Connect with us

देश

कर्नाटक के अयोग्य 17 विधायक लड़ सकेंगे चुनाव, सुप्रीम कोर्ट ने दी बड़ी राहत

Published

on

बेंगलुरु। कर्नाटक में अयोग्य करार दिये गए 17 विधायकों पर सुप्रीम कोर्ट ने अपना निर्णय बुधवार को दे दिया है। कोर्ट ने विधायकों को स्पीकर द्वारा अयोग्य घोषित करने के फैसले को सही माना है लेकिन अयोग्य विधायकों के चुनाव लड़ने पर पाबंधी को उचित नहीं माना है। अब ये विधायक 5 दिसंबर को राज्य की 15 सीटों पर होने वाले उपचुनाव में हिस्सा ले सकेंगे।

सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि विधानसभा स्पीकर को ये अधिकार नहीं है कि वो ये तय कर सके कि विधायक कबतक चुनाव नहीं लड़ सकता है। कोर्ट ने विधानसभा स्पीकर पर सख्त टिप्पणी की और कहा कि स्पीकर एक अथॉरिटी जैसे काम करता है, ऐसे में उसके पास कुछ ही शक्तियां होती है।

बता दें कि जुलाई 2019 में कांग्रेस के 13 और जेडीएस के 4 विधायकों ने उस वक्त इस्तीफे दिए थे, जब येदियुरप्पा को अपनी सरकार के लिए फ्लोर टेस्ट पास करना था। इन विधायकों के इस्तीफों के बाद येदियुरप्पा सरकार बनाने में सफल हो गए थे। इस तरह कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन की सरकार गिर गई थी। बाद में विधानसभा स्पीकर ने इन विधायकों अयोग्य घोषित कर दिया था।

SC के फैसले की सभी ने की तारीफ

उच्चतम न्यायालय के फैसले का सभी दलों ने स्वागत किया है। कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया कोर्ट के निर्णय का स्वागत करते हुए कहा कि अयोग्य विधायकों को जो चुनाव लड़ने का मौका मिला है मैं उसका स्वागत करता हूं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि यह उन विधायकों के लिए सबक है जो दूसरे दलों के साथ जाना चाहते हैं।

ये भी पढ़ें: एसएसपी कलानिधि नैथानी ने हजरतगंज थाने का किया निरीक्षण

वहीं, कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने भी सुप्रीम कोर्ट के फैसले को सराहा है। उन्होंने कहा कि मैं अयोग्य विधायकों को चुनाव लड़ने की अनुमति देने वाले कोर्ट के फैसले का स्वागत करता हूं। इस बीच येदियुरप्पा से जब यह सवाल किया गया कि क्या ये सभी 17 विधायक बीजेपी में शामिल होंगे तो उन्होंने शाम तक इंतजार करने की बात कही। http://www.satyodaya.com

देश

बिहार DGP की चेतावनी के बाद BMC ने पटना पुलिस के एसपी को किया ‘आजाद’

Published

on

नई दिल्ली। बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में जांच के लिए मुंबई गए पटना पुलिस के आईपीएस अधिकारी विनय तिवारी को बीएमसी ने क्वारंटीन से छोड़ दिया गया है। आईपीएस अधिकारी विनय तिवारी शुक्रवार को पटना लौटेंगे। मुंबई पहुंचने पर बीएमसी ने उन्हें जबरन क्वारंटाइन में भेज दिया था। जानकारी के मुताबिक बीएमसी ने उन्हें 14 दिनों के लिए क्वारंटीन किया। जिसके बाद मुंबई से लेकर बिहार तक काफी हंगामा देखने को मिला था। बिहार सरकार ने बाद में सुशांत केस को लेकर सीबीआई जांच की सिफारिश कर दी। जिसे स्वीकार भी कर लिया गया है।

मुंबई में क्वारंटाइन किए गए आईपीएस विनय तिवारी ने बताया कि बीएमसी के अधिकारियों ने मैसेज कर बताया है कि मुझे क्वांटाइन से छोड़ा जा रहा है। उन्होंने बताया कि वे आज पटना लौटेंगे। इससे पहले सुशांत केस को सीबीआई को सौंपे जाने के बाद बिहार पुलिस की चार सदस्यों वाली पटना पुलिस की एसआईटी बुधवार को वापस लौट आई थी।

आईपीएस के जबरन क्वारंटाइन पर मचा था हंगामा

विनय तिवारी को क्वारंटाइन करने पर काफी हंगामा मच गया था। बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय से लेकर सीएम नीतीश कुमार और बिहार के सत्तापक्ष और विपक्ष के कई नेताओं ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की थी। मामले में सु्प्रीम कोर्ट तक ने कड़ी टिप्पणी करते हुए कहा था कि अभिनेता की मौत के मामले में सच्चाई सामने आनी चाहिए। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि मुंबई पुलिस की पेशेवर प्रतिष्ठा अच्छी है लेकिन बिहार पुलिस ऑफिसर को क्वारंटाइन करने से अच्छा संदेश नहीं गया है।

यह भी पढ़ें:- केरलः मुन्नार में भारी बारिश से भूस्खलन, 12 की मौत, पीएम मोदी ने जताया दुख

डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय दी थी कानूनी कार्रवाई की चेतावनी

डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा था कि पटना के एसपी विनय तिवारी को जबरन क्वारंटाइन में रखे जाने पर सरकार को पूरे प्रकरण की जानकारी दी गई है। अगर उन्हें नहीं छोड़ा गया तो महाधिवक्ता से राय लेकर शुक्रवार को तय करेंगे कि क्या करना है। अदालत भी जाने का एक विकल्प है। उन्होंने कहा कि विनय तिवारी मुंबई पुलिस को सूचना देकर गए थे। पत्र लिखकर तीन दिन तक उनके ठहरने के लिए आईपीएस मेस की व्यवस्था कराने का अनुरोध किया था। आईपीएस मेस में ठहरने की व्यवस्था नहीं होने पर वे जहां ठहरे हुए थे। उन्हे आधी रात को बीएमसी ने बिना जांच कराए उन्हें क्वारंटाइन कर दिया। बीएमसी अधिकारी विनय को छोड़ने को तैयार नहीं हैं। इसी टीम का नेतृत्व करने के लिए पटना सिटी एसपी विनय तिवारी मुंबई पहुंचे थे। जिन्हें क्वारंटीन कर लिया गया था।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

केरलः मुन्नार में भारी बारिश से भूस्खलन, 12 की मौत, पीएम मोदी ने जताया दुख

Published

on

नई दिल्ली। केरल में लगातार हो रही बारिश के कारण बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए है। भारी बारिश के चलते राज्य के मुन्नार में भूस्खलन के कारण अब तक 12 लोगों के शव बरामद किए गए हैं। अभी 57 लोगों के और दबे होने की आशंका जताई जा रही है। राहत और बचाव कार्य तेजी से चल रहा है। अभी तक 10 लोगों को बचा लिया गया है।

टाटा ग्लोबल बेवरेजेज (टीजीबी) की सहयोगी कंपनी कन्नन देवान हिल्स प्लांटेशन कंपनी प्राइवेट लिमिटेड (केडीएचपी) के 80 से अधिक चाय बागान कर्मचारी और उनके परिवार के सदस्य आज सुबह से ही इस हादसे के बाद से लापता हैं। इनकी तलाश के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जा रहा है।

20 परिवार दबे होने की आशंका

राजमलाई में नेम्मक्कड़ एस्टेट के पेटीमुडी डिवीजन में 20 परिवारों के घर पर एक बड़ी पहाड़ी गिर गई। परिवार के सदस्य कीचड़ और मलबे के नीचे फंसे हुए हैं। एनडीआरएफ समेत राज्य सरकार के बचाव दल दुर्घटनास्थल तक पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं। भारी और भूस्खलन के कारण रेस्क्यू टीम को पहुंचने में दिक्कत हो रही है।

भारी बारिश व धुंध से बचाव कार्य में दिक्कत

इडुक्की के जिला कलेक्टर एच दिनेशन ने कहा कि 10 लोगों को निकाला गया है और उन्हें हॉस्पिटल पहुंचाया गया है। उन्होंने बताया कि भारी बारिश और धुंध की वजह से बचाव कार्य में दिक्कत आ रही है। इस दुर्घटना के बारे में तब जानकारी मिली जब सुबह एक मजदूर किसी तरह बाहर निकलकर आया और इराविकुलम नेशनल पार्क के फॉरेस्ट अधिकारियों को जानकारी दी।

मृतकों के परिजनो को 2-2 लाख मुआवजा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस घटना पर दुख जाहिर किया है। पीएम ने कहा है कि वो भूस्खलन के कारण हुए जानमाल के नुकसान से आहत हैं। पीएम मोदी ने कहा कि एनडीआरएफ और प्रशासन काम कर रहे हैं। जिससे प्रभावितों को सहायता मिल रही है। भूस्खलन से मरने वालों के परिजनों को पीएम नेशनल रिलीफ फंड से 2 लाख रुपये का मुआवजा दिया जाएगा। पिछले चार दिनों से मुन्नार पहाड़ी क्षेत्र में भारी बारिश हो रही है। केडीएचपी के प्रबंध निदेशक और सीईओ के मैथ्यू अब्राहम से संपर्क नहीं किया जा सका। सूत्रों ने बताया कि इस क्षेत्र में दो दिनों से बिजली की आपूर्ति नहीं है।

यह भी पढ़ें:- मुंबई में भारी बारिश से जनजीवन अस्त व्यक्त, पीएम मोदी ने फोन पर जाना हाल

केरल के मुख्यमंत्री ने वायुसेना से हेलिकॉप्टर की मांग की है। ताकि रेक्स्यू ऑपरेशन को चलाया जा सके। इसके साथ ही रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए 50 लोगों की टीम को मौके पर भेजा गया हैं जो भूस्खलन जैसे आपदा के दौरान राहत और बचाव कार्य करने में प्रशिक्षित हैं। सीएम पिनराई विजयन ने कहा कि इडुक्की के राजमाला में भूस्खलन पीड़ितों को बचाने के लिए एनडीआरफ की टीमों को तैनात किया गया है। पुलिस, फायर, वन और राजस्व अधिकारियों को भी बचाव अभियान करने का निर्देश दिया गया है। बारिश के कारण राज्य के पनामार और वायनाड में बाढ़ जैसी स्थिति है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

कोरोना वायरस

कोरोना: सात शहरों के बीच 14 AC बसों के संचालन पर रोक, यात्रियों की आई कमी

Published

on

लखनऊ। कोरोना संक्रमण के बीच रोडवेज बसों में बैठने से यात्री परहेज कर रहे हैं। इसी बीच रोडवेज ने आलमबाग बस अड्डे से चलने से सात शहरों के बीच 14 एसी बसों के संचालन पर रोक लगा दिया है।

क्षेत्रीय प्रबंधक के मुताबिक, यात्रियों की मौजूदगी और बसों की आया पर ही बसें चलेंगी। अग्रिम आदेश तक इन एसी बसों का संचालन विभिन्न समय सारणी पर बंद रहेगी। इनमें लखनऊ, दिल्ली की सुबह आठ, दस बजे,दोपहर एक बजे, तीन बजे, शाम आठ बजे व रात नौ की सेवाएं नहीं चलेंगी।

यह भी पढ़ें: कोरोना काल में भी चलेगा UP विधानसभा, आगामी सत्र को लेकर दलीय नेताओं की बैठक

इसी प्रकार लखनऊ से वाराणसी की सुबह आठ व शाम आठ बजे के अलावा सहारनपुर की शाम साढ़े पांच बजे की, मुरादाबाद की सुबह आठ बजे की, आगरा की सुबह साढ़े ग्यारह बजे की, प्रयागराज की सुबह आठ बजे की व बलिया की रात साढ़े बजे की सेवाओं पर अग्रिम आदेश तक बसों पर रोक रहेगा।http://satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

August 7, 2020, 9:27 pm
Fog
Fog
31°C
real feel: 39°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 83%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:04 am
sunset: 6:20 pm
 

Recent Posts

Trending