Connect with us

देश

लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण से पहले ओडिशा में माओवादियों ने किया पंचायत भवन पर बम धमाका

Published

on

ओडिशा। लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण के मतदान से पहले ओडिशा राज्य के मल्कानगिरी इलाके में माओवादियों ने एक बड़े धमाके को अंजाम दिया है। जानकारी के मुताबिक उपद्रवियों ने तेमुरपल्ली स्थित पंचायत कार्यलय को अपना निशाना बनाकर वहां बम धमाका किया है ।

मिडिया रिपोर्ट्स के अनुसार बीती रात माओवादियों ने पंचायत भवन पर बम धमाका किया था, जिसमें पूरी इमारत ध्वस्त हो गई है । वहीं इस बम धमाके में किसी भी तरह की जान-माल की कोई हानि नहीं हुई है । इसके साथ ही घटनास्थल से एक माओवादी का पोस्टर भी बरामद हुआ है, जिससे इस बात का पता चलता है कि इस घटना को  पुलिस के एंटी-ट्राइबल गतिविधियों जैसे-फेक एनकाउंटर और झूठी गिरफ्तारी के विरोध में अंजाम दिया गया है।

ये भी पढ़े: संदिग्ध हालत में फंदे से लटका मिला युवक का शव, पुलिस ने किया घटना से इंकार…

वहीं बम धमाका होने के बाद घटनास्थल की जो तस्वीरें सामने आ रही है, उससे यह साफ़ तौर पर पता चल रहा है कि धमाके के बाद पंचायत भवन की इमारत पूरी तरह ध्वस्त हो चुकी है। नक्सलियों ने पंचायत भवन पर कई बम फेंके और इसके साथ ही  इमारत के अंदर तोड़फोड़ करते हुए जरूरी दस्तावेजों में भी आग लगा दी। इतना ही नहीं बल्कि सुरक्षाबलों को खबर लगने से पहले ही माओवादी मौके से भाग भी निकलें । जानकारी के अनुसार इस बम धमाके को लगभग 30 से ज्यादा नक्सलियों ने अंजाम दिया है । बता दें कि नक्सली इस जिले में पहले चरण से ही मतदान को प्रभावित करते नजर आ रहे हैं। मुख्य निर्वाचन अधिकारी सुरेंद्र कुमार ने इस बार में जानकारी देते हुए बताया था कि ‘नक्सली हमले की संभावना को देखते हुए चित्रकोंडा के 6 बूथों पर वोटिंग प्रक्रिया नहीं हुई थी।

http://www.satyodaya.com

Featured

चिदंबरम की गिरफ्तारी को बदले की कार्रवाई क्यों बता रही कांग्रेस, जानिए आखिर क्या हुआ था 10 साल पहले!

Published

on

लखनऊ। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम पर आईएनएक्स मीडिया घोटाला मामले में सीबीआई और ईडी ने शिकंजा कस दिया है। इस मामले में चिदंबरम पिछले एक साल से हाई कोर्ट से अग्रिम जमानत लेकर जांच से बचते आ रहे थे। जबकि जांच एजेंसियां लगातार चिदंबरम को अग्रिम जमानत देने का विरोध कर रहीं थीं। जांच एजेंसियों का आरोप है कि पूर्व वित्त मंत्री जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं।
मंगलवार को चिदंरबम की अग्रिम जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए दिल्ली हाई कोर्ट ने कांग्रेस नेता को कोई राहत देने से इनकार कर दिया। इसके तुरंत बाद चिदंबरम के वकील कपिल सिब्बल ने अपनी टीम के साथ सुप्रीम कोर्ट का रुख किया लेकिन शीर्ष अदालत ने भी चिदंबरम को तत्काल कोई राहत देने से इनकार कर दिया। जिसके बाद सीबीआई और ईडी ने पूर्व वित्त मंत्री पर शिकंजा कसना शुरू किया। लंबी जद्दोजहद और नाटकीय घटनाक्रम के बाद आखिरकार बुधवार रात को सीबीआई ने चिदंबरम को उनके घर से दीवार फांदकर गिरफ्तार कर लिया। #PChidamabaramArrested

चिदंबरम की गिरफ्तारी के साथ ही राजनीति भी गरमा गयी है। कांग्रेस पूरी ताकत से चिदंबरम के पीछे खड़ी हो गयी। कांग्रेस महासचिव ने कहा कि अंजाम चाहे जो लेकिन हम चिदंबरम का साथ देंगे। राहुल गांधी और कांग्रेस ने चिदंबरम के खिलाफ हो रही कार्रवाई को बदले की कार्रवाई बताया है। अब सवाल उठता है कि इतने केन्द्रीय गृह मंत्री और वित्त मंत्री रह चुके पी. चिदंबरम के खिलाफ सैकड़ों करोड़ रुपए के घोटाले और मनी लांडिंग से जुड़े मामले की जांच को कांग्रेस बदले की कार्रवाई क्यों कह रही है? दरअसल आज चिदंबरम जिस संकट का सामना कर रहे हैं, ठीक ऐसे ही संकट का सामना वर्ष 2010 में अमित शाह ने भी किया था। #ShameOnCongress तब देश के गृह मंत्री पी. चिदंबरम थे और अब देश के गृह मंत्री अमित शाह हैं। कहते हैं कि सियासत में समय का चक्र बहुत तेजी से घूमता है, आज स्थिति लगभग 10 साल पहले वाली ही है लेकिन इस बार शिकंजे में अमित शाह नहीं चिदंबरम हैं। तब विपक्षी पार्टी भाजपा थी, आज कांग्रेस है, जो आरोप आज कांग्रेस लगा रही है, तब भाजपा ने भी कांग्रेस पर ऐसे ही आरोप लगाए थे।

तो आईए जानते हैं पूरी कहानी-

यूपीए सरकार के समय गुजरात में सोहराबुद्दीन शेख एनकाउंटर मामला सुर्खियों में था। गुजरात के तत्कालीन गृह राज्य मंत्री अमित शाह पर इस फर्जी एनकाउंटर की साजिश रचने का आरोप लगा था और तब चिदंबरम देश के गृह मंत्री थे। आरोपों के बाद जांच एजेंसियां अमित शाह के पीछे पड़ गईं। 25 जुलाई 2010 को सीबीआई ने अमित शाह को गिरफ्तार कर जेल में डाल दिया था। अमित शाह तब तीन महीने तक जेल में रहे थे। #PChidamabaramArrested सजा के तौर पर अमित शाह को 2 साल तक गुजरात से बाहर रहने का आदेश दिया गया था। 29 अक्टूबर 2010 को गुजरात हाई कोर्ट ने अमित शाह को जमानत दी। उस समय भाजपा ने कांग्रेस पर सीबीआई के गलत इस्तेमाल और बदले की भावना से कार्रवाई का आरोप लगाया था। 2012 तक अमित शाह गुजरात से बाहर रहे। मामले की सुनवाई चलती रही है और सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को गुजरात से बाहर मुंबई में शिफ्ट कर दिया। लंबी सुनवाई के बाद मुंबई की स्पेशल कोर्ट ने अमित शाह को सभी आरोपों से मुक्त कर दिया।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

मुख्तार अब्बास नकवी बोले- कांग्रेस भ्रष्टाचार को क्रांति में बदलने की कर रही कोशिश

Published

on

फाइल फोटो

नई दिल्ली: INX मीडिया केस को लेकर पूर्व वित मंत्री पी चिदंबरम को सीबीआई ने बुधवार की रात्रि को गिरफ्तार कर लिया है। चिदंबरम की गिरफ्तारी पर भड़की कांग्रेस के समर्थन करने पर केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने निशाना साधते हुए गुरुवार को कहा कि कांग्रेस ‘भ्रष्टाचार को क्रांति में बदलने’ की कोशिश कर रही है।

ये भी पढ़े- चिदंबरम की गिरफ्तारी पर भड़की कांग्रेस, कहा- असल मुद्दों से ध्यान भटका रही मोदी सरकार

बीजेपी नेता नकवी ने कहा कि कांग्रेस नकारात्मक सोच के साथ काम कर रही है। उन्होंने भ्रष्टाचार को क्रांति में बदलने का प्रयास किया है। यह पहली बार है कि भ्रष्टाचार क्रांति बन रहा है। अभी तक भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति होती थी, लेकिन कांग्रेस भ्रष्टाचार के पक्ष में क्रांति कर रही है। उन्होंने आगे कहा कि जांच एजेंसियां अपना काम कर रही हैं और कोर्ट अपना काम करेंगी। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

AIIMS के वरिष्ठ प्रोफेसर वाट्सएप वीडियो के जरिए करा रहे हैं मरीजों का उपचार….

Published

on

आफिस

फाइल फोटो

AIIMS के टीचिंग ब्लॉक में भीषण आग लगने से 25 से ज्यादा वरिष्ठ डॉ. आफिस से बाहर हो गए हैं। जहां 5 दिन बाद भी उन्हें संस्थान में बैठने का प्रबंध नहीं हो सका। वहीं नाजुक माहौल को देखते हुए कुछ प्रोफेसर घर से ही व्हाट्सएप के जरिए वीडियोकॉल पर मरीजों को देख अपने से जूनियर डॉक्टरों को उपचार संबंधी सलाह दे कर ट्रिट्मेंट करा रहे हैं।

जबकि सप्ताह में एक या दो सर्जरी होने के अतिरिक्त इनके पास शैक्षणिक व प्रशासनिक कार्यों की भी जिम्मेदारी होती है। जबकि इस कार्य को करने के लिए दफ्तर का होना आवश्यक है। क्योंकि विभागों से जुड़ी सभी जरुरी कागजात, कंप्यूटर और डाटा सब नष्ट हो गया है। इसलिए इन डॉक्टरों को एम्स प्रबंधन सफदरजंग अस्पताल से आगे ट्रॉमा सेंटर में बैठाने का प्रबंध किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें:आईएनएक्स घोटाला: चिदंबरम से पूछताछ के पहले ईडी के जांच अधिकारी का तबादला

बता दें कि एक विभागाध्यक्ष ने बताया कि फोन पर वीडियोकॉल के जरिए अपने जूनियरों का मार्गदर्शन करने के अलावा उनके पास दूसरा कोई विकल्प नहीं है। उनके पास बैठने के लिए स्थान नहीं है और न ही कोई सुविधा। उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। फैकल्टी के संगठित नहीं होने के कारण ये सब हो रहा है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

August 22, 2019, 6:41 pm
Rain
Rain
30°C
real feel: 36°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 83%
wind speed: 3 m/s NW
wind gusts: 3 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 5:11 am
sunset: 6:07 pm
 

Recent Posts

Top Posts & Pages

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 9 other subscribers

Trending