Connect with us

देश

दिल्ली के सेल्स टैक्स ऑफिस में लगी भीषण आग, दमकल की 5 गाड़ियों ने पाया काबू

Published

on

सेल्स टैक्स

फाइल फोटो

नई दिल्ली। दिल्ली आईटीओ  स्थित सेल्स टैक्स के ऑफिस में गुरुवार तड़के आग लग गई है। आग लगने से लोगों में अफरा-तफरी मच गई। घटना की जानकारी मिलते ही फायर ब्रिगेड की पांच गाड़ियां मौके पर पहुंची हैं और कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पा लिया।

ये भी पढ़ें:प्रदेश के सड़कों में गड्ढे हैं या गड्ढों में सड़क भी हैः अखिलेश यादव

जानकारी के मुताबिक ये पता नहीं चल सका है कि आग कैसे लगी। आग बिल्डिंग की 13वीं मंजिल पर स्थित सेल्स टैक्स के दफ्तर में लगी थी। दमकल की पांच गाड़ियों ने इस पर काबू पा लिया है। हालांकि अभी तक किसी के हताहत होने की कोई खबर नहीं है। पुलिस जांच में जुटी हुई है।http://www.satyodaya.com

देश

भारत का एक ऐसा क्षेत्र जहां 15 नहीं बल्कि 16 अगस्त को मनाया जाता है स्वतंत्रता दिवस

Published

on

शिमला। भारत में 15 अगस्त को देश का हर नागरिक स्वतंत्रता दिवस मना रहा है। हालांकि कोरोना महामारी के कारण इस बार सड़कों पर वह धूम नहीं दिखी, जैसी हर बार रहती थी। सभी को पता है कि 15 अगस्त 1947 के दिन ही भारत आजाद हुआ था और इसी वजह से आज के दिन को स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाता है। हालांकि क्या आपको पता है कि भारत में एक ऐसा इलाका भी है, जहां स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त नहीं बल्कि 16 अगस्त को मनाया जाता है।

अगर आपको यह नहीं मालूम, तो हम आपको बताने जा रहे हैं, भारत की उस जगह के बारे में, जहां स्वतंत्रता दिवस 16 अगस्त को मनाया जाता है। दरअसल हिमाचल प्रदेश की राजधानी सिमला से 30 किलोमीटर दूर ठियोग में स्वतंत्रता दिवस 16 अगस्त को मनाया जाता है। क्योंकि हिंदुस्तान में शिमला की ठियोग रियासत सबसे पहले राजाओं की सत्ता से आजाद हुई थी, आजाद भारत में जनता की चुनी हुई पहली सरकार यहां 16 अगस्त 1947 को बनी थी।

यह भी पढ़ें : यूपी पुलिस की हर तरफ हो रही तारीफ, बाढ़ के पानी के बीच खड़े हो फहराया तिरंगा

ये थे रियासत के पहले प्रधानमंत्री

बताया जाता है कि प्रजामंडल के सूरत राम प्रकाश ने ठियोग रिसायत में आठ मंत्रियों का साथ बतौर प्रधानमंत्री सत्ता संभाली थी।जिसके बाद से वहां स्वतंत्रता दिवस, ठियोग उत्सव और जिला स्तरीय उत्सव 16 अगस्त को ही मनाया जाता है। जानकारी के मुताबिक 15 अगस्त 1947 को ठियोग रियासत के राजा कर्मचंद के बासा महल के बाहर भारी मात्रा में लोग इकट्ठा हुए। जिसके बाद लोगों के बढ़ते विरोध को देखते हुए उन्हें राजगद्दी छोड़नी पड़ी।

राजा कर्मचंद के बाद यहां लोकतंत्र की बहाली हुई और सूरत राम प्रकाश ने सत्ता संभाली थी। उनके साथ मंत्रिमंडल में शपथ लेने वाले नेताओं में गृह मंत्री बुद्धिराम वर्मा, शिक्षा मंत्री सीताराम वर्मा और अन्य आठ लोग शामिल थे। मौजूदा समय में भी ठियोग में रैहल दिवस पर पुराने मंत्रीमंडल के साथ आमंत्रण पत्र दिया जाता है और प्रशासन सरकारी तौर पर 16 अगस्त को यहां कार्यक्रम आयोजित करता है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

एयर इंडिया के दर्जनों पायलटों को झटका, रातों-रात छिन गई नौकरी

Published

on

नई दिल्ली। कोरोना महामारी के इस दौर में संकट से जूझ रही एयर इंडिया को लेकर एक और बड़ी खबर सामने आई है। जानकारी के मुताबिक एयर इंडिया के दर्जनों पायलटों को रातोंरात ही बेरोजगार कर दिया गया। यही नहीं पायलटों केअलावा कई क्रू मेंबर्स के कॉन्ट्रैक्ट को भी बिना रिन्यू किए ही उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया गया।

यह कदम कार्मिक विभाग की ओर से उठाया गया है, जिसके चलते अब दर्जनों पायलट बेरोजगार हो गए हैं। पायलटों ने आरोप लगाया है कि कार्मिक विभाग की ओरसे की गई ये कार्रवाई अवैध है। उन्होंने इस मुद्दे पर एयर इंडिया प्रबंधन से हस्तक्षेप की मांग की है। इंडियन कॉमर्शियल पायलट्स एसोसिएशन ने एयर इंडिया के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक राजीव बंसल को इस बारे में एक पत्र भी लिखा है।

इस पत्र के जरिए कहा गया है कि 50 पायलटों को कंपनी के सेवा नियमों के उल्लंघन को लेकर कार्मिक विभाग से अवैध टर्मिनेशन लेटर मिले हैं। संगठन ने एक ट्वीट भी किया है। जिसमें कहा गया है कि बिना उचित प्रक्रिया अपनाए ही रातोंरात हमारे 50 पायलटों की सेवाएं समाप्त कर दी गईं। इस महामारी के समय में राष्ट्र की सेवा करने वालों के लिए यह जबरदस्त झटका है।

यह भी पढ़ें : कोरोना पाॅजिटिव पूर्व क्रिकेटर चेतन चौहान की किडनी फेल, वेंटिलेटर पर रखे गए

इसके अलावा यह भी कहा गया है कि सदर्न बेस के कई ऐसे क्रू मेंबर्स के कॉन्ट्रैक्ट रिन्यू नहीं किए गए हैं, जो पांच साल का कार्यकाल पूरा कर चुके हैं। बिना बताए ही उनकी भी सेवा समाप्त कर दी गईं। इस लिस्ट में कंपनी के 18 कर्मचारी शामिल हैं। वहीं अब पायलटों के संगठन ने भी एयर इंडिया के सीएमडी को एक पत्र लिखा है।

इस पत्र में कहा गया है कि पिछले साल इस्तीफा देने के बाद 6 महीने के नोटिस पीरियड के बीच वापस ले चुके पायलटों को गुरुवार रात 10 बजे अचानक सेवा मुक्त कर दिया गया। इसके अलावा क्रू के सदस्यों को इस्तीफों की स्वीकृति या नोटिस पीरियड के बारे में भी सूचित नहीं किया गया था।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

बाबा रामदेव ने सुशांत के लिए किया यज्ञ, कहा- परिवार को जल्द मिले न्याय

Published

on

नई दिल्ली। बॉलीवुड के दिवंगत अभिनेता सुशांत राजपूत की मौत को भले ही दो महीने पूरे हो चुके हों लेकिन उनकी मौत जिन परिस्थितियों में हुई और उसके बाद जो सवाल खड़े हुए, उनकी वजह से यह मामला अभी भी सुर्खियों में बना हुआ है और इस मामले में लगातार नए खुलासे हो रहे हैं। बॉलीवुड के गलियारे से होता हुआ यह मामला अब राजनीतिक स्तर पर पहुंच गया है। वहीं अब बाबा रामदेव भी इस मामले को लेकर ट्वीट किया है। इसके अलावा बाबा रामदेव ने सुशांत की दिवंगत आत्मा की शान्ति के लिए प्रार्थना भी की।

दरअसल बाबा रामदेव ने ट्वीट कर सुशांत और उनके परिवार के लिए न्याय मिलने की उम्मीद जताई है। साथ ही अपने ट्विटर अकाउंट पर एक वीडियो भी शेयर किया है। जिसमें उन्हें कुछ लोगों के साथ यज्ञ करते हुए देखा जा सकता है। इस वीडियो को शेयर करते हुए बाबा रामदेव ने कैप्शन में लिखा है, ‘मैंने श्री सुशांत जी के परिजनों से बात की, उनका दर्द सुना तो मेरी भी रूह कांप उठी। हम सब पतंजलि में उस दिवंगत आत्मा के लिए प्रार्थना कर रहे हैं, सुशांत राजपूत और उनके परिजनों को न्याय मिले।’

यह भी पढ़ें : PM मोदी ने स्वतंत्रता दिवस पर ‘नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन’ की शुरुआत की

आपको बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत का मामला लगातार नया मोड़ लेता जा रहा है। पहले जहां यह मामला केवल बॉलीवुड तक ही सीमित था, तो वहीं अब इसे राजनीतिक रूप भी दिया जाने लगा है और सुशांत की मौत की जांच को लेकर अब बिहार और महाराष्ट्र सरकार भी आमने सामने आ गई हैं। यही नहीं शिवसेना संजय राउत ने तो कुछ दिन पहले सुशांत के पिता को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणी भी की थी, जिसके बाद सुशांत के परिवार की ओर से उनके खिलाफ मानहानि का केस किए जाने की बात कही गई थी।

गौरतलब हो कि सुशांत सिंह राजपूत बीती 14 जून की सुबह अपने बांद्रा स्थित घर में मृत पाए गए थे। जिसके बाद पुलिस ने सुशांत सिंह की मौत को सुसाइड बताकर मामले को खत्म करने की कोशिश की थी लेकिन बाद में कंगना रनौत ने सुशांत की मौत का जिम्मेदार बॉलीवुड में फैले नेपोटिज्म और माफिया बॉलीवुड को बताया था। यही नहीं उनकी मौत के 40 दिन बाद सुशांत के पिता केके सिंह ने रिया चक्रवर्ती के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज कराई थी और उन्हें इस मामले में मुख्य आरोपी बताया था।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

August 15, 2020, 7:15 pm
Fog
Fog
31°C
real feel: 38°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 83%
wind speed: 2 m/s E
wind gusts: 2 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:08 am
sunset: 6:13 pm
 

Recent Posts

Trending