Connect with us

देश

कोलकाता में अमित शाह के रोड शो में भारी हंगामा…पत्थरबाजी, आगजनी के बाद लाठीचार्ज

Published

on

भाजपा अध्यक्ष ने कहा- तृणमूल के गुंडों ने हमला किया

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में आम चुनाव के हर चरण में हंगामा, मारपीट और बवाल हो रहा है। राज्य की सत्ता पर काबिज तृणमूल प्रमुख ममता बनर्जी और भाजपा का सत्ता संग्राम अब और भी हिंसक हो चुका है। अब भाजपा नेताओं की रैलियों और चुनावी सभाओं को भी तृणमूल कार्यकर्ता निशाना बना रहे हैं। मंगलवार को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान जमकर बवाल हुआ। सातवें चरण के मतदान के लिए भाजपा अध्यक्ष का कोलकाता में एक रोड शो था। शाह जिस वाहन पर सवार थे, उस पर डंडे फेंके गए। रोड शो पर कुछ लोगों ने पत्थर फेंके और आगजनी भी की गई। रोड शो के दौरान जगह-जगह भाजपा समर्थकों के साथ तृणमूल कांग्रेस और वाम दलों के कार्यकर्ता भिड.ते रहे। #BengalWithBJP

पथराव में भाजपा के कई समर्थकों के अलावा कुछ पत्रकारों को भी चोटें आई। हालात को काबू में रखने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया। इसके बाद भाजपा अध्यक्ष ने रोड शो खत्म कर दिया। जानकारी के मुताबिक भाजपा का रोड शो चल रहा था। इसी बीच कलकत्ता यूनिवर्सिटी के सामने तृणमूल छात्र परिषद और लेफ्ट विंग के कार्यकर्ताओं ने शाह के खिलाफ नारे लगाए और काले झंडे दिखाए। साथ ही उनके काफिले पर पत्थरबाजी की गई। इसके बाद भाजपा और तृणमूल कार्यकर्ताओं में झड़प हो गई। भाजपा कार्यकर्ताओं ने भी हॉस्टल के गेट बंद कर दिए और पत्थरबाजी की। इस दौरान कुछ लोगों ने विद्यासागर कॉलेज में लगी ईश्वर चंद्र विद्यासागर की प्रतिमा को भी तोड़ दिया।#ShahRallyTargeted

यह भी पढ़ें-सोशल मीडिया पर धूम मचा रहा आम्रपाली और आदित्य का एक और गाना…पिया मेरा कुछ ना किया

अमित शाह ने कहा कि भाजपा के रोड शो को जनता से अच्छी प्रतिक्रिया मिली। इसमें कोलकाता का लगभग हर नागरिक शामिल हुआ। इससे तृणमूल के गुंडे हताश हो गए। इसलिए उन्होंने ये हमला किया। मैं भाजपा के कार्यकर्ताओं को बधाई देना चाहता हूं कि इतनी अराजकता के बाद भी रोड शो जारी रखा और सही समय और जगह पर इसे खत्म किया। ममता बनर्जी की पार्टी जो हिंसा कर रही है, इसकी मैं निंदा करता हूं। मैं बंगाल की जनता से अपील करता हूं कि इस हिंसा का जवाब आखिरी चरण में वोट से दें।

रोड शो से पहले पोस्टर हटाए गए

रोड शो से पहले कुछ लोगों ने मोदी और शाह के पोस्टरों को हटा दिया गया। भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने इसके पीछे ममता सरकार का हाथ बताया। उन्होंने कहा, श्श्मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के गुंडों और पुलिस ने पोस्टर और झंडे निकाल दिए। जैसे ही हम लोग पहुंचे वे यहां से भाग गए।

केंद्रीय बलों की तैनाती पर ममता का आयोग को पत्र

ममता सरकार ने 7वें चरण में केंद्रीय बलों की तैनाती को लेकर चुनाव आयोग को पत्र लिखा है। इसमें सरकार ने क्विक रेस्पॉन्स टीम में स्थानीय अफसर न रखने के फैसले पर विचार करने को कहा है। ममता ने कहा कि केंद्रीय बल स्थानीय पुलिस को संपर्क में नहीं रख रहे हैं।

ममता ने हेलिकॉप्टर को उतरने की इजाजत नहीं दी थी

सातवें चरण में बंगाल की 9 सीटों पर मतदान होना है। इसके मद्देनजर शाह की सोमवार को तीन रैलियां होनी थीं, लेकिन उन्हें जाधवपुर में हेलिकॉप्टर उतारने की अनुमति नहीं मिली थी। इसके बाद शाह ने जॉय नगर में जनसभा की थी। यहां उन्होंने कहा था- मेरी यहां तीन रैलियां होनी थीं। जॉयनगर में तो आ गया मगर दूसरी जगह ममता दीदी के भतीजे की सीट थी। वहां पर हमारे जाने से ममताजी डरती हैं कि भाजपा वाले इकट्ठे होंगे तो भतीजे का तख्त उल्टा हो जाएगा। इसलिए उन्होंने सभा की इजाजत नहीं दी।

योगी को सभा के लिए मिली अनुमति वापस ली गई

पश्चिम बंगाल में यूपी के मुख्यमंत्री व भाजपा के स्टार प्रचारक योगी आदित्यनाथ की सभाओं की अनुमति को भी रद्द कर दिया गया है। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने सोमवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि 15 मई को योगी दक्षिण पश्चिम कोलकाता में बेहाला इलाके में जेम्स लॉग सारानी में जनसभा करने वाले थे। प्रशासन ने पहले इसके लिए अनुमति दे दी थी, लेकिन सोमवार को इसे वापस ले लिया गया। योगी को इसी दिन उत्तर 24 परगना जिले के हावड़ा में एक और उत्तर कोलकाता के फूलबागान में एक रैली को संबोधित करना था। राज्य में लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण में 19 मई को वोट डाले जाएंगे।http://www.satyodaya.com

देश

महाराष्ट्रः शिवसेना का चुनावी वादा, सत्ता में आए तो किसानों का कर्ज माफ…

Published

on

नई दिल्ली। महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव 2019 को लेकर राजनीतिक पार्टियों की जोर आजमाइस शुरू हो गयी है। विधानसभा चुनाव में पार्टियां वोटरों को लुभाने के लिए लोकलुभावन घोषणा-पत्र जारी कर रही हैं। हरियाणा में कांग्रेस का घोषण-पत्र जारी होने के बाद शनिवार को महाराष्ट्र में शिवसेना ने विधानसभा चुनाव को लेकर अपना घोषणा-पत्र जारी कर दिया है। पहले भाजपा और शिवसेना मिलकर घोषणा-पत्र जारी करना चाह रहे थे, लेकिन कुछ विषयों पर सहमति न होने के कारण दोनों पार्टियां अलग-अलग घोषणा पत्र जारी करेंगी। बताया जा रहा है कि दोनों पार्टियों के बीच आरे कॉलोनी मामले और नाणार रिफाइनरी को लेकर आपसी सहमति नहीं बन पायी थी। वहीं शिवसेना कुछ जनता को लुभावने वादे करना चाह रही थी। इसके बाद शनिवार को शिवसेना ने अकेले ही अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया है।

शिवसेना पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे, उनके बेटे और वर्ली विधानसभा सीट से उम्मीदवार आदित्य ठाकरे, पार्टी की उपनेता प्रियंका चतुर्वेदी ने संयुक्त रूप से घोषणापत्र जारी किया। इसमें किसानों की कर्जमाफी, 10 रुपये में भोजन, आर्थिक रूप से पिछड़े लोगों की शिक्षा के लिए कॉलेज, हर जिले में एक महिला बचत घर, कामकाजी महिलाओं के लिए सरकारी हॉस्टल के अलावा स्वास्थ्य सुविधाओं को दुरुस्त करने. घरेलू उपभोक्ताओं के बिजली दरों में 30 प्रतिशत की कटौती समेत कई मुद्दों पर बड़े वादे किए गए हैं।

बता दें कि शुक्रवार को महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव को लेकर आम आदमी पार्टी ने भी अपना घोषणा पत्र जारी किया था। अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली पार्टी महाराष्ट्र में 24 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। आम आदमी पार्टी ने अपने घोषणा पत्र में किसानों की कर्जमाफी और महाराष्ट्र में दिल्ली का मॉडल लागू करने की बात कही है।

यह भी पढ़ें :- हरियाणाः कांग्रेस का वादा, सत्ता में आए तो डिग्री धारकों को देंगे बेरोजगारी भत्ता

10 रुपए में भरपेट खाना, एक रुपये में स्वास्थ्य जांच

घोषणापत्र जारी करने के बाद शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि पार्टी का उद्देश्य ग्रामीण इलाकों में गरीबों को 10 रुपये में भरपेट खाना, एक रुपये में प्राथमिक स्वास्थ्य जांच की सुविधा देना है। पार्टी ने पूरे महाराष्ट्र में 1,000 फूड चेन स्थापित करने का वादा किया है, जहां 10 रुपये में पूर्ण भोजन उपलब्ध कराया जाएगा। वहीं, स्वास्थ्य जांच के लिए राज्यभर में एक रुपया क्लिनिक खोले जाने की बात कही गयी है, जिसके अंतर्गत एक रुपये में 200 प्रकार की बीमारियों की जांच की जाएगी।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

फिल्मी ‘प्रसाद’ बांटते मोदी के मंत्री, जबर सिनेमा की कमाई फिर काहे अर्थव्यवस्था पर रुलाई

Published

on

मुंबई। देश में सब अच्छा है क्योंकि फिल्मिस्तान चंगा है। यह हम नहीं कह रहे बल्कि केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद का कहना है। उन्होंने अर्थव्यवस्था में सुस्ती को पूरी तरह से खारिज कर दिया और इसके लिए फिल्मी कमाई को आधार बनाया। रविशंकर प्रसाद ने कहा कि 2 अक्टूबर को रिलीज हुई तीन फिल्मों ने 120 करोड़ रुपये की कमाई की है। अर्थव्यवस्था दुरुस्त है तभी फिल्मों ने इतनी कमाई की है। सिर्फ इतना ही नहीं उन्होंने देश में बेरोजगारी पर आई NSSO की रिपोर्ट को भी खारिज कर दिया।  

दरअसल, कानून मंत्री ने प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कहा कि ‘मेरा फिल्मों से लगाव है। फिल्में बड़ा कारोबार कर रही हैं। 2 अक्टूबर को 3 फिल्में रिलीज हुई हैं। फिल्म उद्योग के विशेषज्ञ ने कहा है कि नैशनल हॉलीडे के दिन 3 फिल्मों ने 120 करोड़ रुपये का कारोबार किया है। अब जब देश में इकॉनमी थोड़ी साउंड है तभी तो 120 करोड़ रुपये का रिटर्न एक दिन में आ रहा है।’

बता दें, आरबीआई के साथ ही दुनिया की कई रेटिंग एजेंसियों ने भारत की ग्रोथ रेट का अनुमान घटा दिया है। करंट फाइनेंशियल इयर की पहली तिमाही में ग्रोथ रेट छह सालों के निचले स्तर 5 फीसदी पर आ गई है। लेकिन इन सबके बावजूद वित्तीय मामलों पर कानून मंत्री ने फिल्मी कमाई को आधार बनाकर मंदी को नकार दिया।

ये भी पढ़ें: लविवि धोखाधड़ी: पुलिस ने तीन लोगों को किया गिरफ्तार, दो आरोपी अभी भी फरार

यही नहीं उन्होंने NSSO की रिपोर्ट बेरोजगारी पर आई रिपोर्ट को भी खारिज कर दिया। NSSO की रिपोर्ट में बताया गया था कि देश में बेरोजगारी की दर 45 सालों में सबसे ज्यादा है। उन्होंने कहा कि, ‘वह रिपोर्ट गलत है। मैंने आपको 10 प्रासंगिक डेटा दिया है, जो रिपोर्ट में नहीं है। हमने कभी नहीं कहा कि हम सबको सरकारी नौकरी देंगे। कुछ लोग भ्रम फैलाने की कोशिश करते हैं।’http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

कांग्रेस ने साधा मोदी सरकार पर निशाना, कहा- प्रतिशोध की भावना से काम कर रही भाजपा

Published

on

नई दिल्ली। देश में अर्थव्यवस्था के कई सेक्टर्स दबाव में चल रहे हैं। आर्थिक सुस्ती ने निवेशकों के हौसले पस्त कर दिए हैं। ऐसे माहौल में विपक्ष मोदी सरकार पर लगातार हमलावर है। शनिवार को कांग्रेस ने भाजपा सरकार पर जमकर निशाना साधा है। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि मोदी सरकार अर्थव्यवस्था के ‘संकट’ को दूर करने के लिए कदम उठाने की बजाय राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ सरकारी एजेंसियों का दुरुपयोग कर रही है। पार्टी के वरिष्ठ प्रवक्ता आनंद शर्मा ने यह सवाल भी किया कि क्या अब देश में भाजपा के लिए एक निजाम और विपक्ष के लिए दूसरा निजाम है? उन्होंने कहा, ‘भारत की अर्थव्यवस्था की स्थिति बहुत गंभीर है और यह राष्ट्रीय चिंता का विषय है। निवेश टूट गया है, लोग बेरोजगार हो रहे हैं और पूंजी नहीं है।’

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अगर इस सरकार ने जल्द कोई कदम नहीं उठाए तो आने वाला समय और तकलीफदेह होगा। शर्मा ने कहा कि इस वित्तीय वर्ष के पांच महीने हो गए लेकिन सरकार ने जो करीब 24 करोड़ राजस्व का लक्ष्य रखा था वो उससे बहुत दूर है। वहीं कांग्रेस के अकाउंटेंट के यहां इनकम टैक्स की छापेमारी पर उन्होंने कहा कि, ये सरकार बदले की भावना से काम कर रही है। पार्टी के नेताओं के साथ-साथ अब ये सरकार उसके कर्मचारियों के खिलाफ भी प्रतिशोध की भावना से काम कर रही है। जिन्होंने देश को लूटा और चले गए उन पर इस सरकार का ध्यान नहीं है।

ये भी पढ़ें: देश में ऐसी व्यवस्था हो कि आरटीआई की जरूरत ही न पड़े: अमित शाह

वहीं, शर्मा ने भाजपा पर चुनावी में असीमित खर्च करने का आरोप भी लगाया। उन्होंने चुनावी चंदे का जिक्र करते हुए कहा कि आम चुनाव में भाजपा ने कुल खर्च का 60 फीसदी अकेले ही खर्च किया है। इसी के साथ आनंद शर्मा ने भाजपा पर पूंजीपतियों को फायदा पहुंचाने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि अगर वित्त मंत्री को अर्थव्यवस्था की स्थिति को लेकर कोई चिंता है तो उन्होंने इससे जुड़े सवालों का जवाब देना चाहिए।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

October 13, 2019, 6:26 am
Fog
Fog
21°C
real feel: 24°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 93%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:34 am
sunset: 5:11 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 10 other subscribers

Trending