Connect with us

Featured

आपात स्थिति से निपटने का एलर्ट राजधानी के संस्थानों व अस्पतालों पर बेअसर

Published

on

ऑक्सीजन के अभाव में घंटो तड़पती रही महिला मरीज

लखनऊ। आपात स्थिति से निपटने के लिए शासन का एलर्ट राजधानी के संस्थानों व अस्पतालों पर बेअसर रहा। एक महिला मरीज को मेडिसिन विभाग के चिकित्सक व कर्मचारी ऑक्सीजन उपलब्ध न होने की बात कहकर टरकाते रहे। कई घंटो तक आॅक्सीजन के अभाव में महिला मरीज तड़पती रही। परिजनों के शोर शराबा करने पर उसे आॅक्सीजन उपलब्ध कराया गया। मरीज के साथ आए परिजन महिला को भर्ती करने के लिए हाथ जोड़कर गिड़गिड़ाते रहे। मरीज की हालत पहले से और खराब होने लगी। जिसके बाद ही आनन-फानन में परिजनों उसे एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया।

ट्रॉमा सेंटर में करीब 400 बेड हैं जो शनिवार को पूरी तरह से भर गए थे। गंभीर मरीजों को बेड न खाली होने की बात कहकर भर्ती नहीं किया गया। लखनऊ के अमौसी निवासी महिला मरीज उमा (26) को आॅक्सीजन स्पोर्ट की आवश्यकता बताकर उसे डॉक्टरों ने उसे मेडिसिन वार्ड भेज दिया। परिजन जब यहां आए तो उन्हें आॅक्सीजन न उपलब्ध होने की बात कहकर टरकाते रहे। कई घंटो तक वह आॅक्सीजन के अभाव में तड़पती रही। मरीज की हालत पहले से और खराब हो गई तो परिजनों ने शोर शराबा शुरू कर दिया। जिसके बाद आनन-फानन में उसे आॅक्सीजन उपलब्ध कराया गया।

मरीज के साथ आयी उसकी बह प्राची ने बताया कि, मरीज की हालत बहुत खराब है। भर्ती के लिए हम लोगों ने यहां के पीआरओ से भी संपर्क किया लेकिन उन्होंने यहां बेड खाली न होने की बात कहकर दरकिनार कर दिया। परिजनों के मुताबिक उन्होंने चिकित्सक, कर्मचारी से लेकर पीआरओ तक के सामने हाथ जोड़ा लेकिन उसका कोई असर नहीं रहा। थक हारकर वह गंभीर मरीज को लेकर निजी अस्पताल पहुंच गए।

यह भी पढ़ें :- दर्ज मुकदमे में फरार चल रहा शातिर जालसाज गिरफ्तार

दर्द से कराहता रहा मरीज

मेडिसिन वार्ड के बाहर ही महाराजगंज निवासी मरीज पंकज (15) दर्द से कराहता रहा। उसके पिता देवेन्द्र ने बताया कि यहां के डॉक्टर केवल एक वार्ड से दूसरे वार्ड में टहला रहे हैं। डॉक्टरों ने मेडिसिन वार्ड में भेजा है। बेड के लिए सुबह से यहां खड़े हैं लेकिन अभी तक नहीं मिला। बेटे की हालत पहले से और खराब होती जा रही है। ऐसे में हम इसे कहां लेकर जाएं। खबर लिखे जाने तक भी उसे बेड नहीं मिला था।

सिटी स्कैन के लिए नहीं आया नंबर

ट्रॉमा में कई गंभीर मरीजों को सुबह से शाम तक लंबी लाइन के बावजूद उनका नंबर नहीं आया। सीतापुर से आए संजीव ने बताया कि मां का सिटी स्कैन कराने के लिए सुबह से लाइन में लगे हैं लेकिन अभी तक नंबर नहीं आया। वहीं फैजाबाद के वैभव का अपनी बहन प्रिया और अनीस को अपने पिता अकरम के सिटी स्कैन के लिए शाम तक नंबर नहीं आया।

ट्रॉमा पीआरओ का कहना था कि यहां के ऑर्थोपेडिक, मेडिसिन, न्यूरोसर्जरी समेत कई विभागों के बेड फुल हो गए हैं। मरीज उमा के बारे में उनका कहना था कि उसे आॅक्सीजन स्पोर्ट की जरूरत है जो बेड मिलने पर ही उपलब्ध हो सकता है। ऐसे में अंदेशा यही लगाया गया कि आपात स्थिति में भी निपटने के लिए यहां पहले से कोई तैयारी नहीं की गई है।

लोहिया संस्थान में भी नहीं दिखी तैयारी

लोहिया संस्थान में भी आपात स्थिति से निपटने की कोई तैयारी नहीं दिखी। सुल्तानपुर से आए मरीज शमीम व हरदोई के चन्दन इमरजेंसी के बाहर सुबह से इलाज के अभाव में तड़पते रहे। उनका प्राथमिक उपचार तो किया गया लेकिन उन्हें बेड फुल होने की बात कहकर बाहर कर दिया गया।

सरकारी अस्पताल भी रहे बेखबर

वहीं राजधानी के प्रमुख सरकारी अस्पतालों बलरामपुर, सिविल, रानी लक्ष्मीबाई, लोकबंधु अस्पताल में भी कोई खास तैयारी नहीं दिखी। सीएमओ के कड़े आदेश के बावजूद अस्पतालों की व्यवस्थाओं को दुरुरस्त नहीं किया गया। यहां किसी मरीज को दवा नहीं मिली तो कोई भर्ती न होने की वजह से इमरजेंसी के सामने चक्कर काटता रहा। बलरामपुर अस्पताल प्रवक्ता एसएम त्रिपाठी ने बताया कि ऐसा कोई मामला आएगा तो उससे निपटा जाएगा। इमरजेंसी के डॉक्टरों को एलर्ट किया गया है। http://www.satyodaya.com

Featured

राजधानी में हुई दो हत्याओं से पुलिस पर उठे सवाल, जांच में जुटी पुलिस

Published

on

लखनऊ। राजधानी में एक तरफ बढ़ रहे अपराध को रोकने के लिए लखनऊ में पुलिस कमिश्नरी लागू की गई थी। लेकिन पुलिस कमिश्नरी से भी अपराधियों पर कोई भी अंकुश लगता नजर नहीं आ रहा है और अपराधियों द्वारा वारदातों को अंजाम देकर पुलिस को खुली चुनौती दी जा रही है। वहीं बदमाशों ने शानिवार को हत्या की दो वारदातों को अंजाम देकर पुलिस की मुस्तैदी की पोल खोल दी है। वहीं हत्या की घटना की जानकारी पाते ही मौके पर अधिकारी पुलिस फोर्स के साथ पहुंचे हैं और पूरे मामले की जांच कर रहे हैं।

आपको बता दें कि, राजधानी लखनऊ के ठाकुरगंज में जहां एक तरफ 35 साल राजकुमार की हथौड़ी से कूच कर हत्या की तो वहीं दूसरी ओर सआदतगंज के नवीननगर में 40 साल की महीला की हत्या की वारदात को अंजाम देकर बदमाश फरार हो गये। राजधानी में जिस तरह से बदमाशों द्वारा दिन-दहाड़े दो हत्याओं की घटनाओं को अंजाम देकर भागने में सफल दिख रहे हैं उससे पुलिस पर भी सवाल उठ रहे हैं। पुलिस पूरे मामले की जांच कर जल्द ही घटना के खुलासे का दावा कर रही है।

यह भी पढ़ें :- राजधानी में टैंकरों से धड़ल्ले से चोरी हो रहा डीजल, वीडियो वायरल

बताते चलें कि ठाकुरगंज थाना क्षेत्र स्थित एक घर में 35 साल के राजकुमार की हथौड़ी से कूच कर निर्मम हत्या कर दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया हैं तो वहीं दूसरी ओर पुलिस ने मृतक के पास मौके से हत्या में इस्तेमाल की गई हथौड़ी भी बरामद की है। जिसके बाद ही पुलिस मृतक के परिजनों से भी पूछताछ कर रही है। वही सआदतगंज थाना क्षेत्र के नवीननगर के एक घर में बदमाशों ने 40 साल की महीला के सिर पर वार कर मौत के उतार दिया। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। साथ ही पुलिस जांच करने की बात कह रही है।

सहादतगंज घटना पर पुलिस का कहना है कि समय करीब 10 से 2ः00 बजे के बीच महिला रमाकांति उम्र करीब 45 वर्ष पत्नी स्व0 मोहित पांडेय उर्फ बब्बन निवासी नवीननगर में अपने 2 बच्चे व देवर के साथ मकान में रहते हैं। इनका देवर अपने काम पर चला गया था, दोनों बच्चे स्कूल चले गये थे, जब उनका बेटा स्कूल से वापस आया था, तो देखा कि उनकी माँ की सिर पर ईट मारकर किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा हत्या कर दी है। सूचना पर पहुंची पुलिस ने रमाकांति को घायल अवस्था में इलाज हेतु ट्रॉमा सेंटर ले जाया गया, जहां पर डॉक्टरों द्वारा उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। मृतका का बेटा अपने मौसा शिवा जो ठाकुरगंज में रहता है, उस पर हत्या करने का शक जाता रहा है, इससे पहले भी शिवा कई बार गाली-गलौच व धमकी दे चुका है।

यह भी पढ़ें :- मेदांता हॉस्पिटल के डॉक्टरों ने 2 महीने में की 200 से ज्यादा सफल सर्जरी….

लेकिन अगर बात की जाये की जिस तरह पुलिस कमिश्नरी लागू होते ही पुलिस सड़कों पर नजर आ रही है। वहीं दिन-दिहाड़े दो हत्याओं को बदमाशों द्वारा अंजाम देकर फरार हो जाना पुलिस पर एक बड़ा सवाल है। लेकिन पुलिस अधिकारी घटनास्थल का मुआयना करने के साथ ही जांच कर जल्द ही दोनों घटनाओं का खुलासा करने का दावा कर रही है। वहीं देखना होगा की इस तरह दिन-दहाड़े हुई दोनों घटनाओं का पुलिस कब तक खुलासा कर पाती है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Featured

लखनऊ: जिला न्यायालय में देसी बम के हमले से मचा हड़कंप, कई वकील घायल

Published

on

फाइल फोटो

लखनऊ। राजधानी लखनऊ के वजीरगंज कोर्ट परिसर में गुरुवार दोपहर में बदमाशों ने देसी बम से हमला कर दिया है। यह हमला लखनऊ बार एसोसिएशन के संयुक्त मंत्री संजीव लोधी पर किया गया है। इस हमले कई सारे वकील घायल हो गए हैं। हालांकि मौके पर पहुंचकर पुलिस ने राहत व बचाव कार्य में जुटी हुई है।

लखनऊ जिला सत्र न्यायालय के गेट नंबर तीन पर गुरुवार दोपहर कुछ बदमाशों ने बम से लखनऊ बार एसोसिएशन के संयुक्त मंत्री संजीव लोधी पर हमला कर दिया। हमला सीजेएम कोर्ट में हुआ पुलिस के मुताबिक एक बम फटा जिससे मौके पर मौजूद संजीव लोधी समेत कई अन्य वकील बुरी तरह जख्मी हो गए। जिसके बाद जॉइंट कमिश्नर नवीन अरोड़ा सीजेएम कोर्ट पहुंचकर इस मामले की जांच कर रहे हैं। वहीं इस बारे में नवीन अरोड़ा ने कहा कि संजीव लोधी पर हुआ हमला अभी जांच का विषय है। फ़िलहाल कुछ लोगों पर आरोप लगाया गया है। वहीं चार लोगों के खिलाफ तहरीर भी दी गई है। ऐसे में सीसीटीवी फुटेज के आधार पर जांच की जाएगी।

ये भी पढ़ें:बजट सत्र शुरू होने से पहले धरने पर बैठे सपा व कांग्रेस विधायक, लगाए नारे…

जानकारी के मुताबिक कमिश्नरी सिस्टम लागू होने के बाद भी राजधानी में बदमाशों के हौसले बुलंद हैं। वहीं इस हमले के बारे में एक वकील ने बताया कि लगभग 11 बजे हम कोर्ट आए और मैं संजीव लोधी के दरवाजे पर खड़ा था। उन्होंने बताया कि वह उनके जूनियर हैं। इतना ही नहीं उन्होंने ये बताया कि अजाज अहमद, आजम खान और तीन-चार अज्ञात लोग गेट नंबर 3 की तरफ से आए। वहीं कुछ लोग 4 गेट से आते हैं। उसके बाद 3 नंबर गेट से अचानक से देसी बम फेंकना शुरू कर दिया। जिसमें से 3 बम फट गए और 8 से 10 बम वहां पड़े मिले। जिसके बाद संजीव लोधी के सिर में काफी चोट लग गई। ऐसे में वहां और भी जोग मौजूद थे उन्हें भी काफी चोटें लगी हैं।

वकील के कहा बम फेंकने के साथ उसमें 5 लोग ऐसे भी थे जिनके पास पिस्टल थी। जिसके बाद उन लोगों ने हमें पकड़ लिया। उस वकील ने ये बताया कि अंदाजा नहीं लगया जा सकता लेकिन करीब 10 लोग थे। जिसमें 2 वकील और अन्य लोग भी शामिल थे। हालांकि वकील ने बताया कि कल किसी बात को लेकर विवाद हुआ था, जिसके बाद आज संजीव लोधी पर ये हमला किया गया है। हालांकि अभी उनकी हालत बेहतर है।  http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Featured

बिजली चोरी पकड़ने पर प्रधान के बेटों ने टीम कर्मियों को पीटा, मुकदमा दर्ज

Published

on

लखनऊ। बिजली चोरी पकड़ने गये कर्मचारियों को ग्राम प्रधान के बेटों ने जमकर पीटा। आरोपियों ने उनके पास से मोबाइल, स्टार्टर और केबिल भी छीन लिया। किसी तरह ग्रामीणों की मदद से बिजली कर्मी जान बचाकर थाने पहुंचे। पीड़ितों ने पुलिस को घटना की तहरीर दी। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्जकर जांच शुरू कर दी है।

मिली जानकारी के मुताबिक, स्थानीय विद्युत उपकेंद्र के अवर अभियंता विनीत कुमार अपनी टीम लेकर सालेह नगर गांव में बिजली चोरी की जांच करने पहुंचे थे। तभी गांव के मजरे खेरवा में देखा कि ट्रांसफार्मर से तीन सौ मीटर लम्बा केबिल डाल कर बिजली चोरी की जार ही है। उन्होंने कर्मचारियों से बोलकर उस केबिल को उतरवा लिया, साथ ही स्टार्टर भी कब्जे में ले लिया।

यह भी पढ़ें :- संदिग्ध परिस्थितियों में अधेड़ ने लगाई फांसी, मौत

बता दें कि, यह जानकारी ग्राम प्रधान शांती देवी के बेटों को मिली तो दोनों बेटे सुनील और सुशील मौके पर पहुंचे। जेई विनीत कुमार का आरोप है कि दोनों ने अभद्रता करते हुए गालियां देना शुरू कर दिया। मना करने पर मारपीट की, साथ ही केबिल स्टार्टर और जेई का मोबाइल भी छीन लिया। शिकायत करने पर जान से मारने की धमकी भी दी। जेई और उनकी टीम किसी तरह जान बचाकर थाने पहुंचे। जहां लिखित तहरीर देकर शिकायत की है। पुलिस ने तहरीर पर मुकदमा दर्जकर जांच शुरू कर दी है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

February 18, 2020, 9:17 pm
Clear
Clear
18°C
real feel: 18°C
current pressure: 1020 mb
humidity: 63%
wind speed: 0 m/s SW
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 6:11 am
sunset: 5:30 pm
 

Recent Posts

Trending