेने की बात कही थी लेकिन फरवरी 2017 के बाद कंपनी लोन चुकाने में डिफॉल्ट हो गई।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

व्यापार

नेहरू के कार्यकाल में ही स्थापित हुए देश के प्रमुख संस्थान: अजय कुमार ‘लल्लू’

Published

on

लखनऊ। राजधानी के आलीगंज स्थित साईं आश्रम में गुरुवार को बाल दिवस पर पंडित जवाहरलाल नेहरू की जयंती पर एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया। इसकी  अध्यक्षता पूर्व पार्षद शैलेंद्र तिवारी बबलू और संचालन कमलाकर त्रिपाठी प्रदेश प्रवक्ता ने किया। संगोष्ठी में मुख्य अतिथि के तौर पर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू, विधायक राष्ट्रीय प्रवक्ता कांग्रेस अखिलेश प्रताप सिंह मौजूद थे।

इस अवसर पर अजय कुमार लल्लू ने नेहरू को समावेशी संस्कृति का पोषक बताते हुए कहा कि आजादी के समय के कठिन दौर में जब संसाधन अत्यंत सीमित थे, उन परिस्थितियों में आईआईटी, आईआईएम, एम्स जैसे एकेडमिक संस्थानों की स्थापना, भेल, नाल्को, भिलाई और दुर्गापुर बोकारो स्टील प्लांट जैसे बड़े संयंत्रों की स्थापना, परमाणु आत्मनिर्भरता के दिशा में इसरो और भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर जैसे संस्थानों की स्थापना उनके युग दृष्टा होने की प्रामाणिक गवाह है। वहीं, वर्तमान सरकार सिर्फ उपक्रमों को बेच रही है लेकिन सृजन का कोई कार्य नहीं कर रही।

राष्ट्रीय प्रवक्ता अखिलेश प्रताप सिंह ने कहा कि देश दुर्भाग्यपूर्ण दौर से गुजर रहा है, जिसमें कांग्रेस की सच्चाई पिछड़ गई है और नरेंद्र मोदी शासित भाजपा का झूठ लोगों के सर चढ़कर बोल रहा है। ऐसे में हम कांग्रेसजनों का दायित्व है के नेहरू द्वारा प्रतिपादित मिश्रित अर्थव्यवस्था से लेकर समाजवाद के पोषण तक की नीतियों को पुनर्स्थापित करें।

कमलाकर त्रिपाठी ने अपने वक्तव्य में कहा कि पंडित नेहरू सही मायने में लोकतंत्र में विश्वास रखते थे। जिसमें हिंदू, मुस्लिम, सिख, इसाई, जैन, बुध जैसे अनेक धर्म सहअस्तित्व में बिना किसी शंका और आशंका के रहते थे और देश की प्रगति में अपना योगदान देते थे। किसी को भी मॉब लिंचिंग का डर नहीं था। जो आज भीड़ तंत्र हावी है वह नेहरू के लोकतंत्र से एकदम अलग है। उन्होंने कहा कि यह सत्य है कि देश नेहरू के समावेशी नेतृत्व और विजन से ही चल सकता है, विघटनकारी सोच से नहीं। उन्होंने कहा कि जो लोग स्वतंत्रता आंदोलन में अंग्रेजों के साथ थे वह आज देशभक्त होने का दावा कर रहे हैं और इनके झूठ और फरेब को बेनकाब करना कांग्रेसजनों का ही कार्य है।

ये भी पढ़ें: झुग्गी के बच्चों संग ‘निशु वेलफेयर फाउंडेशन’ ने मनाया बाल दिवस, बांटे उपहार

संगोष्ठी में वीरेंद्र मदान, ओंकार सिंह, चंद्रशेखर मिश्रा, विजेंद्र सिंह ने भी अपने विचार व्यक्त किए। राकेश सिंह , विवेक भट्ट, पंकज तिवारी, हनुमान त्रिपाठी आशुतोष, शांतनु,  डॉक्टर उपरेती, आलोक रायकवार,  अमरनाथ अग्रवाल, श्याम तिवारी समेत कांग्रेसी कार्यकर्ती मौजूद रहे।  http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

November 26, 2019, 11:16 am
Hazy sunshine
Hazy sunshine
22°C
real feel: 26°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 76%
wind speed: 1 m/s N
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 4
sunrise: 6:04 am
sunset: 4:43 pm
 

Recent Posts

Trending