Connect with us

लखनऊ। मुंबई के मोस्ट वांटेड गैंगेस्टर एजाज लकड़वाला को पटना से गिरफ्तार कर लिया गया है। उसे मुंबई लाया गया। एजाज के ऊपर 25 मुकदमे दर्ज हैं। वह अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम का करीबी है। इससे पहले मुंबई क्राइम ब्रांच की एंटी एक्सटॉर्शन सेल (AEC) ने एजाज लकड़वाला की बेटी सोनिया लकड़वाला को जबरन वसूली के दूसरे मामले में गिरफ्तार किया गया था। वह अपने पिता के कहने पर बांद्रा के एक बिल्डर से रंगदारी वसूलने के लिए धमकी दे रही थी।

बता दें कि एजाज लकड़वाला महाराष्ट्र पुलिस का मोस्ट वॉन्टेड अपराधी है। कभी किसी दौर में वह छोटा राजन गैंग का मेंबर था। उसके खिलाफ मुंबई और राजधानी दिल्ली में दो दर्जन से ज्यादा मामले दर्ज हैं। जिनमें रंगदारी, वसूली, हत्या और फिरौती वसूलने के मामले शामिल हैं।एजाज कभी मुंबई के जोगेश्वरी इलाके में रहता था। उसने बांद्रा के सेंट स्टेनीस्लूस स्कूल से पढ़ाई की। खुफिया सूत्रों के अनुसार, वर्तमान में एजाज कनाडा में रहता है। साल 2003 में एक हमले के बाद वह अस्पताल से फरार हो गया था। इसके बाद उसके साउथ अफ्रीका भाग जाने की ख़बरें आई थी।

यह भी पढ़ें: बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी ने कहा- दूसरी सरकारों की तुलना में अधिक सुधार…

लेकिन बाद में साल 2004 के दौरान एजाज को कनाडा पुलिस ने ओटावा से गिरफ्तार किया था। लेकिन कुछ दिनों उसे जेल में रखने के बाद रिहा कर दिया गया था। रिहा होने के बाद वह कई साल तक अंडरग्राउंड रहा। मगर साल 2008 में फिरौती के एक मामले में उसका हाथ होने की ख़बर एजेंसियों को मिली थी। तब से उसका कुछ पता नहीं था। लेकिन अब वो पुलिस के हत्थे चढ़ गया है।http://www.satyodaya.com

Featured

राजधानी में हुई दो हत्याओं से पुलिस पर उठे सवाल, जांच में जुटी पुलिस

Published

on

लखनऊ। राजधानी में एक तरफ बढ़ रहे अपराध को रोकने के लिए लखनऊ में पुलिस कमिश्नरी लागू की गई थी। लेकिन पुलिस कमिश्नरी से भी अपराधियों पर कोई भी अंकुश लगता नजर नहीं आ रहा है और अपराधियों द्वारा वारदातों को अंजाम देकर पुलिस को खुली चुनौती दी जा रही है। वहीं बदमाशों ने शानिवार को हत्या की दो वारदातों को अंजाम देकर पुलिस की मुस्तैदी की पोल खोल दी है। वहीं हत्या की घटना की जानकारी पाते ही मौके पर अधिकारी पुलिस फोर्स के साथ पहुंचे हैं और पूरे मामले की जांच कर रहे हैं।

आपको बता दें कि, राजधानी लखनऊ के ठाकुरगंज में जहां एक तरफ 35 साल राजकुमार की हथौड़ी से कूच कर हत्या की तो वहीं दूसरी ओर सआदतगंज के नवीननगर में 40 साल की महीला की हत्या की वारदात को अंजाम देकर बदमाश फरार हो गये। राजधानी में जिस तरह से बदमाशों द्वारा दिन-दहाड़े दो हत्याओं की घटनाओं को अंजाम देकर भागने में सफल दिख रहे हैं उससे पुलिस पर भी सवाल उठ रहे हैं। पुलिस पूरे मामले की जांच कर जल्द ही घटना के खुलासे का दावा कर रही है।

यह भी पढ़ें :- राजधानी में टैंकरों से धड़ल्ले से चोरी हो रहा डीजल, वीडियो वायरल

बताते चलें कि ठाकुरगंज थाना क्षेत्र स्थित एक घर में 35 साल के राजकुमार की हथौड़ी से कूच कर निर्मम हत्या कर दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया हैं तो वहीं दूसरी ओर पुलिस ने मृतक के पास मौके से हत्या में इस्तेमाल की गई हथौड़ी भी बरामद की है। जिसके बाद ही पुलिस मृतक के परिजनों से भी पूछताछ कर रही है। वही सआदतगंज थाना क्षेत्र के नवीननगर के एक घर में बदमाशों ने 40 साल की महीला के सिर पर वार कर मौत के उतार दिया। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। साथ ही पुलिस जांच करने की बात कह रही है।

सहादतगंज घटना पर पुलिस का कहना है कि समय करीब 10 से 2ः00 बजे के बीच महिला रमाकांति उम्र करीब 45 वर्ष पत्नी स्व0 मोहित पांडेय उर्फ बब्बन निवासी नवीननगर में अपने 2 बच्चे व देवर के साथ मकान में रहते हैं। इनका देवर अपने काम पर चला गया था, दोनों बच्चे स्कूल चले गये थे, जब उनका बेटा स्कूल से वापस आया था, तो देखा कि उनकी माँ की सिर पर ईट मारकर किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा हत्या कर दी है। सूचना पर पहुंची पुलिस ने रमाकांति को घायल अवस्था में इलाज हेतु ट्रॉमा सेंटर ले जाया गया, जहां पर डॉक्टरों द्वारा उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। मृतका का बेटा अपने मौसा शिवा जो ठाकुरगंज में रहता है, उस पर हत्या करने का शक जाता रहा है, इससे पहले भी शिवा कई बार गाली-गलौच व धमकी दे चुका है।

यह भी पढ़ें :- मेदांता हॉस्पिटल के डॉक्टरों ने 2 महीने में की 200 से ज्यादा सफल सर्जरी….

लेकिन अगर बात की जाये की जिस तरह पुलिस कमिश्नरी लागू होते ही पुलिस सड़कों पर नजर आ रही है। वहीं दिन-दिहाड़े दो हत्याओं को बदमाशों द्वारा अंजाम देकर फरार हो जाना पुलिस पर एक बड़ा सवाल है। लेकिन पुलिस अधिकारी घटनास्थल का मुआयना करने के साथ ही जांच कर जल्द ही दोनों घटनाओं का खुलासा करने का दावा कर रही है। वहीं देखना होगा की इस तरह दिन-दहाड़े हुई दोनों घटनाओं का पुलिस कब तक खुलासा कर पाती है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Featured

लखनऊ: जिला न्यायालय में देसी बम के हमले से मचा हड़कंप, कई वकील घायल

Published

on

फाइल फोटो

लखनऊ। राजधानी लखनऊ के वजीरगंज कोर्ट परिसर में गुरुवार दोपहर में बदमाशों ने देसी बम से हमला कर दिया है। यह हमला लखनऊ बार एसोसिएशन के संयुक्त मंत्री संजीव लोधी पर किया गया है। इस हमले कई सारे वकील घायल हो गए हैं। हालांकि मौके पर पहुंचकर पुलिस ने राहत व बचाव कार्य में जुटी हुई है।

लखनऊ जिला सत्र न्यायालय के गेट नंबर तीन पर गुरुवार दोपहर कुछ बदमाशों ने बम से लखनऊ बार एसोसिएशन के संयुक्त मंत्री संजीव लोधी पर हमला कर दिया। हमला सीजेएम कोर्ट में हुआ पुलिस के मुताबिक एक बम फटा जिससे मौके पर मौजूद संजीव लोधी समेत कई अन्य वकील बुरी तरह जख्मी हो गए। जिसके बाद जॉइंट कमिश्नर नवीन अरोड़ा सीजेएम कोर्ट पहुंचकर इस मामले की जांच कर रहे हैं। वहीं इस बारे में नवीन अरोड़ा ने कहा कि संजीव लोधी पर हुआ हमला अभी जांच का विषय है। फ़िलहाल कुछ लोगों पर आरोप लगाया गया है। वहीं चार लोगों के खिलाफ तहरीर भी दी गई है। ऐसे में सीसीटीवी फुटेज के आधार पर जांच की जाएगी।

ये भी पढ़ें:बजट सत्र शुरू होने से पहले धरने पर बैठे सपा व कांग्रेस विधायक, लगाए नारे…

जानकारी के मुताबिक कमिश्नरी सिस्टम लागू होने के बाद भी राजधानी में बदमाशों के हौसले बुलंद हैं। वहीं इस हमले के बारे में एक वकील ने बताया कि लगभग 11 बजे हम कोर्ट आए और मैं संजीव लोधी के दरवाजे पर खड़ा था। उन्होंने बताया कि वह उनके जूनियर हैं। इतना ही नहीं उन्होंने ये बताया कि अजाज अहमद, आजम खान और तीन-चार अज्ञात लोग गेट नंबर 3 की तरफ से आए। वहीं कुछ लोग 4 गेट से आते हैं। उसके बाद 3 नंबर गेट से अचानक से देसी बम फेंकना शुरू कर दिया। जिसमें से 3 बम फट गए और 8 से 10 बम वहां पड़े मिले। जिसके बाद संजीव लोधी के सिर में काफी चोट लग गई। ऐसे में वहां और भी जोग मौजूद थे उन्हें भी काफी चोटें लगी हैं।

वकील के कहा बम फेंकने के साथ उसमें 5 लोग ऐसे भी थे जिनके पास पिस्टल थी। जिसके बाद उन लोगों ने हमें पकड़ लिया। उस वकील ने ये बताया कि अंदाजा नहीं लगया जा सकता लेकिन करीब 10 लोग थे। जिसमें 2 वकील और अन्य लोग भी शामिल थे। हालांकि वकील ने बताया कि कल किसी बात को लेकर विवाद हुआ था, जिसके बाद आज संजीव लोधी पर ये हमला किया गया है। हालांकि अभी उनकी हालत बेहतर है।  http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Featured

बिजली चोरी पकड़ने पर प्रधान के बेटों ने टीम कर्मियों को पीटा, मुकदमा दर्ज

Published

on

लखनऊ। बिजली चोरी पकड़ने गये कर्मचारियों को ग्राम प्रधान के बेटों ने जमकर पीटा। आरोपियों ने उनके पास से मोबाइल, स्टार्टर और केबिल भी छीन लिया। किसी तरह ग्रामीणों की मदद से बिजली कर्मी जान बचाकर थाने पहुंचे। पीड़ितों ने पुलिस को घटना की तहरीर दी। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्जकर जांच शुरू कर दी है।

मिली जानकारी के मुताबिक, स्थानीय विद्युत उपकेंद्र के अवर अभियंता विनीत कुमार अपनी टीम लेकर सालेह नगर गांव में बिजली चोरी की जांच करने पहुंचे थे। तभी गांव के मजरे खेरवा में देखा कि ट्रांसफार्मर से तीन सौ मीटर लम्बा केबिल डाल कर बिजली चोरी की जार ही है। उन्होंने कर्मचारियों से बोलकर उस केबिल को उतरवा लिया, साथ ही स्टार्टर भी कब्जे में ले लिया।

यह भी पढ़ें :- संदिग्ध परिस्थितियों में अधेड़ ने लगाई फांसी, मौत

बता दें कि, यह जानकारी ग्राम प्रधान शांती देवी के बेटों को मिली तो दोनों बेटे सुनील और सुशील मौके पर पहुंचे। जेई विनीत कुमार का आरोप है कि दोनों ने अभद्रता करते हुए गालियां देना शुरू कर दिया। मना करने पर मारपीट की, साथ ही केबिल स्टार्टर और जेई का मोबाइल भी छीन लिया। शिकायत करने पर जान से मारने की धमकी भी दी। जेई और उनकी टीम किसी तरह जान बचाकर थाने पहुंचे। जहां लिखित तहरीर देकर शिकायत की है। पुलिस ने तहरीर पर मुकदमा दर्जकर जांच शुरू कर दी है।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Trending