Connect with us

देश

अंतिम संस्कार के समय जिंदा हो गया मुर्दा, शव ले जा रहे लोगों में मची भगदड़

Published

on

प्रतीकात्मक फोटो

ब्रह्मपुर। ओडिशा के गंजाम जिले में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। जिसे जानकर आप हैरान हो जाएंगे। दरअसल जिस व्यक्ति को लोग मरा हुआ समझकर अंतिम संस्कार के लिए ले जा रहे थे, वह अचानक जिंदा निकल गया। इससे कुछ लोग इतने घबरा गए कि वहां से भाग खड़े हुए।

जानकारी के मुताबिक कपकहाला गांव में ग्रामीण सीमांचक मलिक को अंतिम संस्कार के लिए ले गए थे। लेकिन उनको ले जाते समय सिर हिलाते देख जिंदा समझकर उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां इलाज के बाद उनकी हालत स्थिर बताई गई है। पुलिस का कहना है कि मलिक बकरियों और भेड़ों के साथ शनिवार को जंगल में गए थे लेकिन वह नहीं लौटे। उन्होंने बताया कि शनिवार सुबह में कुछ लोगों ने मलिक को बेजान स्थिति में देखा और उसे घर ले आए। परिवार के सदस्यों और ग्रामीणों ने मलिक को मरा हुआ जान अंतिम संस्कर की तैयारी कर ली। जब मलिक को गांव में अंतिम संस्कार स्थल पर ले जाया गया तो अचानक उनका सिर हिलने लगा, जिससे लोग डर के घबरा गए। वहीं कुछ तो भाग खड़े हुए।

ये भी पढ़े- नशे में मां को पीटता था बाप, हत्या कर थाने पहुंचा 15 साल का बेटा

डॉक्टर का कहना है कि बुखार की वजह से वह बेहोश हो गए थे और इलाज के बाद उनकी स्थिति अच्छी हो गई। इलाज के बाद उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। मलिक की पत्नी सोली अपने पति को जीवित देख बेहद खुश हो गई। उन्हें अफसोस है कि वह उन्हें मरा हुआ मानने से पहले अस्पताल क्यों नहीं ले गईं। http://www.satyodaya.com

देश

जानिए कौन हैं ताहिर हुसैन, जिन पर IB कर्मचारी अंकित शर्मा को मारने का लगा आरोप

Published

on

अंकित शर्मा

फाइल फोटो

नई दिल्ली। दिल्ली के दंगों में अपनी जान गंवाने वालों में इंटीलेंज ब्यूरो (आईबी) के कर्मचारी अंकित शर्मा भी शामिल थे। अंकित शर्मा के परिवारवालों ने अपने बेटे की मौत के लिए आम आदमी पार्टी (आप) के पार्षद हाजी ताहिर हुसैन पर आरोप लगाया है। वह फिलहाल पुलिस से बच रहे हैं।

दरअसल, सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। ये वीडियो नॉर्थ ईस्ट दिल्ली की हिंसा का चांदबाग इलाके का है। वीडियो में कुछ उपद्रवी एक मकान की छत से पत्थर और पेट्रोल बम नीचे फेंक रहे हैं। बताया जाता है कि जिस मकान की छत से हमला हो रहा है। वह  मकान मुस्तफाबाद विधानसभा में नेहरू विहार वार्ड से आप के पार्षद हाजी ताहिर हुसैन का है।

वहीं इस आरोप पर ताहिर हुसैन ने जवाब देते हुए कहा कि यह मकान उन्हीं का है, लेकिन जिस वक्त ये हमला हुआ वो घर पर नहीं थे, वहां से जा चुके थे। ताहिर हुसैन का कहना है कि अंकित की मौत से दुखी हूं। अंकित के परिवार के साथ हूं। दंगाई किसी के नहीं होते। मुझे नहीं पता मेरे घर की छत से कौन पेट्रोल बम और पत्थर फेंक रहा था।

ताहिर हुसैन की छत से दंगाईयों ने किया हमला

आरोप है कि ताहिर हुसैन ने वीडियो जारी कर अफवाह फैलाई थी कि उनके घर पर अटैक हुआ है, जबकि वीडियो के मुताबिक हमला उनकी छत से ही हो रहा है। अब इस वीडियो के तार इसी इलाके में रहने वाले आईबी के कर्मचारी अंकित शर्मा की मौत से जुड़ रहे हैं।

ये भी पढ़ें:29 फरवरी को ‘लोकतंत्र बचाओ’ सम्मेलन में बड़ी संख्या में अधिवक्ता लेंगे हिस्सा…

बता दें अंकित शर्मा के परिवार ने ताहिर हुसैन को मौत के लिए जिम्मेदार ठहराया है। परिवार के मुताबिक, अचानक बाहर से पड़ोस में रहने वाले एक परिवार की मदद के लिए गुहार सुनाई दी। गुहार सुनकर अंकित जब मदद के लिए बाहर आ गए। हालांकि अंकित की मां ने उन्हें रोका भी, लेकिन उन्होंने मां की नहीं सुनी। अंकित उस वक्त जो घर से निकला, फिर वापस नहीं लौटा, लौटी तो अंकित की लाश, वह भी पास के नाले से बरामद हुई।

वायरल वीडियो के जांच की उठी मांग

वहीं आस-पड़ोस में रहने वाले लोग भी ताहिर हुसैन पर ही हिंसा फैलाने का आरोप लगा रहे हैं। जबकि ताहिर हुसैन से अंकित शर्मा को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने सभी आरोपों से साफ़ इनकार कर दिया। वायरल वीडियो की सच्चाई क्या है, ये तो जांच के बाद ही पता चल पाएगा।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

कर्नाटक के CM येदियुरप्पा 75 के हुए, PM मोदी ने दी बधाई

Published

on

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी. एस. येदियुरप्पा के जन्मदिन के मौके पर गुरुवार को उन्हें बधाई दी। कर्नाटक के मुख्यमंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता बी एस येदियुरप्पा बृहस्पतिवार को 75 वर्ष के हो गए। मोदी ने ट्विटर पर अपने शुभकामना संदेश में लिखा, “कर्नाटक के परिश्रमी मुख्यमंत्री बी.एस. युदियुरप्पा जी को जन्मदिन की हार्दिक बधाई। वह राज्य के विकास, विशेषकर किसानों के कल्याण और ग्रामीण क्षेत्रों का विकास करने के लिए लगातार काम कर रहे हैं। मैं उनके दीर्घायु और अच्छे स्वास्थ्य की कामना करता हूं।”

यह भी पढ़ें: CAA ये खिलाफ हो रहे दंगो पर सुनवाई करने वाले जस्टिस मुरलीधर का हुआ ट्रांसफर

मिली जानकारी के मुताबिक शाम को उनके यंहा जन्मदिन का भव्य समारोह आयोजित किया जाएगा। समारोह में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और पूर्व मुख्यमंत्री एस एम कृष्णा के अलावा कांग्रेस के सिद्दरमैया तथा जद(एस) के एच डी कुमारस्वामी शामिल होंगे। केंद्रीय मंत्री डी वी सदानंद गौड़ा, प्रह्लाद जोशी और सुरेश अंगाड़ी भी समारोह में शामिल होंगे। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) बी एल संतोष और राज्य के पार्टी प्रमुख नलिन कुमार कतील भी समारोह में शामिल होंगे। नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार में 75 वर्ष की आयु पार कर चुके पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं को सक्रिय राजनीति से अलग कर दिया। हालांकि येदियुरप्पा के मामले में अपवाद देखा गया। भाजपा ने उनके नेतृत्व में लोकसभा चुनाव में 28 में से 25 सीटें जीती।http://www.satyodaya.com

Continue Reading

देश

CAA ये खिलाफ हो रहे दंगो पर सुनवाई करने वाले जस्टिस मुरलीधर का हुआ ट्रांसफर

Published

on

मुरलीधर

फाइल फोटो

नई दिल्ली। दिल्ली के उत्तरपूर्वी इलाके में नागरिकता संशोधान कानून( सीएए) को लेकर हो रही हिंसा पर सुनवाई करने वाले हाईकोर्ट के न्यायधीश एस। मुरलीधर का ट्रांसफर कर दिया गया है।    उनके ट्रांसफर को लेकर सवाल खड़े किए गए , जिसके बाद कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद की प्रतिक्रिया सामने आई है। उन्होंने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम की सिफारिश पर न्यायाधीश मुरलीधर का ट्रान्सफर किया है। बस तय प्रक्रिया का पालन किया गया है।

वहीं केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि भारत के मुख्य न्यायाधीश की अध्यक्षता में सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम की 12 फरवरी 2020 को की गई सिफारिश के मुताबिक न्यायमूर्ति मुरलीधर का ट्रांसफर किया गया। जज का ट्रांसफर करते समय उनकी सहमति ली जाती है। अच्छी तरह से तय प्रक्रिया का पालन किया गया है।

ये भी पढ़ें:सांसद आजम खान की पत्नी व बेटे अब्दुल्ला को रामपुर से सीतापुर की जेल में शिफ्ट

इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि एक ट्रांसफर रुटीन का कांग्रेस ने राजनीतिकरण किया है और न्यायपालिका उसने फिर से तुच्छ हरकत की है। भारत के लोगों ने कांग्रेस पार्टी को अस्वीकार कर दिया है और कांग्रेस संस्थाओं को खत्म करने की अब कोशिश कर रही है। हम न्यायपालिका की स्वतंत्रता का सम्मान करते हैं। न्यायपालिका की स्वतंत्रता से समझौता करने में कांग्रेस का रिकॉर्ड है। इमरजेंसी के दौरान सुप्रीम कोर्ट के जजों को हटा देना। उन्हें तभी पसंद आता है जब निर्णय उनके पसंद का हो अन्यथा संस्थानों पर सवाल ही खड़े किये जाते हैं।

जानकारी के मुताबिक  जस्टिस मुरलीधर का पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में ट्रान्सफर किया गया है। सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने कुछ दिन पहले ही उनके ट्रांसफर की सिफारिश की थी। जस्टिस मुरलीधर दिल्ली हिंसा मामले की सुनवाई कर रहे थे और यह अधिसूचना ऐसे दिन जारी की गई जब उनकी अगुवाई वाली पीठ ने कथित रूप से नफरत फैलाने वाले भाषणों को लेकर तीन भाजपा नेताओं के खिलाफ दिल्ली पुलिस के प्राथमिकी दर्ज नहीं करने पर ‘नाराजगी’ जाहिर की थी। न्यायमूर्ति एस मुरलीधर और न्यायमूर्ति अनूप जे भम्भानी की पीठ ने अधिकारियों को चेतावनी दी थी कि वे सतर्क रहें ताकि 1984 में सिख विरोधी दंगों के दौरान जो नरसंहार हुआ था, उसे फिर से दोहराया न जाए।

विधि एवं न्याय मंत्रालय की ओर से जारी अधिसूचना में कहा गया है कि राष्ट्रपति ने प्रधान न्यायाधीश से विचार-विमर्श के बाद यह फैसला किया। अधिसूचना में हालांकि, यह जिक्र नहीं किया गया है कि न्यायमूर्ति मुरलीधर पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में अपना कार्यभार कब संभालेंगे। http://www.satyodaya.com

Continue Reading

Category

Weather Forecast

February 27, 2020, 4:05 pm
Intermittent clouds
Intermittent clouds
25°C
real feel: 26°C
current pressure: 1020 mb
humidity: 52%
wind speed: 0 m/s NNE
wind gusts: 1 m/s
UV-Index: 2
sunrise: 6:03 am
sunset: 5:36 pm
 

Recent Posts

Trending