Connect with us

देश

अयोध्या विवादः सुप्रीम कोर्ट के बाद अब इस ‘त्रिमूर्ति’ पर हल निकालने की जिम्मेदारी…

Published

on

फ़ाइल फोटो

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट में चल रहे देश के सबसे केस (अयोध्या मामले) में आज सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के बाद अब लोगों की नजर मध्यस्थता के लिए गठित पैनल पर टिक गई है। सुप्रीम कोर्ट ने आज मध्यस्थता के जरिए हल के लिए मध्यस्थता पैनल का ऐलान किया। देश के सबसे चर्चित अयोध्या भूमि विवाद पर आज सुप्रीम कोर्ट का फैसला आ गया। मध्यस्थता कमेटी की अध्यक्षता रिटायर्ड जस्टिस इब्राहिम खलीफुल्लाह करेंगे। इसके अलावा इस कमेटी में श्रीश्री रविशंकर और श्रीराम पंचू शामिल हैं। मध्यस्थता की पूरी कार्यवाही कैमरे में कैद होगी और मीडिया इसकी रिपोर्टिंग नहीं कर सकेगा। बता दें कि अयोध्या मामले में इससे पहले भी पहले भी चार बार मध्यस्थता के प्रयास किए गए लेकिन असफल रहे।

यह भी पढ़ें: बड़ी खबरः अयोध्या मामले में आया ‘सुप्रीम’ फैसला, जानिए क्या आदेश दिया सर्वोच्च न्यायालय ने…

आपको बता दें कि अयोध्या मामले की सुनवाई मुख्य न्यायाधीश की अध्यक्षता में पांच जजों की बेंच कर रही है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के अलावा जस्टिस एसए बोबडे, डीवाई चंद्रचूड, अशोक भूषण और एस अब्दुल नजीर इस पांच सदस्यीय बेंच में शामिल है। अब सुप्रीम कोर्ट ने जिन तीन लोगों को मध्यस्थता के लिए चुना है, उन पर यह जिम्मेदारी आ गई है कि वह बात-चीत के जरिए इस मसले का हल निकाले। आइये हम आपको बताते हैं कि वह लोग कौन हैं जिन्हें सुप्रीम कोर्ट ने इस मसले के हल के लिए मध्यस्थता पैनल में शामिल किया है…

एफ.एम.आई. खलीफुल्लाहः

एफ.एम.आई. खलीफुल्लाहः सुप्रीम कोर्ट द्वारा मध्यस्थता के लिए गठित पैनल की अध्यक्षता सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज फाकिर मोहम्मद इब्राहिम खलीफुल्लाह करेंगे। तमिलनाडु के रहने वाले जस्टिस खलीफुल्लाह अपने लंबे न्यायिक सफर में एक वकील से लेकर हाई कोर्ट के जज, हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस और सुप्रीम कोर्ट के जज तक का रास्ता तय किया। 20 अगस्त 1975 को वकालत की शुरुआत करने वाले खलीफुल्लाह 2000 में मद्रास हाई कोर्ट में परमानेंट जज नियुक्त हुए। फरवरी 2011 में वह जम्मू-कश्मीर हाई कोर्ट के जज बने और दो हफ्ते बाद ही ऐक्टिंग चीफ जस्टिस नियुक्त हुए। सितंबर 2012 में वह जम्मू-कश्मीर हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस नियुक्त हुए। उसके बाद, 2 अप्रैल 2012 को वह सुप्रीम कोर्ट के जज बने और 22 जुलाई 2016 को रिटायर हुए।

श्रीश्री रविशंकरः

श्रीश्री रविशंकरः मध्यस्थता समिति में जाने-माने आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर भी शामिल हैं। आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर इससे पहले भी व्यक्तिगत स्तर पर अयोध्या मामले को सुलझाने की पहल कर चुके हैं लेकिन कामयाबी नहीं मिली। इसके अलावा, वह कश्मीर में शांति के लिए भी व्यक्तिगत तौर पर पहल कर चुके हैं। श्रीश्री रविशंकर के देश-विदेश में करोड़ों अनुयायी हैं। उन्होंने 1981 में आर्ट ऑफ लिविंग की स्थापना की थी। श्री श्री रविशंकर सामाजिक और सांप्रदायिक सौहार्द से जुड़े कार्यक्रमों के लिए भी जाने जाते हैं।

श्रीराम पंचूः

श्रीराम पंचूः सुप्रीम कोर्ट द्वारा अयोध्या मसले पर गठित मध्यस्थता समिति में श्रीराम पंचू भी शामिल हैं। 40 सालों से वकालत कर रहे वरिष्ठ वकील पंचू पिछले 20 सालों से सक्रिय मध्यस्थ की भूमिका निभा रहे हैं। वह मिडिएशन चैंबर्स के संस्थापक हैं। उन्होंने देश के तमाम हिस्सों में व्यावसायिक, कॉरपोरेट और अन्य क्षेत्रों से जुड़े कई बड़े और जटिल विवादों में मध्यस्थता कर चुके हैं।   http://www.satyodaya.com

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

देश

नोबेल पाने वाले अभिजीत बनर्जी पर अनंत हेगड़े ने दिया विवादित बयान, कही ये बात…

Published

on

नोबेल पुरस्कार

फाइल फोटो

नई दिल्ली। नोबेल पुरस्कार दुनिया के सबसे बड़े और प्रतिष्ठित पुरस्कारों में से एक है। नोबेल पुरस्कार पाने के आखिरी दिन भारतवासियों के लिए बड़ी ही खुशी का दिन था। क्योंकि भारतीय मूल के अभिजीत बनर्जी को अर्थशास्त्र के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार से नवाजा गया है।  

वह भारतीय मूल के हैं, दिल्ली की जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी से पढ़े हैं। सोमवार को पुरस्कार के ऐलान के बाद से ही हर कोई अभिजीत बनर्जी को बधाई दे रहा है, लेकिन पूर्व केंद्रीय मंत्री अनंत हेगड़े ने कुछ ऐसा ट्वीट कर दिया कि लोगों ने उनका मजाक बना दिया है।

अनंत हेगड़े ने ट्विटर पर अभिजीत बनर्जी की न्याय स्कीम का मज़ाक उड़ाया, जिसका आइडिया अभिजीत ने लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस पार्टी को दिया था। अनंत हेगड़े ने जो टिप्पणी की वो लोगों को नहीं भाई और अनंत हेगड़े को खूब खरी-खोटी सुना दी।

ये भी पढ़ें:भारतीय मूल के अभिजीत बनर्जी को मिलेगा अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार

ट्वीटर यूजर्स ने हेगड़े के ट्वीट का जवाब देते हुए लिखा कि तुच्छ आदमी की तुच्छ सोच साफ नज़र आ रही है। इसके अलावा कुछ लोगों ने तंज कसते हुए लिखा कि प्लीज़, आप कुछ बॉलीवुड की फिल्में देखें और भारत की अर्थव्यवस्था को मजबूत करें। कुछ लोगों ने ट्वीट किया कि भारत को अपना नोबेल पुरस्कार बनाना चाहिए, जिसे रविशंकर प्रसाद-पीयूष गोयल जैसे नेताओं को मिल सके।

जानकारी के मुताबिक नोबेल पुरस्कार के लिए सोमवार को जब अभिजीत बनर्जी के नाम का ऐलान किया गया, तब उनका जेएनयू  के साथ कनेक्शन की बात सामने आई, उन्होनें किस तरह भारत में गरीबी हटाने के लिए काम किया और फिर लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को न्याय  स्कीम का आइडिया दिया।

ये भी पढ़ें:B’day Special: APJ अब्दुल कलाम के ये विचार जो बदल सकते हैं किसी का भी जीवन

बता दें अनंत हेगड़े अक्सर अपने विवादित बयानों की वजह से ख़बरों में रहते हैं। हेगड़े इससे पहले अपने आपत्तिजनक बयानों, विवादित टिप्पणियों के लिए चर्चा में रह चुके हैं। फिर चाहे वह संविधान को बदलने वाला बयान हो या फिर नाथूराम गोडसे वाले बयान पर साध्वी प्रज्ञा का समर्थन करना हो।

राहुल गांधी ने न्याय स्कीम के लिए दी बधाई

भारतीय मूल के अभिजीत बनर्जी को जब नोबेल पुरस्कार मिला तो कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी उन्हें बधाई दी। राहुल ने ट्विटर पर लिखा कि अभिजीत बनर्जी को नोबेल मिलने की बधाई, उन्होंने हमारी स्कीम न्याय  को तैयार करने और उसके जरिए गरीबी के खिलाफ लड़ाई लड़ने , अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए हमारा साथ दिया था।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

एपीजे अब्दुल कलाम के जन्मदिन पर सनी देओल ने दी बधाई, कही ये बात

Published

on

नई दिल्ली। अब्दुल पाकिर जैनुलाब्दीन अब्दुल कलाम.. जी हां इनको हम एपीजे अब्दुल कलाम के नाम से जानते हैं। भारत के पहले मिसाइल मैन और पूर्व राष्ट्रपति का आज जन्मदिन है। कलाम साहब की जयंती पर अभिनेता और सांसद सनी देओल ने उन्हें याद किया है। सनी देओल ने लिखा महान इंसान, मिसाइल मैन को जन्मदिन की बधाई।

सुपरस्टार सनी देओल ने अब्दुल कलाम जी जन्मदिन की बधाई देते हुए लिखा है.. मिसाइल मैन और एक महान इंसान अब्दुल कलाम जी को उनकी बर्थ एनीवर्सिरी पर याद कर रहा हूं।

एपीजे अब्दुल कलाम ने मुख्य रूप से एक वैज्ञानिक के रूप में चार दशकों तक रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) व इसरो को भी संभाला और देश में सैन्य मिसाइल के विकास के प्रयासों में भी शामिल रहे। पूर्व राष्ट्रपति कलाम का जन्म 15 अक्टूबर 1931 को रामेश्वरम में हुआ था। उन्होंने अपनी पढ़ाई सेंट जोसेफ कॉलेज, तिरुचिरापल्ली से की थी। उन्हें साल 2002 में भारत का राष्ट्रपति बनाया गया था। वहीं, पांच वर्ष की अवधि पूरी होने के बाद वे वापस शिक्षा, लेखन और सार्वजनिक सेवा में लौट आए थे।

ये भी पढ़ें- गोमती पुल की रेलिंग पर चढ़ा युवक, किया हाई वोल्टेज ड्रामा…

पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम का 27 जुलाई, 2015 को शिलॉंग में निधन हो गया था वे आईआईएम शिलॉन्ग में लेक्चर देने गए थे, इसी दौरान दिल का दौरा पड़ने से उनका निधन हो गया था। उनके निधन के बाद सात दिन के राष्ट्रीय शोक की घोषणा भी की गई थी।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

B’day Special: APJ अब्दुल कलाम के ये विचार जो बदल सकते हैं किसी का भी जीवन

Published

on

नई दिल्ली। भारत के पूर्व राष्ट्रपति, महान वैज्ञानिक और एक अच्छे शिक्षक के रूप में लोकप्रिय एपीजे अब्दुल कलाम का आज जन्मदिन है। मिसाइलमैन के नाम से मशहूर एपीजे अब्दुल कलाम की आज 88वीं जयंती है। 15 अक्टू्बर 1931 को तमिलनाडु के रामेश्व्रम में पैदा हुए कलाम साहब का पूरा जीवन देश सेवा और मानवता को समर्पित रहा। जानिए उनके ये विचार जो किसी का भी जीवन बदल सकते हैं।

1-अगर किसी देश को भ्रष्टाचार मुक्त होना है और सुंदर दिमागों का देश बनना है, तो मुझे मजबूती से लगता है कि तीन प्रमुख सामाजिक सदस्य हैं जो एक अंतर ला सकते हैं। वे हैं – पिता, माता और शिक्षक।

ये भी पढ़ें- PMC बैंक घोटाला: प्रदर्शन के बाद खाताधारक की हार्ट अटैक से हुई मौत, जमा थे 90 लाख रुपये

2-यदि चार बातों का पालन किया जाए- एक महान उद्देश्य, ज्ञान प्राप्त करना, कड़ी मेहनत और दृढ़ता – तो कुछ भी हासिल किया जा सकता है।

3-हमें अपने आज का बलिदान करना होगा ताकि हमारे बच्चों का कल बेहतर हो सके।

4-विज्ञान मानवता के लिए एक सुंदर उपहार है; हमें इसे विकृत नहीं करना चाहिए।

5-शिक्षण एक बहुत ही महान पेशा है जो व्यक्ति के चरित्र, कैलिबर और भविष्य को आकार देता है। अगर लोग मुझे एक अच्छे शिक्षक के रूप में याद करेंगे तो यह मेरे लिए सबसे बड़ा सम्मान होगा।

6-अगर तुम सूरज की तरह चमकाना चाहते हो तो तुम्हें पहले सूरज की तरह जलना होगा।

7.असफलता कभी मुझे पछाड़ नहीं सकती, क्योंकि मेरी सफलता की परिभाषा बहुत मजबूत है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

October 15, 2019, 1:26 pm
Partly sunny
Partly sunny
32°C
real feel: 37°C
current pressure: 1010 mb
humidity: 45%
wind speed: 0 m/s N
wind gusts: 0 m/s
UV-Index: 5
sunrise: 5:35 am
sunset: 5:09 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 10 other subscribers

Trending