Connect with us

Featured

जमात के संपर्क में आए पांच व एक बच्चे में कोरोना की पुष्टि

Published

on

लखनऊ में अब तक कोरोना के 17 मरीज

लखनऊ। राजधानी में फिलहाल कोरोना वायरस के संक्रमण से राहत नहीं मिल रही है। मस्जिदों से पकड़े गए तबलीगी जमात के संपर्क में आए पांच और लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई है। वहीं कनाड़ा से लौटी महिला डॉक्टर का ढाई साल का बच्चा भी संक्रमण की चपेट में आ गया है। लखनऊ में अब मरीजों की संख्या बढ़कर 17 हो गई है। कुल 34 मरीज लखनऊ के विभिन्न अस्पतालों में भर्ती हैं।

सीएमओ डॉ. नरेंद्र अग्रवाल ने बताया कि तबलीगी समाज के संपर्क में आए लखनऊ के लोगों की जांच कराई गई। लक्षण नजर आने पर 48 लोगों के नमूने लिए गए। जांच के लिए केजीएमयू भेजा गया। इनमें पांच लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है। इसमें तीन सदर कैंट, एक अकबरी गेट, एक आईआईएम रोड निवासी शामिल है। सभी पांच मरीजों को साढ़ामऊ अस्पताल में भर्ती कराया गया। गोमतीनगर में ढाई साल का बच्चा संक्रमण की जद में उसे केजीएमयू में भर्ती कराया गया है।

यह भी पढ़ें :- कोरोना पीड़ितों की मदद के लिए WHO करेगा कार्यक्रम, शाहरुख, प्रियंका होंगे शामिल

केजीएमयू प्रवक्ता डॉ. सुधीर सिंह ने बताया कि 16 मरीजों में संक्रमण की पुष्टि हुई। इसमें छह लखनऊ, आठ सीतापुर, दो आगरा के मरीज हैं। उधर, पीजीआई में दो कानपुर के मरीजों में कोराना की पुष्टि हुई है। सीएमओ ने बताया कि सदर में संक्रमण से मुक्ति के लिए 3 सदस्यीय 86 टीमों एवं 86 सुपरवाइजर ने जागरुकता फैलाई। प्रत्येक टीम में एक स्वास्थ्य विभाग से एक पुलिस विभाग से तथा एक प्रशासन से है। टीम ने घर-घर जाकर लोगों को जागरूक किया। टीम ने कुल 4880 घरों का भ्रमण किया। सर्विलांस एवं कांटेक्ट ट्रेसिंग के आधार पर 63 लोगों के नमूने लिए गए। साढ़ामऊ में 14 केजीएमयू में 8 व कमांड में 2 मरीज भर्ती हैं।

यूपी में सबसे कम दिन के बच्चे में कोरोना की पुष्टि

यूपी में सबसे कम दिन के बच्चे में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। यह ढाई साल का बच्चा हाल ही में कनाड़ा से लौटी महिला डॉक्टर का है। तीन दिन पहले सिविल अस्पताल में बच्चे समेत परिवार के सात सदस्यों को क्वारंटीन किया गया था। हांलाकि जांच रिपोर्ट पॉजटिव आने के बाद बच्चे को केजीएमयू रेफर कर दिया गया है। केजीएमयू में बच्चे की देखभाल के लिए उसकी मां को भेजा गया है।

यह भी पढ़ें :- COVID-19…लॉकडाउन के दौरान यूपी के लोगों ने सत्योदय के साथ साझा किये अनुभव

आपको बता दें कि, 11 मार्च को कनाड़ा से गोमतीनगर स्थित घर लौटी महिला डॉक्टर में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई थी। उन्हें केजीएमयू में भर्ती कराया गया था। कोरोना से पूरी तरह से मुक्ति मिलने के बाद 19 मार्च को उन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया था। उसके बाद महिला डॉक्टर की बुजुर्ग सास और कर्नल ससुर संक्रमण की चपेट में आ गए। दोनों को कैंट के बेस अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

महिला डॉक्टर के ससुर कर्नल की रिपोर्ट आयी निगेटिव

वहीं महिला डॉक्टर के ससुर कर्नल की रिपोर्ट में कोरोना निगेटिव की पुष्टि हुई है। हांलाकि उनकी स्थिति स्थिर है। कैंट के बेस अस्पताल में कर्नल व उनकी पत्नी भर्ती हैं। पत्नी की रिपोर्ट अभी तक पाजिटिव आई है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Featured

जानिए अब तक 1118 पुलिसकर्मी कोरोना से हुए हैं संक्रमित

Published

on

एक सीओ समेत आठ पुलिस कर्मियों की हुई है मौत

लखनऊ। राजधानी समेत पूरे प्रदेश में फ्रंटलाइन पर ड्यूटी करने वाले पुलिस कोरोना संक्रमण की चपेट में आ रहे हैं। 1118 पुलिसकर्मी अब तक कोरोना (कोविड-19) पॉजिटिव पाए गए हैं। इनमें से 676 पुलिसकर्मी स्वस्थ होकर अपनी ड्यूटी पर वापस भी आ चुके हैं, जबकि एक क्षेत्राधिकारी समेत आठ पुलिस कर्मियों का निधन हो गया।

यह भी पढ़ें :- कूड़ा डालने के विवाद में व्यक्ति को गोली मारने वाले वकील के पिता गिरफ्तार

डीजीपी एचसी अवस्थी ने बताया कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए लगाए गए प्रतिबंधों का सख्ती से पालन कराया जा रहा है। लॉक डाउन लागू किए जाने के बाद पुलिस अब तक 24.33 लाख वाहनों का चालान कर चुकी है। इसमें से 62719 वाहनों को सीज किया गया है। इस दौरान वाहनों का चालान करके 44.21 करोड़ रुपये शमन शुल्क वसूल किया गया है। इसके साथ ही धारा 188 के तहत 102604 और आवश्यक वस्तु अधिनियम (ईसी एक्ट) के तहत 746 एफआईआर दर्ज की गई है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Featured

ओली पर भड़के वसीम रिजवी, कहा- चाइनीज वायरस की चपेट में आया दिमाग

Published

on

लखनऊ। नेपाली प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने अपने राष्ट्र के नाम संबोधन में भगवान राम को नेपाली बताया है। ओली ने कहा की असली अयोध्या भारत में नहीं नेपाल में है जिसके बाद से हिंदुस्तान में लोगों में ओली के प्रति खासी नाराजगी देखी जा रही है। शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने नेपाली पीएम के दिमाग को चाइनीज वायरस की चपेट में बताया है।

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के बयान के बाद से विवाद खड़ा हो गया है। ओली के बयान से हिंदुस्तान के संतों और पुजारियों में तो नाराजगी है ही, अब शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष और राम मंदिर के पक्षधर रहे वसीम रिजवी ने ओली पर जबानी हमला बोला है। वसीम रिजवी ने मंगलवार को अपने बयान में कहा कि पूरी दुनिया के इतिहासकार जानते है कि अयोध्या भगवान राम का जन्मस्थान है।

यह भी पढ़ें :- भाजपा शासन में सड़क से लेकर जेल तक अपराधियों द्वारा सिंडिकेट को हो रहा संचालन

रिजवी ने कहा कि भारत का नाम भगवान श्री राम के छोटे भाई भरत के नाम पर पड़ा। उन्होंने कहा कि भगवान राम जब माता सीता को लेने और रावण का वध करने लंका जा सकते है तो नेपाल से माता सीता को विवाह कर के लाना बहुत मामूली बात है। वसीम रिजवी ने कहा कि नेपाल ने भगवान श्री राम के जन्मस्थान पर विवादित बयान देकर भारत में धार्मिक विवादों को बढ़ाने की कोशिश की है। वसीम रिजवी ने नेपाली पीएम पर टिप्पड़ी करते हुए कहा कि उनका दिमाग चाइनीज वायरस की चपेट में आ चुका है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Featured

गाजियाबाद की मोमबत्ती फैक्टी में लगी भीषण आग, सात लोगों की जलकर मौत

Published

on

करीब दो दर्जन लोगों के अंदर फंसे होने की आशंका, राहत व बचाव कार्य जारी

लखनऊ। गाजियाबाद जिले के मोदीनगर इलाके में रविवार दोपहर को बड़ा हादसा हो गया। जिसमें 7 लोगों की जलकर मौत हो गई है और 4 लोग गंभीर रूप से घायल है। हादसे के बाद हड़कंप मच गया। यह हादसा मोदीनगर इलाके के बखरवा गांव में मोमबत्ती व पटाखा फैक्ट्री में भीषण आग से बताया जा रहा है। वहीं अंदर 20 लोगों के फंसे होने की सूचना है। सूचना मिलते ही फायर ब्रिगेड और एसएसपी समेत कई अधिकारी मौके पर पहुंच गई है और बचाव कार्य जारी है।

सीएम योगी ने इस हादसे पर दुख जताते हुए मृतकों के प्रति संवेदना व्यक्त की है। उन्होंने अधिकारियों को तुरंत मौके पर रवाना होने के साथ ही पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी है। अभी तक आग लगने के कारण का पता नहीं चल सका है। जिस फैक्ट्री में आग लगी है, उसमें मोमबत्ती बनाने का काम किया जाता है। जिस दौरान आग लगी उस वक्त फैक्ट्री में कितने लोग थे यह भी अभी तक साफ नहीं हो पाया है। वहीं घायलों को अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। जहां उनकी हालत गंभीर बताई जा रही है। वहीं मृतकों की संख्या बढ़ते ही लोगों का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया है। लोग गुस्से में प्रदर्शन कर रहे हैं। मौके पर एसपी देहात नीरज जादौन, विधायक डॉ मंजू शिवाच, भाजपा जिलाध्यक्ष दिनेश सिंघल भी पहुंच गए हैं। ग्रामीणों ने अधिकारियों को घेर लिया है। यहां पर लोग हंगामा मचा रहे हैं। हालात धीरे-धीरे बेकाबू हो रहे हैं। कुछ लोग तो एंबुलेंस के सामने ही लेट गए हैं और ग्रामीण लाश नहीं उठाने दे रहे हैं। प्रदर्शन कर रही महिलाएं बेहोश हो गई हैं।

स्थानीय लोगों ने बहादुरी दिखाते हुए अंदर से 10 लोगों को निकाला है। वहीं यह भी पता चला है कि यहां पटाखा फैक्ट्री में काम करने वालों में ज्यादातर महिलाएं ही हैं। फिलहाल प्रशासन मरने वालों की शिनाख्त करने और राहत बचाव काम में लगा है। फैक्ट्री में आग लगते ही लोगों ने इसकी सूचना फायर ब्रिग्रेड टीम को दी। इसके बाद दमकलकर्मी मौके पर पहुंच कर आग बुझाने का काम के साथ अंदर फंसे लोगों को बचाने में जुट गए। ग्रामीणों से मिल रही सूचना के हिसाब से यह फैक्ट्री यहां लंबे समय से चल रही थी।

यह भी पढ़ें:- कोरोना ने कारागार मुख्यालय में दी दस्तक, DIG जेल संजीव त्रिपाठी कोरोना पाॅजिटिव

जानकारी के अनुसार यहां जन्मदिन की पार्टी में इस्तेमाल होने वाली फुलझड़ी बनाई जाती थी। इसके साथ ही यह भी पता चला कि मालिक आसपास के घरों में कच्चा माल भिजवा कर पटाखे बनवाता था। लोगों ने दबी जुबान में यह भी बताया कि पुलिस की मिली भगत से यह धंधा चल रहा था। इधर लोगों से मिली ताजा जानकारी के हिसाब से यह फैक्ट्री अवैध रूप से चल रही थी। हालांकि, इस बात की पुष्टि फिलहाल नहीं हो पाई है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

July 15, 2020, 10:15 am
Fog
Fog
28°C
real feel: 34°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 88%
wind speed: 2 m/s E
wind gusts: 2 m/s
UV-Index: 1
sunrise: 4:53 am
sunset: 6:32 pm
 

Recent Posts

Trending