Connect with us

व्यापार

काजल अग्रवाल ने बर्फ के बीच बाथटब में बैठकर कराया फोटोशूट, देखें तस्वीरें

Published

on

काजल अग्रवाल

फाइल फोटो

मुंबई। साउथ एंड बॉलीवुड की खूबसूरत एक्ट्रेस काजल अग्रवाल अक्सर इन्स्टाग्राम पर अपने फोटोज और वीडियोज शेयर करती रहती हैं उनके हॉट फोटोज और वीडियोज को उनके फैंस खूब लाइक और शेयर करते हैं ऐसे में अभी हाल ही में काजल अग्रवाल ने अपने इन्स्टा अकाउंट पर एक फोटो शेयर की है जिसमें वह बाथटब में बर्फ के बीच बैठ कर फोटोशूट कराया है

काजल ने इस फोटो को शेयर करते हुए कैप्शन में लिखा इस गर्मी खुद को कूल रखने के लिए क्या कर रहे हैं आप आपको बता दें इस फोटोशूट के दौरान काजल अग्रवाल ने टीशर्ट पहनी हुई है जानकारी के मुताबिक काजल अग्रवाल की यह फोटो अपकमिंग फिल्म सीता का एक सीन है फिल्म सीता में वह बिजनेसवुमेन का रोल करती नजर आएंगी इस फिल्म को तेजा डायरेक्ट कर रहे हैं

अभी हाल ही में काजल स्पेन में बीच किनारे रिलैक्स करती नजर आई थीं फोटो में एक्ट्रेस काफी हॉट एंड ग्लैमरस लुक में नजर आ रही थीं आपको बता वह यहां अपनी तेलुगू फिल्म की शूटिंग के लिए आई थीं जिसका निर्देशन सुधीर वर्मा कर रहे हैं

वहिंग अगर हम काजल अग्रवाल के वर्क फ्रंट की बात करें तो वह फिल्म ‘क्यू ! हो गया ना’ से बॉलीवुड में एंट्री की थी फिल्म सिंघम और स्पेशल 26 से उन्हें बॉलीवुड में पहचान मिली

http://www.satyodaya.com

व्यापार

दो साल का हुआ GST, कारोबारियों व कर दाताओं के लिए केन्द्र ने किए नए बदलाव

Published

on

नई दिल्ली। देश के ऐतिहसिक टैक्स सुधार वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) ने दो साल पूरे कर लिए हैं। इसे 30 जून, 2017 की मध्य रात्रि में संसद के सेंट्रल हॉल में आयोजित हुए एक शानदार समारोह में लागू किया गया था। 1 जुलाई 2017 से जीएसटी प्रभाव में आया। अस्तित्व मे आने से पहले जीएसटी को भारी विरोध कर सामना पड़ा। दो साल में जीएसटी का रास्ता काफी उतार-चढ़ाव वाला रहा, तो इससे देश में कई महत्वपूर्ण बदलाव भी हुए हैं। व्यापारियों और आम जनता की कुछ असुविधाओं को छोड. दिया जाए जीएसटी ने सरकार के लिए काफी लाभदायक रहा है। जीएसटी में तमाम वस्तुओं-सेवाओं पर टैक्स रेट में कटौती के बावजूद पिछले दो साल में टैक्स कलेक्शन बढ़ता गया है। अगस्त 2017 के 93,590 करोड़ रुपये के राजस्व के मुकाबले मई 2019 में राजस्व बढ़कर 1,00,29 करोड़ रुपये रहा है। राज्यों की सीमाओं में अबाध तरीके से ट्रकों की आवाजाही की वजह से ट्रांसपोर्ट में तेजी आई है और इसकी वजह से लॉजिस्टकि यानी माल की ढुलाई की लागत में करीब 15 फीसदी की कमी आई है। #DigitalIndiaNewIndia

यह भी पढ़ें-भारत की हार से उलझ गया सेमीफाइनल का गणित, पाक की उम्मीदें हुईं धुंधली

इसके अलावा विभिन्न मद में सिंगल टैक्स रेट होने से टैक्स देना आसान हुआ है। एक ऐसी प्रणाली विकसित की गयी है जिसमें माल एवं सेवा कर (जीएसटी) का भुगतान नहीं करने, रिटर्न दाखिल करने में किसी खामी या कंपनियों द्वारा आईटीसी दावे में अंतर होने की स्थिति में कंपनी के मालिकों, डायरेक्टर्स को ऑटो एसएमएस भेजा जा रहा है। #DigitalIndiaAnniversary
अब दो साल पूरे होने पर 1 जुलाई, 2019 से इसमें कुछ और बदलाव होने जा रहे हैं। जिससे व्यापारियों, कारोबारियों और आम जनता को राहत मिलेगी। नए बदलावों में नया रिटर्न सिस्टम, नकद खाता बही प्रणाली को तर्कसंगत बनाने, नया रिटर्न फॉर्म सिस्टम शामिल है। नकद खाते को तर्कसंगत बनाते हुए 20 मदों को पांच प्रमुख खातों में शामिल किया जाएगा। टैक्स, ब्याज, जुर्माना शुल्क और अन्य चीजों के लिए सिर्फ एक नकद बहीखाता होगा।

नया रिटर्न सिस्टम लागू करने की तैयारी

1 जुलाई से ट्रायल बेसिस पर नया रिटर्न सिस्टम लागू किया जाएगा और 1 अक्टूबर से इसे अनिवार्य कर दिया जाएगा। इसमें छोटे कर दाताओं के लिए सहज और सुगम रिटर्न्स का प्रस्ताव है। एक नकद खाते के संदर्भ में सरकार इसे तर्कसंगत बनाते हुए 20 मदों को पांच प्रमुख मदों में शामिल करेगी। #DigitalIndiaNewIndia
सरकार एक सिंगल रिफंड-डिस्बर्सिंग मैकनिज्म लायेगी जिसके तहत सभी चार बड़े मदों CGST, SGST, IGST और सेस के लिए रिफंड को मंजूरी मिलेगी। राज्यों की इच्छा के मुताबिक सामानों के सप्लायर्स के लिए 40 लाख रुपये की लिमिट ऑफर है।
जब जीएसटी लागू हुआ था जो किसी व्यापारी को एक महीने में 36 रिटर्न दाखिल करना पड़ा था। लेकिन नए रिटर्न प्रणाली में महीने में सिर्फ एक रिटर्न दाखिल करना होगा।
50 लाख रुपये तक के सालाना टर्नओवर वाले छोटे कारोबारियों के लिए कंपोजिशन स्कीम को लाया गया है, उन्हें 6 प्रतिशत की दर से टैक्स देना होगा। इसके अलावा B2B(बिजनेस टू बिजनेस) ट्रांजैक्शंस के लिए चरणबद्ध तरीके से इलेक्ट्रॉनिक इनवॉइस सिस्टम को पेश करने का प्रस्ताव है। राज्यों की राजधानी में जीएसटी अपीलेट ट्राइब्यूनल्स भी बनाया जायेगा।

अभी सामने हैं ये चुनौतियां

जीएसटी काफी सफल रहा है, लेकिन इसमें अब भी कई चुनौतियां बनी हुई हैं। बिजली, तेल, गैस, शराब अब भी जीएसटी से बाहर हैं, इन्हें जीएसटी में किस तरह से लाया जाए यह एक चुनौती है। निर्यातकों को रिफंड लेने के लिए काफी जूझना पड़ता है। रिटर्न फाइल करने की प्रक्रिया अब तक काफी जटिल बनी हुई थी, जिसके अब कुछ आसान होने की उम्मीद है। सर्विस प्रोवाइडर्स को कई जगह रजिस्ट्रेशन करना पड़ता है। विवाद से निपटने में मुश्किल यह है कि अधिकार क्षेत्र केंद्र और राज्यों में बंटा हुआ है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

व्यापार

दबंग 3 में पिता का रोल निभाएंगे विनोद खन्ना के ये करीबी…

Published

on

सलमान खान की दबंग 3 के लिए सबसे बड़ी मुश्किल पिता के रोल को लेकर थी। विनोद खन्ना के निधन के बाद इस करैक्टर में कोई फिट नही हो पा रहा था लेकिन अब सलमान खान की खोज पूरी हो गयी है। सलमान खान की ‘दबंग-3’ में इस बार उनके पिता का किरदार विनोद खन्ना के ही भाई प्रमोद खन्ना निभाएंगे। इस बात की जानकारी खुद सलमान खान ने सोशल मीडिया पर वीडियो पोस्ट करते हुए दी है।

ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर वीडियो पोस्ट करते हुए लिखा ‘इंट्रोड्यूसिंग प्रमोद खन्ना’।वीडियो में प्रमोद खन्ना हू-ब-हू अपने भाई विनोद खन्ना की तरह दिख रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने ‘दबंग-3’ के लिए ‘प्रजापति पांडे’ का लुक भी अपनाया हुआ है। सलमान खान अपने इस वीडियो में चुलबुल पांडे के रूप में ही खड़े नजर आ रहे हैं। वीडियो में सलमान खान के साथ उनकी रज्जो यानी सोनाक्षी सिन्हा और खुद फिल्म के डायरेक्टर प्रभूदेवा भी मौजूद हैं।बता दें कि प्रमोद खन्ना के आने से पहले ऐसा माना जा रहा था कि फिल्में सलमान के पिता का किरदार बॉलीवुड एक्टर धर्मेंद्र निभाएंगे।अब इन कयासों पर विराम लग चुका है।

यह भी पढ़ें -नवाज की फिल्म बोले चूड़ियां की फीमेल लीड फाइनल , दे चुकी है कई हिट फिल्में…

बता दें कि ‘दबंग-3 20 दिसंबर को रिलीज होगी। इस फिल्म को खुद सलमान खान, अरबाज खान और निखिल द्विवेदी प्रोड्यूस कर रहे हैं।2012 की दबंग के इस सीक्वल को सलमान खान फिल्म्स और फॉक्स स्टार स्टूडियोज के बैनर तले तैयार किया जा रहा है। ‘दबंग-3’ में भी पहले के दोनों फिल्मों की तरह एक स्पेशल सॉन्ग होगा।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

व्यापार

सिक्के लेने से इनकार नहीं कर सकते दुकानदार, पढ़ें RBI का ये आदेश

Published

on

सिक्के लेने से कोई भी दुकानदार इनकार नहीं कर सकता है। इसे लेकर भारतीय रिजर्व बैंक ने बुधवार को आम जनता से अपील की है कि बिना किसी हिचकिचाहट के सिक्कों का लेन-देन कर सकते हैं।

रिजर्व बैंक ने कहा कि लोगों की लेन-देन की जरूरतों को पूरा करने के लिए समय-समय पर जो भी सिक्के चलन में लाए जाते हैं, उनकी विशेषताएं अलग होती हैं। वे विभिन्न विचारों, आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक से प्रेरित होती हैं। देश में इस समय 50 पैसे, एक, दो, पांच और दस रुपये के सिक्के प्रचलन में हैं। साथ ही आरबीआई ने सभी बैंकों से भी कहा कि वे सिक्के जमा कराने या बदलवाने आए किसी भी व्यक्ति को अपनी शाखा से वापस नहीं लौटाएं।

नोट और सिक्कों को बदलने के बारे में आरबीआई के परिपत्र में बैंकों को सलाह दी गयी है कि किसी भी बैंक शाखा को छोटी राशि के नोट या सिक्कों को लेने से मना नहीं करना चाहिए। आरबीआई ने कहा, ‘इसीलिए आपको फिर से सलाह दी जाती है कि आप अपनी सभी शाखाओं को सभी राशि के सिक्कों को स्वीकार करने और उसे बदलने की सलाह दें…और इसका कड़ाई से पालन सुनिश्चित करे।’

Continue Reading

Category

Weather Forecast

July 1, 2019, 11:36 pm
Partly cloudy
Partly cloudy
34°C
real feel: 39°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 58%
wind speed: 2 m/s ENE
wind gusts: 2 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 4:47 am
sunset: 6:34 pm
 

Recent Posts

Trending