Connect with us

देश

सीएए के समर्थन में देश भर में जनजागरण अभियान चलाएगी भाजपा: अमित शाह

Published

on

फाइल फोटो

जोधपुर। गृह मंत्री अमित शाह जोधपुर में एक सभा को संबोधित करते हुए विरोधी पार्टियों पर जमकर हमला बोला। उन्होंने ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी दलों के विरोध को गलत दुष्प्रचार बताते हुए कहा कि ये लोग वोट बैंक की राजनीति कर लोगों को गुमराह कर रहे हैं। लेकिन इस कानून में कहीं भी किसी की नागरिकता लेने का कोई प्रावधान नहीं है। इससे किसी को भी डरने की जरुरत नहीं है।

शाह आज सीएए के समर्थन में सभा को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस व अन्य कुछ विपक्षी दल वोट बैंक की राजनीति के लिए सीएए के खिलाफ दुष्प्रचार का अभियान शुरु कर देश की जनता को गुमराह कर रहे हैं। प्रदर्शन कर रहे हैं। ये लोग लोकतंत्र के हितों के खिलाफ जा रहे हैं। जबकि हम जनजागरण अभियान के तहत जनता के पास जाकर सीएए के बारे में अपना पक्ष रखेंगे। उन्होंने शरणार्थियों को आश्वस्त करते हुए कहा कि वे डरे नहीं, भाजपा इस मामले में एक इंच भी पीछे हटने वाली नहीं हैं। उनकी नागरिकता को कोई नहीं रोक सकता है, चाहे विपक्ष की सारी पार्टियां एक हो।

उन्होंने कहा कि वह कांग्रेस, ममता, समाजवादी, बसपा, केजरीवाल और वामपंथी दल सहित कई पार्टियों को चुनौती देने आये हैं कि वे कह रहे हैं कि इस कानून से देश के अल्पसंख्यकों की नागरिकता चली जायेगी, राहुल बाबा ने अगर कानून पढा है तो इस बारे में कहीं भी चर्चा पर आ जायें, नहीं पढा है तो इटाली में अनुवाद करके दे देते है, पढ लीजिए। उन्होंने कहा “मैं जनता से कहना चाहता हूं, सीएए के अंदर कहीं भी किसी की नागरिकता लेने का कोई प्रावधान नहीं है, इसमें केवल नागरिकता देने का प्रावधान है, यह बताने आया हूं।”

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान, बंगलादेश एवं अफगानिस्तान में अल्पसंख्यक जैन, सिख, बौद्ध, पारसी आदि प्रताड़ित होकर भारत आने वाले शरणार्थियों को नागरिकता देने का यह कानून है। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी, जवाहर लाल नेहरु आदि कह चुके हैं कि ऐसे लोगों को नागरिकता देनी चाहिए, तो क्या वे भी सांप्रदायिक थे।

अमित शाह ने कहा कि कांग्रेस ने वोट बैंक के डर से हिम्मत नहीं कर रही थी। जबकि 56 इंच के सीना वाले नरेन्द्र मोदी ने लाखों, करोड़ों शरणार्थियों के मानवाधिकारों की रक्षा करने की ठानी और इसके लिए नागरिकता संशोधन बिल संसद में पारित कराया। इससे आज जो शरणार्थी बैठे हैं उनके अच्छे दिन आ गये कि वह देश के नागरिक बनने वाले हैं। उन्होंने कहा कि उनके नागरिक बनने से उनका उतना ही अधिकार है जितना मेरा है। किसी को डरने की जरुरत नहीं है।
उन्होंने कहा कि वह इस कानून का विरोध कर रहे लोगों से पूछना चाहते हैं कि गांधी, नेहरु, पटेल, मनमोहन इन लोगों को नागरिकता देने के बारे में कह चुके है और राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पूर्व में तीन-तीन चिट्ठी लिखी है। अब नागरिकता देने की बारी आई तो श्री गहलोत की हिम्मत नहीं हो रही है। उन्होंने कहा कि गहलोत को अस्पताल में बच्चों की मौत के बारे में चिंता करनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में अल्पसंख्यक 20 प्रतिशत से घटकर तीन प्रतिशत पर आ गये तथा बंगलादेश में तीस प्रतिशत से घटकर सात प्रतिशत रहे गये। उन्होंने कहा कि वह ममता से पूछना चाहते हैं कि ये लोग कहां गये, मार दिये या धर्म परिवर्तन कर दिये गये। उन्होंने कहा कि इनके साथ प्रताड़ना हुई, क्या यह मानवाधिकार का बड़ा उल्लंघन नहीं है। उन्होंने कहा कि इन लोगों के माता व बहनों की इज्जत लूटी, जबरन निकाह कर लिए गये जबकि देश में सत्तर साल में सरकारे आती रही लेकिन किसी भी सरकार ने इनकी चिंता नहीं की और वर्ष 2019 में नरेन्द्र मोदी ने फिर से प्रधानमंत्री बनते ही यह सब कर दिखाया। उन्होंने कहा कि उनकी केन्द्र सरकार ने जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाकर वर्षों से जो काम नहीं होने की बात की जा रही थी वह करके दिखाया। आतंकवाद को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए हवाई कार्रवाई सर्जिकल स्ट्राइक की।

शाह ने कहा कि गुजरात, राजस्थान, पंजाब व अन्य जगहों पर आये शरणार्थियों में 70 प्रतिशत से ज्यादा दलित लोग शामिल हैं। उन्होंने कहा कि जो इस कानून का विरोध कर रहे है वे दलितों का विरोध कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि वह ममता से पूछना चाहेंगे कि बंगाली दलितों, एवं हिन्दुओं ने उनका क्या बिगाड़ा है, आप क्यों विरोध कर रही हैं। उन्होंने शरणार्थियों को विश्वास दिलाते हुए कहा कि उन्हें ममता से डरने की जरुरत नहीं है, क्योंकि वह भला नहीं चाहती और अपना वोट बैंक संभालना चाहती है।

यह भी पढ़ें: 31 जनवरी को रिटायर होंगे डीजीपी ओपी सिंह, नए दावेदार की तलाश शुरू

उन्होंने कहा कि विपक्षी दल सीएए को लेकर दंगे एवं जनता को गुमराह करना चाह रह हैं लेकिन लोकतंत्र में जनता को गुमराह करना इतना सरल नहीं है। उन्होंने बताया कि भाजपा कानून के समर्थन में देश में जनजागरण अभियान चलायेगी और पांच जनवरी से देश भर में घर घर जाकर लोगों को कानून के बारे में समझायेगी। वह तीन करोड़ से अधिक लोगों के घर जायेगी तथा पांच सौ से अधिक सभा कर लोगों अभियान से जाड़ेगी।http://www.satyodaya.com

देश

चीन को खुफिया जानकारियां देने के आरोप में स्वतंत्र पत्रकार राजीव शर्मा गिरफ्तार

Published

on

दिल्ली पुलिस ने फ्रीलांस पत्रकार सहित एक चीनी महिला व एक नेपाली नागरिक को दबोचा

लखनऊ। दिल्ली पुलिस ने एक स्वतंत्र पत्रकार को चीन के लिए जासूसी करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। सुरक्षा एजेंसियों को इनपुट मिले हैं कि पत्रकार राजीव शर्मा देश की खुफिया और संवेदनशील जानकारियां चीन के साथ साझा कर रहा था। दिल्ली पुलिस ने कथित चीनी जासूस राजीव शर्मा को 14 सितंबर को गिरफ्तार किया है। उसके पास से कई महत्वपूर्ण दस्तावेज भी बरामद किए गए हैं।

यह भी पढ़ें-लखनऊ के हसनगंज थाना क्षेत्र में मेडिकल स्टोर पर युवक की गोली मारकर हत्या

स्वतंत्र पत्रकार राजीव शर्मा चीनी के ग्लोबल टामम्स के लिए रक्षा संबंधी कई मुद्दों पर नियमित लेख देते हैं। इसी दौरान उनका संपर्क चीनी एजेंटों से हुआ। जिसके बाद वह चीन के लिए जासूसी करने लगे। आरोप है कि पिछले कुछ समय में राजीव शर्मा ने एलओसी पर भारतीय सेना की तैनाती और सीमा पर भारत की रणनीतिक तैयारियों संबंधी तमाम जानकारियां चीनी खुफिया एजेंसियों को दी। इसके बदले में पिछले डेढ. वर्ष में राजीव शर्मा को चीन से 40 लाख रुपए मिले। हर जानकारी के लिए कथित जासूस को चीन 1000 यूएसडी का भुगतान करता था।

एक चीनी महिला और उसका नेपाली सहयोगी भी गिरफ्तार

स्वतंत्र पत्रकार की गिरफ्तारी की जानकारी देते हुए दिल्ली पुलिस ने बताया है कि राजीव शर्मा को ऑफिशियल सीक्रेट एक्ट के तहत गिरफ्तार किया गया है। फ्रीलांस पत्रकार के अलावां एक चीनी महिला किंग शी और उसके नेपाली सहयोगी शेर सिंह को गिरफ्तार किया गया है। आरोप है कि यह दोनों शेल कंपनियों के माध्यम से राजीव शर्मा को बड़ी मात्रा में पैसे पहुंचाते थे। राजीव शर्मा को गिरफ्तार करने के बाद उन्हें कोर्ट में पेश किया गया, अगले दिन उन्हें कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उन्हें छह दिन की पुलिस रिमांड में भेज दिया गया। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल आरोपियों से पूछताछ कर रही हैं। राजीव शर्मा यूनाइटेड न्यूज ऑफ इंडिया, द ट्रिब्यून, फ्री प्रेस जर्नल, सकाल जैसे संस्थानों में काम कर चुके हैं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर की मां का निधन, ट्विटर पर दी जानकारी

Published

on

लखनऊ। भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर की मां सुलोचना सुब्रमण्यम का शनिवार को निधन हो गया। विदेश मंत्री ने अपनी माता के निधन की जानकारी खुद अपने ट्विटर हैंडल पर दी। जयशंकर ने लिखा, सभी को यह बताते हुए बहुत दुःख हो रहा है कि मेरी मां सुलोचना सुब्रमण्यम का आज निधन हो गया।

हम उनके शुभचिंतकों और मित्रों से कहेंगे कि उन्हें अपनी यादों में जिंदा रखें। हमारा परिवार उन सभी लोगों का शुक्रगुजार है, जिन्होंने उनकी बीमारी के समय उनका साथ दिया। विदेश मंत्री की माता जी काफी समय से बीमार थीं।

यह भी पढ़ें-प्रियंका ने CM योगी को लिखी चिट्ठी, कहा- UP का युवा बेहद हताश व परेशान है

सुलोचना सुब्रमण्यम के निधन की जानकारी मिलते ही रेल मंत्री पीयूष गोयल, केन्द्रीय युवा कल्याण मंत्री किरेन रिजीजू और भाजपा के राष्ट्रीय सचिव राम माधव सहित तमाम केन्द्रीय मंत्रियों और भाजपा नेताओं ने अपनी शोक संवेदनाएं प्रकट की हैं।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत लाभार्थियों को फ्री में गैस सिलेंडर मिलना शुरू

Published

on

30 सितंबर है आखिरी तारीख

लखनऊ। प्रधानमंत्री उज्ज्वला गैस योजना के तहत मोदी सरकार गरीब ग्रामीण महिलाओं को मुफ्त गैस सिलेंडर मुहैया करा रही है। अब इस योजना का लाभ उठाने की आखिरी तारीख 30 सितंबर है। पीएम मोदी ने जब भारत में लॉक डाउन करने की घोषणा की तो उसके कुछ दिन बाद ही गरीब लोगों के लिए राहत की कई घोषणा की गयी। इनमें प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के लाभार्थियों को मुफ्त गैस सिलेंडर देना भी शामिल है

दरअसल, कोरोना के चलते इस योजना की तारीख को अप्रैल से सितंबर तक बढ़ाया गया था। 2016 में तीन साल के लिए लागू की गई प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना की अवधि अप्रैल 2020 तक ही थी। बाद में कोरोना के कारण केंद्र सरकार ने इसकी अवधि को सितंबर-2020 तक बढ़ा दिया था। ऐसे में इस योजना का लाभ लेने का आखिरी मौका इसी महीने तक है।

इसे भी पढ़ें- पिछले 24 घंटे में भारत में कोरोना के 96,424 नए मामले, मरीजों की संख्या 52 लाख के पार

बता दें, कि प्रधानमंत्री उज्जवला योजना का उद्देश्य गरीब परिवारों को मुफ्त में गैस सिलेंडर कनेक्शन देना है। लेकिन, ये योजना 30 सितंबर 2020 को खत्म हो रही है। वैसे सरकार की किसी भी योजना में रजिस्ट्रेशन कराना काफी आसान है। आज हम आपको बताते हैं कि आप कैसे फ्री में एलीपीजी गैस सिलेंडर का फायदा उठा सकते हैं।

उज्ज्वला योजना के लिए सबसे पहले रजिस्ट्रेशन किया जाएगा। प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत, गैस कनेक्शन लेने के लिए BPL परिवार की कोई भी महिला आवेदन कर सकती है। आप खुद इस योजना से जुड़ी आधिकारिक वेबसाइट pmujjwalayojana.com पर जाकर अपना रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं।

सबसे पहले उम्मीदवार Pradhan Mantri Ujjwala Yojana की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। वेबसाइट पर सामने एक होम पेज खुल जाएगा आपको डाउनलोड फॉर्म पर क्लिक करना होगा। फॉर्म डाउनलोड करने के बाद आप फॉर्म में सभी जानकारी भर दें। जैसे- आवेदक का नाम, तारीख, स्थान सभी जानकारी भरकर अपने पास वाले एलपीजी केंद्र जमा करा दें। अब डॉक्यूमेंट वेरिफाई होने के बाद आपको एलपीजी गैस कनेक्शन मिल जाएगा।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

September 20, 2020, 10:31 am
Mostly cloudy
Mostly cloudy
32°C
real feel: 39°C
current pressure: 1000 mb
humidity: 70%
wind speed: 1 m/s E
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 4
sunrise: 5:24 am
sunset: 5:35 pm
 

Recent Posts

Trending