Connect with us

व्यापार

शामली में पोलिंग बूथ पर भीड़ जुटा रहे प्रधान को पुलिस ने दौड़ाया, पोलिंग एजेंट भिड़े

Published

on

प्रतीकात्मक चित्र

पाल समाज के लोगों ने किया मतदान का बहिष्कार

लखनऊ । कैराना लोकसभा उपचुनाव में आज सुबह से जगह-जगह ईवीएम में खराबी आने की शिकायतों और एक-दो जगहों पर झड़प होने के बाद पुलिस ने मोर्चा संभाल लिया है । कैराना में ईवीएम में गड़बड़ी को लेकर रालोद प्रत्याशी के साथ ही भाजपा की मृगांका ने भी गड़बड़ी की आशंका व्यक्त की है । शामली में चौसाना क्षेत्र के गांव बल्ला माजरा में मतदान केंद्र के पास भीड़ जुटा रहे प्रधान और उसके समर्थकों को पुलिस ने लाठी फटकारते हुए दौड़ा दिया । पुलिस ने मतदान केंद्र के आसपास भीड़ नहीं जमा करने की हिदायत दी । मतदान शुरू होने के बाद झिंझाना पुलिस को सूचना मिली कि चौसाना क्षेत्र के गांव बल्ला माजरा में प्रधान किफायत वहां पर पोलिंग बूथ के के नजदीक भीड़ को एकत्र कर रहा है ।

सूचना पर एसओ झिंझाना एमएस गिल फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गए । थानाध्यक्ष ने बूथ के पास भीड़ जमा कर रहे प्रधान और उसके समर्थकों को लाठियां फटकारते हुए दौड़ा दिया । पुलिस ने शांतिपूर्वक मतदान के लिए बूथ के आस-पास भीड़ जुटाने की कोशिश करने वालों को सख्त हिदायत भी दी । दूसरी तरफ चौसाना क्षेत्र के टोडा गांव में भाजपा के एजेंट लोकेंद्र और रालोद के एजेंट सुनोज चौधरी में आपस में मारपीट हो गई । स्थानीय लोगों का कहना है लोकेंद्र फर्जी वोट डलवा रहा था । पुलिस ने मौके पर आकर फर्जी वोट डालने वालों को वहां से भगा दिया ।

झिंझाना मैं आरएसएस इंटर कॉलेज के पास गठबंधन के प्रत्याशी के बस्ते पर आचार संहिता की धज्जियां भी उड़ती दिखाई दीं । रालोद का झंडा लगाकर पर्चियां वितरित की जा रही थीं । कैराना के बाबरी क्षेत्र के गांव कैडी में पाल समाज के लोगों ने मतदान का बहिष्कार कर दिया । समाज के लोगों ने बताया कि वे सरकार की नीतियों और क्षेत्रीय नेता से नाखुश हैं । कोई भी समस्या सामने आने पर उनकी सुनवाई नही होती । आज कैडी गांव में पाल समाज के करीब दो दर्जनों लोगों ने इकट्ठा होकर चुनाव का बहिष्कार कर दिया । कुछ संभ्रांत लोगों ने समाज के लोगों को समझाने की कोशिश की, लेकिन वें मतदान के लिए तैयार नही हुए । http://www.satyodaya.com

व्यापार

बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए जरूरी है, सोशल मीडिया…

Published

on

लखनऊ। कोविड-19 महामारी ने हमें बहुत कुछ सिखाया है। कोविड-19 महामारी  के दौरान हुए लॉकडाउन में बच्चों की पढ़ाई लिखाई खेलकूद सभी कुछ काफी हद तक प्रभावित हुआ है। बच्चों को जिन चीजों में रूचि थी। उनसे वह कोसों दूर नजर आए, इन्हीं चीजों को ध्यान में रखते हुए मैक्स डिजिटल अकैडमी ने कोविड-19 महामारी के दौरान बच्चों की इच्छाओं को ध्यान में रखते हुए उन्हें भापते हुए एक सोशल मीडिया बूट कैंप शुरू किया है। 

 यह भी पढ़ें: जांच में 52 यात्री म‍िले बेटिकट, चालक-परिचालक बर्खास्‍त, छह अधिकारी निलंबित

मैक्स डिजिटल अकैडमी के प्रबंधक श्री अनुराग रॉय  बताते हैं, कि हमने बच्चों की जरूरतों को और उनकी इच्छा को ध्यान में रखते हुए एक सोशल मीडिया बूट कैंप स्टार्ट किया है। जिसमें हम बच्चों को लाइव इनट्रैक्टिव सेशन के द्वारा हर संभव मदद करने की कोशिश करते हैं। जूम पर रेगुलर क्लासेस बच्चों के मनोरंजन पढ़ाई से लेकर सभी चीजों पर विशेष ध्यान दिया जाता है। किसी भी प्रकार की दिक्कत आने पर तुरंत एनीडेक्स पर ले जाकर उसे हम दूर कर रहे हैं। सभी बच्चों को जरूरत पड़ने पर हम क्लासेस भी प्रोवाइड कर रहे हैं। उन्होने यह भी बताया, कि हम मैक्स डिजिटल अकैडमी में कई प्रकार के सोशल मीडिया व डिजिटल मीडिया के कोर्स कराते हैं। जिनमें एडवांस डुअल सर्टिफिकेशन इन डिजिटल मार्केटिंग, सर्टिफिकेट इन सोशल मीडिया मार्केटिंग, सर्टिफिकेट इन वेब डिजाइनिंग एंड एसईओ जैसे कई और कोर्स कराते हैं। हम ज्यादा से ज्यादा बच्चों को डिजिटल माध्यम से जोड़कर यूपी गवर्नमेंट मोदी जी के डिजिटल अभियान में जोड़ना चाहते हैं। हम सभी जानते हैं, कि आज के दौर में सोशल मीडिया, डिजिटल माध्यम कितना ज्यादा जरूरी है। हम नहीं चाहते, कि भारत का कोई भी बच्चा डिजिटल व सोशल मीडिया से जरा सा भी दूर रहे हम आगे भी ऐसे ही कई प्रोग्राम बच्चों के लिए शुरू करते रहेंगे।http://satyodaya.com

Continue Reading

व्यापार

रिलायंस ने पेश की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग ऐप “जियोमीट”, जानिए जूम को कैसे देगी टक्कर

Published

on

40 मिनट से अधिक की बैठक के लिए मासिक शुल्क देना होगा 15 डॉलर

लखनऊ। अब रिलायंस इंडस्ट्रीज ने जूम को टक्कर देने की तैयारी कर ली है। फेसबुक और इन्टेल जैसी कंपनियों को अपने डिजिटल कारोबार में हिस्सेदारी बेचकर अरबों डॉलर जुटाने के बाद मुकेश अंबानी की कंपनी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग बाजार में रिलायंस जियो ने ‘जियोमीट’ के नाम से नया ऐप उतारा है । जिसमें मेजबान समेत 100 लोग एक साथ असीमित समय तक फ्री वीडियो कांफ्रेंसिंग कर सकेंगे।

रिलायंस के इस कदम को प्रतिद्वंद्वी जूम के साथ ‘कीमत युद्ध’ के रूप में देखा जा रहा है। बीटा परीक्षण के बाद जियोमीट वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग ऐप एंड्रॉयड, आईओएस, विंडोज, मैकओएस और वेब पर बृहस्पतिवार शाम से उपलब्ध ’है। कंपनी की वेबसाइट के अनुसार जियोमीट पर एचडी ऑडियो और वीडियो कॉल की गुणवत्ता मिलेगी। इसमें एक साथ 100 लोगों को जोड़ा जा सकता है। यहां तक की जियोमीट में वीडियो कांफ्रेंसिंग की कोई समय सीमा तय नही की गई है जबकि जूम ऐप पर फ्री वीडियो कॉलिंग के लिए मात्र 40 मिनट की अवधि होती है।

इसमें स्क्रीन साझा करने, पहले से बैठक का समय तय करने और अन्य फीचर्स है। खास बात यह है कि इसमें जूम की तरह 40 मिनट की समयसीमा नहीं है। कंपनी ने दावा किया कि इसमें कॉल्स 24 घंटे तक जारी रखी जा सकती है। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग बैठक ‘कूटलेखन’ और पासवर्ड से संरक्षित रहेगी।

कंपनी के सूत्रों ने कहा कि जूम पर 40 मिनट से अधिक की बैठक के लिए मासिक शुल्क 15 डॉलर है। सालाना आधार पर यह 180 डॉलर बैठेगा। वहीं जियोमीट इससे अधिक सुविधा मुफ्त में उपलब्ध करा रही है। इससे जूम बैठक आयोजित करने वाले को जियोमीट का इस्तेमाल करने पर सालाना 13,500 रुपये की बचत होगी।

गूगल प्ले स्टोर पर इस ऐप के कई फीचर्स की जानकारी दी गई है। इसके अनुसार जियोमीट के लिए मोबाइल नंबर या ई-मेल आईडी के जरिये आसानी से ‘साइन अप’ किया जा सकता है। इसमें तुरंत बैठक आयोजित की जा सकती है। एचडी ऑडियो और वीडियों गुणवत्ता वाली बैठक का समय पहले से तय किया जा सकता और बैठक में भाग लेने वाले लोगों को इसकी जानकारी दी जा सकती है।

इसे भी पढ़ें- LUCKNOW : बेखौफ दबंगों ने थाने के पास युवक को पीटा, झोंका फाॅयर

जियोमीट के जरिये एक दिन में कितनी भी बैठकें आयोजित की जा सकती हैं और कोई भी बैठक बिना किसी बाधा के 24 घंटे चल सकती है। प्रत्येक बैठक पासवर्ड से संरक्षित है। बैठक आयोजित करने वाला व्यक्ति ‘वेटिंग रूम’ की सुविधा का इस्तेमाल कर सकता है। इससे कोई भी भागीदार बैठक में बिना अनुमति शामिल नहीं हो सकता। इसमें ग्रुप बनाने की अनुमति है। सिर्फ एक क्लिक पर कॉलिंग या चैटिंग की जा सकती है। गूगल प्ले स्टोर और आईओएस पर इस ऐप के पांच लाख डाउनलोड पहले ही हो चुके हैं।

यह ऐप ऐसे समय पेश की गई है जबकि सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा और डेटा गोपनीयता पर खतरे के मद्देनजर चीन से संबंधित 59 ऐप पर रोक लगाई है। इनमें टिकटॉक भी शामिल है। कंपनी सूत्रों ने कहा कि जियोमीट में समय की कोई सीमा नहीं होने की वजह से शिक्षकों को अपनी ऑनलाइन कक्षाओं को छोटा करने की जरूरत नहीं होगी। इस ऐप के जरिये राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय सेमिनार तथा सांस्कृतिक और सामाजिक कार्यक्रम आयोजित किए जा सकते हैं। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

व्यापार

पड़ोसी को फंसाने के लिए उसकी दुकान में रखा था तमंचा व गांजा, चार युवक गिरफ्तार

Published

on

लखनऊ। राजधानी लखनऊ के गोमतीनगर विस्तार स्थित पटेलपुरम इलाके में दुकानदार को असलहे और गांजे में फसाने वाले गैंग के लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक पकडे गए पुलिस के मुखबिर समेत 4 लोगों के पास से 3 तमंचे, 700 ग्राम गांजा भी बरामद हुआ है। गोमतीनगर विस्तार थाना क्षेत्र के पटेलपुरम स्थित लक्ष्मी मार्केट में षड्यंत्र में दुकानदार को फंसाने वाले 4 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

एडिशनल डीसीपी अमित कुमार के मुताबिक क्षेत्र में मिठाई की दुकान चलाने वाले रणजीत यादव ने पड़ोसी दुकानदार यासीन को फंसाने के लिए उसकी दुकान में तमंचे व गांजा से भरा बैग रख दिया और पुलिस को सूचना दे दी। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने यासीन समेत अन्य दुकानदार को हिरासत में लिया। लेकिन एक सीसीटीवी की फुटेज ने सारी साजिश का पर्दाफाश कर दिया। सीसीटीवी देखने पर पता चला कि मामला यासीन को फंसाने का था। जिसके बाद गैंग का खुलासा हुआ।

यह भी पढ़ें-यूपी कांग्रेस अध्यक्ष ने दी शहीदों को श्रद्धांजलि, जवानों के परिवार का लेंगे हालचाल

पुलिस ने इस मामले में मुखबिर रणजीत कश्यप समेत राजकुमार कश्यप, विवेक शुक्ला और अभिषेक मिश्रा को गिरफ्तार किया है। मामले में वांछित अभियुक्त दुकानदार रंजीत यादव और अशोक यादव अभी पुलिस की गिरफ्त से दूर हैं। पुलिस ने इनके पास से 315 बोर के 2 तमंचे और 720 ग्राम गांजा भी बरामद किया है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

August 15, 2020, 4:41 am
Thunderstorms
Thunderstorms
28°C
real feel: 32°C
current pressure: 99 mb
humidity: 89%
wind speed: 1 m/s ENE
wind gusts: 2 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:08 am
sunset: 6:13 pm
 

Recent Posts

Trending