Connect with us

देश

दिल का दौरा पड़ने से बीजेपी नेता व पूर्व सांसद नेपाल सिंह का निधन

Published

on

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता व पूर्व सांसद नेपाल सिंह का शुक्रवार हार्ट अटैक से मुरादाबाद में निधन हो गया है। वह 79 वर्ष के थे। वह पांच बार विधान परिषद के सदस्य, दो बार यूपी सरकार में कैबिनेट मंत्री, रामपुर से लोकसभा सांसद और विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष रह चुके थे। शनिवार सुबह 10 बजे रामपुर के ही मोक्षधाम में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा।

नेपाल सिंह उत्तर प्रदेश के पूर्व माध्यमिक शिक्षा मंत्री और 2014 में रामपुर संसदीय सीट से चुने गए थे। इससे पहले 5 बार विधायक भी रहे थे। वह पहली और आखिरी बार 2014 में रामपुर संसदीय सीट से लोकसभा के लिए चुने गए थे। लोकसभा चुनाव में मुस्लिम बहुल संसदीय रामपुर सीट पर बीजेपी के प्रत्याशी के रूप में उन्होंने ऐतिहासिक जीत दर्ज की थी। 2014 के संसदीय चुनाव में उत्तर प्रदेश से कोई भी मुस्लिम सांसद चुनकर नहीं गया था। जो कि इतिहास में पहली बार हुआ था।

यह भी पढ़ें-सीएम योगी के आदेश पर गोरखनाथ मंदिर की दुकानों पर चला बुल्‍डोजर

पश्चिम यूपी के दिग्गज नेताओं में शुमार किए जाने वाले नेपाल सिंह का जन्म 12 अगस्त 1940 को अलीगढ़ के चंदौला में हुआ था। डॉक्टर भीमराव अंबेडकर यूनिवर्सिटी आगरा से रसायन विज्ञान में परास्नातक करने के बाद पीएचडी की डिग्री हासिल की थी। पहली बार 1986 में विधायक चुने गए थे। इसके बाद 4 और बार विधायक चुने गए। इस दौरान वह उत्तर प्रदेश में माध्यमिक शिक्षा मंत्री में बने।

नेपाल सिंह का परिवार

नेपाल सिंह का जन्म अलीगढ़ जिले में हुआ। उन्होंने राजनीति मुरादाबाद में की और मुरादाबाद में ही रहते थे। नेपाल सिंह पहली बार 1986 में बरेली-मुरादाबाद मंडल स्नातक निर्वाचन क्षेत्र से उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सदस्य चुने गए थे। 2014 में भारतीय जनता पार्टी से रामपुर सीट से लोकसभा चुनाव जीत सांसद बने। उनके पिता रामअकबाल सिंह कृषक और प्रोफेसर थे। नेपाल सिंह की मां का नाम दुर्गा देवी थी। उनकी पत्नी का नाम आदित्या है। उनके परिवार में पत्नी, तीन बेटियां और दो बेटे हैं। एक बेटा इंजीनियर है और दूसरा बीजेपी का जिला मंत्री रहा है।http://www.satyodaya.com

देश

10 दिनों तक बुखार ना आने पर नहीं फैला सकता कोरोना संक्रमण : स्वास्थ्य मंत्रालय

Published

on

नई दिल्ली: कोरोना वायरस संकम्रण के मामले देश में लगातार बढ़ रहे हैं। भारत में 1 लाख  से ज्यादा लोग कोरोना संक्रमण से पीड़ित हैं। मरने वालों संख्या 3400 पहुँच गई है. इस बीच स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से कोरोना मरीजों की डिस्चार्ज पॉलिसी से जुड़ी एक अहम जानकारी साझा की है । स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि कोरोना वायरस के जिन मरीजों में कोई लक्षण नहीं हैं और जिन्हें पिछले 10 दिनों से बुखार नहीं आया है, वो दूसरों तक संक्रमण नहीं फैला सकते हैं और ऐसे लोगों को 10 दिनों के बाद अपने घर वापस भेजा जा सकता है।

यह भी पढ़ें: Covid-19: ग्रामीण इलाकों के क्वारंटीन सेण्टरों में बढ़ रही हैं असुविधाएं

हालांकि स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि ऐसे लोग घर के बाहर ना निकलें और 7 दिनों तक खुद को घर में आइसोलेट करें। इसके अलावा जरूरी प्रिकाशन लें. मंत्रालय ने कहा कि ऐसे मरीज वायरस नहीं फैला सकते। बता दें कि देश में आधे मामले पिछले एक पखवाड़े में सामने आए हैं, जब से विशेष ट्रेनों के जरिए विभिन्न जगहों पर फंसे हुए लोगों की आवाजाही शुरू हुई है। इस बीच सरकार ने हालांकि, जोर देकर कहा है कि दुनिया की औसत डेथ रेट की तुलना में भारत में यह दर आधे से भी कम है। बता दें कि कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए बीते 25 मार्च से लॉकडाउन जारी है। फिलहाल इसका चौथे चरण चरण चल रहा है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

एक हजार करोड़ रुपए के ‘राहत पैकेज’ को ममता बनर्जी ने बताया नाकाफी

Published

on

कहा, अम्फन तूफान के चलते राज्य में करीब 1 लाख करोड़ का हुआ नुकसान

नई दिल्ली। अम्फन तूफान का जायजा लेने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को पश्चिम बंगाल के कई जिलों का हवाई सर्वेक्षण किया। नुकसान का आंकलन कर उन्होंने एक हजार करोड़ रुपये के राहत पैकेज का ऐलान किया। पीएम मोदी के इस ऐलान पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी खुश नहीं है। उन्होंने कहा कि नुकसान एक लाख करोड़ का हुआ और पैकेज सिर्फ एक हजार करोड़ का दिया जा रहा है। पीएम मोदी ने एक हजार करोड़ के राहत पैकेज का ऐलान किया है। लेकिन इससे जुड़ी कोई जानकारी नहीं दी है। यह पैसा कब मिलेगा या यह अग्रिम धनराशि है।

अम्फन तूफान के कारण एक लाख करोड़ रुपये का नुकसान हुआ। 56 हजार करोड़ रुपया तो हमारा ही केंद्र पर बकाया है। वहीं हवाई सर्वेक्षण के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि अम्फन चक्रवात से निपटने के लिए राज्य सरकार और केंद्र सरकार ने मिलकर भरसक प्रयास किया, लेकिन उसके बावजूद करीब 80 लोगों का जीवन नहीं बचा पाएं। इसका हम सभी को दुख है और जिन परिवारों ने अपना स्वजन खोया है उनके प्रति केंद्र और राज्य सरकार की संवेदनाएं हैं।

यह भी पढ़ें-‘अम्फन’ से तबाह पश्चिम बंगाल को 1000 करोड़ की फौरी राहत देगा केन्द्र

प्रधानमंत्री ने कहा लोगों को हर संभव मदद प्रदान करने के लिए केंद्र और राज्य मिलकर काम कर रहे हैं। अभी तत्काल राज्य सरकार को कठिनाई न हो इसके लिए 1000 करोड़ रुपये भारत सरकार की तरफ से व्यवस्था की जाएगी। साथ ही प्रधानमंत्री राहत कोष से मृतकों के परिजनों को 2 लाख और घायलों को 50 हजार रुपये की सहायता दी जाएगी।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

RBI ने रेपो रेट में फिर की कटौती, EMI भुगतान में भी राहत

Published

on

लखनऊ। लाॅकडाउन के बीच सरकार व RBI की तरफ से राहतों का सिलसिला जारी है। कोरोना संकट के बीच भारतीय रिजर्व बैंक ने एक बार फिर देश की जनता के लिए बड़ा ऐलान किया है। लाॅकडाउन के दौरान लगातार दूसरी बार आरबीआई ने रेपो रेट में कटौती की है। शुक्रवार को आरबीआई गर्वनर शक्तिकांत दास रेपो रेट में 040 फीसदी की कटौती की है। इसके साथ ही अब रेपो रेट 4.4 प्रतिशत से घटकर 4 प्रतिशत हो गयी है। इससे पहले 27 मार्च को आरबीआई ने रेपो रेट में 0.75 फीसदी की कटौती की थी।

आरबीआई गर्वनर ने ईएमआई के भुगतान पर 3 महीने की अतिरिक्त छूट का भी ऐलान किया है। जिसका मतलब है कि यदि कोई ग्राहक अपने बैंक लोन की ईएमआई तीन महीने तक नहीं जमा करता है तो बैंक उस पर कोई दबाव नहीं डालेंगे। इससे पहले आरबीआई ने ईएमआई भुगतान पर मार्च से मई तक राहत दी थी। जिसे बढ़ाकर अब अगस्त तक कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें-लखनऊ : शहीद पथ पर लूटपाट के इरादे से घूम रहे दो ईनामी बदमाश गिरफ्तार

प्रेस कांफ्रेंस के दौरान गवर्नर ने कहा, कोरोना महामारी के चलते वैश्विक अर्थव्यवस्था पर बड़ा असर पड़ा है। उन्होंने बताया कि एमपीसी (मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी) रेपो रेट में 0.40 फीसद की कटौती को मंजूरी दी है। इससे लोगों पर लोन की ईएमआई चुकाने का बोझ कम होगा। गवर्नर ने बताया कि रिवर्स रेपो रेट को 3.75 फीसद से घटाकर 3.35 फीसद कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि महंगाई दर अभी भी 4 फीसदी के नीचे रहने की संभावना है। लेकिन लॉकडाउन के वजह से कई सामानों की कीमत बढ़ सकती है।

क्या होता है रेपो रेट

बता दें कि आरबीआई दूसरे बैंको को दिए हुए कर्ज पर ब्याज लगाता है। रेपो रेट कम होने का मतलब है कि बैंकों को रिजर्व बैंक से लोन पर कम ब्याज देना होगा। जिससे बैंक अधिक कर्ज लेने के लिए प्रेरित होंगे। रेपो रेट में कटौती का मतलब है कि बैंकों को रिजर्व बैंक से कम दर पर लोन मिलेगा। जब बैंकों को लोन पर कम कीमत खर्च करनी होगी तो इसका लाभ ग्राहकों को मिलेगा। यानी कि कार लोन, होम लोन और पर्सनल लोन पर जनता को कम ब्याज चुकाना होगा।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

May 22, 2020, 9:16 pm
Clear
Clear
33°C
real feel: 35°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 48%
wind speed: 1 m/s E
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 0
sunrise: 4:46 am
sunset: 6:21 pm
 

Recent Posts

Trending